दिलबर के बाद ‘सत्यमेव जयते’ का एक और गाना आया, देखें जॉन-आयशा की केमिस्ट्री

NewsCode | 12 July, 2018 7:07 PM
newscode-image

मुंबई। जॉन अब्राहम की अगली फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ का ट्रेलर कुछ दिनों पहले ही रिलीज किया गया था और अब फिल्म का एक गाना रिलीज किया गया है, जो बेहद रोमांटिक है। जिस तरह फिल्म का ट्रेलर धमाकेदार था, कुछ वैसे ही ये गाना भी शानदार है, जो लोगों को काफी पसंद आएगा।इस गाने का नाम है – पानियों सा ।

इस गाने में जॉन और आयशा की केमिस्ट्री काफी कमाल की लग रही है। दोनों एक-दूसरे में खोए हुए नजर आ रहे हैं। इस गाने को अपनी आवाज दी है आतिफ असलम और तुलसी कुमार ने जबकि गाने को लिखा है कुमार ने और इसे संगीतबद्ध किया है रोचक कोहली ने।

जॉन अब्राहम की फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ का ट्रेलर और फिर उसके बाद गाना ‘दिलबर’ रिलीज किया गया जिसे लोगों ने काफी सराहा। गाने में फेमस बेली डांसर नोरा फतेही ठुमके लगाती नजर आ रही थी। इस गाने के बाद निर्माताओं ने एक बार फिर फिल्म का एक गाना रिलीज किया है।

‘पानियों सा’ गाना

गौरतलब है कि बीते कल ‘पान‍ियों सा’ गाने का पोस्टर रिलीज किया गया था। पोस्टर में जॉन अब्राहम आयशा शर्मा को गोद में उठाए नजर आ रहे थे। पोस्टर को काफी पसंद किया जा रहा है। सत्यमेव जयते फिल्म से आयशा शर्मा बॉलीवुड में डेब्यू कर रही हैं। आयशा शर्मा बॉलीवुड एक्ट्रेस नेहा शर्मा की बहन हैं और बिहार के भागलपुर से आती हैं। सत्यमेव जयते मिलाप जवेरी द्वारा निर्देशित फिल्म एक्शन थ्रिलर मूवी है।

फिल्म 15 अगस्त को रिलीज हो रही है। सत्यमेव जयते फिल्म का इससे पहले फिल्म का ट्रेलर रिलीज किया गया था। ट्रेलर में जॉन अब्राहम भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते नजर आ रहे थे। ट्रेलर में जॉन काफी एक्शन सीन करते नजर आये हैं। ट्रेलर में जॉन अब्राहम के साथ मनोज बाजपेयी पुलिस अफसर बने नजर आए हैं।

धमाकेदार एक्शन, दमदार डायलॉग्स और करप्शन के खिलाफ जंग, देखें सत्यमेव जयते का ट्रेलर

VIDEO: इतनी ‘चढ़ गई’ कि टल्ली होकर नाचने लगे अक्षय, मौनी रॉय हुईं गुस्से से लाल

 

रांची : 49वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में झारखंड फोकस स्टेट

NewsCode Jharkhand | 20 November, 2018 2:30 PM
newscode-image

रांची। गोवा के पणजी में  अठाइस नवंबर तक आयोजित होने वाले भारत के उनचासवें अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव– आईएफएफआई में झारखंड को पार्टनर स्टेट के रूप में चुना गया है।

सूचना एवं जनसंपर्क विभाग तथा मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव सुनील वर्णवाल ने मंगलवार को रांची स्थित सूचना भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में कहा कि गोवा में 21 से 28नवंबर तक आयोजित होने वाले 49वें अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में झारखंड फोकस राज्य के रूप में हिस्सा ले रहा है।

49वर्ष में पहली बार किसी राज्य को फोकस राज्य के रूप में शामिल किया जा रहा है। यह झारखंड के लिए गौरव की बात है। उन्होंने बताया कि इस अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में 68 से अधिक देशों के 212 फिलमों का प्रदर्शन किया जाएगा, जिसमें सात फिल्में झारखंड से निर्मित है। इन फिल्मों में एमएसडी द अनटोल्ड स्टोरी, बेगम जान,  ए डेथ इन द गंज, पंचलेट, मोर गांव मोर देश, रांची डायरी और अजब सिंह की गजब कहानी।

सुनील वर्णवाल ने बताया कि इनमें से 6 फिल्मों को झारखंड फिल्म नीति के तहत प्रोत्साहन राशि उपलब्ध करायी गयी है। फिल्म महोत्सव में 24 नवंबर झारखंड दिवस के रूप में मनाया जाएगा। इस महोत्सव में झारखंडी नृत्य प्रस्तुत किया जाएगा, जिसमें नागपुरी, पाईका और छउ शामिल है।

फिल्म महोत्सव में शामिल होने के लिए अनेक फिल्मकारों को आमंत्रण भी भेजा गया है। जैसे विद्या बालन, मुकेश भट्ट, रवि किशन, विजय स्वामी, अश्विनी कुमार, यशपाल शर्मा राजेश जैस आदि।

इस मौके पर पर्यटन, कला-संस्कृति एवं खेलकूद विभाग तथा सूचना-जनसंपर्क विभाग द्वारा भी स्टॉल लगाया जा रहा है। जहां राज्य के पर्यटन स्थल, कला संस्कृति और झारखंड फिल्म नीति को प्रसारित किया जाएगा।

महोत्सव में झारखंड दिवस के दिन झारखंडी कला संस्कृति दल द्वारा प्रस्तुति दी जाएगी, जिससे झारखंड की नृत्य और कला को देश और दुनिया के लोग जान सकेंगे। महोत्सव में पहली बार किसी राज्य को फोकस स्टेट के रूप में शामिल किया जा रहा है।

अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव में अड़सठ से अधिक देशों की दो सौ बारह फिल्मों का प्रदर्शन किया जायेगा। महोत्सव में चौबीस नवंबर को झारखंड दिवस के रूप में मनाया जाएगा। महोत्सव के दौरान झारखंड फिल्म नीति को प्रोत्साहित करने के लिए एक स्टॉल भी लगाया जा रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची: भापुसे के 17 अधिकारियों का तबादला,कई जिलों के एसपी बदले

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 2:20 PM
newscode-image

रांची। झारखंड सरकार ने भारतीय पुलिस सेवा (भापुसे) के 17 अधिकारियों का स्थानांतरण और पदस्थापन किया है। इसके साथ ही कई जिलों के पुलिस अधीक्षकों का तबादला हो गया है। इस संबंध में गृह कारा एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा मंगलवार देर शाम अधिसूचना जारी कर दी गयी।

गृह विभाग द्वारा जारी अधिसूचना के अनुसार डीआईजी उ.छो. क्षेत्र हजारीबाग पंकज कंबोज को डीआईजी एसीबी का भी अतिरिक्त प्रभार सौंपा गया है। जबकि पश्चिमी सिंहभूम चाईबासा के एसपी क्रांति कुमार गदिदेसी को एसपी विशेष शाखा बनाया गया है। विशेष शाखा के एसपी शैलेंद्र कुमार सिन्हा को जामताड़ा का एसपी बनाया गया है,वहीं रांची के यातायात पुलिस अधीक्षक संजय रंजन सिंह को समादेष्टा जैप-2 के पद पर पदस्थापित किया गया है, वहीं धनबाद के एसएसपी चोथे मनोज रतन को एसपी सीआईडी, सीआईडी के एसपी वाईएस रमेश को एसपी दुमका, विशेष शाखा के एसपी आलोक को खूंटी का एसपी, खूंटी के एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा को गुमला का एसपी, राज्यपाल के परिसहाय चंदन कुमार झा को चाईबासा का एसपी, जामताड़ा की एसपी जया राय को सीआईडी का एसपी, दुमका के एसपी किशोर कौशल को धनबाद का एसएसपी, एसटीएफ के एसपी अंजनी कुमार झा को विशेष शाखा का एसपी, गुमला के एसपी अंशुमन कुमार को राज्यपाल का परिसहाय, रांची के सिटी एसपी अमन कुमार को ग्रामीण एसपी धनबाद, जैप-5 की समादेष्टा सुजाता कुमारी वीणापानी को रांची का सिटी एसपी, धनबाद के ग्रामीण एसपी आशुतोष शेखर को रांची का ग्रामणी एसपी और रांची के ग्रामीण एसपी अजीत पीटर डुंगडुंग को रांची यातायात का एसपी बनाया गया है।

 

रांची: अन्तराष्ट्रीय व्यापार मेले में भगवान बिरसा मुंडा की प्रतिमा बढ़ा रही है कौतुहल

NewsCode Jharkhand | 21 November, 2018 2:07 PM
newscode-image

रांची।भगवन बिरसा मुंडा धरती आबा देश के प्रथम स्वतंत्रता सेनानियों में माने जाते हैं। झारखण्ड प्रदेश में भगवान माने जाने वाले इस महान पुरुष को भारतीय जनजातीय स्वतंत्रता सेनानी धार्मिक पुरुष और लोक नायक के रूप में मान्यता प्राप्त है।जिनका जन्म झारखण्ड के खूँटी ज़िले में 15 नवम्बर 1875 को हुआ था। 19 के दशक के शुरूआती सालो में ही अपनी युवा अवस्था 25 वर्ष में उन्होंने ब्रिटिश सरकार के विरुद्ध जो आंदोलन बनाया उसको जनजातीय प्रजातियों में सबसे महत्त्वपूर्ण माना जाता है। उन्होंने अपने समूदाय के लोगो को धार्मिक क्रिया की तरह सोचने को तैयार किया और अपने अधिकारों को मांगने के लिए ब्रिटिश सरकार से लडे। भगवान् बिरसा मुंडा झारखण्ड प्रदेश में किसी भी काम के पहले याद किये जाते हैं। जिस कड़ी में 38वें भारतीय अन्तराष्ट्रीय मेले के झारखण्ड पवेलियन में उनकी विशाल प्रतिमा स्थापित की गई है। मेले में आने वाले लोग इस प्रतिमा को देख उत्सुकता से इनके विषय और कार्य की चर्चा कर रहे है। भगवान बिरसा मुंडा पर देश ही नहीं दुनिया को भी गर्व होता है। उनके जीवन पर कई साहित्य और फिल्मे भी बनाई जा चुकी हैं।

झारखण्ड पवेलियन में उद्योग विभाग के संयुक्त निदेशक श्री अलोक कुमार ने बताया कि मेले में झारखण्ड पवेलियन 22 नवम्बर को प्रगति मैदान स्थित हंसध्वनी थिएटर में झारखण्ड दिवस का आयोजन करेगा जिसमें झारखण्ड के लोक नृत्य कला एवं संस्कृति प्रदर्शित किया जायगा इस अवसर पर झारखण्ड प्रदेश के राजस्व और भूमि सुधार ए कला संस्कृति खेल और युवा मंत्री श्री अमर कुमार बाऊरी उपस्थित रहेंगे साथ ही उद्योग विभाग के अन्य पदाधिकारी भी इस अवसर पर मौजूद रहेंगे

इसके अलावा झारखण्ड पवेलियन से निकले के बाद लोग हॉल नं 7 के सामने लगे फ़ूड स्टाल में झारखण्ड के फ़ूड स्टाल में झारखण्ड के व्यंजन का भी लुफ्त उठा रहे हैं लोगों को लिट्टी चोखा मालपुआ एवं कुल्हड़ चाय काफी पसंद आ रहे हैं स्टाल के संचालक राजेश तिवारी ने बताया कि लोगों की भारी भीड़ झारखण्ड के व्यंजन को पसंद कर रहे है

 

More Story

more-story-image

रांची : पंकज तिवारी आजसू केंद्रीय समिति के सदस्य मनोनीत

more-story-image

रांची: पंचायत व नगर निकायों के रिक्त पदों के लिए...

X

अपना जिला चुने