दिलबर के बाद ‘सत्यमेव जयते’ का एक और गाना आया, देखें जॉन-आयशा की केमिस्ट्री

NewsCode | 12 July, 2018 7:07 PM
newscode-image

मुंबई। जॉन अब्राहम की अगली फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ का ट्रेलर कुछ दिनों पहले ही रिलीज किया गया था और अब फिल्म का एक गाना रिलीज किया गया है, जो बेहद रोमांटिक है। जिस तरह फिल्म का ट्रेलर धमाकेदार था, कुछ वैसे ही ये गाना भी शानदार है, जो लोगों को काफी पसंद आएगा।इस गाने का नाम है – पानियों सा ।

इस गाने में जॉन और आयशा की केमिस्ट्री काफी कमाल की लग रही है। दोनों एक-दूसरे में खोए हुए नजर आ रहे हैं। इस गाने को अपनी आवाज दी है आतिफ असलम और तुलसी कुमार ने जबकि गाने को लिखा है कुमार ने और इसे संगीतबद्ध किया है रोचक कोहली ने।

जॉन अब्राहम की फिल्म ‘सत्यमेव जयते’ का ट्रेलर और फिर उसके बाद गाना ‘दिलबर’ रिलीज किया गया जिसे लोगों ने काफी सराहा। गाने में फेमस बेली डांसर नोरा फतेही ठुमके लगाती नजर आ रही थी। इस गाने के बाद निर्माताओं ने एक बार फिर फिल्म का एक गाना रिलीज किया है।

‘पानियों सा’ गाना

गौरतलब है कि बीते कल ‘पान‍ियों सा’ गाने का पोस्टर रिलीज किया गया था। पोस्टर में जॉन अब्राहम आयशा शर्मा को गोद में उठाए नजर आ रहे थे। पोस्टर को काफी पसंद किया जा रहा है। सत्यमेव जयते फिल्म से आयशा शर्मा बॉलीवुड में डेब्यू कर रही हैं। आयशा शर्मा बॉलीवुड एक्ट्रेस नेहा शर्मा की बहन हैं और बिहार के भागलपुर से आती हैं। सत्यमेव जयते मिलाप जवेरी द्वारा निर्देशित फिल्म एक्शन थ्रिलर मूवी है।

फिल्म 15 अगस्त को रिलीज हो रही है। सत्यमेव जयते फिल्म का इससे पहले फिल्म का ट्रेलर रिलीज किया गया था। ट्रेलर में जॉन अब्राहम भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ते नजर आ रहे थे। ट्रेलर में जॉन काफी एक्शन सीन करते नजर आये हैं। ट्रेलर में जॉन अब्राहम के साथ मनोज बाजपेयी पुलिस अफसर बने नजर आए हैं।

धमाकेदार एक्शन, दमदार डायलॉग्स और करप्शन के खिलाफ जंग, देखें सत्यमेव जयते का ट्रेलर

VIDEO: इतनी ‘चढ़ गई’ कि टल्ली होकर नाचने लगे अक्षय, मौनी रॉय हुईं गुस्से से लाल

 

बर्थडे विशेष : मनमोहन सिंह के वो काम, जिन्हें भुलाना नहीं आसान

NewsCode | 26 September, 2018 4:04 AM
newscode-image

नई दिल्ली। 26 सितंबर, 1936 को पाकिस्तान के गाह में जन्मे डॉक्टर मनमोहन सिंह देश के पहले सिख प्रधानमंत्री हैं। 22 मई 2004-26 मई 2014 तक भारत के प्रधानमंत्री रहे डॉ. मनमोहन सिंह देश में आर्थिक सुधारों के जनक कहे जाते रहे हैं। आधुनिक भारतीय अर्थव्यवस्था को नया आयाम देने वाले मनमोहन सिंह की छवि एक बेहद सौम्य, विनम्र और मितभाषी नेता की है।

दस साल के यूपीए कार्यकाल में कम बोलने और अहम मुद्दों पर गुम रहने के कारण मनमोहन हमेशा विपक्षियों के निशाने पर रहे। हालांकि, पीएम बनने के पहले और बाद भी कई महत्वपूर्ण उपलब्धियां उनके नाम दर्ज हैं। उनकी बनाई कुछ महत्वपूर्ण नीतियों को मोदी सरकार भी आगे बढ़ा रही है।

1. देश में आर्थिक सुधारों के प्रणेता

 1991 में पीएम नरसिम्हा राव की कांग्रेस सरकार में वह वित्त मंत्री हुआ करते थे। ये वो दौर था जब देश दिवालिया होने की कगार पर खड़ा था। देश का फिस्कल डेफिसिट यानी राजकोषीय घाटा सकल घरेलू उत्पाद के 8.5 के इर्द गिर्द था। महज एक वर्ष के भीतर मनमोहन सिंह ने उसे 5.9 फीसदी के स्तर पर लाने में कामयाबी हासिल कर ली थी। डॉक्टर सिंह द्वारा लागू किए सुधार कार्यक्रमों के बाद डूबती हुई इकॉनमी ने वह मुकाम हासिल कर लिया कि उसे पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा।

2004 से 2014 तक लगातार 10 साल देश के पीएम रहे मनमोहन सिंह ने 1991 में जब देश के वित्त मंत्री का पद संभाला था तब आर्थिक क्रांति ला दी थी। इन्होंने ही ग्लोबलाइजेशन की शुरूआत की थी। 1991 से 1996 के बीच उनके द्वारा किए गए आर्थिक सुधारों की जो रूपरेखा, नीति और ड्राफ्ट तैयार किया, उसकी दुनिया भर में प्रशंसा की जाती है।

2. साल में 100 दिन का रोजगार पक्का

बेरोजगारी का दंश झेलते देश में रोजगार गारंटी योजना की सफलता का श्रेय मनमोहन सिंह को जाता है। इसके तहत बता दें कि साल में 100 दिन का रोजगार और न्यूनतम दैनिक मजदूरी 100 रुपये तय की गई।  इसकी खास बात यह भी है कि इसके तहत पुरुषों और महिलाओं के बीच किसी भी भेदभाव की अनुमति नहीं है। इसलिए, पुरुषों और महिलाओं को समान वेतन भुगतान किया जाना चाहिए। सभी वयस्क रोजगार के लिए आवेदन कर सकते हैं।

इसके तहत यदि सरकार काम देने में नाकाम रहती है तो आवेदक बेरोज़गारी भत्ता पाने के हकदार होंगे।  मनरेगा यानी महात्मा गांधी नेशनल रूरल एंप्लॉयमेंट गारंटी एक्ट 2005, ग्रामीण विकास मंत्रालय के तहत यूपीए के कार्यकाल में डॉक्टर मनमोहन सिंह के प्रधानमंत्री कार्यकाल में शुरू की गई थी।

3. आधार कार्ड योजना की संयुक्त राष्ट्र संघ ने भी की तारीफ

पूर्व पीएम मनमोहन सिंह की आधार योजना की यूएन ने भी तारीफ की थी। यूएन की ओर से कहा गया था कि आधार स्कीम भारत की बेहतरीन स्कीम है। जैसा कि हम और आप देख ही रहे हैं कि वर्तमान पीएम मोदी की सरकार में आधार संख्या को यूनीक नंबर होने के चलते विभिन्न कामों में अनिवार्य कर दिया गया है। भारतीय विशिष्‍ट पहचान प्राधिकरण सन 2009 में मनमोहन सिंह के समय ही गठित किया गया जिसके तहत सरकार की इस बहुउद्देशीय योजना को बनाया गया। देश के हर व्यक्ति को पहचान देने और प्राथमिक तौर पर प्रभावशाली जनहित सेवाएं उस तक पहुंचाने के लिए इसे शुरू किया था।

4. भारत और अमेरिका के बीच न्यूक्लियर डील

साल 2002 में एनडीए से देश की बागडोर यूपीए के हाथ में गई। गठबंधन सरकार के तमाम प्रेशर के बीच भारत ने इंडो यूएस न्यूक्लियर डील को अंजाम दे दिया। साल 2005 में जब इस डील को अंजाम दिया गया, उसके बाद भारत न्यूक्लियर हथियारों के मामले में एक पावरफुल नेशन बनकर उभरा। उस वक्त यूएस में जॉर्ज बुश प्रेजिडेंट हुआ करते थे। इस डील के तहत यह सहमति बनी थी कि भारत अपनी इकॉनमी की बेहतरी के लिए सिविलियन न्यूक्लियर एनर्जी पर काम करता रहेगा।

5. राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम, 2013 (खाद्य अधिनियम का अधिकार) मनमोहन सिंह के कार्यकाल में ही पास हुआ।  भूख और कुपोषण को मात देने के उद्देश्य से शुरू की गयी इस महत्वकांक्षी योजना का लक्ष्य भारत के 1.2 अरब लोगों के लगभग दो तिहाई तक सब्सिडी वाले अनाज प्रदान करना है। 

इसमें मध्याह्न भोजन योजना, एकीकृत बाल विकास सेवा योजना और सार्वजनिक वितरण प्रणाली शामिल है। बिल के प्रावधानों के तहत, सार्वजनिक वितरण प्रणाली (या पीडीएस) के लाभार्थी न्यूनतम मूल्यों पर प्रति व्यक्ति प्रति माह 5 किलोग्राम अनाज के हकदार हैं। इसमें चावल 3 रुपये प्रति किलो, गेहूं 2 रू प्रति किलो और मोटे अनाज (बाजरा) 1 रू प्रति किलो में मुहैया करवाये जाते हैं। 

6. शिक्षा का अधिकार

मनमोहन सिंह के कार्यकाल में ही राइट टु एजुकेशन यानी शिक्षा का अधिकार अस्तित्व में आया। इसके तहत 6-14 साल के बच्चे को शिक्षा का अधिकार सुनिश्चित किया गया। कहा गया कि इस उम्र के बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा दी ही जाएगी।


पूर्व PM मनमोहन बोले- धार्मिक अपीलों से दूर रहें सुरक्षा बल, कोर्ट करे धर्मनिरपेक्षता की रक्षा

मनमोहन की मोदी को चिट्ठी- नेहरू कांग्रेस के नहीं, पूरे देश के नेता, विरासत से न करें छेड़छाड़

मनमोहन पर बन रही फिल्म में किसने निभाया राहुल, प्रियंका और सोनिया का रोल ?

मैं भी गरीब परिवार में पैदा हुआ, लेकिन नहीं चाहता कि देश मुझ पर तरस खाये : मनमोहन

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहनसिंह ने पंजाब विश्वविद्यालय को दान की 3,500 किताबें

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

जामताड़ा : ट्रक और बाइक में जोरदार टक्कर, तीन घायल

Tarun Kumar Choubey | 26 September, 2018 10:03 AM
newscode-image

जामताड़ा। मंगलवार शाम करीब पांच बजे नारायणपुर थाना क्षेत्र के पबिया बाजार में गोविंदपुर-साहेबगंज हाइवे पर सीमेंट लदा ट्रक (जेएच 10 ओ 6365) से बाइक का आमने सामने टक्कर हो जाने से तीन लोग घायल हो गए। ट्रक धनबाद से सीमेंट लादकर जामताड़ा जा रही थी।

तीनों के सिर  व शरीर पर काफी चोटें लगी है। मौके पर ट्रक चालक ट्रक छोड़कर फरार हो गया। भीड़ ने ट्रक को अपने कब्जे में कर लिया। जानकारी के अनुसार  मोटरसाइकिल में तीन व्यक्ति सवार थे। चालक लबसन हेम्ब्रम (27), जितेंद्र टुडू (65) व महिला पकलु टुडू (35) तीनों की स्थिति नाजुक बताई जा रही है।

जामताड़ा : संतुलन बिगड़ने से किरासन तेल का टैंकर पलटा, तेल लेने जुटी भीड़

जामताड़ा : ट्रक और बाइक में जोरदार टक्कर, तीन घायल

सभी घायल नारायणपुर थाना क्षेत्र के मझलाड़ीह पंचायत के बरमसिया गांव का रहने वाले हैं। बजरंग दल के जिला संयोजक सोनू सिंह व भाजपा के मंडल अध्यक्ष सुधीर मंड़ल ने तीनों घायलों को बेहतर इलाज के लिए जामताड़ा सदर अस्पताल लाया। चिकित्सक ने प्राथमिक उपचार के बाद बेहतर इलाज के लिए धनबाद भेज दिया।

स्थानीय लोगों ने किया सड़क जाम

स्थानीय लोगों ने दुर्घटना के बाद मुआवजे की मांग को लेकर सड़क जाम कर दिया गया। सूचना मिलते ही घटना स्थल पर नारायणपुर थाना प्रभारी अजय कुमार सिंह व एसआई बीके सिंह पुलिस बल के साथ पहुंचे। लोगों ने सरकारी मुआवजे की मांग कर रहे थे।

जामताड़ा : चार शातिर साइबर अपराधियों के ठिकानों पर ईडी का छापा

थाना प्रभारी ने सड़क जाम कर रहे लोगों को समझा बुझाकर जाम हटाया। प्रभारी ने कहा कि सरकारी सहायता घायलों को जरूर मिलेगा। स्थानीय लोगों ने पबिया में अक्सर हो रहे दुर्घटना पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस बेरिकेड लगाने की मांग की। थाना प्रभारी ने उक्त व्यवस्था करने का आश्वासन दिया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

बाघमारा : प्रखण्ड में आयोजित दिव्यांग शिविर में नहीं पहुंचे अधिकारी

NewsCode Jharkhand | 26 September, 2018 9:10 AM
newscode-image

बाघमारा। प्रखण्ड में आयोजित दिव्यांग शिविर में को भी अधिकारी नहीं पहुंचा। बाघमारा प्रखण्ड में दिव्यांगों के सर्टीफिकेट बनाने के लिये शिविर का आयोजन की गई थी और साथ ही दिव्यांगों को पेंशन कार्ड भी बनाया जाना था। आयोजित शिविर में अधिकारी के नहीं पहुँचने पर दिव्यांग लोग बेहाल रहे।

 बाघमारा : पूना महतो फुटबॉल टूर्नामेंट में पहुंचेगें सीएम

सुबह 10 बजे से ही दिव्यांग प्रखण्ड मुख्यालय पहुँच गये थे। तपती गर्मी में लाचार लोग तडपते रहे।  इस शिविर के लिये प्रचार-प्रसार किया गया था। ऐसे में अधिकारी का समय पर शिविर में न पहुँचना सरकार से लोगों का विस्वास तोड़ने का काम कर रहे  है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : दुकानों में लगी आग, लाखों रूपये का हुआ...

more-story-image

चास : टेलर की चपेट में आने से महिला हुई...