मक्का मस्जिद ब्लास्ट: ओवैसी ने NIA की जांच पर उठाए गंभीर सवाल, बोले- न्याय नहीं पक्षपात हुआ

NewsCode | 16 April, 2018 5:54 PM
newscode-image

हैदराबाद| मक्का मस्जिद ब्लास्ट में सभी पांच आरोपियों को दोषमुक्त करार दिए जाने पर अपनी प्रतिक्रिया में आल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को कहा कि इस मामले में न्याय नहीं हुआ।

उन्होंने कहा कि इस फैसले से आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई कमजोर होगी। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की विशेष अदालत के फैसले पर ओवैसी ने कहा कि मामले की पक्षपातपूर्ण जांच हुई। एनआईए के राजनैतिक आकाओं ने मामले को ठीक से आगे नहीं बढ़ाने दिया।

ट्वीट की एक श्रृंखला में ओवैसी ने कहा कि एनआईए और मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने आरोपियों को दी गई जमानत के खिलाफ 90 दिनों की अवधि के अंदर अपील तक नहीं की थी।

उन्होंने कहा, “जून  2014 के बाद गवाह अपनी गवाही से मुकरने लगे। वे सही बयान नहीं दे सके। पीड़ितों को परास्त करने के लिए सब कुछ किया गया। आज की दोषमुक्ति ने आतंकवाद के खिलाफ हमारी लड़ाई को कमजोर किया है।”

विशेष अदालत ने सोमवार को दक्षिणपंथी हिंदू समूह के सदस्यों को इस मामले में यह कहते हुए बरी कर दिया कि अभियोजन पक्ष इनके खिलाफ सबूत नहीं दे सका।

हैदराबाद की विख्यात मक्का मस्जिद में 18 मई, 2007 को हुए विस्फोट में नौ लोग मारे गए थे और 58 अन्य घायल हुए थे। विस्फोट के खिलाफ मस्जिद के बाहर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस गोलीबारी में भी पांच लोग मारे गए थे।

पीएम मोदी न्याय को लेकर गंभीर हैं तो दुष्कर्म मामलों में तुरंत कार्रवाई करें : राहुल गांधी

विस्फोट के फौरन बाद पुलिस ने इसके लिए हरकत-उल-जिहाद इस्लामी को जिम्मेदार बताते हुए शहर के लगभग 100 युवाओं को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया था। बाद में सीबीआई ने कहा था कि यह कांड दक्षिणपंथी हिंदू समूह की कारस्तानी है।

कर्नाटक चुनावः भाजपा ने जारी की 82 उम्मीदवारों की दूसरी सूची, देखें पूरी लिस्ट

 आईएएनएस

राफेल डील: पीएम मोदी और रक्षा मंत्री के खिलाफ कांग्रेस देगी विशेषाधिकार हनन का नोटिस

NewsCode | 23 July, 2018 4:26 PM
newscode-image

नई दिल्ली। शुक्रवार को अविश्वास प्रस्ताव के दौरान बहस में पीएम मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमन की ओर से राफेल डील के मुद्दे पर दिये गयान बयान को कांग्रेस ने झूठ करार दिया है। कांग्रेस पार्टी ने राफेल डील मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण के खिलाफ लोकसभा में विशेषाधिकार हनन का नोटिस देने का फैसला किया है।

सोमवार को पूर्व रक्षामंत्री एके एंटनी के साथ कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री और रक्षामंत्री ने संसद को गुमराह किया है, ये विशेषाधिकार का हनन है। कांग्रेस इसको लेकर लोकसभा में नोटिस भी देगी।

बीजेपी भी लाएगी विशेषाधिकार हनन

वहीं, दूसरी तरफ भारतीय जनता पार्टी भी इस मुद्दे पर राहुल गांधी के खिलाफ विशेषाधिकार हनन का प्रस्ताव लाने की बात कह चुकी है। बीजेपी का ये नोटिस लोकसभा स्पीकर सुमित्रा महाजन के दफ्तर भी पहुंच गया है, हालांकि अभी इस पर अंतिम फैसला होना है।

सदन में राहुल ने कही थी ये बातें

बता दें कि सदन में राहुल गांधी ने कहा था कि रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने राफेल फाइटर जेट्स का मूल्य बताने से यह कहकर मना कर दिया था कि इसकी वजह से देश की सुरक्षा को खतरा पहुंच सकता है। लेकिन बाद में दसॉ एविएशन ने अपनी 2016-17 की वार्षिक रिपोर्ट में बताया कि उसने 1,670 करोड़ रुपए प्रति एयरक्राफ्ट की दर से 36 एयरक्राफ्ट बेचे हैं।

कांग्रेस अध्‍यक्ष ने आगे कहा कि यही एयरक्राफ्ट 11 महीने पहले मिस्र और कतर को 1,319 करोड़ रुपए प्रति एयरक्राफ्ट के हिसाब से कंपनी ने बेचा था। इससे पता चलता है कि इस डील की वजह से देश को 12,632 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है।

मुजफ्फरपुर रेप केस: बच्ची को मारकर दफनाने के शक में शेल्टर होम परिसर में खुदाई शुरू

केंद्र सरकार और कांग्रेस आमने-सामने

राफेल सौदे पर केंद्र सरकार और कांग्रेस पार्टी आमने-सामने राहुल गांधी ने रविवार को ट्विटर पर लिखा कि, “हमारी रक्षामंत्री ने कहा कि वह खुलासा करेंगी लेकिन अब कह रही हैं कि नहीं करेंगी। वह गोपनीय है और गोपनीय नहीं है के बीच फंसी हुई हैं। जब प्रधानमंत्री से राफेल की कीमत के बारे में पूछा जाता है तो वह घबराते हैं और मेरी आंखों में आंख डालकर नहीं देख पाते। निश्चित तौर पर घोटाले की गंध आ रही है।”

कार्ति चिदंबरम को सुप्रीम कोर्ट से राहत, 23 से 31 जुलाई तक विदेश जाने की इजाजत

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

10वीं पास उम्मीदवारों के लिए कांस्टेबल की 55000 वैकेंसी, ऐसे करें आवेदन

NewsCode | 23 July, 2018 4:45 PM
newscode-image

नई दिल्ली। कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) ने कांस्टेबल (जनरल ड्यूटी) के पद पर 54,953 भर्तियां निकाली हैं। ये वैकेंसी सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ), केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ), केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ), भारत तिब्बत सीमा पुलिस (आईटीबीपी), सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी), राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और सेक्रेटेरिएट सिक्योरिटी फोर्स (एसएसएफ) और असम राइफल्स में कांस्टेबल (जनरल ड्यूटी) के लिए निकली हैं। इच्छुक उम्मीदवार 24 जुलाई से 24 अगस्त, 2018 तक इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं।

योग्यता

– 10वीं पास युवा इस वैकेंसी के लिए आवेदन कर सकते हैं।
– उम्र की न्यूनतम सीमा 18 वर्ष और अधिकतम 23 वर्ष तय की गई है। एससी/एसटी उम्मीदवारों को उम्र में पांच वर्ष व ओबीसी उम्मीदवारों को तीन वर्ष की छूट दी जाएगी। उम्र की गणना 1 अगस्त, 2018 से की जाएगी।

चयन

– सबसे पहले कंप्यूटर आधारित लिखित परीक्षा होगी। परीक्षा तिथि अभी निर्धारित नहीं की गई है।
लिखित परीक्षा में पास होने वाले उम्मीदवारों को शारीरिक दक्षता परीक्षा के लिए बुलाया जाएगा।

लिखित परीक्षा में जनरल इंटेलिजेंस व रीजनिंग, जनरल नॉलेज व जनरल अवेयरनेस, इलिमेंट्री मैथ्स व इंग्लिश/हिन्दी विषय से जुड़े प्रश्न पूछे जाएंगे।

शारीरिक योग्यता संबंधी नियम

लंबाई
पुरुष उम्मीदवार – 170 सेमी.
महिला उम्मीदवार – 157 सेमी.

सीना

पुरुष उम्मीदवार – 80 सेमी. (फुलाकर – 85 सेमी.)

ऐसे करें आवेदन

योग्य व इच्छुक उम्मीदवार एसएससी की आधिकारिक वेबसाइट ssconline.nic पर जाकर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। अनारक्षित उम्मीदवारों को 100 रुपये की एग्जामिनेशन फीस देनी होगी। ये फीस एसबीआई चालान/एसबीआई नेट बैंकिंग या मास्टर कार्ड, क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के जरिए जमा कराई जा सकती है। महिला उम्मीदवारों व एससी, एसटी उम्मीदवारों को इस फीस से छूट है।

9 अगस्त से शुरू होगी रेलवे की सबसे बड़ी भर्ती परीक्षा, 26 जुलाई से मॉक लिंक होगा एक्टिव

साइंस के छात्रों के लिए KVPY फेलोशिप का ऑनलाइन रजि‍स्‍ट्रेशन शुरू, जानें कैसें करें आवेदन

 धनबाद : चोरों ने किया हाथ साफ़, मालिक के उड़े होश

NewsCode Jharkhand | 23 July, 2018 4:43 PM
newscode-image

धनबाद। कोयलांचल में चोरों के हौसले लगातार बुलंदी पर है। झरिया थाना क्षेत्र के बस्ताकोला में बंद पड़े कपड़ा मिल को चोरों ने अपना निशाना बनाया। चोरों ने खिड़की उखाड़ मिल में पड़े सारे सामानों पर हांथ साफ कर दिया।

संचालक उमेश कुमार ने बताया कि तीन से चार बार चोरी की घटना पूर्व में हो चुकी है। बीती रात भी चोरों ने मिल की खिड़की को उखाड़ यहां पड़े सामानों को उठा कर ले गए हैं। मिल में पड़े मशीनों की कीमत लाखों में बतायी जा रही है।कितने की चोरी हुई है इसका आकलन अबतक नही किया जा सका है। फिलहाल संचालक द्वारा मामले की सूचना पुलिस को दी गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

तेनुघाट : झारखंड यूनियन ऑफ जर्नलिस्ट की बैठक संपन्न

more-story-image

धनबाद : जीएम ने रेलवे अस्‍पताल का किया निरीक्षण, डासलिसिस...