जामताड़ा : जिला मुख्यालय समेत प्रखंड स्तरीय अस्पतालों में आउटसोर्सिंग कर्मियों ने किया प्रदर्शन

अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार में नारायणपुर के कर्मचारी भी शामिल

NewsCode Jharkhand | 20 December, 2017 5:29 PM

जामताड़ा : जिला मुख्यालय समेत प्रखंड स्तरीय अस्पतालों में आउटसोर्सिंग कर्मियों ने किया प्रदर्शन

जामताड़ा। तीन माह से मानदेय नहीं मिलने से नाराज स्वास्थ्य, चिकित्सा, शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के अंतर्गत कार्यरत आउटसोर्सिंग कर्मचारियों के अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार के तहत से सीएचसी नारायणपुर के कर्मचारी भी आंदोलन में शामिल हो गए।

कर्मचारियों ने श्रमनियोजन प्रशिक्षण एवं कौशल विकास विभाग झारखंड की ओर से अनुमोदित नियमों का अनुपालन करने, एक से पांच तारीख तक वेतन देने, संविदा शर्त के मुताबिक कार्य लेने आदि मांगों पर पहल किए जाने की मांग विभाग के समक्ष रखी।

मांग पूरी नहीं होने तक कार्य बहिष्कार करने का निर्णय लिया गया है। इस अवसर पर प्राणेश मिश्रा, रंजित मंडल, मो. असलम, संजय कुमार आदि उपस्थित थे।

चाईबासा : सैकड़ों बंद समर्थकों ने रेलवे ट्रैक पर डाला डेरा, चाईबासा-बड़बिल रेल मार्ग बाधित

NewsCode Jharkhand | 21 May, 2018 1:40 PM

चाईबासा : सैकड़ों बंद समर्थकों ने रेलवे ट्रैक पर डाला डेरा, चाईबासा-बड़बिल रेल मार्ग बाधित

आदिवासी सरना धर्म कोड मांग को लेकर प.सिंहभूम जिला बंद

चाईबासा (पश्चिमी सिंहभूम)। आदिवासी सरना धर्म कोड लागू करने की मांग को लेकर आज पश्चिमी सिंहभूम जिला के कई आदिवासी संगठनों का झारखंड बंद जारी है।

ट्रेनों का परिचालन ठप

बंद का सबसे ज्यादा असर जगन्नाथपुर अनुमंडल में देखा गया है। जगन्नाथपुर के मालुका स्टेशन के पास बंद समर्थकों ने चाईबासा-बड़बिल रेल मार्ग को जाम कर दिया है, जिससे इस रूट में ट्रेनों का परिचालन ठप है। रेल लाइन पर ही सैकड़ों बंद समर्थक महिला-पुरूष बैठ गए और सरना कोड की मांग लागू करने की मांग की।

रेलवे ट्रैक खाली कराने के दौरान धक्का- मुक्की

इस बीच जिला पुलिस और रेल पुलिस ने रेलवे लाइन से बंद समर्थकों को जबरन हटाने का प्रयास किया, तो पुलिस और समर्थकों के बीच धक्का- मुक्की हुई, उसके बाद पुलिस ने हल्का बल प्रयोग किया तो भगदड़ मच गई। लेकिन फिर रेल लाइन पर समर्थक बैठ गए हैं।

Read More:- सरायकेला : झारखंड दिशोम पार्टी ने किया रेलवे ट्रैक पर प्रदर्शन, 7 ट्रेनें रद्द, 3 के रूट परिवर्तित 

बाजार भी बंद

दूसरी तरफ सरना धर्म कोड की मांग कर रहे बंद समर्थकों ने चाईबासा- किरीबुरू सड़क मार्ग को जगह-जगह जाम कर दिया है, बाजार और दुकानें भी बंद है ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

रांची : आंगनबाड़ी वर्कर्स की हड़ताल जारी, भूख हड़ताल पर जाने की दी चेतावनी

NewsCode Jharkhand | 18 May, 2018 5:48 PM

रांची : आंगनबाड़ी वर्कर्स की हड़ताल जारी, भूख हड़ताल पर जाने की दी चेतावनी

रांची। झारखंड प्रदेश आंगनबाड़ी वर्कर्स यूनियन के बैनर तले अनिश्चितकालीन हड़ताल के 12 वें दिन रोषपूर्ण प्रदर्शन के साथ मुख्यमंत्री आवास का घेराव राजभवन के समक्ष जारी है। राज्य के कोने-कोने से हजारों की संख्या में आई हुई सेविका-सहायिका धरना स्थल पर डाटी हुई हैं। सेविका सहायिका की एक ही मांग है कि महिला बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग के प्रधान सचिव एवं निदेशक के साथ दिनांक 23 जनवरी 2018 को हुए लिखित समझौते को लागू किया जाए।

सेविका-सहायिका को धमकी बर्दाश्त नहीं

संघ के अध्यक्ष बालमुकुंद सिन्हा ने कहा कि विभाग के सचिव को आंदोलन समाप्त कराने की पहल करनी चाहिए। ना की सेविका-सहायिका को दंडात्मक कार्रवाई की धमकी देनी चाहिए। उन्होंने कहा कि सचिव धरना स्थल पर आकर पूर्व में किये गए लिखित समझौते को वापस लेने की घोषणा करें।

सेविका-सहायिका की धैर्य का इम्तिहान न लें

अपनी मंतव्य देते हुए प्रदेश संयोजक रामचंद्र पासवान ने कहा कि आज पूरे झारखंड राज्य की सेविका सहायिका हड़ताल पर डटी हुई है। सरकार सेविका-सहायिका के धैर्य का इम्तिहान ना लें। आने वाले दिनों में सेविका-सहायिका भूख हड़ताल और आमरण अनशन भी करेगी, लेकिन बिना अपनी मांगों को पूरा किए हुए दम नहीं लेंगी।

Read More:- रांची : आंगनबाड़ी सेविकाओं का आंदोलन 11वें दिन भी जारी

ये रहे मौजूद

प्रदेश कोषाध्यक्ष सीता तिग्गा, संथाल परगना प्रमंडलीय अध्यक्ष पंपा मल्लाह, दुमका जिला अध्यक्ष शहनाज खातून, रांची जिला अध्यक्ष सुमन कुमारी, गढ़वा जिला अध्यक्ष कौशल्या देवी, देवघर जिला अध्यक्ष राखी मंडल, सचिव सुनीता देवी, कांके परियोजना अध्यक्ष फूलकरिया टोप्पो, रेहाना खातून कलावती देवी आदि मौजूद है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

पाकुड़ : ऑटो चालकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल से यात्री परेशान

NewsCode Jharkhand | 8 May, 2018 2:32 PM

पाकुड़ : ऑटो चालकों की अनिश्चितकालीन हड़ताल से यात्री परेशान

यात्री भाड़ा बढ़ाने और पार्किंग शुल्‍क कम करने की मांग

पाकुड़। रेलवे स्टेशन परिसर के निकट दर्जनों ऑटो चालक अनिश्चिकालीन हड़ताल पर चले गए हैं। ऑटो चालक के हड़ताल पर चले जाने से स्टेशन पर ऑटो की दिक्‍कत हो रही है।

ऑटो बन्द हो जाने से आम हो या खास सभी यात्रि‍यो काेे परेशानी झेेलनी पड़ रही है। तपती धूप में ऑटो रिक्शा बिना यात्रि‍यों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही हैं।

चालकों की मांग है कि यात्री भाड़ा बढ़ाने और पार्किग शुल्क कम करने को लेकर ऑटो चालक हड़ताल पर चले गये हैं। प्रशासन यात्रि‍यों की परेशानी पर कोई ध्यान नहीं दे रहा है। बुजुर्ग, महिला बच्चो को सिर पर समान लेकर कड़ी धूप में पैदल जाना पड़ रहा हैं। ट्रेन पकड़ने वाले लोगों को भी पैदल यात्रा करना पड़ रहा है।

Read More:-लोहरदगा: बगैर परमिट और लाइसेन्स के जिले में नही होगा ऑटो का परिचालन- डीसी

ऑटो चालकों का कहना है कि मंहगाई चरम सीमा पर है। डीजल और पेट्रोल की कीमत बढ़ गई  हैं। ऐसे में पार्किग चार्ज बढ़कर 25 रूपये हो गया हैं। जबकि दूसरों जिले में पार्किग चार्ज 5 रूपये से 10 रूपये है। ऐसे में ऑटो चालकों के लिए पार्किग चार्ज बोझ बन गया है। यात्री भाड़ा शुल्क में भी वृ़द्धि नहीं हुई है। ऐसे में ऑटो चलाना सम्भव नहीं है। जबतक स्थानीय प्रशासन मांगों को लेकर पहल नहीं करेगी तबतक ऑटो का परिचालन अनिश्चिकालीन बन्द रहेगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने