बड़कागाँव : बिरसा परियोजना उरीमारी में ट्रांसपोर्टिंग नियम का खुलेआम हो रहा उल्लंघन- कृष्णा साव

NewsCode Jharkhand | 4 December, 2017 1:33 PM

ओवरलोडिंग से होती है दुर्घटनाएं

newscode-image

बड़कागांव (हजारीबाग)। सीसीएल के बरका सायल अधीन उरीमारी स्थित बिरसा एवं न्यू बिरसा परियोजना के कोयला ट्रांसपोर्टिंग में मोटर वेहिकल रूल का खुल्लम-खुल्ला उल्लंघन करते हुए कोयले का ओवरलोडिंग ढुलाई किया जा रहा है। कोयला संप्रेषण में लगे वाहनों में क्षमता से अधिक कोयला की ढुलाई किया जाता है। ओवर लोड होने के कारण छोटी-मोटी घटनाएं हमेशा होती रहती हैं। साथ ही बड़ी-बड़ी घटनाएं होने से इंकार भी नहीं किया जा सकती है। उक्त बातें बड़कागांव 20 सूत्री प्रखंड अध्यक्ष कृष्णा साव ने प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कही है।

Read more:- बड़कागाँव : मजदूर की मौत का मामला, 6 लोगों को बनाया गया नामजद अभियुक्त

साव ने आगे कहा है कि इन घटनाओं की जिम्मेवारी ना तो सीसीएल प्रबंधन लेती है ना ही संप्रेषण। घटना होने पर इसे सड़क दुर्घटना का नाम दे दिया जाता है। इससे आम यात्रियों को काफी परेशानी होती है। ओवरलोडिंग का यह गोरखधंधा सीसीएल के स्थानीय अधिकारी एवं संप्रेषण की मिलीभगत से होता है। इस धंधे की कमाई का एक मोटा हिस्सा मजदूर हितैषी कहे जाने वाले तथाकथित श्रमिक संगठनों को भी मिलता है। जिससे उनकी सफेद कलर ऊंची रहती है।

आगे कहा कि प्रबंधन अगर ओवरलोड ढुलाई अविलंब बंद नहीं हुआ तो इस गोरखधंधे के खिलाफ आवाज बुलंद किया जाएगा और इसकी जानकारी देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय कोयला मंत्री एवं स्थानीय सांसद सह केंद्रीय राज्यमंत्री जयंत सिन्हा से की जाएगी।

चाईबासा : जिले के चार प्रखंडों में लगाए गए जनता दरबार

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 7:01 PM
newscode-image

 चाईबासा । पश्चिमी सिंहभूम के उपायुक्त अरवा राजकमल के निदेशानुसार गुरूवार को जिले के चार प्रखण्डों में जनता दरबार का अयोजन किया गया। नोवामुंडी प्रखण्ड मुख्यालय जनता दरबार में विभिन्न विभागों के द्वारा शिविर का लगाया गया।

जिसमें मुख्य रूप से वृद्धा पेंशन, विधवा पेंशन,विकलांग पेंशन, दिव्यांग पेंशन, जाति, आवासीय, आय प्रमाण पत्रों, स्वास्थ्य, चिकित्सा, कृषि, पशुपालन, समाज कल्याण सहित अन्य विभागों के प्रखण्ड स्तरीय पदाधिकारियों ने लोगों के समस्या का समाधान किया।

जनता दरबार में बच्चों का आधार पंजीकरण भी कराया गया। जनता दरबार का आयोजन प्रखण्ड विकास पदाधिकारी नोवामुण्डी समरेश प्रसाद भण्डारी, तथा अंचलाधिकारी गोपी उरॉव के निर्देशन में सम्पन्न हुआ। वहीं जगन्नाथपुर प्रखंण्ड कार्यालय में लगे जनता दरबार में सूचना के अभाव में लोग नहीं पहुंचे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

पाकुड़ : अज्ञात वाहन की चपेट में आने एक की मौत

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 7:00 PM
newscode-image

पाकुड़। डांगापाड़ा-डुमरिया मुख्य सड़क पर दराजमाट गिरजाघर के समीप अज्ञात वाहन की चपेट में आने से शेषनाथ पंडित की मौत हो गयी। मृतक के भाई रामलखण पड़ित ने थाना में लिखित आवेदन में कहा है कि मेरे भाई पाकुड़ गया था,  देर रात घर नहीं लौटकर नहीं आया।

पाकुड़ : उप मुखिया के घर धमाका, छानबीन में जुटी पुलिस

अगले सुबह दराजमाट के एक व्यक्ती ने कहा कि एक अज्ञात शव दराजमाट के सड़क किनारे पड़ा हुआ है। खबर सुनते ही घटना स्थल में पहुँचकर शव का पहचान किया। उसे किसी अज्ञात वाहन ने टक्कर मारकर फरार हो गया।

पाकुड़ : मैराथन दौड़ का आयोजन, विजेताओं को किया गया पुरस्कृत

सूचने मिलते ही लिट्टीपाड़ा पुलिस घटनास्थल पहुँचकर शव को कब्जे में लिया और पोस्टमार्टम के लिए सदर अस्पताल भेज दिया। थाना प्रभारी विमल सिंह ने बताया कि कांड 56/18 धारा 279,304 दर्ज कर घटना की जांच की जा रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

धनबाद : एनडीए सरकार में श्रम मंत्री रही रीता वर्मा ने की वाजपेयी से जुड़ी यादें साझा

NewsCode Jharkhand | 16 August, 2018 6:56 PM
newscode-image

धनबाद। एनडीए सरकार में श्रम मंत्री रही प्रो. रीता वर्मा ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी से जुड़े यादों को साझा कर भावुक हो गई। प्रो. वर्मा ने बताया कि अमेरिका के विरोध के बावजूद वाजपेयी ने पोखरण परमाणु परीक्षण कराया।

उनके इस अटल फैसले से दूसरे देशों ने भारत को सहयोग देने बंद कर दिए। वे इससे तनिक भी विचलित नहीं हुए। परमाणु परीक्षण के बाद का इतिहास भारत के लिए काफी गौरवमय रहा है।

परमाणु परीक्षण को अटल सरकार का साहसी निर्णय करार देते हुए प्रो. वर्मा ने बताया कि इस परीक्षण के वजह से भारत की पूरे विश्व में अच्‍छी साख बनी। वाजपेयी हमेशा अपने मंत्रिमंडल के सहयोगियों के साथ शिक्षक की भूमिका में पेश आते थे तथा सिखाने की भरपूर कोशिश करते थे।

धनबाद : वासेपुर से रणधीर वर्मा तक निकाली गई भव्य तिरंगा यात्रा

अपने सांसद काल का जिक्र करते हुए उन्‍होंने बताया कि जब मैं धनबाद से सांसद बनी उस समय यह जिला बिहार में हुआ करता था। उस समय लालू यादव बिहार के मुख्‍यमंत्री थे। लालू की भाषा शैली के कारण वाजपेयी जी मुझे भी उसी भाषा के समझ बैठें, लेकिन मेरी हिंदी सुनने के बाद वे बेहद प्रभावित हुए।

डॉ श्यामाप्रसाद मुखर्जी और पंडित दीनदयाल उपाध्याय के असामायिक निधन के बाद भारतीय जनता पार्टी के सामने शून्‍यता की जो स्थिति पैदा हो गई थी उसे वाजपेयी ने अकेले भरने का काम किया। बाद में लाल कृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी ने पार्टी को मजबूत बनाने के लिए उनेक साथ कंधे से कंधा मिलाया।

वर्मा ने आगे बताया कि संसद में विपक्षी पार्टी के नेता भी वाजपेयी के भाषण सुनने को लालायित रहते थे। वे जैसे ही बोलने केा खड़े होते संसद शांत हो जाता। कोई कांग्रेसी यदि शोर गुल करते थे तो दूसरे कांग्रेसी उसे शांत कराकर बैठा देते थे।

अपने पति एसपी स्वर्गीय रणधीर प्रसाद वर्मा की प्रतिमा अनावरण से जुड़ी यादों का जिक्र करते हुए प्रो. वर्मा ने बताया कि वाजपेयी ने ही प्रतिमा का अनावरण किया था। उस समय वे देश के प्रधानमंत्री नहीं थे। प्रतिमा अनावरण के लिए उनसे कहने पर उन्‍होंने तुरंत हामी भर दी थी।

वे दिल्‍ली से कोलकाता हवाई जहाज में आए। हावड़ा स्‍टेशन से ब्लैक डायमंड ट्रेन में सवार होकर 3 जनवरी 1994 को रणधीर वर्मा चौक  पर प्रतिमा का अनावरण किया। धनबाद पहुंचने में उन्हें काफी कष्ट हुआ था, लेकिन अपने कष्ट को उन्होंने कभी जाहिर नहीं किया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

गोड्डा : सांस्कृतिक संध्या पर रंगारंग प्रस्तुतियों ने मोहा

more-story-image

हज़ारीबाग : विहिप और बजरंग दल ने मनाया अखण्ड भारत...