3 साल बाद बस 12 घंटे में दिल्ली से पहुंचेंगे मुंबई, नितिन गडकरी का ये है ‘मास्टरप्लान’

नई दिल्ली। केंद्र सरकार गुरुग्राम को मुंबई से जोड़ने के लिए एक नया एक्सप्रेसवे बनाने जा रही है। यह एक्सप्रेसवे हरियाणा के मेवात और गुजरात के दाहोद से होकर गुजरेगा। दिल्ली से मुंबई के के बीच 1,450 किमी की मौजूदा दूरी को लगभग 1,250 किलोमीटर तक कम कर दिया जाएगा।

अभी रोड द्वारा दिल्ली से मुंबई पहुंचने में कम से कम 24 घंटे लगते हैं। नए एक्सप्रेसवे के पूरा होने के बाद दिल्ली से मुंबई के बीच का समय लगभग 12 घंटे कम हो जाएगा। इस योजना पर गडकरी ने कहा कि दिसंबर तक काम शुरू होगा और तीन साल में पूरा हो जाएगा। एक्सप्रेसवे गुड़गांव के राजीव चौक से शुरू होगा।

12 घंटे में पूरा कर सकेंगे गुरूग्राम से मुंबई का सफर

गुरुग्राम-मुंबई एक्सप्रेस वे बनने के बाद लोगों का ट्रेवल डिस्टेंस काफी कम हो जाएगा। जिससे व्यापार में बढ़ोतरी होगी। साथ ही ट्रेन से लगने वाले वक्त के मुकाबले ट्रेवल टाइम काफी कम हो जाएगा। वर्तमान में दिल्ली से मुंबई के बीच सबसे तेज पहुंचाने वाली मुंबई राजधानी एक्सप्रेस भी 16 घंटे लेती है, जबकि अन्य ट्रेन 17 से 32 घंटे तक का समय लेती हैं।

इन राज्यों को होगा फायदा

परिवहन मंत्री ने बताया कि इस योजना से हरियाणा, राजस्थान और मध्य प्रदेश के लोगों तक लाभ पहुंचेगा, चंबल एक्सप्रेसवे की योजना से मध्य प्रदेश और राजस्थान को फायदा होगा। उन्होंने बताया कि योजना के तहत समय पर काम को पूरा करने के लिए एक साथ 40 जगहों पर काम शुरू किया जाएगा।

गडकरी ने यहां ये भी बताया कि अभी देश में राष्ट्रीय राजमार्गों की लंबाई लगभग 96 हजार किलोमीटर है और वर्तमान सरकार के कार्यकाल के अंत तक वे इस लंबाई को 2 लाख किलोमीटर तक ले जाना चाहते हैं और इसके लिए उनके प्रयास भी जारी हैं।गुरुग्राम को जाम से मुक्ति के लिए विभिन्न प्रोजेक्टो पर काम चल रहा है।

मक्का मस्जिद केस में फैसला सुनाने के बाद जज रवींद्र रेड्डी ने आखिर क्यों दिया इस्तीफा ?

दिल्ली में ट्रैफिक की समस्या होगी कम

परिवहन मंत्री ने यह भी बताया कि पूर्वी दिल्ली में ट्रैफिक की समस्या से जल्द छुटकारा मिल जाएगा क्योंकि दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे की शुरुआत होने जा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 29 अप्रैल को दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेस वे और इसके दिल्ली डासना प्रोजेक्ट का उदघाटन करेंगे।

देश में फिर नोटबंदी जैसे हालात, यूपी, बिहार, झारखंड समेत 8 राज्यों में छाया कैश संकट