निपाह वायरस से बचने के लिए WHO ने किया आगाह, भूलकर भी न खाएं ये 3 फल

NewsCode | 25 May, 2018 6:12 PM
newscode-image

नई दिल्ली। केरल में निपाह वायरस के कारण मरने वालों की संख्‍या बढ़ रही है। जबसे निपाह वायरस से जुड़ी खबरें आ रही हैं लोगों में डर का माहौल है। निपाह वायरस का सबसे बड़ा खतरा अब फलों से भी पैदा हो गया है।

क्‍या है निपाह वायरस?

निपाह वायरस को NiV इन्‍फेक्‍शन भी कहा जाता है। ये जूनोटिक बीमारी है। यानी ऐसी बीमारी जो जानवरों से इंसान में फैलती है। इस बार इसके फैलने का कारण फ्रूट बैट्स (चमगादड़) कहे जा रहे हैं।

कैसे फैलता है?

WHO के मुताबिक, निपाह वायरस चमगादड़ की एक नस्ल में पाया जाता है। यह वायरस उनमें प्राकृतिक रूप से मौजूद होता है, चमगादड़ जिस फल को खाता है, उनके अपशिष्ट जैसी चीजों के संपर्क में आने पर यह वायरस किसी भी अन्य जीव या इंसान को प्रभावित कर सकता है। ऐसा होने पर ये जानलेवा बीमारी का रूप ले लेता है। ऐसे में केरल से आने वाले फलों को विशेषकर ध्‍यान से खाया जाएं।

शरीर में वायरस का प्रवेश कैसे होता है?

NiV शरीर में खाद्य पदार्थ के माध्‍यम से प्रवेश करता है। प्रभावित चमगादड़ द्वारा झूठे किए गए फलों, बेरी या फूलों के सेवन से ये वायरस शरीर में प्रवेश कर जाता है। या घरेलू पशु जिन्‍होंने ऐसे खाद्य पदार्थ का सेवन किया हो या चमगादड़ के संपर्क में आए हों, उनसे भी ये फैलता है। प्रभावित व्‍यक्ति के संपर्क में आने से ये वायरस दूसरे के शरीर में प्रवेश कर जाता है।

क्या हैं निपाह (NiV) के लक्षण मनुष्‍यों में निपाह वायरस, encephalitis से जुड़ा हुआ है, जिसकी वजह से ब्रेन में सूजन आ जाती है. बुखार, सिरदर्द, चक्‍कर, मानसिक भ्रम, कोमा और आखिर में मौत, इसके प्रमुख लक्षणों में शामिल हैं। 24-28 घंटे में यदि लक्षण बढ़ जाए तो इंसान को कोमा में जाना पड़ सकता है। कुछ केस में रोगी को सांस संबंधित समस्‍या का भी सामना करना पड़ सकता है।

इन तीन फलों से फैल सकता है निपाह वायरस

खजूर– धोकर खाएं खजूर और आम। रमजान के महीने में खजूर सबसे ज्यादा खाए जाते हैं। भारत में कई जगह बड़ी मात्रा में केले और खजूर केरल से मंगाए जाते हैं। निपाह वायरस से प्रभावित केरल के कालीकट और मल्लापुरम जिले में केले और खजूर की बड़ी मात्रा उत्‍पाद किए जाते है।

30-31 मई को बंद रहेंगे सभी बैंक, निबटा लें जरूरी काम

केला- निपाह वायरस लोगों में फलों के जरिए फैल सकता है इसलिए केरल से जो केले आ रहे हैं, उनको खाने से बचें। अगर खाना ही है तो अच्छे से धोकर खाएं। क्योंकि, उत्तर भारत में ज्यादातर केले, केरल से आते हैं। ऐसे में इन्हें खाना मौजूदा हालात में सही नहीं है।

अब फ्लाइट टिकट कैंसिल कराने पर मिलेगा पूरा रिफंड, जानें क्या है प्रक्रिया

दुमका : स्व अटल जी के नाम पर होगा सरकारी बस स्टैंड का नामकरण- श्वेता झा

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 9:17 PM
newscode-image

दुमका। दुमका के सरकारी बस स्टैंड का नाम पूर्व प्रधानमंत्री स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम से होगा। प्रस्ताव नगर परिषद अध्यक्ष श्वेता झा ने लाया। इसके अलावा दुमका के टाटा शोरुम चौक पर स्व. अटल बिहारी वाजपेयी की एक प्रतिमा स्थापित करने का भी प्रस्ताव उनके स्तर से नगर पर्षद बोर्ड में रखा जायेगा।

अध्यक्षा श्वेता झा ने शनिवार को इस बाबत कार्यपालक पदाधिकारी राजीव रंजन मिश्र को शीघ्र ही बोर्ड की आवश्यक बैठक बुलाने का निर्देश दिया है। उन्‍होंने कहा कि स्व. अटल बिहारी वाजपेयी ने अपने प्रधानमंत्रित्व काल में झारखंड अलग राज्य का तोहफा यहां की जनता को दिया था। उनका दुमका से विशेष लगाव रहा।

यही कारण है कि वर्ष 1999 के चुनाव में उन्होंने यहां की जनता से वायदा किया था कि अगर एनडीए की सरकार बनी तो यहां की जनता को अलग राज्य का तोहफा दिया जायेगा। उन्होंने अपना वायदा पूरा किया था। अब दुमका की जनता की बारी है कि उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि दें ।

इसके लिए सरकारी बस स्टैंड का एनओसी नगर परिषद को मिल चुका है और इसका संपूर्ण विकास भी शीघ्र होना है। इसलिए इस बस स्टैंड का नाम स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के नाम पर रखा जाये। यही उनके प्रति सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

दुमका : बासुकिनाथ में श्रद्धालुओं की सुरक्षा को लेकर जिला प्रशासन सतर्क एवं मुस्‍तैद

अध्यक्षा श्वेता झा के इस प्रस्ताव पर मौके पर उपस्थित अधिकांश वार्ड पार्षदों ने समर्थन देकर सहमति जतायी। इससे पूर्व नगर परिषद कार्यालय में स्व. अटल बिहारी वाजपेयी के आत्मा की शांति के लिए शोकसभा आयोजित की गई। जिसमें वार्ड पर्षद दीपक स्वर्णकार, राजकुमारी देवी, सीमा देवी, इंदू देवी, रेखा देवी, देवशंकर दे, कौशलेंद्र कुमार, जहांगीर आलम, सीमा देवी, संजीव यादव और सुमंत यादव उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला में 1125 सफाईकर्मियों की प्रतिनियुक्ति

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 11:55 PM
newscode-image

देवघरराजकीय श्रावणी मेला 2018 कई मायनों में खास है। इस बार श्रावणी मेला को स्वच्छ मेला के रूप में मनाया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा स्वच्छता अभियान को लेकर इस वर्ष मेले में शौचालय, मूत्रालय व सफाई व्यवस्थाएं दुगुनी होने के साथ-साथ पूरी तरह से दुरूस्त है।

सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में स्वच्छता का खासा ख्याल रखा जा रहा है। श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में 1125 सफाईकर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसके अलावे 1403 कूडे़दान एवं लगभग 2000 (स्थायी, अस्थायी, बायोटॉयलेट व चलन्त शौचालय) व 330 मूत्रालय की व्यवस्था सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में लगाये गये हैं।

देवघर : चौथी सोमवारी को लेकर एसपी ने की मीटिंग, दिये निर्देश

स्वच्छ व ओडीएफ मेला हेतु जिला प्रशासन स्वच्छ भारत मिशन के उ६ेश्यों के पूर्ति हेतु स्वच्छता, साफ-सफाई और खुले में शौच की प्रथा समाप्त करने को संकल्पित है।

देवघर : बाबा मंदिर प्रांगण में एक मंदिर ऐसा भी जहां जाना वर्जित है, जाने क्‍या है राज

श्रावणी मेला के अवसर पर यहाँ आए श्रद्धालुओं को जिला प्रशासन की ओर से हर संभव सुविधा मुहैया करायी जा रही है। नगर निगम के सफाई कर्मियों के द्वारा पूरे मेला क्षेत्र में चौबिसों घंटे साफ-सफाई कर कूड़ा-कचरों का निष्पादन किया जा रहा है। आज सुबह भी सफाई कर्मियों को हाथ में झाड़ू लिए सड़कों का सफाई करते व ट्रैक्टर के माध्यम से कूड़ा उठाते देखा गया।

देवघर : बाबा नगरी के पेड़े की सौंधी महक का जादू विदेशों तक

नगर निगम के सफाई कर्मियों द्वारा मेला क्षेत्र की  साफ-सफाई कर जगह-जगह पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव भी किया जा रहा है एवं रात्रि के समय मॉस्क्यूटो फॉगिंग की जा रही है। ताकि मेला क्षेत्र में आये श्रद्धालुओं को बाबा नगरी में एक साफ-सूथरा और स्वच्छ माहौल मिले।

देवघर : बाबा मंदिर में अटल बिहारी वाजपेयी के लिए हुई विशेष अनुष्‍ठान

इसके तहत् श्रद्धालुओं से जब हमारे टीम पीआरडी के सदस्य द्वारा पूछा गया तो नालन्दा बिहार से आये सत्यनारायण बम ने बताया कि पिछले आठ सालों से बाबाधाम आ रहा हूँ मगर इस बार सफाई व शौचालय की व्यवस्था देखकर झारखण्ड सरकार को धन्यवाद करने का मन कर रहा है। इस बार की व्यवस्था वाकई अच्छी है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

सिमडेगा : टांगी से काट कर महिला की निर्मम हत्या, हत्‍या का आरोपी गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 10:06 PM
newscode-image

सिमडेगा। कुरडेग थाना क्षेत्र के गाड़ियाजोर पंचायत के ढोंढ़ीडीपा टोली निवासी एक महिला की टांगी से काट कर  हत्या कर दी गई। आरोपी भी महिला के ही गांव का निवासी है। घटना के पीछे आपसी विवाद बताया जा रहा है।  हत्या के आरोपी निरन्तर तिर्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी अशर्फी पासवान घटनास्थल पहुँच कर शव को कब्जे में ले लिया और अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल  भेज दिया।

सिमडेगा : मिशनरी संस्थाओं को निशाना बनाने का आरोप, सीबीआई जांच की मांग

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

गावां : धूल फांक रही है तीन करोड़ की बिल्डिंग,...

more-story-image

सरायकेला : डंपर की चपेट में आकर जैप के जवान...