नारायणपुर : अमजोरा में आयोजित हुआ श्री श्री 108 रामचरित मानस महायज्ञ

सत्य परेशान हो सकता, परंतु पराजित नहीं-सौदागर जी महाराज

NewsCode Jharkhand | 20 February, 2018 12:26 PM

नारायणपुर : अमजोरा में आयोजित हुआ श्री श्री 108 रामचरित मानस महायज्ञ

नारायणपुर (जामताड़ा)। अमजोरा में श्री श्री 108 रामचरित मानस महायज्ञ के प्रवचन में अयोध्या से पधारे सौदागर जी महाराज ने कहा कि असत्य पर सत्य की तथा अधर्म पर धर्म की विजय हुई है। सत्य परेशान हो सकता है परंतु पराजित नहीं।

उन्होंने कहा कि बड़े भाग्य से हमें मानव जीवन मिला है, इसलिए जब समय मिले 24 घंटे में एक घंटा प्रभु का स्मरण जरूर करना चाहिए। भगवान राम को मर्यादा पुरूषोत्तम कहा गया है। उन्होंने मर्यादा की जो लकीर खींची है, उसका अक्षरश: अनुपालन भी किया। पिता की विवशता को समझकर स्वयं वन जाने को तैयार हो गए और आयोध्या का राजपाट भरत को सौंप दिया।

भरत ने भी अपना भाई धर्म निभाया और वनवासी की ही भांति रहे और भगवान राम की पादुका को सिंहासन पर रखकर राजपाट चलाया। जब तक धरा रहेगी तब तक भरत के बलिदान को भुलाया नहीं जा सकेगा। भारतीय सभ्यता संस्कृति अक्षुण्ण रहे, इसके लिए यज्ञ, सत्संग आवश्यक है। उन्होंने कहा कि रामकथा जहां भी अवसर मिले सुनना चाहिए। रामकथा सुनने से जीवन धन्य हो जाता है।

आयोजन को सफल बनाने में टिकैतमणि सिंह, राणा प्रताप सिंह, राजकुमार साह, राजकुमार सिंह, जयमंगल सिंह आदि की अहम भूमिका रही।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:56 PM

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

फिल्ट्रेशन से शिवगंगा का पानी 70 फीसदी हुआ साफ

देवघर। देवघर देव की  नगरिया है और यहां सालों भर आस्था का संगम देखने को मिलता है। देवघर का पवित्र शिवगंगा आस्था का केंद्र के साथ-साथ लोगों के जल का मुख्य स्रोत भी है। भक्त यहीं स्नान कर बाबा भोले को जल चढ़ाने के लिए जाते हैं, लेकिन रखरखाव और पानी को शुद्ध करने में प्रशासन नाकाम रहे। जिसके वजह से यहां का पानी दूषित हो गया। कुछ ही सालों में यहां का जल अशुद्ध हो गया, साथ ही पानी में कई तरह के कीटाणु भी पनपने लगे हैं।

रघुवर सरकार ने सबसे पहले शिवगंगा को शुद्ध करने के लिए फिल्ट्रेशन प्लांट को मंजूरी दी और अब यह फिल्ट्रेशन प्लांट काम भी करने लगा है। पिछले 6 महीनों से यह फिल्ट्रेशन प्लांट दिन-रात पानी को शुद्ध करने में लगा है और आज हालात ऐसे हैं कि शिवगंगा का 70 फीसदी जल शुद्ध हो चुका है।

आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे श्रद्धालु

अधिकारी बताते हैं कि सावन आते-आते शिवगंगा का पानी 90 फीसदी से ज्यादा शुद्ध हो जाएगा। इस बार के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे। इतना ही  जानकार बताते हैं कि अगर इसी गति से पानी शुद्ध होता रहा तो सरोवर का जल पीने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बाबा भोलेनाथ की नगरी जहां पर सुल्तानगंज से जल लेकर श्रद्धालु बाबा भोले के शिवलिंग पर जल अर्पण करते हैं। जो भक्त सुल्तानगंज से नहीं आते वह इसी पवित्र शिवगंगा में डुबकी लगाकर यहां का जल बाबा भोले को चढ़ाते हैं, लेकिन रखरखाव और सही नीति नहीं रहने के कारण जल दूषित हो गया।

छह महीनों से जल की हो रही सफाई

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

 

आगामी श्रावणी मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी है। इस बार सरोवर में स्वच्छ जल से स्नान कर सकेंगे। नगर आयुक्त संजय कुमार सिंह ने बताया कि पिछले 6 महीनों से लगातार शिवगंगा के जल को साफ करने की प्रक्रिया जारी है। फिल्ट्रेशन प्लांट 24 घंटे काम कर रहा है और 70 फीसदी से ज्यादा पानी साफ हो चुका है और उम्मीद जताई जा रही है कि 2018 के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु स्वच्छ जल में आस्था की डुबकी लगाएंगे।

देवघर : सरदार पंडा के गद्दी पर आसीन होंगे गुलाबनंद ओझा

पहले से काफी बदलाव आया : स्‍थानीय

देवघर के स्थानीय लोग भी मानते हैं कि पहले और अभी की स्थिति में काफी बदलाव आया है। पहले इसका जल शुद्ध नहीं था और लोग इसमें स्नान करने से कतराते थे। साथ ही इसका जल बदबू भी देने लगा था जिससे कई तरह के चर्म रोग होने लगे थे। फिल्ट्रेशन प्लांट के काम करने के बाद अब जल के स्तर और इसकी शुद्धता में काफी परिवर्तन आया है और अब भक्त इसमें निसंकोच स्नान कर सकते हैं।

वहीं फिल्ट्रेशन प्लांट में काम कर रहे कर्मी का कहना है कि 70 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो चुका है और सावन के मेले के समय 90 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो जाएगा। शिवगंगा का जल शुद्ध करने में 8 कर्मचारी दिन रात लगे हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

Read Also

जमशेदपुर : बंगाली समुदाय की सुहागिनों ने मां मंगल चंडी की विशेष पूजा-अर्चना की

NewsCode Jharkhand | 22 May, 2018 1:38 PM

जमशेदपुर : बंगाली समुदाय की सुहागिनों ने मां मंगल चंडी की विशेष पूजा-अर्चना की

हर वर्ष ज्येष्ठ माह के प्रथम मंगलवार को होता है

जमशेदपुर। शहर में ज्येष्ठ माह के प्रथम मंगलवार को मां मंगल चंडी की पूजा बंग भाषी समुदाय के लोगों ने बड़ी धूम धाम से मनाया। इस अवसर पर काफी संख्या में बंगाली समुदाय की महिलाएं साकची चिनाब रोड स्थित  दुर्गा बाड़ी की काली मंदिर में आयोजित सामूहिक पूजा-अर्चना में शामिल हुई।

इस दौरान श्रद्धालुओं ने मौसम के नए फल-फूल माता की प्रतिमा पर चढ़ाए और पूजा-अर्चना कर परिवार के सुख-शांति की कामना की। बताया जाता है कि बंगाली समाज में ज्येष्ठ माह में प्रत्येक मंगलवार को मंगल चंडी की पूजा अर्चना की जाती है। यह पूजा काफी शुभ फलदायक मानी जाती है।

रांची : बड़ा पूजा महोत्‍सव के दुसरे दिन श्रद्धालुओं का लगा रहा तांता

बंगाली समुदाय की सुहागिन महिलाओं पूरे दिन उपवास रख कर विभिन्न मंदिरों में पूजा-अर्चना की। यह विशेष पूजा पति की लंबी उम्र की कामना के लिए की जाती है। पूजा करने के लिए शहर के सभी मंदिर में महिलाओं की भीड़ लगी थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

देवघर : बाबा मंदिर के सरदार पंडा अजितानंद ओझा का निधन, शोक की लहर  

NewsCode Jharkhand | 22 May, 2018 11:38 AM

देवघर : बाबा मंदिर के सरदार पंडा अजितानंद ओझा का निधन, शोक की लहर  

हृदय गति रुकने से हुई मौत

देवघर। बाबा बैद्यनाथ मंदिर के सरदार पंडा अजितानंद ओझा का निधन हो गया। तीर्थ पुरोहितों में शोक की लहर है। 46 वर्षों की लंबी कानूनी लड़ाई के बाद कोर्ट के निर्देश पर पिछले वर्ष 6 जुलाई को पूरे धार्मिक अनुष्ठान के साथ हुई थी सरदार पंडा की ताजपोशी।

अहले सुबह 7 बजे जप करने के दौरान उन्‍होंने अंतिम सांस ली थी। जानकारी के मुताबिक सुबह नित्यदिन की तरह स्नान कर के पूजा पाठ करने के बाद जप कर रहे थे। इसी दरम्यान शरदार पण्डा अजितानंद ओझा का अचानक हृदय गति रुकने से मौत हो गई।

ख़बर सुनते ही पंडा समाज के तीर्थपूरोहितो में शोक की लहर है। बाबा मंदिर के गद्दी की लड़ाई शरदार पंडा द्वारा 46 साल तक लंबी लड़ाई के बाद हाइ कोर्ट से जीत हुई थी।

देवघर : असहाय महिला की हुई मौत, सूचना देने के बाद भी 20 घंटे बाद पहुंची पुलिस

श्राइन बोर्ड की बैठक में मुख्यमंत्री रघुवर दास के आदेश के बाद विधिवत ताजपोशी हुआ था। इस ऐतिहासिक घड़ी में हजारों लोग साक्षी बने थे, जब उन्‍होंने आवास पर अंतिम सांस लिए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने