देश का वो इकलौता राज्य जहाँ आज तक कोई भी महिला विधायक नहीं बन सकी है

NewsCode | 4 March, 2018 7:22 PM

नगालैंड देश का एकमात्र ऐसा राज्य है, जहां अभी तक एक भी महिला विधायक चुनकर विधानसभा तक नहीं पहुंची है। 

newscode-image

नई दिल्ली।  नगालैंड की सियासत फिर आधी आबादी की दखल से बची रह गई। राज्य के 54 साल के इतिहास में महिलाएं एक बार फिर इतिहास रचने से चूक गईं। इस बार सर्वाधिक पांच महिलाएं चुनावी अखाड़े में उतरी थीं, लेकिन एक भी जीत का स्वाद नहीं चख पाईं। आलम यह रहा कि अखोई सीट से उम्मीदवार अवान कोन्याक को छोड़कर बाकी चारों महिलाएं चौथे और पांचवें पायदान पर रहीं।

बड़ा सवाल यह कि राज्य में बीते 15 वर्षो से सत्ता सुख भोग रही नगा पीपुल्स फ्रंट (एनपीएफ) और महिला अधिकारों की पक्षधर कांग्रेस ने एक भी महिला उम्मीदवार को टिकट क्यों नहीं दिया? मात्र दो सीटें पाने के बावजूद सरकार बनाने का दावा कर रही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने सिर्फ एक महिला उम्मीदवार को टिकट देकर खानापूर्ति कर लेना मुनासिब क्यों समझा?

राजनीतिक विश्लेषक पुष्पेश पंत कहते हैं, “नगालैंड का राजनीतिक और सामाजिक परिदृश्य अलग है। नगा समाज में माना जाता है कि राजनीति महिलाओं के लिए नहीं है। राजनीति को लेकर महिलाएं खुद ज्यादा सजग नहीं हैं, लेकिन अब स्थिति काफी हद तक सुधरी है। महिलाएं भी राजनीति में आना चाहती हैं, लेकिन समाज का ताना-बाना ही ऐसा है कि महिलाओं की तुलना में पुरुषों को राजनीति में अधिक तरजीह दी जाती है।”

नेशनल पीपुल्स पार्टी (एनपीपी) ने सिर्फ दो महिलाओं को टिकट दिए, वहीं भाजपा ने सिर्फ एक महिला को टिकट देकर खानापूर्ति कर ली। राखिला को टिकट देने की वजह भी उनकी राजनीतिक पृष्ठभूमि रही। तुएनसांग सदर-2 सीट से चुनाव लड़ने वाली राखिला को 2,749 वोट मिले और वह तीसरे स्थान पर रहीं। राखिला इससे पहले 2013 का चुनाव भी लड़ी थीं और मात्र 800 वोटों से हार गई थीं।

एनपीपी ने जिन दो महिलाओं को टिकट दिए थे, उन्हें भी हार का सामना करना पड़ा। दीमापुर-3 सीट से वेदीऊ क्रोनू को सिर्फ 483 वोट मिले, जबकि पार्टी के टिकट पर नोकसेन सीट से चुनाव लड़ीं डॉ.के मांगयांगपुला चांग को मात्र 725 वोट ही मिले।

नेशनलिस्ट डेमोक्रेटिक प्रोग्रेसिव पार्टी (एनडीपीपी) के टिकट पर अबोई सीट से चुनाव हार चुकीं अवान कोन्याक को 5,131 वोटों मिले, जबकि चिझामी सीट से निर्दलीय उम्मीदवार रेखा रोज दुक्रू 338 वोटों से पांचवें स्थान पर रहीं।

नगालैंड की राजनीति में महिलाओं की पैठ न होने के बारे में माकपा नेता बृंदा करात ने आईएएनएस से कहा, “यही कारण है कि हम संविधान में संशोधन कर महिलाओं के लिए 33 फीसदी आरक्षण की मांग कर रहे हैं। रीति-रिवाजों के नाम पर नगा महिलाओं को राजनीति से दूर रखा जाता है। यहां तक कि मुख्यधारा की पार्टियां भी यहां महिलाओं को टिकट देने से कतराती हैं। नगालैंड में महिला आरक्षण को लेकर लोग सजग नहीं हैं।”

इन महिला उम्मीदवारों को मिले वोटों से साफ है कि पुरुष उम्मीदवारों की तुलना में इन्हें गिने-चुने वोट ही मिले हैं। राज्य में कुल 11 लाख 93 हजार मतदाता हैं, जिनमें से महिला मतदाताओं की संख्या छह लाख 89 हजार 505 है। इसका मतलब है कि महिलाओं ने भी महिला उम्मीदवारों में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाई।

दिल्ली विश्वविद्यालय की पीएचडी छात्रा गुंजन यादव कहती हैं, “महिलाओं को भी चुनाव लड़ने के मौके मिलने चाहिए, उनकी भूमिका सिर्फ राजनीतिक झंडे उठाने तक सीमित नहीं रहनी चाहिए।”

नगालैंड देश का एकमात्र ऐसा राज्य है, जहां अभी तक एक भी महिला विधायक चुनकर विधानसभा तक नहीं पहुंची है।

इससे पहले 2012 में हुए चुनाव में दो महिला उम्मीदवारों को टिकट दिया गया था, जबकि इससे पहले 2008 के चुनाव में पांच महिलाएं चुनाव लड़ी थीं, जीत नहीं पाईं।

साल 1977 में यूडीपी के टिकट पर चुनाव लड़कर लोकसभा पहुंचने वाली रानो शाइजा के बाद राज्य की एक भी महिला लोकसभा तो दूर, विधानसभा की दहलीज भी नहीं लांघ पाई।

महिला आरक्षण को लेकर मुख्यमंत्री टी.आर. जेलियांग को कुर्सी तक गंवानी पड़ी थी। उन्होंने महिलाओं को शहरी निकाय चुनावों में 33 फीसदी आरक्षण देने की कोशिश की थी, लेकिन राज्य में उनके खिलाफ जोरदार प्रदर्शन हुए और उन्हें कुर्सी छोड़नी पड़ी।

दो बीवियां रखने वाले को मकान भत्ता देगी इस देश की सरकार

आईएएनएस

रांची : बीजेपी पर बरसे प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष, लगाए कई आरोप

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 8:46 PM
newscode-image

रांचीआयुष्मान भारत का उद्घाटन करने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 23 सितंबर को झारखंड आ रहे हैं । इसके लिए तैयारियां जोरो-शोरो से चल रही हैं । वहीं दूसरी तरफ प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष डॉक्टर अजय कुमार ने बीजेपी पर गंभीर आरोप लगाए हैं।

प्रेस को संबोधित करते हुए डॉक्टर अजय ने कहा कि आयुष्मान भारत का उद्घाटन 13 अप्रैल 2018 को छत्तीसगढ़ में हो चुका है, तो फिर दोबारा उसका उद्घाटन 23 अप्रैल 2018 को झारखंड से कैसे करेंगे प्रधानमंत्री?

आयुष्मान भारत और कुछ नहीं बल्कि भाजपा सरकार की आयु बढ़ाने वाली योजना है। चुनाव का मौसम है।  चुनाव सर पर है और इलेक्शन से ठीक 7 महीने पहले ऐसी योजनाओं को लाना जाहिर तौर पर चुनावी हथकंडा है।

भोले- भाले जनता को गुमराह कर रही है सरकार 

ऐसी बहुत सारी योजना है जो मोदी सरकार ने भोली भाली जनता को गुमराह  करने के लिए बनाई है। इसका कुछ उदाहरण मैं आपको देता हूं।  2016 में जेटली जी ने संसद में कहा था कि 10 करोड़ परिवार को 1 लाख देंगे  पर  यह  स्कीम सिर्फ 40 हजार लोगों तक हीं  पहुंचा।

दूसरा, आवासीय योजना में 5 करोड़ मकान देने का वादा था जबकि सरकारी रिपोर्ट के अनुसार अभी तक सिर्फ 3 लाख 90 हजार ही मकान बन पाए हैं। तीसरा,सरकार एक प्राइमरी सेंटर बनाने के लिए 80  हजार खर्च कर रही है, मैं पूछना चाहता हूं कि 4 हजार स्क्वायर फिट का प्राइमरी सेंटर 80 हजार में कैसे बनेगा?

उसी तरह अटल पेंशन योजना में दो करोड़ लोगों को फायदा पहुंचाना था जबकि अभी तक सिर्फ 8% लोगों को इसका लाभ मिल पाया है। स्वच्छ भारत की आप बात ही छोड़ दें। स्मार्ट सिटी को लेकर केवल दो परसेंट तक ही काम हो पाया है।

नमामि गंगे पर हुआ है  0% काम

अभी तक,  नमामि गंगे में 0% काम हुआ है। सरकार केवल स्कीम पर स्कीम ला रही है लेकिन धरातल पर अभी तक इनका काम शून्य है।

अगर मैं अपराध की बात करूं तो राज्यभर में बलात्कार, मर्डर ,लूट ,डकैती, चेन स्नेचिंग दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। प्रशासन  की ओर से अभी तक कोई गिरफ्तारी या  कार्रवाई  नहीं हुई है। सरकार इसका जवाब दें क्योंकि डीजीपी साहब तो सिर्फ कोर्ट की फटकार खाने और CM हाउस के चक्कर लगाने में व्यस्त हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

धनबाद : डीसी कार्यालय के सामने दो पक्षों में हुई नोंक-झोंक

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 10:03 PM
newscode-image

धनबाद। डीसी कार्यालय के समक्ष दो पक्षों के बीच बुधवार को जमकर नोंक-झोंक हुई। लड़की से मिलने नहीं देने तथा उन्हें बताये बगैर न्यायालय में लड़की का बयान दर्ज कराए जाने को लेकर लड़की के परिजन हंगामे पर उतारू हो गए।

बीच सड़क पर दो पक्षों के बीच बढ़ते नोक -झोक को लेकर पुलिस को भी उन्हें शांत कराने में भारी मशक्कत करनी पड़ी। लड़की पक्ष के गुस्से को शांत कराकर तोपचांची पुलिस लड़की के साथ लड़का पक्ष को महिला थाने पहुंचाई।

धनबाद : एटीएम गार्डों ने बिना वेतन व नोटिस के काम से हटाने का किया विरोध

तोपचांची थाना क्षेत्र के दुमदुमी निवासी जगन्‍नाथ पांडेय पिछले 8 तारीख को अपने ही गांव के युवक व उसके साथियों पर पुत्री का अपहरण कर लेने की शिकायत तोपचांची थाने में दर्ज कराई थी। दर्ज बयान में उन्‍होंने कहा था कि पुत्री सुबह में शौच के लिए घर से निकली तभी उपरोक्त युवकों ने पुत्री का अपहरण कर फरार हो गया।

पुलिस की छानबीन में परिजनों को जानकारी मिली की उनकी पुत्री को युवक व उसका साथी अपहरण कर दिल्ली ले गया है। बुधवार को तोपचांची पुलिस युवक-युवती को धनबाद न्यायालय लेकर पहुंची।

सूचना पाकर लड़की के परिवार वाले भी कोर्ट पहुंचे। यहां उन्हें पता चला की लड़की का बयान कोर्ट में दर्ज करा दिया गया है। बयान दर्ज कराने से पूर्व लड़की से भेंट नहीं कराये जाने को लेकर गुस्साए परिजन युवक के घरवालों से नोक-झोंक करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

बड़कागांव : जनता दरबार की जानकारी नहीं दिए जाने पर भड़के जनप्रतिनिधि

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 9:54 PM
newscode-image

बड़कागांव(हजारीबाग)। आम लोगों की समस्याओं के समाधान हेतु राज्य सरकार द्वारा प्रखंड स्तर पर लगाए जा रहे जनता दरबार का महत्व उस समय समाप्त हो गया, जब बड़कागांव प्रखंड मुख्यालय में आयोजित जनता दरबार में ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति नगण्य देखी गई। वहीं नियमित रूप से प्रखंड व अंचल में अपने व्यक्तिगत काम को लेकर पहुंचे ग्रामीण व जनप्रतिनिधियों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली और इस पर नाराजगी जाहिर की। लगता है जैसे जनता दरबार महज कोरम पूरा करने की चीज बनकर रह गयी है।

जनप्रतिनिधियों के अनुसार उन्‍हें या ग्रामीणों को जनता दरबार के आयोजन के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई ओर गुपचुप तरीके से इसका आयोजन करके खानापूर्ति की जा रही है। लोगों ने कहा कि बड़कागांव की स्थिति दयनीय इसलिए है क्‍योंकि यहां कार्यरत पदाधिकारी, कर्मचारी के साथ-साथ जिले के पदाधिकारियों का भी रवैया उदासीन है। कोई भी कार्य जमीनी स्तर पर नहीं करके महज कागजों तक ही सीमित रखा जा रहा है।

कटकमसांडी : छुरेबाजी की घटना में युवक घायल, गंभीर हालत में रिम्‍स रेफर

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : गौरी सबर की स्मृति में समाधान संस्था ने...

more-story-image

दुमका : किराना स्टोर में पुलिस ने किया छापेमारी, डुप्लिकेट...