तीसरे टी-20 में धोनी ने बनाये दो-दो विश्व रिकॉर्ड, ऐसा करने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बने

NewsCode | 9 July, 2018 12:38 AM
newscode-image

ब्रिस्टल। टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और सीमित ओवरों के क्रिकेट में बेहतरीन विकेटकीपर महेंद्र सिंह धोनी ने इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे और निर्णायक टी-20 मैच में दो विश्व रिकॉर्ड बनाए हैं। दरअसल, इस मैच में धोनी ने एक टी-20 इंटरनेशनल पारी में विकेट के पीछे 5 कैच पकड़कर वर्ल्ड रिकॉर्ड बना दिया है। एक टी-20 इंटरनेशनल के मुकाबले में अब तक दुनिया का कोई विकेटकीपर एक ही पारी में पांच कैच लेने का कारनामा नहीं कर पाया था।

इस मैच में धोनी ने पांच कैच लेते हुए एक खिलाड़ी को रन आउट भी किया। इससे पहले टी-20 मैचों में धोनी दो बार चार-चार कैच ले चुके हैं। पहली बार साल 2010 में अफगानिस्तान के खिलाफ उन्होंने चार कैच पकड़े थे। इसके बाद साल 2012 में कोलंबो में पाकिस्तान के खिलाफ भी उन्होंने एक मैच में चार कैच लपके थे।

टी-20 मैच की एक पारी में सबसे ज्यादा कैच

धोनी (5 कैच) बनाम इंग्लैंड साल 2018

धोनी (4 कैच) बनाम पाकिस्तान साल 2012

धोनी (4 कैच) बनाम अफगानिस्तान साल 2010

एडम गिलक्रिस्ट (4 कैच) बनाम जिम्बाब्वे साल 2007

मैट प्रायर (4 कैच) बनाम साउथ अफ्रीका साल 2007

एडम गिलक्रिस्ट (4 कैच) बनाम न्यूजीलैंड साल 2007

धोनी ने लगाया कैचों का अर्धशतक

इसके अलावा महेंद्र सिंह धोनी टी-20 इंटरनेशनल क्रिकेट में 50 कैच लपकने वाले विश्व के पहले विकेटकीपर बन गए हैं। उन्‍होंने ये उपलब्धि अपने 93वें टी-20 मैच में हासिल की है। धोनी ने अपना पहला मैच खेल रहे तेज गेंदबाज दीपक चाहर की गेंद पर जेसन रॉय को कैच आउट किया और अपने कैचों का अर्धशतक पूरा किया।

विकेट के पीछे 400 शिकार करने वाले भारत के पहले विकेटकीपर बने धोनी

धोनी से पहले क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में दुनिया के किसी भी विकेटकीपर ने ये कमाल नहीं किया था। इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टी-20 में पांच कैच पकड़ धोनी ने अपने कैचों की संख्या को 54 तक पहुंचा दिया है। इससे पहले धोनी ने टी-20 क्रिकेट में सबसे ज्यादा स्टंप आउट करने का वर्ल्ड रिकॉर्ड भी अपने नाम किया था।

बर्थ-डे के दिन धोनी ने बनाया नया रिकॉर्ड, यह कमाल करने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बने

रोहित शर्मा के शतक से जीता भारत, टी-20 सीरीज जीत का लगाया छक्का

पितृ पक्ष 2018: श्राद्ध क्रिया में इन खास बातों का रखें ख्याल

NewsCode | 23 September, 2018 5:27 PM
newscode-image

हिंदू कर्मकांड में श्रद्धा और मंत्र के मेल से पूर्वपुरुषों (पितरों) की आत्मा की तृप्ति के निमित्त जो विधि होती है उसे श्राद्ध कहते हैं। हमारे जिन सगे-संबंधियों का देहांत हो गया है, वे पितृलोक में या यत्र-तत्र विचरण करते हैं, उनके लिए पिंडदान किया जाता है। बच्चों एवं संन्यासियों के लिए पिंडदान नहीं किया जाता। गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी के बाद शुरू होते हैं श्राद्ध। हर साल श्राद्ध भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलते हैं।

अगर पंडित से श्राद्ध नहीं करा पाते तो सूर्य नारायण के आगे अपने दोनों हाथ ऊपर करके ये बोलें : “हे सूर्य नारायण ! मेरे पिता (नाम), अमुक (नाम) का बेटा, अमुक जाति (नाम), (अगर जाति, कुल, गोत्र नहीं याद तो ब्रह्म गोत्र बोल दें) को आप संतुष्ट/सुखी रखें। इस निमित्त मैं आपको अर्घ्य व भोजन करता हूं।” इसके पश्चात् आप भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और भोग लगायें।

 इन बातों का रखें खास ख्याल –

– श्राद्ध में कपड़े और अनाज दान करना ना भूलें। इससे पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती है।

– बताया जाता है कि श्राद्ध दोपहर उपरांत ही किया जाना चाहिए। जानकारों के अनुसार जब सूर्य की छाया पैरों पर पड़ने लगे तो श्राद्ध का समय हो जाता है। दोपहर या सुबह में किये गए श्राद्ध का कोई मतलब नहीं होता है।

– जिस दिन श्राद्ध करना हो उससे एक दिन पूर्व ही उत्तम ब्राह्मणों को निमंत्रण दे दें। परंतु श्राद्ध के दिन कोई अनिमंत्रित तपस्वी ब्राह्मण घर पर पधारें तो उन्हें भी भोजन कराना चाहिए।  ब्राह्मण भोज के वक्त खाना दोनों हाथों से परोसें, एक हाथ से खाने को पकड़ना अशुभ माना जाता है।

– श्राद्ध के दिन घर में सात्विक भोजन ही बनना चाहिए। इस दिन खाने में लहसुन और प्याज का इस्तेमाल  नहीं होना चाहिए। गौर करने वाली बात यह भी है कि पितरों को जमीन के नीचे पैदा होने वाली सब्जियां नहीं चढ़ाई जाती हैं। इनमें अरबी, आलू, मूली, बैंगन और अन्य कई सब्जियों शामिल हैं।

– पूरे विधान में मंत्र का बड़ा महत्व है। श्राद्धकर्म में आपके द्वारा दी गयी वस्तु कितनी भी बेशकीमती क्यों न हो, आपके द्वारा यदि मंत्र का उच्चारण ठीक न हो तो काम व्यर्थ हो जाता है। मंत्रोच्चारण शुद्ध होना चाहिए और जिसके निमित्त श्राद्ध करते हों उसके नाम का उच्चारण भी शुद्ध करना चाहिए।

– श्राद्ध के दिन अपने पितरों के नाम से ज्यादा से ज्यादा गरीबों को दान करें।

– पिंडदान करते वक्त जनेऊ हमेशा दाएं कंधे पर रखें।

 पिंडदान करते वक्त तुलसी जरूर रखें।

– कभी भी स्टील के पात्र से पिंडदान ना करें, बल्कि कांसे या तांबे या फिर चांदी की पत्तल इस्तेमाल करें।

– पिंडदान हमेशा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके ही करें।

– पिता का श्राद्ध बेटा ही करे या फिर बहू करे। पोते या पोतियों से पिंडदान ना कराएं।

– श्राद्ध करने वाला व्यक्ति श्राद्ध के 16 दिनों में मन को शांत रखें।

– श्राद्ध हमेशा अपने घर या फिर सार्वजनिक भूमि पर ही करे। किसी और के घर पर श्राद्ध ना करें।


बकरीद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, जानें पूरी कहानी

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गोड्डा : पुलिस ने 59 गाय को किया बरामद, 7 तस्कर गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:43 PM
newscode-image

गोड्डा। गो वंशीय पशुओं की तस्करी के रोकने के लिए पुलिस जोर शोर से लगी हुई है। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक राजीव रंजन के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए, पुलिस ने 59 गाय समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया है।

गोड्डा :  बिजली विभाग की लापरवाही, जमीन पर पड़े नंगे तार से महिला झुलसी

सदर एसडीपीओ रवि भूषण ने बताया कि राजाभीठा थाना क्षेत्र में गाय की तस्करी किया जा रही है। शनिवार को सदर बाजार स्थित बंका हॉट से गो वंशीय पशुओं की खरीदारी करके पड़ोसी जिले पाकुड़ के हिरणपुर स्थित हाट में सोमवार को बेचे जाने की योजना थी।

गो वंशीय पशुओं की तस्करी का खेल लगातार चल रहा था और तस्करी में शामिल लोगों को 700 से लेकर 1400 रुपये तक की मजदूरी दिया जाता था। सदर एसडीपीओ ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों से सघन पूछताछ की जा रही है, मामले में 6 अभियुक्तों का नाम भी सामने आ चुका है। अधिकांशतः तस्कर पाकुड़ जिले से ताल्लुक रखते हैं तथा कुछ तस्कर पड़ोसी जिले साहेबगंज के हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देवघर : रसोइया संघ की हुई बैठक, चार अक्‍टूबर को देंगे धरना

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:39 PM
newscode-image

देवघर। पुराने सदर अस्पताल परिसर में देवघर जिला रसोइया संघ की बैठक में स्‍कूलों के समायोजन के नाम पर रसोइयों को कार्य से हटाए के खिलाफ आगामी चार अक्‍टूबर को डीएसई कार्यालय के समक्ष धरना देने का निर्णय लिया गया।

बैठक की अध्‍यक्षता करते हुए संघ अध्यक्षा गीता मण्डल ने कहा कि झारखंड सहित देवघर में एक स्‍कूल का दूसरे विद्यालय में समायोजन करने पर रसोइयों के समक्ष भुखमरी की समस्‍या पैदा हो गई है।

देवघर : धूमधाम से मनाया गया पर्यटन पर्व

उन्‍होंने कहा कि समायोजित किए गए स्‍कूलों के शिक्षकों समेत छात्र-छात्राओं को दूसरे विद्यालयों में भेज दिया गया है। उन स्‍कूलों में कार्यरत रसोइयों को काम से हटा दिया गया है। इनलोगों का मानदेय भी बन्द कर दिया गया है। संघ ने सरकार के इस कदम की कड़े शब्‍दों में विरोध किया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

चक्रधरपुर : हावड़ा से मुंबई जा रही गीतांजलि सुपरफास्ट ट्रेन...

more-story-image

हजारीबाग : यात्री बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, दर्जनभर यात्री हुए घायल