रांची : मदर्स डे विशेष : सागर स्याही और धरती कागज बन जाय तो भी मां का वर्णन मुश्किल

Nitish Kumar | 13 May, 2018 2:28 PM
newscode-image

रांची। ‘मां’ को सिर्फ एक शब्‍द में बयां नहीं किया जा सकता है। मां का वर्णन करने के लिए हजारों शब्‍द भी कम पड़ जाएगें। जब कोई बच्‍चा जन्‍म लेता है तो उसके मुख से निकलने वाला पहला शब्‍द मां ही होता है। मां एक ऐसा रिश्‍ता होता है जिसमें कोई स्‍वार्थ नहीं होता है। इसलिए कहा जाता मां का रिश्‍ता ही अनमोल है।

किसी ने कहा है कि सागर को स्याही बना लिया जाए और धरती को कागज, तब भी मां की महिमा नहीं लिखी जा सकती। इसीलिए हर बच्चा कहता है ‘मेरी मां सबसे अच्छी है।‘ जबकि मां, इसकी-उसकी नहीं हर किसी की अच्छी ही होती है, क्योंकि वह मां होती है

सभी के लिये मातृ दिवस वर्ष का एक बहुत ही खास दिन होता है। जो लोग अपनी मां को बहुत प्यार करते हैं और ख्याल रखते हैं वो इस खास दिन को कई तरह से मनाते हैं। ये साल एकमात्र दिन है जिसे दुनिया की सभी माँ को समर्पित किया जाता है।

विभिन्न देशों में रहने वाले लोग इस उत्सव को अलग अलग तारीखों पर मनाते हैं साथ ही अपने देश के नियमों और कैलेंडर का अनुसरण इस प्यारे त्योहार को मनाने के लिये करते हैं।

मदर्स डे विशेष : सागर स्याही और धरती कागज बन जाय तो भी मां का वर्णन मुश्किल

भारत में इसे हर साल मई के दूसरे रविवार को देश के लगभग हर क्षेत्र में मनाया जाता है। पूरे भारत में आज के आधुनिक समय में इस उत्सव को मनाने का तरीका बहुत बदल चुका है। ये अब समाज के लिये बहुत बड़ा जागरुकता कार्यक्रम बन चुका है।

सभी अपने तरीके से इस उत्सव में भाग लेते हैं और इसे मनाते हैं। विविधता से भरे इस देश में ये विदेशी उत्सव की मौजूदगी का इशारा है। ये एक वैश्विक त्योहार है जो कई देशों में मनाया जाता है।

“जब मैं पैदा हुआ, इस दुनिया में आया, वो एकमात्र ऐसा दिन था मेरे जीवन का जब मैं रो रहा था और मेरी मां के चेहरे पर एक सन्तोषजनक मुस्कान थी।“ए.पी. जे. अब्‍दुल कलाम आजाद

इतिहास

दुनियाभर में मई माह के दूसरे रविवार को मदर्स डे मनाया जाता है। खास तौर से मां के प्रति कृतज्ञता व्यक्त कर उनके दिए गए अथाह प्यार और स्नेह के लिए धन्यवाद देने का एक माध्यम है यह दिन। जितना खास है यह दिन, उतनी ही रोचक है इस दिन को मनाने की शुरुआत भी। अलग-अलग देशों में इस दिन को मनाने की अलग-अलग कहानी है।

चीन में  यह बेहद लोकप्रिय है और इस दिन उपहार के रूप में गुलनार के फूल सबसे अधिक बिकते हैं। 1997 में चीन में यह दिन गरीब माताओं की मदद के लिए निश्चित किया गया था। खासतौर पर उन गरीब माताओं के लिए जो ग्रामीण क्षेत्रों, जैसे पश्चिम चीन में रहती हैं।

जापान में मातृ दिवस शोवा अवधि के दौरान महारानी कोजुन (सम्राट अकिहितो की मां) के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता था। आज कल इसे अपनी मां के लिए ही लोग मनाते हैं। बच्चे गुलनार और गुलाब के फूल उपहार के रूप में मां को अवश्य देते हैं।

थाईलैंड में मातृत्व दिवस थाइलैंड की रानी के जन्मदिन पर मनाया जाता है।

भारत में इसे कस्तुरबा गांधी के सम्मान में मनाए जाने की परंपरा है।

क्‍या आम खाने से बढ़ता है वजन? जानिए आम खाने के फायदों के बारे में

बाद में यह तारीखें कुछ इस तरह बदली कि वि‍भिन्न देशों में प्रचलित धर्मों की देवी के जन्मदिन या पुण्य दिवस को इस रूप में मनाया जाने लगा। जैसे कैथोलिक देशों में वर्जिन मैरी डे और इस्लामिक देशों में पैगंबर मुहम्मद की बेटी फातिमा के जन्मदिन की तारीखों से इस दिन को बदल लिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बुंडूः अच्छी बारिश के लिए हुमटा पहाड़ में सैकड़ों महिलाओं ने की पूजा

Ashish Pramanik | 16 July, 2018 8:40 PM
newscode-image

बुंडू। अच्छी बारिश के लिए सोमवार को बुंडू स्थित हुमटा पहाड़ पर सैकड़ों महिलाओं ने पूजा की। सुबह 8 बजे के करीब महिलायें कलश लेकर हुमटा पहाड़ पहुंचीं और पहाड़ राजा की घंटों पूजा की। मौके पर मौजूद स्थानीय पहान ने भी  पूजा-अर्चना की। महिलाओं का मानना है कि पूजा करने से अच्छी बारिश और फसल की अच्‍छी उपज होती है।

इधर हुमाटा पंचायत के मुखिया फेकला गंझू ने बताया कि यह पूजा हर तीन साल में एक बार की जाती है। पूर्वजों के द्वारा शुरू की गई यह परंपरा आज भी निभाई जा रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

चतरा : TPC नक्सलियों की करतूत, ठेकेदार की हत्या, छह को किया घायल

NewsCode Jharkhand | 19 July, 2018 11:06 AM
newscode-image

चतरा । नक्सली संगठन तृतीय प्रस्तुति कमेटी (टीपीसी) के हथियारबंद दस्ते ने बुधवार देर रात चतरा जिले के पत्थलगड्डा थाना क्षेत्र के मेराल गांव में एक ठेकेदार की पीट-पीट कर हत्या कर दी।

नक्सलियों ने मेराल गांव निवासी नागेश्वर गंझू पर पुलिस मुखिबिरी का आरोप लगाते हुए मनरेगा के नागेश्वर गंझू समेत कई लोगों से मारमीट की। इस मारपीट की घटना में छह लोग घायल हो गये। जिसमें नागेश्वर गंझू की इलाज के क्रम में मौत हो गयी। मारपीट से घायल आधा दर्जन लोगों की प्रथमिक उपचार स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में किया गया। बाद में उन्हें बेहतर इलाज के लिए हजारीबाग सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया है।

बाघमारा :  दो पड़ोसी दुकानदार आपस में भिड़े, सात घायल

मृतक नागेश्वर गंझू के परिजनों ने बताया टीपीसी के उग्रवादी लेवी नहीं देने और पुलिस के लिए मुखबिरी करने का आरोप लगाते हुए उन्हें घर से उठा कर ले गये थे। घर के बाहर कुछ दूरी पर ले जाकर उनके साथ मारपीट की।  जिससे वह मरणासन्न हो गये और बाद में उनकी मौत हो गयी। नागेश्वर गंझू के साथ मारपीट करने के बाद उग्रवादियों ने गांव के दूसरे घरों से भी लोगों को निकाल कर मारपीट की। जिसमें छह लोग गंभीर रुप से घायल हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

चास : नगर विकास समिति की मासिक बैठक में समस्याओं पर चर्चा

NewsCode Jharkhand | 19 July, 2018 10:52 AM
newscode-image

चास(बोकारो)। नगर विकास समिति की मासिक समीक्षा बैठक “बाबु कुंवर सिंह जोन” बुनियादी स्कूल चास अभय कुमार मुन्ना की अध्यक्षता तथा गौरी शंकर सिंह के संचालन में हुई। बैठक में आम लोगों के हित मे सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यो को लेकर वार्ड वार बिस्तार से चर्चा किया गया। बैठक को संबोधित करते हुए समिति के संरक्षक सदस्य अशोक जगनानी ने कहा कि सरकार की योजनाए आमजनता को केंद्र में रखकर ही बनाई जाती है।

बेरमो : युवक ने घर घुसकर लड़की का गला काटा, हालत नाजुक

 

लेकिन उसको कार्यान्वित करने वाली एजेंसी जबतक ईमानदारी पूर्वक अपने कर्तव्यों का पालन नही करती। तब तक शत प्रतिशत सफलता नहीं मिल पाता है। बिजली विभाग, आपूर्ति विभाग,नगर निगम,प्रखंड-अंचल सहित कई विभाग में विकास का कार्य असंतुलित एवं मनमाने ढंग से हो रहा है। कार्य करने वाली एजेंसियां सबको दरकिनार कर विकास का कार्य कर रही है,जिस कारण भ्रष्टाचार बेलगाम हो गया है। जो अत्यंत दुखद है।

चास : इंजीनियर के घर से 20 हजार नगद समेत लाखों की कीमती सामान चोरी

 

समिति अतीश कुमार सिंह ने कहा कि सरकारी योजनाओं को जोन स्तर पर आम जनता को अधिक से अधिक जागरूक करने के लिए समिति बैठके कर रही है। समिति एक जिम्मेवार संगठन के रूप में मनमानी को  रोकने के लिए कृतसंकल्पित है। समिति के अध्यक्ष अभय कुमार मुन्ना ने कहा कि विगत एक माह में समिति ने आम जनता की समस्याओं को लेकर उपायुक्त, बिजली विभाग,नगर निगम,रेलवे विभाग,खाद्य आपूर्ति विभाग सहित कई विभाग में स्थानीय स्तर पर हो रही समस्याओ से संबंधित मूद्दो से अधिकारियों को अवगत कराया है।

बोकारो : चास नगर निगम क्षेत्र से भारी मात्रा में अवैध पॉलीथिन बरामद

 

 जो आगे भी जारी रहेगा । अपेक्षित सुधार नहीं होने पर समिति आंदोलनात्मक कार्यक्रम भी चलाने का काम करेगी। इस अवसर पर मार्गदर्शक समिति के संरक्षक सदस्य अशोक जगनानी, वरिष्ठ सदस्य अतीश सिंह, गौरी शंकर सिंह,शिव कुमार श्रीवास्तव,रामभजन सिंह,लालमुनी देवी,नरोत्तम झा,बिनोद चौधरी,वार्ड अध्यक्ष राम किंकर माहथा,बिंदा मौजूद रहे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

More Story

more-story-image

रांची : डोरंडा के बेलदार में महावीर मंडल के उपाध्यक्ष...

more-story-image

खूंटी : खेत में काम करने के दौरान करंट लगने...