आ गयी है हवा से पानी बनाने वाली मशीन!

NewsCode | 30 October, 2017 12:01 PM
newscode-image

नई दिल्ली। जल को लेकर विभिन्न प्रांतों और देशों में तकरार होता ही रहता है, ऐसे में कोलकाता की कंपनी एकेवीओ ने नवाचार के क्षेत्र में पहल करते हुए पानी की समस्या को हल करने की पहल की है। कंपनी ने हवा से पानी बनाने वाली मशीन लांच की है।

ऐसे में, जब कहा जा रहा हो कि तीसरा विश्वयुद्ध अगर हुआ तो पानी को लेकर होगा, ऐसे में एकेवीओ ने अभी शुरुआती तौर पर व्यावसायिक उपयोग के लिए 500 लीटर और 1000 लीटर क्षमता की मशीनें लांच की गई हैं। 1000 लीटर पानी बनाने वाली मशीन की कीमत करीब साढ़े नौ लाख रुपये होगी।

एकेवीओ के निदेशक नवकरण सिंह बग्गा ने आईएएनएस से बातचीत में कहा, “हवा की नमी से पानी बनाने की मशीन बनाने वाली एकेवीओ देश की पहली स्वदेशी कंपनी है। देश में कुछ कंपनियां इस क्षेत्र में कार्य कर रही हैं, लेकिन वे बाहर से मशीनें मंगाती हैं। ऐसे में उनकी लागत ज्यादा हो जाती है। हमने शोध एवं अनुसंधान पर फिलहाल ढाई करोड़ रुपये खर्च किए हैं और इस मशीन का विकास किया है।”

उन्होंने कहा कि बाहर की कंपनियों की मशीनों की तुलना में एकेवीओ मशीन पानी उत्पादन के लिए 50 फीसदी कम बिजली खपत करती हैं। उन्होंने कहा, “हम प्रधानमंत्री मोदी जी की मेक इन इंडिया पहल का समर्थन करते हुए अनूठी परियोजना लेकर आए हैं, जिससे जलसंकट का निदान भी हो सकता है।”

बग्गा ने कहा, “अगले दो साल में इस परियोजना पर हम 10 करोड़ रुपये खर्च करेंगे। हम जल्द ही घरेलू उपयोग के लिए ऐसी मशीन लांच करने की तैयारी कर रहे हैं। घरेलू उपयोग के लिए हम 40 लीटर और 100 लीटर प्रतिदिन पानी बनाने वाली मशीन लांच करेंगे। इनकी कीमत क्रमश: 35 हजार रुपये और 70 हजार रुपये होगी।”

बग्गा ने कहा, “दुनियाभर में भूजल स्तर नीचे जा रहा है, पानी की किल्लत बढ़ती जा रही है। आज प्रांतों और शहरों में जलस्तर काफी नीचे चला गया है और भूजल के दोहन पर प्रतिबंध लगाया जा रहा है। ऐसे में हवा से पानी बनाने की मशीन काफी उपयोगी साबित हो सकती है। वर्ष 2030 तक केवल 60 फीसदी पानी उपयोग के लिए रहेगी। ऐसे में हमें पर्यावरण के प्रति जागरूक होने की जरूरत है।”

(आईएएनएस)

अब मोबाइल पर बिना इंटरनेट के भी चलेगा गूगल क्रोम, जानें कैसे

NewsCode | 22 June, 2018 7:18 PM
newscode-image

नई दिल्ली। गूगल ने अपने एंड्रॉयड डिवाइस यूजर्स के लिए एक नए फीचर की शुरूआत की है। इस फीचर के आने के बाद भारत समेत दुनिया के कई दूसरे देशों में यूजर इंटरनेट डेटा कनेक्शन के बगैर बेव सर्च कर सकते हैं।

गूगल के एंड्रॉयड ऑफलाइन प्रोडक्ट मैनेजर अमंदा बॉस ने कहा, “जब आप इंटरनेट से जुड़े नहीं होंगे और वाई-फाई उपलब्ध नहीं होगा तो भी आप स्वत: संबंधित लोकेशन से वांछित आलेख डाउनलोड कर सकेंगे।”

स्वत: डाउनलोड की गई विषय-वस्तु किसी भी समय बगैर इंटरनेट के आपके पास उपलब्ध होगी। बॉस ने कहा, “अगर आप क्रोम पर साइन करेंगे तो आपके ब्राउजिंग की हिस्ट्री के आधार पर संबंधित आलेख मिल जाएगा।” एंड्रॉयड पर क्रोम भारत, नाइजीरिया, इंडोनेशिया और ब्राजील समेत दुनिया के 100 देशों में उपलब्ध होगा।

गूगल प्ले स्टोर में एंड्रॉयड पर क्रोम का नवीनतम वर्जन अपडेट करने वाले यूजर के लिए यह नया फीचर उपलब्ध होगा।

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला की तैयारी को लेकर डीआरएम ने जसीडीह स्टेशन का किया दौरा

NewsCode Jharkhand | 22 June, 2018 9:55 PM
newscode-image

देवघर। विश्‍व प्र‍सिद्ध श्रावणी मेला तैयारी को लेकर आसनसोल रेलवे डिवीजन के डीआरएम पीके मिश्रा सहित अन्‍य अधिकारियों ने जसीडीह स्टेशन का दौरा किया। दौरा के दौरान डीआरएम ने मेला शुरु होने से पहले स्‍टेशन का सौन्‍दर्यीकरण व यात्री सुविधाओं को पूरा कर लेने का आदेश रेलवे अधिकारियों को दिया।

गौरतलब है कि स्‍टेशन सौन्‍दर्यीकरण का काम पहले से चल रहा है तथा मेला आरंभ होने से पहले पूरा कर लिया जाना है। डीआरएम ने पत्रकारों से कहा कि इस दौरा का मकसद मकसद जसीडीह रेलवे स्‍टेशन में श्रावणी मेला को लेकर चल रहे कार्यों का जायजा लेना है।

देवघर : आजसू स्थापना दिवस, सुदेश को मुख्यमंत्री बनाने का लिया संकल्प

उन्‍होंने कहा कि सौन्‍दर्यीकरण का काम मेला शुरु होने से पहले शुरु हुआ था जिसे बहुत जल्‍द पूरा कर लिया जाएगा। जो काम बांकी रह गया है उसे जल्‍द से जल्‍द पूरा करने का निर्देश रेलवे अधिकारियों को दिया गया है। कुछ कार्यों के मेला से पहले पूरा होने पर उन्‍होंने संतोष व्‍यक्‍त किया। डीआरएम ने कहा कि यात्रियों की सुविधा के लिए जसीडीह स्टेशन में एलईडी हाई मास्ट टावर तीन लगाये गए हैं।

फुटओवर ब्रिज रैंप का निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, इससे मेला में आनेवले वयस्‍क लोगों को सुविधा होगी। स्टेशन के बाहरी परिसर का समतलीकरण किया जा रहा है। यह जगह पहले काफी संकरी थी लेकिन समतलीकरण के बादखुला विशाल परिसर यात्रियों को मिलेगा। एक पड़ाव एरिया बनाया जाएगा जिसमें बरसात के समय लगभग 2500 लोग बैठ सकेंगे और आराम कर पाएंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कोडरमा : खदान में मजदूर के सिर पर गिरा पत्थर का टुकड़ा, मौके पर मौत

NewsCode Jharkhand | 22 June, 2018 9:22 PM
newscode-image

कोडरमा। जिले के नवलशाही थाना क्षेत्र अन्तर्गत बच्छेडीह पंचायत के जमडीहा मौजा में संचालित पत्थर खदान में कार्यरत मजदूर के सिर पर पत्थर का टुकड़ा धंसकर गिरने से मौके पर उसकी मौत हो गई, जबकि एक अन्य मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गया। मृतक की पहचान पवन दास (24 वर्ष) व घायल की पहचान अनिल कुमार दास (28 वर्ष) के रूप में की गई है। दोनों थानाक्षेत्र के जमडीहा के रहनें वाले हैं।

कोडरमा : विकास योजनाओं की समीक्षा, उपायुक्त ने दिए कई निर्देश

घटना शुक्रवार की सुबह सात बजे की बताई गई है। जानकारी अनुसार दोनों मजदूर सुबह खदान में पहुंच कर ड्रिल किये गये होल में ब्लास्टिंग के लिए मशाला भरने का कार्य कर रहे थे। इसी दौरान ऊपर करीब पैंतीस से चालीस फिट की ऊँचाई से एक बड़ा पत्थर का हिस्सा सीधा पवन के सिर पर गिर गया जिससे सिर पूरी तरह जख्मी हो गया, जिससे पवन ने मौके पर दम तोड़ दिया, जबकि अनिल गंभीर रूप से घायल हो गया। उसे नजदीकी अस्पताल में भर्ती कराया गया।

घटना के बाद नवलशाही थाना प्रभारी मो शाहीद रजा व एसआई राम कृत प्रसाद मौके पर पहुंच कर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए कोडरमा भेज दिया। तत्पश्चात पुलिस मामले की जांच में जुट गयी।

नहीं था सेफटी का इंतजाम

खदान में कार्यरत मजदरों के सुरक्षा और बचाव के उपाय के इंतजाम नहीं थे। अशोक कुमार गुप्ता और सुरेश चन्द्र साव की उक्त खदान में कार्यरत मजदूरों को न तो खदान संचालक द्वारा सेफटी किट दिये गये थे और ना हीं वहां फस्ट एड की व्यवस्था थी। खदान में बेतरतीब तरीके से कार्य करवाये जा रहे थे और सेफटी नियमों का पूरी तरह उल्लंघन किया जा रहा था। अधिकांश संचालित पत्थर खदानों में यही स्थिति है। जब कोई दुर्घटना होती है तो पत्थर खदान के मालिक या संचालक लाश की सौदेबाजी में जुट जाते हैं और पुलिस को मेल में लेकर मामले को रफा दफा करवा देते है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

कोडरमा : विकास योजनाओं की समीक्षा, उपायुक्त ने दिए कई...

more-story-image

चाईबासा : कांग्रेस के वयोवृद्ध नेता बागुन सुम्ब्रुई का निधन,...