लातेहार : गर्भवती महिला को मांगने पर भी नहीं मिली ममता वाहन की सुविधा !

NewsCode Jharkhand | 4 October, 2017 8:07 PM
newscode-image

गर्भवती महिला की सवारी गाड़ी में प्रसव, नवजात की मौत

बालूमाथ(लातेहार)। झारखण्ड सरकार जहां एक तरफ सुरक्षित प्रसव कराने एवं शिशु मृत्यु पर नियंत्रण करने के लिए करोड़ों रूपये खर्च कर रही है, वहीं बालूमाथ स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण एक गर्भवती महिला को ममता वाहन नहीं मिलने के कारण मजबूरन सवारी गाड़ी में ही बच्चे को जन्म देना पड़ा। नतीजा, समय पर अस्पताल नहीं पहुंच पाने के कारण नवजात शिशु की मौत हो गई।

यह घटना बालूमाथ थाना क्षेत्र के गणेशपुर पंचायत के चमातु ग्राम निवासी श्यामदेव प्रजापति की पत्नी बाजो देवी के साथ घटी। परिजनों ने बताया कि बाजो देवी की प्रसव पीड़ा बुधवार अहले सुबह आरंभ हुआ। इसकी सूचना स्थानीय सहिया सरधा देवी को दी गई। सहिया द्वारा इसकी सूचना ‘ममता वाहन’ संचालक को दी गई ताकि ममता वाहन का इंतजाम हो सके। लेकिन ममता संचालक द्वारा वाहन नहीं उपलब्‍ध कराया गया।

बीडीओ ने दिखाई तत्‍परता, लापरवाह बने रहे डॉक्‍टर

लातेहार : गर्भवती महिला की सवारी गाड़ी में प्रसव, नवजात की मौत

मजबूरी में सिंह वाहि‍नी यात्री बस से गर्भवती बाजो देवी को उप स्वास्थ्य केन्द्र सेरेगाड़ा लाया गया। जहां जेम नाम के एएनएम द्वारा यह कहकर उसे बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र रेफर कर दिया कि महिला का ब्‍लड प्रेशर लो है। इसके बाद परिजन एवं सहिया द्वारा एएनएम को वाहन उपलब्ध कराने का अनुरोध किया, लेकिन एएनएम ने भी इस पर कोई रूचि नहीं दिखाई। सेरेगाड़ा से बालूमाथ सवारी लेकर आ रहे सवारी वाहन में एएनएम ने बैठा दिया गया। इसी बीच तसतबार के करीब पहुंचते ही महिला ने यात्री वाहन में ही बच्चे को जन्म दे दिया। प्रसव के बाद वाहन चालक महिला को लेकर बालूमाथ अस्पताल पहुंचा, जहां कोई भी चिकित्सक नहीं होने के कारण इसकी सूचना बालूमाथ बीडीओ को स्थानीय लोगों ने दी। बालूमाथ बीडीओ परवेज आलम सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पहुंचकर अस्पताल में अखबार पढ़ रहे डॉ पुरषोत्तम कुमार को कड़ी फटकार लगायी। तब जाकर डॉ पुरषोत्तम ने माता व नवजात की जांच की, जहां चिकित्सक ने नवजात को मृत घोषित कर दिया।

लातेहार : गर्भवती महिला की सवारी गाड़ी में प्रसव, नवजात की मौत

इस घटना के बाद स्थानीय लोगों में आक्रोश व्याप्त है। इस संबंध में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ अमरनाथ प्रसाद ने बेतुका बयान देते हुए कहा कि ग्रामीण जागरूक होते तो शायद ऐसी घटना नहीं घटती। मामले में अमरनाथ ने सहिया पर कार्रवाई की बात कही। बालूमाथ बीडीओ परवेज आलम ने कहा कि बालूमाथ सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में लचर व्यवस्था की बराबर शिकायत मिल रही है। इस पूरे मामले की जांच कराकर दोषियों पर कार्रवाई की जायेगी।

लातेहार : गर्भवती महिला की सवारी गाड़ी में प्रसव, नवजात की मौत

बालूमाथ में 19 ममता वाहन सूचीबद्ध

ज्ञात हो कि बालूमाथ स्वास्थ्य केन्द्र अंतर्गत 19 ममता वाहन सूचीबद्ध हैं। ग्रामीणों ने बताया कि प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी बराबर गायब रहते हैं एवं चंदवा में रहकर निजि प्रैक्टिस करते हैं, जिस कारण सभी स्वास्थ्यकर्मी अपने कार्य के प्रति लापरवाह हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग में सुधार लाने की बात पर सभी जनप्रतिनिधि को तमाशाबीन बने हुए हैं। वे बस अपने हित को देखते हैं। ऐसा मालूम होता है कि जनता से उन्हे कोई लेना-देना नहीं है।

गोड्डा : पुलिस ने 59 गाय को किया बरामद, 7 तस्कर गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:43 PM
newscode-image

गोड्डा। गो वंशीय पशुओं की तस्करी के रोकने के लिए पुलिस जोर शोर से लगी हुई है। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक राजीव रंजन के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए, पुलिस ने 59 गाय समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया है।

गोड्डा :  बिजली विभाग की लापरवाही, जमीन पर पड़े नंगे तार से महिला झुलसी

सदर एसडीपीओ रवि भूषण ने बताया कि राजाभीठा थाना क्षेत्र में गाय की तस्करी किया जा रही है। शनिवार को सदर बाजार स्थित बंका हॉट से गो वंशीय पशुओं की खरीदारी करके पड़ोसी जिले पाकुड़ के हिरणपुर स्थित हाट में सोमवार को बेचे जाने की योजना थी।

गो वंशीय पशुओं की तस्करी का खेल लगातार चल रहा था और तस्करी में शामिल लोगों को 700 से लेकर 1400 रुपये तक की मजदूरी दिया जाता था। सदर एसडीपीओ ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों से सघन पूछताछ की जा रही है, मामले में 6 अभियुक्तों का नाम भी सामने आ चुका है। अधिकांशतः तस्कर पाकुड़ जिले से ताल्लुक रखते हैं तथा कुछ तस्कर पड़ोसी जिले साहेबगंज के हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

देवघर : रसोइया संघ की हुई बैठक, चार अक्‍टूबर को देंगे धरना

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:39 PM
newscode-image

देवघर। पुराने सदर अस्पताल परिसर में देवघर जिला रसोइया संघ की बैठक में स्‍कूलों के समायोजन के नाम पर रसोइयों को कार्य से हटाए के खिलाफ आगामी चार अक्‍टूबर को डीएसई कार्यालय के समक्ष धरना देने का निर्णय लिया गया।

बैठक की अध्‍यक्षता करते हुए संघ अध्यक्षा गीता मण्डल ने कहा कि झारखंड सहित देवघर में एक स्‍कूल का दूसरे विद्यालय में समायोजन करने पर रसोइयों के समक्ष भुखमरी की समस्‍या पैदा हो गई है।

देवघर : धूमधाम से मनाया गया पर्यटन पर्व

उन्‍होंने कहा कि समायोजित किए गए स्‍कूलों के शिक्षकों समेत छात्र-छात्राओं को दूसरे विद्यालयों में भेज दिया गया है। उन स्‍कूलों में कार्यरत रसोइयों को काम से हटा दिया गया है। इनलोगों का मानदेय भी बन्द कर दिया गया है। संघ ने सरकार के इस कदम की कड़े शब्‍दों में विरोध किया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

पितृ पक्ष 2018: श्राद्ध क्रिया में इन खास बातों का रखें ख्याल

NewsCode | 23 September, 2018 5:27 PM
newscode-image

हिंदू कर्मकांड में श्रद्धा और मंत्र के मेल से पूर्वपुरुषों (पितरों) की आत्मा की तृप्ति के निमित्त जो विधि होती है उसे श्राद्ध कहते हैं। हमारे जिन सगे-संबंधियों का देहांत हो गया है, वे पितृलोक में या यत्र-तत्र विचरण करते हैं, उनके लिए पिंडदान किया जाता है। बच्चों एवं संन्यासियों के लिए पिंडदान नहीं किया जाता। गणेश विसर्जन और अनंत चतुर्दशी के बाद शुरू होते हैं श्राद्ध। हर साल श्राद्ध भाद्रपद शुक्लपक्ष पूर्णिमा से शुरू होकर अश्विन कृष्णपक्ष अमावस्या तक चलते हैं।

अगर पंडित से श्राद्ध नहीं करा पाते तो सूर्य नारायण के आगे अपने दोनों हाथ ऊपर करके ये बोलें : “हे सूर्य नारायण ! मेरे पिता (नाम), अमुक (नाम) का बेटा, अमुक जाति (नाम), (अगर जाति, कुल, गोत्र नहीं याद तो ब्रह्म गोत्र बोल दें) को आप संतुष्ट/सुखी रखें। इस निमित्त मैं आपको अर्घ्य व भोजन करता हूं।” इसके पश्चात् आप भगवान सूर्य को अर्घ्य दें और भोग लगायें।

 इन बातों का रखें खास ख्याल –

– श्राद्ध में कपड़े और अनाज दान करना ना भूलें। इससे पूर्वजों की आत्मा को शांति मिलती है।

– बताया जाता है कि श्राद्ध दोपहर उपरांत ही किया जाना चाहिए। जानकारों के अनुसार जब सूर्य की छाया पैरों पर पड़ने लगे तो श्राद्ध का समय हो जाता है। दोपहर या सुबह में किये गए श्राद्ध का कोई मतलब नहीं होता है।

– जिस दिन श्राद्ध करना हो उससे एक दिन पूर्व ही उत्तम ब्राह्मणों को निमंत्रण दे दें। परंतु श्राद्ध के दिन कोई अनिमंत्रित तपस्वी ब्राह्मण घर पर पधारें तो उन्हें भी भोजन कराना चाहिए।  ब्राह्मण भोज के वक्त खाना दोनों हाथों से परोसें, एक हाथ से खाने को पकड़ना अशुभ माना जाता है।

– श्राद्ध के दिन घर में सात्विक भोजन ही बनना चाहिए। इस दिन खाने में लहसुन और प्याज का इस्तेमाल  नहीं होना चाहिए। गौर करने वाली बात यह भी है कि पितरों को जमीन के नीचे पैदा होने वाली सब्जियां नहीं चढ़ाई जाती हैं। इनमें अरबी, आलू, मूली, बैंगन और अन्य कई सब्जियों शामिल हैं।

– पूरे विधान में मंत्र का बड़ा महत्व है। श्राद्धकर्म में आपके द्वारा दी गयी वस्तु कितनी भी बेशकीमती क्यों न हो, आपके द्वारा यदि मंत्र का उच्चारण ठीक न हो तो काम व्यर्थ हो जाता है। मंत्रोच्चारण शुद्ध होना चाहिए और जिसके निमित्त श्राद्ध करते हों उसके नाम का उच्चारण भी शुद्ध करना चाहिए।

– श्राद्ध के दिन अपने पितरों के नाम से ज्यादा से ज्यादा गरीबों को दान करें।

– पिंडदान करते वक्त जनेऊ हमेशा दाएं कंधे पर रखें।

 पिंडदान करते वक्त तुलसी जरूर रखें।

– कभी भी स्टील के पात्र से पिंडदान ना करें, बल्कि कांसे या तांबे या फिर चांदी की पत्तल इस्तेमाल करें।

– पिंडदान हमेशा दक्षिण दिशा की तरफ मुंह करके ही करें।

– पिता का श्राद्ध बेटा ही करे या फिर बहू करे। पोते या पोतियों से पिंडदान ना कराएं।

– श्राद्ध करने वाला व्यक्ति श्राद्ध के 16 दिनों में मन को शांत रखें।

– श्राद्ध हमेशा अपने घर या फिर सार्वजनिक भूमि पर ही करे। किसी और के घर पर श्राद्ध ना करें।


बकरीद में क्यों दी जाती है बकरे की कुर्बानी, जानें पूरी कहानी

More Story

more-story-image

चक्रधरपुर : हावड़ा से मुंबई जा रही गीतांजलि सुपरफास्ट ट्रेन...

more-story-image

हजारीबाग : यात्री बस हुई दुर्घटनाग्रस्त, दर्जनभर यात्री हुए घायल