लातेहार : बूढ़ा पहाड़ को नक्सलियों से मुक्त कराने में पुलिस के छूट रहे पसीने

NewsCode Jharkhand | 28 November, 2017 12:53 PM
newscode-image

छत्तीसगढ़ व झारखंड सरकार का उद्देश्‍य बूढ़ा पहाड़ को नक्सलियों से मुक्त कराना है

गारू (लातेहार)। झारखंड-छत्तीसगढ़ सीमा पर स्थित बूढा पहाड़ को नक्सलियों से मुक्त कराने के लिए दोनों राज्यों की पुलिस को भारी मशक्कत करनी पड़ रही है। मगर अब तक दोनों राज्यों की पुलिस को सफलता नहीं मिल पायी है। बूढ़ा पहाड़ में अब तक दोनों राज्यों की पुलिस सौ दिनों से अधिक दिन तक अभियान चला चूकी है।

दोनों राज्यों की सरकार का उद्देश्य बूढा पहाड़ को नक्सलियों से मुक्त कराना है, साथ ही बूढ़ा पहाड़ में पुलिस पिकेट की जल्द स्थापना करनी है। मगर नक्सलियों के मजबूत सुरक्षा तंत्र ने सरकार के मनसूबे पर पानी फेर दिया है। नक्सली संगठन भाकपा माओवादियों के मजबूत सुरक्षा तंत्र के कारण पुलिस बूढ़ा पहाड़ फतह नहीं कर पा रही है, जबकि माओवादी बूढा पहाड़ को गंवाना नहीं चाहते हैं।

मुढहर ब्यांग एवं रानीदह (कटीया-लातेहार) के बाद बूढ़ा पहाड़ ही माओवादियों के लिए सेफ जोन रह गया है। पुलिस के अनुसार बूढ़ा पहाड़ में एक करोड़ का ईनामी व दुर्दांत माओवादी अरविंद दा एवं 25 लाख रुपये के इनामी माओवादी सुधाकरण अपनी पत्नी के साथ दो सौ की संख्या में शरण लिए हुए हैं। इसमें अधिकतर नक्सली बिहार के बताए जाते हैं, जो अरविंद दा के खास करीबी हैं।

बूढ़ा पहाड़ को नक्सल मुक्त करने के लिए लातेहार जिला के लाटु, कुजरूम, करमडीह, खपरी महुआ, चपिया, नवरनागु, छत्तीसगढ़ के पीपरढाबा, चुनचुना पुंदाग, चांदो आदि जगहों में बूढ़ा पहाड़ को घेरकर करीब दो हजार से अधिक अर्द्ध सैनिक बल अभियान में लगे हैं। फिलहाल बूढ़ा पहाड़ को लक्ष्य कर अब तक का सबसे लंबा अभियान 24 अक्टूबर से 21 नंवबर तक चलाया गया।

इस क्रम में बूढ़ा पहाड़ अभियान के दौरान दो वार पुलिस लैंडमाइन्स की चपेट आ गयी। इसमें पहली बार दस नवम्बर को सीआरपीएफ व जिला बल के सात जवान घायल हो गए थे। दूसरी बार 16 नवंबर को लैंडमाइंस चार सीआरपीएफ एवं जिला बल के जवान घायल हो गए थे। सभी घायल जवानों को रांची के मेडिका में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था।

पुलिस अभियान के कारण नक्सली भारी दबाव में आ गए हैं। यही कारण है कि नक्सली बूढ़ा पहाड़ छोड़ने पर विवश हो गए हैं। झारखंड सरकार बूढ़ा पहाड़ में पुलिस पिकेट बनाने के लिए मंत्री मंडल में प्रस्ताव पारित कर चुकी है। इसका अमलीजामा पहनाने के अर्द्ध सैनिक बल धीरे-धीरे फूंक फांककर कदम बढ़ा रही है। इधर लाटु एवं कुजरूम से पुलिस कैंप हटते ही बूढ़ा पहाड़ में गत गुरुवार से रविवार चार दिनों तक बम धमाकों से गूंजता रहा।

सिल्ली : दो दिनों की बारिश से किसान के चेहरे चमके, रोपनी शुरु

NewsCode Jharkhand | 22 July, 2018 7:34 PM
newscode-image

सिल्ली(रांची)। सिल्ली मुरी के इलाके में पिछले दो दिनों की रुक-रुक कर हो रही बारिश के कारण किसानों के चेहरे पर चमक आ गयी है। खेतों में खराब हो रहे बिचडे अब खेतों में लगने लगे हैं। जिन खेतों में पानी नहीं था अब पानी आने से जुताई होने लगी है।

रांची : राजधानी सहित राज्य में बिजली संकट, लोगों की बढ़ी समस्या

वहीं कुछ तैयार खेतों में रोपणी भी शुरु हो गयी है। किसानों ने बताया कि इस बार देरी से बारिश के कारण रोपनी में भी देरी हो चुकी है। खेतों में बिचडे खराब होने के कगार पर आ गये थे, आजकल के बीजों में समय से धान नहीं लगने पर उपज खराब होने का ज्यादा भय होता है। लेकिन अब बारिश शुरु हो गयी है अगर इसी तरह समय से बारिश होती रही तो अच्छी पैदावार हो सकती है।

सिल्ली : दो दिनों की बारिश से किसान के चेहरे चमके, रोपनी शुरु

 

बिजली की आंख मिचैनी से लोग परेशान

सिल्लीः सिल्ली मुरी के लोग पिछले कई दिनों से बिजली की आंख मिचैनी से परेशान है। चैबीस घंटे में लगभग पांच घंटे भी बिजली नहीं रहती है। लो वोल्टेज की समस्या अलग से, शाम होते ही बिजली चली जाती है। इससे बच्चों की पढाई समेत कई जरुरी काम प्रभावित हो रहे हैं।

छात्र संघ चुनाव तय समय पर हो – अभिनव भगत

देर रात तक बिजली आने की कोई गारंटी नहीं होती, अगर बिजली आयी भी तो मिनटों में चली भी जाती है। इस दौरान विजली विभाग के अधिकारियों को लोग फोन लगाने पर उनका फोन ही नहीं लगता अगर लगा तो समुचित जबाब नहीं मिलता। स्थानीय लोगों ने विभाग से बिजली की नियमित आपूर्ति किये जाने की मांग की है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

पलामू : बिजली के तार की चपेट में आने से तीन की मौत

NewsCode Jharkhand | 22 July, 2018 8:04 PM
newscode-image

पलामू। पहला मामला हुसैनाबाद प्रखंड का है जहाँ बेलबीघा गाँव निवासी जुगेश सिंह का निधन बिजली की तार के चपेट में आने से हो गई । जानकारी के अनुसार मृतक जुगेश सिंह मोटर स्टार्ट करने गए थे ,उसी क्रम में वह  बिजली के तार की चपेट में आ गए । ग्रामीणों की मदद  से आनन-फानन में सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र हुसैनाबाद ले जाया गया जहाँ डॉक्टर ने उन्हें मृत घोसित कर दिया ।

वहीं दूसरा मामला सतबरवा प्रखंड के चेतमा की है जहाँ अपने खेत में काम कर रहे दंपती किसान की मौत बिजली प्रवाहित तार की चपेट में आने से हो गयी है । पुलिस मौके पर पहुँच कर दम्पति के शव को कब्जे मे लेकर पोस्टमार्टम के लिए दलतीनगंज सदर अस्पताल भेज दिया है । इस घटना से पूरा गाँव शोकाकुल है , वहीं परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल है ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

धनबाद : जिला डेकोरेटर्स एसोसिएशन का 40 वां वार्षिक अधिवेशन 9 सितम्बर को 

NewsCode Jharkhand | 22 July, 2018 8:02 PM
newscode-image

धनबाद। जिला डेकोरेटर्स एसोसिएशन का 40 वां वार्षिक अधिवेशन आगामी माह 9 सितम्‍बर को आयोजित किया जाएगा। आयेाजन को सफल बनाने को लेकर होटल प्रियांशु में रविवार को एसोसिएशन ने बैठक की। इसमें भाग लेने के लिए जिले के विभिन्न शाखाओं से एसोसिएशन के पदाधिकारी आए थे।

बैठक में यह निर्णय लिया गया कि इस बार वार्षिक अधिवेशन के जरिए समाज को बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, स्वच्छ भारत मिशन, साक्षरता मिशन एवं नारी सशक्तिकरण का सन्देश दिया जाएगा।

धनबाद : कलियासोल में महिला मोर्चा का गठन

इसके साथ ही  जिले में बेहतर कार्य करनेवाले डेकोरेटर्स को भी सम्मानित करने का निर्णय लिया गया। वार्षिक अधिवेशन के अवसर पर मुख्य अतिथि धनबाद नगर निगम के मेयर चंद्रशेखर अग्रवाल और धनबाद एसएसपी मनोज रतन चौथे होंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

रांची : अखिल भारतीय  बीएसएनएल शतरंज टूर्नामेंट एआरटीटीसी सभागार में ...

more-story-image

गिरिडीह : क्लीनिक का उद्घाटन, निशुल्क होगा गरीब महिलाओं का...