मजदूर दिवस विशेष : हम तो रोज कमाने-खाने वाले, काम नहीं मिलने पर रोटी पर आफत

Sanjiv Sinha | 30 April, 2018 5:52 PM
newscode-image

रांची। बाबू…मजदूर दिवस क्‍या होता है हमें नहीं पता। हम तो रोज कमाने खाने वाले लोग है। एक दिन भी छुट्टी हो जाये तो खाने के लाले पर जायेंगे। यह जवाब लालपुर चौक पर बैठे अधिकतर दिहाड़ी मजदूर के मुंह से सुनने को मिला। थोड़ी देर बाद जोगेन्दर ने पूछा कितना बजा बाबू, जवाब मिला दस बजने वाले है। जोगेन्दर बुदबुदाते हुए कहा आज अगर आधे घंटे में कोई काम नहीं आया तो फिर खाली हाथ घर लौटना पड़ेगा।

काम के लिए परिवार करते हैंं पलायन

कोकर के सरना टोली में रहने वाला जोगेन्दर के परिवार में माँ बाप के अलावा चार भाइयों का कुल तीस सदस्यों का परिवार एक साथ एक छत के नीचे रहता है। दो भाई रांची में और दो भाई राजस्थान के जयपुर में मजदूरी का काम करते हैं। खुद पेशे से राजमिस्त्री का काम करता है। जोगेन्दर ने कहा कि हमलोग नहीं जानते है क्या होता है मजदूर दिवस। हमलोग तो बस सुबह से शाम तक मजदूरी करते हैं और परिवार का पालन पोषण किया करते है।

और पढ़े:- मजदूर दिवस विशेष : 151 साल पहले मजदूरों को 14 घंटे करना पड़ता था काम 

रोज काम ना मिले तो मुश्किल होता दिन काटना

वही ओरमांझी के गिरधारी ने कहा कि रांची में रूम लेकर रहते है, बहुत परेशानी होती है। अगर रोज काम ना मिले तो और अधिकतर समय यहीं इंतजार में सुबह से शाम बीत जाता। लेकिन रोज रोज काम मिलता नहीं है। पेशे से पेन्टर रमेश ने कहा कि पिछले 15 साल से इस पेशा से जुड़े हुए है। मजदूर दिवस क्या होता है नहीं जानते है। चार लोगों का परिवार है रोज-रोज काम मिलने में दिक्कत होती है। घर में बेटा भी कमाता है इसलिए मिलजुल कर घर बार चलाते हैं।

मजदूरों को यह तक पता नही किया असंगठित मजदूरों के लिए क्या क्या योजनाए सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैंं।

पूरा विश्‍व मनाता है लेबर डे

एक मई को दुनिया भर के देशों में लेबर डे के रूप में मनाया जाता है और देश भर के सभी कंपनियों में छुट्टी होती है। भारत ही नहीं दुनिया भर के 80 देशों में एक मई को राष्ट्रीय छुट्टी होती है।

भारत में मजदूर दिवस की शुरुआत

भारत में इसकी शुरुआत 1 मई 1923 को मद्रास से हुई। भारत में कामकाजी लोगों के सम्मान में यह मनाया जाने लगा। भारत में लेबर किसान पार्टी ऑफ हिंदुस्तान ने 1 मई 1923 से शुरुआत की।

अंतरराष्ट्रीय मजदूर दिवस का इतिहास

अंतरराष्ट्रीय तौर पर मजदूर दिवस की शुरुआत 1 मई 1886 में हुआ था। अमरीका में मजदूर संघों ने मिलकर निर्णय किया कि आठ घंटा से ज्यादा काम नहीं करेगा। इस के लिए संगठनों ने हड़ताल किया। हड़ताल से निपटने के लिए पुलिस ने गोलियां चलायी। जिसमें 100 से अधिक मजदूर की मौत हो गई थी। 1 मई को मारे गए मजदूरों की याद में अंतराष्ट्रीय मजदूर दिवस के रूप में मनाया जाने निर्णय किया गया और इस दिन सभी श्रमिक और कामगारों का अवसर रहेगा।

संजीव सिन्‍हा की रिपोर्ट, (न्‍यूज कोड़, रांची)

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

दुमका : अंतिम सोमवारी को 1 लाख से अधिक श्रद्धालुयों ने किया बाबा बासुकीनाथ में जलार्पण

NewsCode Jharkhand | 20 August, 2018 10:07 PM
newscode-image

अंतिम सोमवारी को 5 हजार से अधिक डाक बम ने किया जलाभिषेक

दुमका। सावन की आखरी सोमवारी को बाबा बासुकीनाथ को जलार्पण को लेकर श्रद्धालु उमड़े पड़े हैं। मंदिर के आस-पास जहां तक नजर जा रही थी सिर्फ श्रद्धालु ही श्रद्धालु नजर आ रहे थे। श्रावणी मेला के 24 वां दिन पर शाम 4 बजे तक दर्शनार्थीयों की कुल संख्या 92,432 रही। दर्शनार्थी 75605 जलार्पण कांउटर से 11555 श्रद्धालुओं ने जलार्पण किया और डाक बम की संख्या 5272 रहा।
दुमका : अंतिम सोमवारी को 1 लाख से अधिक श्रद्धालुयों ने किया बाबा बासुकीनाथ में जलार्पण

दुमका : बाबा फौजदारी नाथ के दरबार में पहुंचे गोड्डा सांसद, मांगी प्रदेश की खुशहाली

शीघ्र दर्शनम से 643 श्रद्धालुओं ने जलार्पण किया। गोलक से 1,54,250 रूपये और जलार्पण काउंटर से 26,125 रूपये मिला है। अन्य स्रोत से 9,859 रूपये मिले हैं, चांदी का सिक्का 5 ग्राम 9, चांदी का सिक्का 10 ग्राम 4 मिला है और साथ ही चांदी का द्रव्य 108 ग्राम प्राप्त हुआ है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गुमला :  नक्‍सलियों का उत्‍पात, फूंके एक जेसीबी और तीन ट्रक, लोगों में दहशत

NewsCode Jharkhand | 20 August, 2018 10:09 PM
newscode-image

गुमला। गुमला  बिशनपुर थाना क्षेत्र के जालिम तीन नंबर कोलियरी में लगभग 30 की संख्या में आए भाकपा माओवादियों  ने एक जेसीबी मशीन व तीन बॉक्साइट ट्रक को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद  तीन ट्रक ड्राइवरों की पिटाई भी की। इस घटना को भाकपा माओवादी रविन्द्र गंझू के दस्ते ने अंजाम दिया है। माओवादियों ने ठेकेदार को अपने कब्जे में लेकर पहले उसकी पिटाई की और काम करने से मना किया। जाते-जाते उन्‍होंने 10 राउंड हवाई फायरिंग भी की जिसके बाद बॉक्साइट ट्रक में काम करने वाले ड्राइवर, खलासी और मजदूर वहां से जान बचाकर  भाग निकले। इस घटना से क्षेत्र में दहशत है। लोग इस बारे में कुछ भी कहने से कतरा रहे हैं।

गुमला :  नाबालिग के  अपहरण और दुष्कर्म के दोषी को सश्रम आजीवन कारावास

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

धनबाद : भाजयुमो ने बाढ़ प्रभावितों के लिए मांगी सहायता

NewsCode Jharkhand | 20 August, 2018 10:09 PM
newscode-image

धनबाद। भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) ने केरल में आई विनाशकारी बाढ़ प्रभावितों को सहयोग पहुंचाने के लिए रणधीर वर्मा चौक के आसपास के आसपास दुकानदारों से सहायता मांगी  तथा लोगों से सहयोग देने की अपील की। लोगों से प्राप्‍त सहयोग राशि को उपायुक्‍त के जरिए केरल भेज दिया जाएगा।

बाघमारा : संकल्प भारत ने ग्रामीणों को दिया स्वच्छता संदेश

बाढ़ ने केरल को तहस-नहस कर दिया है। वहां त्राहिमाम मची हुई है, लोग बेघर हो गए हैं। कईयों के मारे जाने के समाचार हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

सरिया : समस्याओं के निराकरण में कोताही न बरतें अधिकारी...

more-story-image

गुमला :  नाबालिग के  अपहरण और दुष्कर्म के दोषी को सश्रम...