धोनी नहीं इस खिलाड़ी की कप्तानी से प्रभावित हैं किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान अश्विन

NewsCode | 13 March, 2018 7:07 PM
newscode-image

नई दिल्ली| भारतीय टेस्ट टीम के नियमित सदस्य और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में किंग्स इलेवन पंजाब टीम के नवनियुक्त कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने मंगलवार को कहा है कि कप्तानी उनके लिए दबाव नहीं बल्कि एक जिम्मेदारी है। पंजाब ने अश्विन को इस साल नीलामी में 7.6 करोड़ रुपये में अपनी टीम में शामिल किया है।

अश्विन ने टीम की जर्सी लांच के मौके पर संवाददाता सम्मेलन में एक सवाल के जबाव में कहा, “आप कप्तानी को ताकत और दबाव के रूप में देख सकते हैं, लेकिन मैं इसे जिम्मेदारी के रूप में देखता हूं। मैं इसे लेकर काफी उत्साहित हूं।”

अश्विन इससे पहले आठ साल चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेल चुके हैं। चेन्नई आईपीएल इतिहास की सबसे सफल टीमों में गिनी जाती है। उसने दो बार खिताब अपने नाम किया है और दोनों बार अश्विन इस टीम के सदस्य थे।

चेन्नई में अश्विन के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी थे। चेन्नई के निष्कासन के बाद अश्विन राइजिंग पुणे सुपरजाएंट में गए जहां वह एक साल खेले और वो भी धौनी की कप्तानी में ही।

धौनी को क्रिकेट इतिहास के सबसे सफल कप्तानों में गिना जाता है, क्या उनकी कप्तानी का असर अश्विन पर होगा इस पर ऑफ स्पिनर ने कहा, “मैं अपना काम करूंगा। मैं कई कप्तानों के साथ खेला हूं और सभी से काफी कुछ सीखा है तो कोशिश करूंगा कि जो अनुभव है और जो सीखा है उसे लागू कर सकूं।”

अश्विन काफी समय से भारत की वनडे और टी-20 टीम से बाहर चल रहे हैं। उन्हें चयनकर्ताओं ने आराम देने का फैसला किया था और इसी दौरान कुलदीप यादव तथा युजवेंद्र चहल ने मौका का फायदा उठा कर अपनी जगह टीम में पक्की कर ली।

अश्विन से जब आईपीएल के जरिए सीमित ओवरों के प्रारूप में भारतीय टीम में वापसी करने के सवाल पूछा गया तो उन्होंने इसे साफ तौर पर नकार दिया। उन्होंने एक शब्द में इसका जबाव देते हुए कहा, “नहीं।”

अश्विन हालांकि पहली बार कप्तानी नहीं कर रहे हैं। उन्होंने तमिलनाडु रणजी टीम की कप्तानी भी की है।

अश्विन ने कहा, “जब मैं पहली बार कप्तान बना तो सिर्फ 20 साल का था। सभी लोग आईसीएल खेलने चले गए थे तो मुझे तमिलनाडु की कप्तानी मिली। मेरी कप्तानी का रिकार्ड अच्छा है लेकिन मैंने कभी टी-20 में कप्तानी नहीं की। यह नया अनुभव होगा।”

ग्रामीण डाक नेटवर्क को लॉजिस्टिक केंद्र बनाएं अधिकारी : वेंकैया नायडू

आईपीएल की शुरुआत सात अप्रैल से हो रही है और पंजाब अपना पहला मैच आठ तरीख को दिल्ली डेयरडेविल्स के खिलाफ राष्ट्रीय राजधानी के फिरोज शाह कोटला मैदान पर खेलेगी। पंजाब को अपने कुछ मैच इंदौर में भी खेलने हैं। इस साल इंदौर इस टीम का दूसरा होम वेन्यू है।

आधार से बैंक और मोबाइल लिंक कराना अनिवार्य नहीं, फैसला आने तक रोक

आईएएनएस

रांची : 64 वें नेशनल स्कूल हॉकी टूर्नामेंट का आयोजन, अमर कुमार बाउरी ने किया शुभारम्भ

NewsCode Jharkhand | 29 November, 2018 7:48 PM
newscode-image

रांची। राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान स्थित एस्ट्रो टर्फ स्टेडियम में 29 नवंबर से 3 दिसंबर तक 64 वें नेशनल स्कूल हॉकी टूर्नामेंट 2018-19 का आयोजन हो रहा है। जिसका उद्घाटन खेल मंत्री अमर कुमार बाउरी ने किया।

इस मौके पर उन्होंने खिलाड़ियों के मार्चपास्ट को सलामी दी। वही युवा खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करते हुए हुए उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि इस तरह के राष्ट्रीय स्तर के मैच खिलाड़ियों के अंदर आत्मविश्वास को बढ़ाता है।

उन्होंने कहा कि झारखंड के जीन में ही हॉकी है। यहां के गांव गांव में यह खेल खेला जाता है। झारखंड की धरती से कई महान खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खरखण्ड और देश का नाम रोशन किया है।

उन्होंने के कहा कि सभी टीम जीत के लिए मैदान पर उतरती है। लेकिन जीतता वही है जो पूरे लगन के साथ विरोधी खिलाड़ियों को पराजित करता है। खेल में हार जीत लगी रहती है लेकिन हर खिलाड़ी हर मैच के बाद कुछ न कुछ सीख कर जाता है। खेलमंत्री ने सभी खिलाड़ियों को झारखंड के जनता के तरफ से शुभकामनाएं दी।

हॉकी को लेकर झारखंड में काफी रुझान है। यहां हॉकी के एक से बढ़कर एक धुरंधर खिलाड़ी उभरकर सामने आए हैं। हॉकी का गढ़ हमेशा से झारखंड को माना जाता रहा है। राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में इन दिनों देश भर के हॉकी खिलाड़ियों का जमावड़ा लगा है।

बात दें कि 29 नवंबर से 3 दिसंबर तक 64 वें नेशनल स्कूल हॉकी टूर्नामेंट 2018 -19 का आयोजन किया गया। इसमें देश की 69 टीमें हिस्सा ले रही हैं। बालक वर्ग में 39 टीमों के बीच कड़ी टक्कर देखी जाएगी। वहीं, बालिका वर्ग में 30 टीमें हिस्सा ले रही हैं। आयोजन के पहले दिन 7 मैच संपन्न हुए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने