खूंटी : स्‍थानीय बुनकरों की कला की मांग जर्मनी पहुंची

NewsCode Jharkhand | 13 May, 2018 4:19 PM
newscode-image

खूंटी। खूंटी के बुनकरों के कला की मांग आज देशे में ही, बल्कि विदेशों तक जा पहुंची है। जिला मुख्यालय से करीब 15 किमी दूर निवुचा बुनकर सहयोग समिति के केंद्र में बने परिधान की मांग न सिर्फ देश भर के विभिन्न हिस्सों में की जाती है, बल्कि विदेशों में भी ये परिधान लोगों के घरों की शोभा बढ़ा रहा है।

1988 में करीब 100 एकड़ भूमि पर अनुसूचित जाति-जनजाति परिवार और गरीबों को आर्थिक रूप से मजबूत करने को लेकर निवुचा बुनकर सहयोग समिति का गठन किया गया और तब से लेकर अब तक समिति की ओर से इस तरह के उत्कृष्ट परिधानों का निर्माण किया जा रहा है, जिससे इसकी मांग जर्मनी तक पहुंच चुकी है।

खूंटी : तरबूज की खेती से बदली कई गांवों की तस्वीर

बुनकर समिति के सदस्य आदिवासी साड़ी, सोफा सेट, चादर, ऊनी शॉल, पगड़ी, टेबुल सेट, आसनी समेत अन्य कपड़ों के साथ अत्याधुनिक साज सज्जा भी यहां के बुनकर बना रहे हैं। निवुचा बुनकर समिति को हर साल की तरह इस बार भी  जर्मनी से काफी ऑर्डर मिला है। अपनी हाथों की कला को शक्ल देते ये बुनकर कई  दशकों से इस काम में जुटे हैं।

धागों से लेकर अंतिम प्रोडक्ट तैयार होने में कई  लोग जुटते हैं। बच्चे भी खेल खेल में कुछ मदद भी करते हैं। हाथ से बने इन परिधानों की मांग बाजार में काफी है। आसपास के कई  गावों के लोग इस समिति से जुड़े हैं और वो यहां से धागे ले जाकर साड़ी, बेडशीट और अन्य खूबसूरत सामान तैयार करते हैं।

 निवुचा बुनकर समिति के सदस्य न सिर्फ परिधान बनाकर अपनी जीविकोपार्जन कर रहे है, बल्कि सरकार की ओर से इन्हें खेती के लिए जमीन भी उपलब्ध करायी गयी है,जहां ये अपने जरुरत के लिए साग-सब्जी व फसल का उत्पादन करते है, वहीं बाजार में भी इसकी बिक्री करते है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

दिल्ली में शुरु हुआ जिंदल आर्ट इंस्टीट्यूट, भारतीय कला विरासत को संभालने की सुंदर पहल

NewsCode | 12 August, 2018 7:59 PM
newscode-image

नई दिल्ली। जिंदल आर्ट इंस्टीट्यूट (जेएआई) का उद्घाटन प्रदर्शन शनिवार 11 अगस्त को सावित्री जिंदल (अध्यक्ष एमेरिटस, जेएसपीएल) द्वारा दीप प्रज्वल्लित कर किया गया। इस दौरान जेएआई की संस्थापक शालू जिंदल और जिंदल स्टील एंड पॉवर लिमिटेड के अध्यक्ष श्री नवीन जिंदल मौजूद रहे। मशहूर उद्योगपति और पूर्व सांसद नवीन जिंदल की पत्नी शालू जिंदल खुद प्रसिद्ध कुचिपुड़ी नर्तक और सामाजिक कार्यकर्ता हैं और जिंदल आर्ट इंस्टीट्यूट उनका ड्रीम प्रोजेक्ट है। संस्थान का लक्ष्य विभिन्न नृत्य रूपों द्वारा भारत और दुनिया के समृद्ध कलात्मक विरासत को फैलाना है।

बता दें कि जिंदल आर्ट इंस्टीट्यूट की स्थापना कला के माध्यम से जीवन को सुखद और सरल बनाने के साथ-साथ देश में मौजूद विशाल प्रतिभा भंडार को उजागर करने और प्रतिभावान कलाकारों को प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से की गई है। इसके अतिरिक्त यह संस्थान देश की समृद्ध संस्कृति को संरक्षित करने में भी अपना योगदान देगा।

अपने स्वागत भाषण में श्रीमती जिंदल ने कहा, “मैं उम्मीद करती हूँ कि जिंदल आर्ट इंस्टीट्यूट (जेएआई) ऐसी जगह बनेगा जहाँ लोग अपने अंदर छिपी हुई प्रतिभा को उभारने और निखारने के उद्देश्य से आएंगे।” उन्होंने कहा कि संस्थान हर उम्र के कलाकारों की प्रतिभा, ताकत और विशिष्टता पहचानने में कोशिश करेगा और उन्हें पूर्णता और उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए मार्गदर्शन करेगा।

शालू जिंदल ने कहा, “जेएआई का शुरू होना एक सपने के सच होने जैसा है और यह तमाम भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय कलाकारों को समर्पित है। यह संस्थान देश और दुनिया के दिग्गज कलाकारों के साथ मिलकर भारत की विशाल प्रतिभा की फलने-फूलने में मदद करेगा। “

यह इंस्टीट्यूट दिल्ली के कुतुब इंस्टीट्यूशनल एरिया में खुला है। उद्घाटन समारोह में कलाकारों का जमघट लगा और कई प्रतिभागियों ने कार्यक्रम प्रस्तुत कर दर्शकों का मनोरंजन किया। जिसमें शास्त्रीय संगीत, तबला, पियानो, कथक, कुचीपुडी, मोहिनीयाट्टम, ओडिसी, जुम्बा, लोक और बॉलीवुड स्टाइल में कई मनमोहक प्रदर्शन देखने को मिले। इस अवसर पर राज्यसभा सांसद और पद्म विभूषण से सम्मानित मूर्तिकार रघुनाथ महापात्रा भी उपस्थित थे।

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गुमला :  नक्‍सलियों का उत्‍पात, फूंके एक जेसीबी और तीन ट्रक, लोगों में दहशत

NewsCode Jharkhand | 20 August, 2018 10:09 PM
newscode-image

गुमला। गुमला  बिशनपुर थाना क्षेत्र के जालिम तीन नंबर कोलियरी में लगभग 30 की संख्या में आए भाकपा माओवादियों  ने एक जेसीबी मशीन व तीन बॉक्साइट ट्रक को आग के हवाले कर दिया। इसके बाद  तीन ट्रक ड्राइवरों की पिटाई भी की। इस घटना को भाकपा माओवादी रविन्द्र गंझू के दस्ते ने अंजाम दिया है। माओवादियों ने ठेकेदार को अपने कब्जे में लेकर पहले उसकी पिटाई की और काम करने से मना किया। जाते-जाते उन्‍होंने 10 राउंड हवाई फायरिंग भी की जिसके बाद बॉक्साइट ट्रक में काम करने वाले ड्राइवर, खलासी और मजदूर वहां से जान बचाकर  भाग निकले। इस घटना से क्षेत्र में दहशत है। लोग इस बारे में कुछ भी कहने से कतरा रहे हैं।

गुमला :  नाबालिग के  अपहरण और दुष्कर्म के दोषी को सश्रम आजीवन कारावास

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

धनबाद : भाजयुमो ने बाढ़ प्रभावितों के लिए मांगी सहायता

NewsCode Jharkhand | 20 August, 2018 10:09 PM
newscode-image

धनबाद। भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) ने केरल में आई विनाशकारी बाढ़ प्रभावितों को सहयोग पहुंचाने के लिए रणधीर वर्मा चौक के आसपास के आसपास दुकानदारों से सहायता मांगी  तथा लोगों से सहयोग देने की अपील की। लोगों से प्राप्‍त सहयोग राशि को उपायुक्‍त के जरिए केरल भेज दिया जाएगा।

बाघमारा : संकल्प भारत ने ग्रामीणों को दिया स्वच्छता संदेश

बाढ़ ने केरल को तहस-नहस कर दिया है। वहां त्राहिमाम मची हुई है, लोग बेघर हो गए हैं। कईयों के मारे जाने के समाचार हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

दुमका : अंतिम सोमवारी को 1 लाख से अधिक श्रद्धालुयों...

more-story-image

सरिया : समस्याओं के निराकरण में कोताही न बरतें अधिकारी...