कटकमसांडी : कोल डम्प यार्ड निर्माण को लेकर ग्रामीणों ने जताया विरोध

Anubhuti | 9 November, 2017 2:14 PM
newscode-image

कटकमसांडी (हजारीबाग)। बसंतपुर, मालीआम, नैनादोहर, बिरहोरटंडा व पतुरियाबर के सैकड़ों आक्रोशित ग्रामीणों ने कोल डम्‍प यार्ड बनने का विरोध किया है। रेलवे स्टेशन के समीप बने आम्रपाली कम्पनी के कोल डम्प यार्ड पर कोयला लदे आधा दर्जन हाइवा को ग्रामीणों ने रोक दिया। ग्रामीणों ने स्कूली बच्चों व आंगनबाड़ी बच्चों के साथ गोलबंद होकर न केवल कोयला से लदे ट्रकों व हाईवा को घंटो खड़ा करने के बाद वापस किया बल्कि स्थल पर टेंट गाड़कर 24 घंटे रहने लगे हैं। ग्रामीणों को शक है कि रात मे किसी भी समय कोयले को बिचौलिए डम्प यार्ड में गिरा देंगे। इस बाबत ग्रामीणों ने हजारीबाग के उपायुक्त से लेकर सूबे की मुख्यमंत्री तक ज्ञापन सौंपकर कोल डम्प यार्ड का स्थल परिवर्तित करने की मांग की है। ज्ञापन की प्रतिलिपि कटकमसांडी बीडीओ व सीओ को भी दी गई है।

कोल डम्प से ग्रामीणों का जीना होगा मुहाल

ग्रामीणों का कहना है कि कोल डम्प यार्ड के निर्माण होने और कोयले के डम्प होने  से क्षेत्र में प्रदूषित पर्यावरण व गर्दोगुबार के कारण लोगों का जीना मुहाल हो जाएगा। आस पास के ग्रामीणों को विभिन्न बीमारियों से जूझना पड़ेगा। ज्ञापन में कहा गया है कि रेलवे स्टेशन से महज पांच सौ गज की दूरी पर आबादी बहुल बसंतपुर व नैनादोहर गांव बसा है वहीं दूसरी ओर सौ गज की दूरी पर बिरहोरों का बिरहोर टंडा गांव है। इतना ही नहीं चिन्हित कोल डम्प यार्ड के आस-पास चार स्कूल व आंगनबाड़ी केन्द्र हैं, कोल डम्प के विरोध में बिरहोर टंडा आंगनबाड़ी की सेविका गांगी मिंज का कहना है कि डम्पिंग यार्ड से नौनिहालों को कई बीमारियां हो सकती है। अगर कोल डंपिंग यार्ड खुलता है, तो स्कूल व आंगनबाड़ी केंद्र बन्द करना पड़ेगा।

ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि कुछ बिचौलिए तबके के दबंग प्रवृति के लोग ग्रामीण युवाओं को नौकरी का झांसा देकर कोल डम्प निर्माण का समर्थन जुटाने में लगे हैं। उन्‍होंने मांग की है कि कोल डम्प यार्ड  सघन आबादी के बीच से हटाकर कहीं सुनसान इलाके में बनाया जाय।

 

Anubhuti
Sub-Editor at NewsCode | [email protected]

Sub-Editor

धनबाद : सगे भाई-बहन ने किया रक्‍तदान, पेश की मिसाल  

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:09 PM
newscode-image

धनबाद। पीएमसीएच के रक्त अधिकोष में सगे भाई-बहन ने थैलीसीमिया रोग से पीड़ित दो बच्चों के लिए रक्तदान कर मानवता की मिसाला पेश की। समाजसेवी शालिनी खन्ना के कहने पर पीएमसीएच के थैलीसिमिया वार्ड में भर्ती करीब 3 साल की बच्‍ची आराध्या के लिए पल्‍लवी पायल ने रक्‍तदान किया। वे बीएसएस कॉलेज की पूर्व छात्र संघ अध्यक्ष रह चुकी है।

रक्‍तदान करने जैसे की वह सामाजिक कार्यकर्ता सौरभ सिंह के साथ पीएमसीएच के रक्त अधिकोष  में रक्तदान के लिए  पहुंची वहां पहले से मौजूद थैलीसीमिया से ग्रस्‍त लगभग 5 वर्ष के मोहित कुमार महतो की मां उषा देवी ने भी पल्लवी से अपने बच्चे के लिए रक्त उपलब्ध कराने का आग्रह किया।

झरिया : आजसू पार्टी की बैठक, महिला सशक्तिकरण पर जोर

पल्लवी ने उस महिला की बात सुनकर अपने बड़े भाई राकेश रंजन को फोन कर रक्‍तदान करने पीएमसीएच आने को कहा। कुछ ही समय में राकेश भी वहां पहुंच गए और दोनों भाई-बहन ने दोनों बच्‍चों के लिए रक्‍तदान किया।

रक्‍तदान करने पर शालिनी खन्‍ना ने दोनों भाई-बहन की प्रशंसा और धन्‍यवाद दिया। उन्‍होंने कहा कि पल्लवी की तरह बेटियां व महिलाएं भी रक्‍तदान करने आगे आएगी तो कई लोगों की जान बचायी जा सकेगी। सौरभ सिंह ने भी युवाओं से अपील की है कि वो अधिक से अधिक रक्तदान करें  ताकि जरूरतमंदों को समय पर खून मिल सके।

रक्त अधिकोष में रक्त की कमी को देखते हुए इस बार स्वतंत्रता दिवस पर शिविर लगाकर रक्‍तदान करने का निर्णय लिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

राँची : मुख्यमंत्री ने जूस पिलाकर तुड़वाया विधायक शिवपूजन मेहता का अनशन

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:18 PM
newscode-image

राँची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने विधायक शिवपूजन मेहता को जूस पिलाकर उनका अनशन तुड़वाया। मुख्यमंत्री, विधायक सुखदेव भगत के साथ सदन के बाहर पहुंचे और शिवपूजन मेहता को जूस पिलाया। आपको बता दें कि शिवपूजन मेहता जपला सीमेंट फैक्ट्री को पुनर्स्थापित करने की मांग को लेकर, झारखंड विधानसभा के मुख्य गेट पर विगत 3 दिनों से आमरण अनशन पर बैठे थे।

रांची : भाजयुमो के खेलो भारत दिल्ली में हिस्सा लेंगे झारखंड के 65 खिलाड़ी

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

कोलेबिरा : लचरागढ़ में संदिग्ध हालत में मिला नाबालिग बच्ची का शव

NewsCode Jharkhand | 21 July, 2018 10:02 PM
newscode-image

कोलेबिरा(सिमडेगा)। कोलेबिरा प्रखंड के लचरागढ़ में एक नाबालिग बच्ची का शव संदिग्ध हालत में बरामद किया गया। उसकी उम्र 13 वर्ष थी और वह सातवीं कक्षा की छात्रा थी। वह भुरसाबेड़ा की रहने वाली थी। वह लचरागढ़ में किराये के मकान मे रहकर पढ़ाई करती थी। शुक्रवार की रात को उसका शव, छत की पाईप से  दुपट्टा व बेल्ट के फंदे लटका मिला।

तमाड़ : दो सगे भाई को काटा सांप, एक की मौत

घटना की जानकारी होने पर परिजनों ने कोलेबिरा पुलिस को मामले की सूचना दी। पुलिस ने शव को कब्जे मे लेकर अंत्यपरीक्षण के लिए सिमडेगा भेज दिया। बच्ची के रुम से  सुसाईड नोट बरामद किया गया है। ये हत्या है या आत्महत्या, पुलिस मामले की जांच कर रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

दुमका : लाभुकों के बीच मुख्य न्यायाधीश ने परिसंपति का...

more-story-image

पलामू : बिहार ले जा रहे थे शराब , पुलिस...