LIVE: कर्नाटक में घनघोर नाटक, दिल्ली में राष्ट्रपति भवन के सामने धरने पर बैठे यशवंत सिन्हा

NewsCode | 17 May, 2018 11:08 AM
newscode-image

बेंगलुरू। बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा ने गुरुवार की सुबह 9 बजे राजभवन में कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। उन्हें राज्यपाल वजूभाई वाला ने मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई। बता दें कि येदियुरप्पा ने तीसरी बार कर्नाटक के मुख्यमंत्री पद की कमान संभाली है। बीजेपी सूत्रों के अनुसार येदियुरप्पा शपथ ग्रहण समारोह के बाद सदन में बहुमत साबित करने की तारीख का ऐलान कर सकते हैं।

LIVE UPDATES:

– बीजेपी द्वारा कर्नाटक में सरकार बनाये जाने को असंवैधानिक करार देते हुए दिल्ली में राष्ट्रपति भवन के सामने धरने पर बैठे पूर्व बीजेपी नेता यशवंत सिन्हा।

– बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा – कर्नाटक में लोकतंत्र की हत्या के विरोध में कल पटना में राजद का एक दिवसीय धरना होगा। हम राज्यपाल महोदय से माँग करते है कि वो वर्तमान बिहार सरकार को भंग कर कर्नाटक की तर्ज़ पर राज्य की सबसे बड़ी पार्टी राजद को सरकार बनाने का मौका दें।

– विधान सभा के बाहर विरोध-प्रदर्शन के बाद कांग्रेस के विधायक वापस ईगलटन रिजॉर्ट पहुंचे।

– कर्नाटक विधानसभा के सचिव ने विधानसभा के अस्थायी (प्रोटेम) स्पीकर के लिए दो विधायकों के नाम दिए हैं। इनमें एक उमेश कट्टी और दूसरा आरवी देशपांडे का नाम शामिल है। ये नाम संसदीय कार्य विभाग को भेजा गया है, जहां से इनके नामों को राज्यपाल की संस्तुति के लिए भेजा जाएगा।

गौरतलब है कि उमेश कट्टी बीजेपी के विधायक हैं और आरवी देशपांडे कांग्रेस के विधायक हैं। दोनों ही अपनी-अपनी पार्टियों के वरिष्ठ विधायक हैं। इनमें से किसी एक नाम पर मुहर लगेगी।

– पूर्व बीजेपी नेता, राज्यसभा सांसद और वरिष्ठ वकील रामजेठमलानी कर्नाटक मामले पर सुप्रीम कोर्ट पहुंचे । जेठमलानी ने कहा – राज्‍यपाल का बीजेपी को न्योता देना संवैधानिक पद का दुरुपयोग।

– इस बीच कर्नाटक विधानसभा के बाहर कांग्रेस के विरोध प्रदर्शन में दो निर्दलीय विधायक भी शामिल हुए।

संविधान का मजाक

कर्नाटक मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा है, ”बीजेपी स्पष्ट बहुमत न होने के बावजूद कर्नाटक में सरकार बनाने पर अड़ी है। यह संविधान के साथ मजाक है। आज जब भाजपा अपनी ‘पवित्र’ जीत का जश्न मना रही है, तब दूसरी तरफ भारत लोकतंत्र की हार पर शोक मनाएगा।”



विधानसभा के सामने धरने पर बैठे कांग्रेसी विधायक

वहीं, कांग्रेस ने सड़क पर उतरकर बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा के सीएम बनने का विरोध करने का फैसला लिया है। कांग्रेस ने अपने ज्‍यादातर विधायकों को बीजेपी की पकड़ से बाहर रखने के लिए बेंगलुरु के ईगलटन रिजॉर्ट में ठहराया हुआ था। शपथग्रहण समारोह के बाद कांग्रेस के विधायक रिजॉर्ट से निकलकर बेंगलुरु के फ्रीडम पार्क में विरोध करने के लिए निकल गए। फ्रीडम पार्क कर्नाटक विधानसभा के सामने है। येदियुरप्‍पा की ताजपोशी के ख‍िलाफ कांग्रेस के विधायक विधानसभा के सामने धरने पर बैठ गए हैं।

Bengaluru: Congress holds protest at Mahatma Gandhi’s statue in Vidhan Soudha, against BS Yeddyurappa’s swearing in as CM of #Karnataka. GN Azad, Ashok Gehlot, Mallikarjun Kharge, KC Venugopal and Siddaramaiah present. pic.twitter.com/16BYIQfJ9D

येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण को लेकर बीजेपी मुख्यालय और उनके आवास पर जश्न का माहौल रहा। परंपरागत नृत्य और गाने बाजे के साथ पार्टी समर्थकों का हुजूम पार्टी मुख्यालय पर लगा रहा। गौरतलब है कि शपथग्रहण समारोह में पीएम मोदी और अमित शाह मौजूद नहीं रहे।

राज्यपाल ने सरकार बनाने के लिए येदियुरप्पा को दिया न्यौता

बता दें कि कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला ने बुधवार की शाम बी. एस. येदियुरप्पा को नई सरकार गठित करने और गुरुवार को मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने के लिए आमंत्रित किया था। येदियुरप्‍पा को 15 दिन में बहुमत साबित करना होगा।

इससे पहले गुरुवार को तड़के सुप्रीम कोर्ट ने कर्नाटक बीजेपी को बड़ी राहत दी और येदियुरप्पा की शपथ पर रोक लगाने से इनकार कर दिया। बता दें कि कांग्रेस ने येदियुरप्पा के शपथ ग्रहण के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में गुहार लगाया था। सुप्रीम कोर्ट कर्नाटक में सरकार बनाने के लिये बीजेपी को आमंत्रित करने के राज्यपाल वजुभाई वाला के फैसले को चुनौती देने वाली कांग्रेस की याचिका पर रात में सुनवाई करने के लिये सहमत हो गया।

24 घंटे में ही जा सकती है CM येदियुरप्पा की कुर्सी

याचिका में बीजेपी के बीएस येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाए जाने पर रोक लगाने की मांग की गई। कोर्ट में आधी रात के बाद करीब साढ़े तीन घंटे चली बहस के बाद येदियुरप्पा को राहत मिली, जिसके बाद वे आज सुबह सीएम पद के लिए शपथ लेकर सत्ता के सिंहासन पर काबिज हो गए हैं। लेकिन 24 घंटे के अंदर उन्हें अपने समर्थन विधायकों की लिस्ट कोर्ट को देनी है। बीजेपी के लिए 112 विधायकों की लिस्ट सौंपना आसान नहीं है। ऐसे में येदियुरप्पा को बहुमत साबित करना एक बड़ी चुनौती है। मामले में अब कोर्ट शुक्रवार की सुबह 10.30 बजे दोबारा सुनवाई करेगी।

कुमारस्वामी का आरोप – 100 करोड़ में विधायक खरीद रही बीजेपी

कर्नाटक में विधानसभा चुनाव के नतीजे आने के बाद राज्य में त्रिशंकु विधानसभा की स्थिति बनी। किसी भी पार्टी को पूर्ण बहुमत नहीं मिला। इस बीच कांग्रेस-जेडीएस लगातार बहुमत का दावा कर रही है, वहीं बीजेपी कह रही है कि वह सबसे बड़ी पार्टी है। कांग्रेस और जेडीएस के नेताओं ने राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात की।

इससे पहल बुधवार को बीजेपी विधायक दल की बैठक में येदियुरप्पा को सीएम बनाने के लिए एक सुर में सहमति दे दी।

वहीं, जेडीएस के कुमारस्वामी ने भाजपा पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा  कि बीजेपी हमारे विधायकों को खरीदने के लिए 100 करोड़ रुपए की पेशकश कर रही है। बीजेपी के पास नंबर नहीं हैं, हमारे पास बहुमत का पूरा आंकड़ा है। आपको बता दें कि कुमारस्वामी को जेडीएस विधायक दल का नेता चुना गया है और कांग्रेस ने जेडीएस को अपना समर्थन दे दिया है।

आपको बता दें कि मंगलवार को बीजेपी के अलावा और कांगेस-जेडीएस गठबंधन ने भी राज्यपाल वजुभाई से मिल सरकार बनाने का दावा पेश किया था। अभी भी दोनों का कहना है कि उनके पास पर्याप्त संख्या है।

इस बीच कांग्रेस विधायक अमारेगौड़ा लिंगनागौड़ा पाटिल ने दावा किया है कि उनके पास बीजेपी का फोन कॉल आया था। उन्होंने कहा, ‘मुझे बीजेपी नेता का फोन आया था। उन्होंने मुझसे कहा तुम हमारे साथ हो जाओ हम तुम्हें मंत्री पद देंगे लेकिन मैं कांग्रेस के साथ ही रहूंगा।’

कर्नाटक: जनता-जनार्दन ने इन 8 अरबपति उम्मीदवारों की किस्मत का क्या फैसला किया!

उधर बीजेपी नेता केएस ईश्वरप्पा का दावा है कि राज्य में बीजेपी की सरकार बनने जा रही है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, ‘इसमें कोई संदेह नहीं है कि राज्य में हमारी सराकर बनने जा रही है। 100 फीसदी हमलोग सरकार बनाएंगे। परिणाम अभी एक दिन पहले ही आया है, अभी देखिए एक दिन में क्या होता है।

प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि कांग्रेस को खारिज करने के लिए बीजेपी लोगों को सलाम करती है। लोगों द्वारा खारिज किए जाने के बावजूद कांग्रेस पिछले दरवाजे से सत्ता में एंट्री चाहती है। राहुल गांधी ने देवेगौड़ा के बारे में अपमानजनक टिप्पणी की थी। जेडीएस को बीजेपी की बी टीम कहा जाता था, वो कांग्रेस की एटीम बनकर उभरी है।

बीजेपी नेता अनंत कुमार ने कहा, ‘सोनिया गांधी और राहुल गांधी को लोगों के जनादेश को स्वीकार करना चाहिए। राज्य के लोगों ने कांग्रेस और सिद्धारमैया को खारिज कर दिया है। कांग्रेस को वास्तविकता स्वीकार करनी चाहिए, अगले 5 सालों तक विपक्षी दल होने का अपना कर्तव्य निभाना चाहिए।’

जैसा कि पहले ही अनुमान था, कर्नाटक में किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। 104 सीटों के साथ भाजपा कर्नाटक में सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी है, लेकिन बहुमत से दूर है। वहीं, कांग्रेस 78 और जेडीएस 38 सीटों के साथ गठबंधन कर सरकार बनाने का दावा पेश कर रहे हैं।

नरेंद्र मोदी के लिए वजुभाई ने दी थी कुर्बानी, अब करेंगे कर्नाटक की कुर्सी का फैसला

कर्नाटक में मंगलवार रात तक राजभवन के बाहर हलचल रही, लेकिन सरकार कौन बनाएगा, इसपर फैसला नहीं हो सका। ऐसे में सभी की निगाहें राज्यपाल पर लगी हुई हैं कि वो किसे सरकार बनाने के लिए बुलाते हैं। पढ़िए कर्नाटक की सियासी हलचल का पल-पल का लाइव अपडेट।

वाराणसी में निर्माणाधीन पुल गिरने से 15 लोगों की मौत, कई गाड़ियां मलबे में फंसीं

कोडरमा : यहाँ के लोगों के लिए मुश्किल है ‘अटल’ को भूल पाना

Ramdin Kumar | 17 August, 2018 9:30 PM
newscode-image

अटल जी की कई यादें

कोडरमा। जिले के लोगों में भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी की कई यादें जुडी हैं। स्व. वाजपेयी सबसे पहले 1968 के दशक में जनसंघ के प्रत्यशासी सुखदेव यादव के चुनाव प्रचार के सिलसिले में झुमरी तिलैया शहर आये थे। आरएसएस के हजारीबाग विभाग से जुडे पदाधिकारी सुरेश प्रसाद ने बताया कि शहर के काली मंडा मैदान में उन्होंने जनसभा को संबोधित किया था।

कोडरमा : अटल बिहारी वाजपेयी के निधन पर दी भावभीनी श्रद्धांजलि

दूसरी बार 6 मार्च 1999 को झुमरीतिलैया में कोडरमा गिरिडीह और कोडरमा रांची रेलमार्ग का शिलान्यास किया था। प्रधानमंत्री स्व. वाजपेयी के साथ रेल मंत्री के रूप में नीतिश कुमार भी साथ थे। छोटे से शहर में उस समय एक डेढ लाख से अधिक की भीड। उन्हें देखने और सुनने के लिए कोडरमा जिले के अलावा, गिरिडीह, हजारीबाग, चतरा, नवादा जिले के लोग भी पहुंचे थे। उनका सरल, उदार और करिश्माई व्यक्तित्व सदैव याद रहेगा।

कोडरमा : यहाँ के लोगों के लिए मुश्किल है ‘अटल’ को भूल पाना

अटल जी मेरे घर आए थे- विश्वनाथ दारूका

कोडरमा के व्यवसायी विश्वनाथ दारूका के आवास पर वर्ष 1981-82 में अटल जी आए थे। उन्होंने बताया कि मुझे याद है जब अटल जी मेरे घर कोडरमा में आए थे। वो स्वर्गीय रीतलाल वर्मा कोडरमा सांसद के साथ आए थे।

गर्मियों के दिन थे मैंने उनको चाय के लिए पूछा। उन्होंने कहा मैं छाछ लूंगा। मैंने खुद अपने हाथों से छाछ का ग्लास दिया था फिर उन्होंने मुझे कहा एक सुराही में पानी दे दो, पटना जा रहा हूं रास्ते में चाहिए होगा। मैंने तुरंत एक सुराही पानी उनकी एम्बेसडर कार में रखा। सरल सादा जीवन। खादी की धोती कुर्ता पहने हुए। मुझे एक खालीपन लगने लगा। जीवन भर नही भूलूंगा।

उनके साथ कई यादें जुडी हैं- विनोद भदानी

कोडरमा : यहाँ के लोगों के लिए मुश्किल है ‘अटल’ को भूल पाना

झुमरीतिलैया के व्यवसायी और भाजपा व जनसंघ में कई सालों तक रहे विनोद कुमार भदानी के साथ भी स्व. वाजपेयी जी की कई यादें जुडी हैं। श्री भदानी ने बताया कि वे बचपन से ही आरएसएस से जुड़े हुए हैं। जनसंघ के समय से मेरे पिता स्व. गौरी शंकर भदानी जुड़े हुए थे। इस नाते स्व. वाजपेयी जी, स्व. कैलाशपति मिश्र जी के घर पर भी कई बार आना हुआ। मेरे विवाह का आमंत्रण उन्हें भी भेजा गया, जिसपर उन्होंने शुभकामना संदेश भी भेजा था।

विनोद भदानी ने 1970 के अपने संस्मरण को याद करते हुए बताया कि स्व. वाजपयी गिरिडीह में एक जनसभा को संबोधित करने आये हुए थे। ठीक उसी समय बारिश होने लगी थी तब वाजपयी जी ने कहा था कहीं मेरी गर्जना के सामने उनकी गर्जना बंद न हो जाय। उसके बाद बारिश हुई ही नही।

उस समय उनकी शुरूआती पंक्ति थी दुनियां झुकती है झुकाने वाला चाहिये। साल 1980 की यादें हैं जब मैं गिरिडीह रहता था, वहां मकतपुर स्थित आवास पर वाजपेयी जी आए थे। हमने उनसे मुलाकात की थी, उस समय हम सभी युवा थे, पूरी टीम थी और फोटो भी खिंचवाई थी। वह मुलाकात हमेशा याद रहेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

बोकारो : भाई-बहन को बंधक बनाए रखने के मामले में चिकित्सक पर मामला दर्ज

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 8:22 AM
newscode-image

बोकारो । को-ऑपरेटिव कॉलोनी के प्लांट संख्या 229 के मालिक दीपू घोष व उनकी बहन मंजूश्री घोष को कैद रखने के मामले में नेत्र रोग विशेषज्ञ डॉ. डीके गुप्ता पर पूर्णेन्दू सिंह के बयान पर सिटी पुलिस ने हत्या के प्रयास की धारा में मामला दर्ज किया है। दीपू घोष व उसकी बहन मंजूश्री का इलाज फिलहाल बोकारो जेनरल अस्पताल में चल रहा है। दीपू की हालत में काफी सुधार है जबकि मंजूश्री शारीरिक रूप से स्वस्थ्य होने के बावजूद मानसिक यातना के कारण हालत ठीक नहीं है।

 धनबाद : डायरियां से एक व्यक्ति की मौत, दर्जनों लोग बीमार

विदित हो कि पुलिस कप्तान कार्तिक एस ने गुरूवार को स्वयं अस्पताल पहुंचकर भाई-बहन से जानकारी ली थी। मंजू श्री ने एसपी को जो बताया उससे स्पष्ट हुआ कि उसको प्रताड़ित किया गया है। इधर मुकदमा दर्ज होने के बाद डॉ. डीके गुप्ता की मुश्किलें बढ़ गई है। सरकारी चिकित्सक होते हुए किस परिस्थिति में वे बाहर के क्लिनिक में इलाज कर रहे थे ये सवाल उठ रहे हैं। डॉ. गुप्ता चास अनुमंडलीय अस्पताल में पदस्थापित हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

रांची : भारी मात्रा में अवैध शराब बरामद

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 7:59 AM
newscode-image

रांची। आयुक्त उत्पाद को गुप्त सूचना मिली थी कि कतरपा, नगड़ी में भारी मात्रा में अवैध शराब का निर्माण किया जा रहा है। जिसको होटलों और ढाबों में अवैध ढंग से खपाया जा रहा है। अनुमंडल पदाधिकारी, रांची और रांची जिला के सहायक उत्पाद आयुक्त व विभाग के अन्य पदाधिकारियों द्वारा संयुक्त रुप से छापेमारी की गई ।

छापेमारी के क्रम में पाया गया कि कतरपा में एक नया बड़ा सेड बनाकर भारी मात्रा में अवैध शराब का निर्माण किया जा रहा है।  मौके से करीब 200 लीटर स्प्रिट हजारों बोतल खाली और हजारों बोतल शराब भरी हुई मिली । यह जगह मुख्य रूप से  सुंदरा महतो, जटलू महतो और सुनीता महतो द्वारा छोटू  उर्फ देवेंद्र उराव द्वारा  अन्य  कर्मचारियों के साथ मिलकर संचालन किया जा रहा था। वहां पर भारी मात्रा में नकली स्टिकर, नकली होलोग्राम और पैकेजिंग का सामान जब्त किया गया। वहां पर टैंकर और टाटा सफारी गाड़ी के माध्यम से स्प्रिट, पानी और तैयार माल ट्रांसपोर्ट किया जाता है।

कोडरमा : पुलिस दल को देखकर अवैध शराब कारोबार हुए फरार

बताया गया कि इस प्रकार से जानबूझकर  खतरनाक शराब  तैयार कर  बाजार में बेचा जाना  घातक हो सकता है।  क्योंकि  ये सभी लोग बिना किसी विशेषज्ञ और बिना किसी रासायनिक परीक्षण के यह कार्य करते हैं। ऐसी शराब जहरीली भी हो सकती है। इन सभी व्यक्तियों और वाहन मालिकों के खिलाफ नगड़ी थाने में संबंधित उत्पाद अधिनियम और आईपीसी के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई।

सूत्रों के मुताबिक नगड़ी बाजार में स्थित कोयल लाइन होटल जो कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर स्थित है यही नकली शराब बेचे जाने की शिकायत मिली थी। वहां पर छापेमारी में भारी मात्रा में शराब की खाली बोतलें, रिसीविंग बिल, शराब बेचने के बिल और शराब बेचे जाने कि सीसीटीवी फुटेज की डीवीआर जब्त की गई।  इस प्रकार के अवैध कार्य संचालित किए जाने के क्रम में होटल को सील कर दिया गया है। होटल के संचालक बालकरन महतो व अन्य के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज की गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

रांची : मुख्यमंत्री ने अटलजी के सपनों का झारखंड बनाने...

more-story-image

लोहरदगा : दो नाबालिग के साथ गैंगरेप, आरोपी फरार