जामताड़ा : छह दिवसीय महापर्व सोहराय संपन्‍न, नृत्य संगीत पर झूमते रहे लोग

NewsCode Jharkhand | 14 January, 2018 9:32 PM
newscode-image

भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक है सोहराय

जामताड़ा। छह दिवसीय महापर्व सोहराय रविवार की देर शाम हर्षोउल्लास के साथ संपन्न हुआ। आदिवासी बहुल इलाके में नृत्य संगीत का दौर देर रात तक चलता रहा। भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक, प्रकृति व पशु के प्रति श्रद्धा एवं अपने देवी-देवताओं में अटूट विश्वास का पर्व सोहराय गाड़टांड़ी से नौ जनवरी को शुरू हुआ था।

सोमवार को आदिवासियों ने जंगल-झाड़ी में शिकार किया और उस शिकार को प्रसाद के रूप में बेझाटाड़ी में बंटवाया। इसके पूर्व दिन में बेझा हिलोव के नाम पर पुरुष भोजन कर अपने परंपरागत हथियार के साथ आस-पास जंगल में शिकार के लिए निकल गए।

और पढ़ें : सरायकेला : कोल्हान का सबसे बड़ा पर्व टुसू, तैयारी में जुटे लोग

पर्व के अंतिम दिन को बेझा हिलोव या शिकार का दिन कहा जाता है। पुरुष अहले सुबह से ही एक-दूसरे के घरों में जा-जाकर भोजन कर दोपहर के पूर्व अपने परंपरागत हथियार के साथ समूह में जंगल की ओर शिकार के लिए निकले। शिकार से लाए गए मांस का बंटवारा प्रसाद के रूप में बेझाटांड़ी में किया गया। उसके बाद पूजा-पाठ शुरू किया गया।

शाम को लोग नगाड़ा, मांदर, टमाक के साथ नृत्य करते बेझाटांड़ी व कुली मोड़ा पहुंचे। मांझी थान में घर-घर से उठाए गए पकवान को अर्पित किया जाता है। उसके बाद बेझाटांड़ी व कुली मोड़ा में एक केला का धड़ या अरेंडी (एराडम) काटकर गाड़ दिया गया।

उसमें एक रोटी (गुड़ का पीठा) बांध दी जाती है। तीरंदाजी प्रतियोगिता का भी आयोजन किया गया। नाइके वरुण बेसरा की मानें तो प्रकृति पुत्रों द्वारा मनाया जाना वाला यह छह दिवसीय पर्व उनकी अनादि सभ्यता की निरंतरता की गाथा का एक स्वर्णिम अंश है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कोडरमा : कला की धरा पर कलाकृतियों की बारीकियां बच्चों को सिखा रहे हैं अमर घोष

NewsCode Jharkhand | 24 June, 2018 5:47 PM
newscode-image

कोडरमा। कला की धरा पर कलाकृतियां बिखेरना 68 वर्षीय अमर घोष की खासियत है। अब तक कोडरमा जिले के तकरीबन 500 बच्चों (छात्र-छात्राओं) को ये पेंटिंग, ड्राइंग, मूर्तिकला, पेपरमसवर्क, थर्मोकोल वर्क, पलास्टर ऑफ़ पेरिस, हैंडीक्राफ्ट के क्षेत्र में सभी स्तर की बारिकियों से परिपूर्ण बना उस क्षेत्र में दक्ष बना चुके है। इनका यह अभियान अनवरत जारी है।

कोडरमा : प्रतिदिन सड़क दुर्घटना में जा रही है लोगों की जान, यह है कारण

मौजूदा समय में कला क्षेत्र के धनी अमर घोष तिलैया शहर में रेलवे क्रांसिग के निकट मधुबन काप्लेक्स परिसर में चित्रलिपि के नाम से एक प्रशिक्षण संस्थान चला रहे है। जहाँ सप्ताह में तीन दिन बच्चों को आर्ट क्लास के दौरान उन्हें जानकारियां देकर गढने का काम करते हैं। जिले के कई निजी स्कूलों में भी वे बतौर आर्ट शिक्षक बच्चों को जानकारी देते हैं। ये छात्रों को रिजेक्टेड वाटर बोतल से घर सजाने के हैंडीक्राफ्ट की जानकारी भी देते हैं।

बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि बचपन से ही उनके भीतर आर्ट की बारिकियों को समझने की ललत थी। इस सफर के दौरान उन्होंने इंडियन आर्ट कालेज पश्चिम बंगाल के गोल्ड मेडल प्राप्त प्रध्यापक अजय दास से भी इसके गुर सीखे, बाद के दिनों में 1974-75 में रविन्द्र भारती बंगीय संगीत परिषद धनबाद से उन्होंने आर्ट में डिप्लोमा भी प्राप्त किया है।

मौजूदा समय में उनकी इच्छा है वे ज्यादा से ज्यादा बच्चों को आर्ट की बारिकियां सिखा सके। वे कहते है खासतौर पर छोटे-छोटे नौनिहालों की प्रतिभा निखारने में उन्हें ज्यादा खुशी मिलती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

धनबाद : पानी-बिजली की किल्‍ल्‍त से परेशान ग्रामीण उतरे सड़क पर

Baidyanath Jha | 24 June, 2018 5:45 PM
newscode-image

धनबाद। जिले में पानी व बिजली की समस्या से परेशान आम लोग अब सड़क पर उतरकर प्रशासन का विरोध करने लगे हैं। ताजा मामला धनबाद केंदुआ का है जहां लोगों ने आज एनएच 32 को घंटों जाम कर पानी व बिजली की मांग की।

मिली जानकारी के अुनसार एनएच 32 सड़क का निर्माण कार्य चल रहा है, जिसके कारण रोड निर्माण कंपनी द्वारा पाईप लाइन क्षतिग्रस्त कर दिए जाने के कारण केंदुआ, करकेंद और कुसुंडा क्षेत्र में घोर पानी की किल्लत कई दिनों से बनी हुई है।

धनबाद : क्विक रिस्पांस टीम करेगी बिजली व पानी की समस्‍या का समाधान

पानी नहीं मिलने से परेशान स्‍थानीय महिलाओं ने हाथ में बर्तन लेकर एनएच 32 को जाम कर पानी देने की मांग करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

दिल्ली : सेना के अफसर की पत्नी की हत्या, आरोपी मेजर मेरठ से गिरफ्तार

NewsCode | 24 June, 2018 5:43 PM
newscode-image

नई दिल्ली। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के छावनी इलाके में बरार स्क्वायर के निकट आर्मी के मेजर अमित की पत्नी की हत्या के मामले में आरोपी को मेरठ से पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी का नाम निखिल हांडा है और वह भी सेना में मेजर है।

आपको बता दें कि दिल्ली के बेहद ही संवेदनशील कैंट इलाके मेजर के पद पर कार्यरत की पत्नी शैलजा द्विवेदी की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना के बाद इलाके में हड़कंप मच गया। शैलजा सुबह 10 बजे आर्मी के बेस अस्पताल फिजियोथेरेपी कराने आई थी। लेकिन करीब 1 बजकर 28 मिनट पर दिल्ली कैंट मेट्रो स्टेशन के पास वरार स्केयर में सड़क पर शैलजा का शव मिला।

पुलिस ने आरोपी निखिल हांडा को उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के दौराला से गिरफ्तार किया है। मृतका के मोबाइल फोन की जांच की गई तो अखिरी कॉल डिटेल निखिल हांडा की मिली। इसके आधार पर ही पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार किया है।

पुलिस जांच में मेजर की पत्नी के दूसरे मेजर से प्रेम प्रसंग होने की बात सामने आ रही थी। पुलिस से पूछताछ में मेजर अमित द्विवेदी ने पत्नी का एक दूसरे मेजर से संबंध होने का शक जताया था।

रविवार सुबह को पूछताछ में अमित ने बताया कि दिल्ली आने से पहले दीमापुर में उनकी पोस्टिंग थी, यहां पर उनकी पत्नी की नजदीकियां एक दूसरे मेजर से बढ़ गई थीं। दिल्ली आने के बाद भी उनकी पत्नी की उस मेजर से बातचीत होती थी। पुलिस को सीसीटीवी से पता चला है कि घटना वाले दिन निखिल ने शैलजा को अपनी हॉडा सिटी कार में बैठाया कर कहीं ले गया था और उसके बाद उसकी हत्या कर फरार हो गया।

निखिल रात भर अपनी लोकेशन बदलता रहा और आखिरकार उसको मेरठ से गिरफ्तार कर लिया गया। वहीं पता ये भी लगा है कि अमित कुछ ही दिनों में यूएन मिशन में सूडान जाने वाला था। उसके साथ पत्नी शैलजा की भी जाने की तैयारी थी।

किसान से बोला बैंक मैनेजर – लोन चाहिए तो पहले बीवी को मेरे पास भेजो

More Story

more-story-image

दुमका : ताइक्‍वांडो व कुश्‍ती प्रतियोगिता आयोजित, प्रतिभागियों ने दिखाया...

more-story-image

रांची : सामूहिक शादी समारोह का आयोजन, मुख्यमंत्री ने 351...