जामताड़ा : आसनसोल रेल मंडल सीनियर डीपीओ व एडीपीओ ने किया निरीक्षण

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 9:08 PM

जामताड़ा : आसनसोल रेल मंडल सीनियर डीपीओ व एडीपीओ ने किया निरीक्षण

जामताड़ा। शनिवार को आसनसोल रेल मंडल के सीनियर डीपीओ अभिषेक कुमार तथा एडीपीओ बीके मिश्रा ने जामताड़ा रेल स्टेशन परिसर स्थित कर्मचारी आवास का निरीक्षण किया। मौके पर उन्होंने जर्जर भवन, कर्मचारी आवास में व्याप्त समस्याएं सहित वहां रहने वाले कर्मचारियों की परेशानियों से अवगत हुए। साथ ही रेलवे कॉलोनी स्थित विभिन्न घरों की छतों तथा कमरे में जाकर व्याप्त सुविधाओं व समस्याओं के बारे में भी जानकारी प्राप्त किया।

जामताड़ा : सभी घरों तक पहुंचेगा सरकारी योजनाओं का लाभ- रणधीर सिंह

मौके पर कर्मियों ने कहा कि अधिकांश बिजली की स्वीच खराब है। साथ ही बताया कि कई भवन का छत क्षतिग्रस्त है। वही कहीं पानी आपूर्ति बाधित होने के बाबत काफी परेशानी होने की बात कही। आवास के चारों ओर गंदगी रहने की भी शिकायत लोगों ने की। इस दौरान कर्मियों ने  सफाइ कर्मियों की भी मांग की। इस पर सीनियर डीपीओ ने समस्या समाधान करने के लिए आवश्यक पहल करने की बात कही।

मौके पर जानकारी देते हुए स्टेशन मास्टर आरके मेहता ने बताया कि सीनियर डीपीओ द्वारा यहां पर मिलने वाली सुविधाओं को तथा समस्याओं से अवगत हुए। उन्हें कर्मचारियों द्वारा कई परेशानियों से अवगत कराया गया है तथा आवासों का मरम्मत करने सहित स्थानीय समस्याओं का समाधान करने के लिए पहल करने की मांग की गई है।

उन्होंने शीघ्र ही समस्याओं का समाधान करने का आश्वासन दिया। मौके पर स्टेशन प्रबंधक आरएन साव, डी चौधरी, आरपीएफ इंस्पेक्टर पीके सिंह सहित काफी संख्या में रेलवे कर्मचारी मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

निरसा : रेल यात्रा के दौरान हो परेशानी तो 182 डायल करें, मिलेगी सहायता

NewsCode Jharkhand | 22 May, 2018 2:31 PM

निरसा : रेल यात्रा के दौरान हो परेशानी तो 182 डायल करें, मिलेगी सहायता

बढ़ते अपराध पर लगाम लगाने की कोशिश, आरपीएफ ने महिलाओं को किया जागरूक

निरसा (धनबाद)। आरपीएफ (रेलवे सुरक्षा बल) की टीम ने सोमवार को गलफरबाड़ी रेल फाटक के पास सियारकनाली गांव में महिला सुरक्षा जागरूकता अभियान चलाया। महिलाओं एवं बच्चों को हेल्प लाइन नंबर–182 के बारे में जानकारी दी। आसनसोल रेल मंडल की ओर से बढ़ते रेल अपराध पर नियंत्रण के लिए रेल पुलिस द्वारा अभियान चलाया गया।

रेलवे फाटक के आस पास गांवों में लोगों को जागरूक किया जा रहा है। यात्रा के दौरान अपराध, दुर्घटना सहित कोई भी समस्या होने पर रेलवे के हेल्प लाइन नंबर 182 पर सूचना देने की बात कही। सूचना मिलने पर रेल पुलिस तत्काल कार्रवाई करेगी।

Read More:- जामताड़ा : आदिवासी सम्मेलन की तैयारियों का बाबूलाल ने लिया जायजा, कार्यकर्ताओं के साथ की बैठक

टीम का नेतृत्व कर रहे इंस्पेक्टर निखिल कुमार ने कहा कि वर्ष 2018 (पूरा साल)  महिलाओं को समर्पित है। रेल पुलिस ने आसनसोल रेल मंडल के अंतर्गत अबतक करीब 11 हजार महिलाओं व बच्चों को 182 नंबर सहित रेल सुरक्षा के बारे में बताया है। गर्मी छुट्टी के बाद बचे हुए स्कूल में जाकर बच्चों को तथा गांव में महिलाओं को जागरूक किया जायेगा। रेल के सफ़र को भयमुक्त बनाना लक्ष्य है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

दिल्ली-विशाखापट्टनम आंध्र प्रदेश एक्सप्रेस की दो बोगियाँ जलकर खाक, बाल-बाल बचे 36 ट्रेनी IAS

NewsCode | 21 May, 2018 3:37 PM

दिल्ली-विशाखापट्टनम आंध्र प्रदेश एक्सप्रेस की दो बोगियाँ जलकर खाक, बाल-बाल बचे 36 ट्रेनी IAS

नई दिल्ली-विशाखापट्टनम आंध्र प्रदेश एक्सप्रेस में अचानक आग लगने से यात्रियों में अफरा-तफरी मच गई। ये आग ग्वालियर के बिरला नगर स्टेशन के पास B-6 और B-7 कोच में लगी है। रेलवे के अधिकारी और दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंच चुकी हैं।

सभी यात्री सुरक्षित 

यात्री ट्रेन में आग लगने की खबर मिलते ही पुलिस भी मौके पर पहुंच गई है। ट्रेन निजामुद्दीन से विशाखापट्टनम जा रही थी। रेलवे के मुताबिक ट्रेन विरला नगर स्टेशन पार कर रही थी तभी आग लगी और अब ट्रेन विरला नगर रेलवे पुल के नीचे खड़ी है। सभी यात्रियों को सुरक्षित बाहर निकाल लिया गया है।

सभी सामान जलकर खाक

प्राप्त जानकारी के मुताबिक बी-6 और बी-7 बोगी में जिन यात्रियों के सामान थे वो जलकर खाक हो गया है। दिल्ली की ओर जाने वाली ट्रेनें इससे प्रभावित हो गई हैं। जिन डिब्बों में आग लगी थी उन्हें काटकर अलग कर दिया गया है।

यह भी बताया जा रहा है कि जिस बोगी में आग लगी उसमें 37 डिप्टी कलेक्टर सवार थे, जो ट्रेनिंग कर वापस लौट रहे थे। ये आग करीब 11 बजे ट्रेन में लगी।

आग पर काबू पाने की कोशिश जारी

आग से प्रभावित ट्रेन जिस ट्रैक पर खड़ी है वो रूट बाधित हो गया है। इस ट्रैक से होकर ही दिल्ली-मुंबई ट्रेनों की आवाजाही होती है। फिलहाल रूट ठप पड़ा है। हालंकि, आग लगने के कारण का पता अभी तक नहीं चल पाया है। रेलवे के तमाम अधिकारी मौके पर मौजूद हैं और हालात को काबू में करने की कोशिश जारी है।

अगर ऐसा हुआ तो गांधी जयंती पर ट्रेनों में नहीं मिलेगा नॉनवेज खाना!

बिहार के मोकामा में पैसेंजर ट्रेन में लगी भीषण आग, कई बोगियां जलकर खाक

देवघर : जान जोखिम में डालकर रहने को मजबूर है जीआरपी पुलिसकर्मी

NewsCode Jharkhand | 21 May, 2018 1:52 PM

देवघर : जान जोखिम में डालकर रहने को मजबूर है जीआरपी पुलिसकर्मी

छत की दीवारों से गिरता है पानी, दौड़ती है करंट

देवघर। आसनसोल डिवीजन का जसीडीह स्टेशन परिसर में सुरक्षित नहीं है जीआरपी पुलिसकर्मी। जर्जर बिल्डिंग में रहने पर है विवश है। हल्की बारिश में भी छत की दीवारों से गिरता है पानी। दीवारों पर दौड़ती है करंट। जान जोखिम में डालकर सोते है जीआरपी पुलिसकर्मी

हालात देखने के बावजूद अधिकारी नहीं लेते है सुध। जबकि कभी भी हो सकती है बड़ी घटना। जानकारी के मुताबिक जसीडीह स्टेशन आसनसोल डिवीजन का सबसे ज्यादा आय वाली स्टेशन है। जहा पर जीआरपी पुलिस ड्यूटी के बाद ब्रिटिश जमाने के बने बैरक में रहने को मजबूर है जो पूरी तरह जर्जर हो गया है।

जीआरपी पुलिसकर्मी बताते है कि ड्यूटी के बाद भय के साये में आराम करते है। अगर बारिश हो जाये तो रातभर बैठ के गुजारना होता है। क्‍योंकि दीवारों में करेंट दौड़ता है। अगर इस बिल्डिंग को मरम्मत करवा दिया जाये तो रहने लायक हो जाएगा।

इस मामले को लेकर जब जीआरपी थाना प्रभारी इंदु भूषण से पूछा गया तो इन्होंने कहा कि लगातार प्रयासरत है कि बैरक की मरम्मती हो सके। आला अधिकारियों को लिखित आवेदन दे चुका हूं मगर कोई पहल नहीं हो रही है।

जसीडीह स्टेशन जो आसनसोल डिवीजन का सबसे ज्यादा आय वाली स्टेशन है। जहां सुरक्षा के लिए तैनात जीआरपी पुलिस भय के साये में रात गुजारते है। आखिरकार इन आला अधिकारियों की नींद किसी दुर्घटना के बाद खुलेगी या पुलिसकर्मियों की जर्जर बैरक को सुदृढ़ किया जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने