जमशेदपुर: धालभूमगढ़ स्टेशन पर लाइनमैन की सूझबूझ से टला ट्रेन हादसा

NewsCode Jharkhand | 21 August, 2017 11:40 AM
newscode-image

जमशेदपुर। जमशेदपुर के धालभूमगढ़ स्टेशन पर ट्रेन हादसा होते-होते टल गया। लाइनमैन की सूझबूझ ने एक बड़ा हादसा होने से बचा लिया। रविवार की देर रात धालभूमगढ़ रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर एक से जैसे ही मालगाड़ी गुजरी उसके बाद रेलवे ट्रैक टूट गया।

लाइनमैन अपने ड्यूटी से वापस घर जा रहा था तभी उसकी नजर टूटे हुए रेल लाइन पर पड़ा। फिर क्या था इसने इसकी सूचना स्टेशन मास्टर को दी। हालांकि जिस वक्त लाइनमैन इसकी सूचना स्टेशन मास्टर को दी ठीक उसी वक्त टाटा खड़गपुर पैसेंजर का लाइन क्लियर हो चुका था।

लाइनमैन ने लाइट लेकर रेलवे ट्रैक पर दौरा और एक बड़ा हादसा टल गया। हालांकि सभी गाड़ियों को प्लेटफार्म नंबर 2 से छोरा गया, और ट्रैक की मरम्मत की कार्य जा रही है।

लातेहार : करमा डाल विसर्जन के दौरान तालाब में डूबने से व्यक्ति की मौत

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 6:07 PM
newscode-image

लातेहार।  बालूमाथ थाना क्षेत्र के जाला गाँव में राजेंद्र यादव नामक व्यक्ति की तालाब में डूबने से मौत हो गई । व्‍यक्ति करमा की डाली विसर्जन करने तालाब गया था ।  विसर्जन के दौरान पैर फिसल गया और वह तालाब में डूब गया ।

तालाब में पानी अधिक होने के कारण वह तुरंत निकल नहीं पाया  और मौके पर ही उसकी  मौत हो गई ।  घटना के बाद परिजनों  का रो रो कर बुरा हाल  है। इस घटना को लेकर  क्षेत्र में मातम का माहौल है ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

चास : पिंड्राजोरा के डाबर गांव में धूमधाम से मनाया गया मुहर्रम

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:14 PM
newscode-image

चास(बोकारो)। पिंड्राजोरा थाना क्षेत्र के केलिया डाबर में मुहर्रम के अवसर पर मुस्लिम समुदाय के लोगों ने लाठी खेल का आयोजन किया।

तेनुघाट : गंदगी में ही बीमारियां पनपती है-रामकिशुन

लाठी खेल में 3 क्लब 5 स्टार क्लब, सनराइज क्लब, लक्की स्टार क्लब ने खेल दिखाया। लक्की स्टार क्लब ने भारत के सैनिक किस तरह से दुश्मन के इलाके में घुस कर आतंकवादियों को मरते है और अपना भारत का झंडा फहराते है ये दिखाया गया है।

चास : पिंड्राजोरा के डाबर गांव में धूमधाम से मनाया गया मुहर्रम

लक्की स्टार क्लब ने देश भक्ति गानों के साथ अपना खेल दिखाया देश कि शान तिरंगा को दुश्मन के इलाके में फहराकर दिखाया। लाठी खेल में दोनों समुदाय के लोगों ने बढ़चढ़कर भाग लिया। डाबर में लाठी खेल का आयोजन लगभग 20 वर्षो से किया जाता है।

बोकारो : कंपनीकर्मी के साथ दबंगो ने नंगाकर किया मारपीट

इस मौके पर अजीत सिंह चौधरी, कामदेव सिंह चौधरी, सुबलचंद्र महतो, यकीन अंसारी, अकबर अंसारी, लतीफ़ अंसारी, आवेदिन अंसारी, यकीन अंसारी, रहमगोल अंसारी, बदल सिंह चौधरी, मिहिर महतो आदि मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

कोडरमा : मुहर्रम में कई हिन्दू परिवार पूरी श्रद्धा से निकालते है ताजिया और निशान

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 7:07 PM
newscode-image

कोडरमाकोडरमा जिले में मुहर्रम के मौके पर कई हिन्दू परिवारों द्वारा पिछले कई पीढियों से ताजिया और निशान (झंडा) निकालने की परंपरा वर्षों से चली आ रही है। समाजिक सौहार्द की प्रतिमूर्ति इन परिवारों में चाराडीह इलाके के उमाशंकर उर्फ तुफानी सिंह गुलशन कुमार, गाँधी स्कूल रोड़ निवासी गजाधर भारती, भादेडीह निवासी जयप्रकाश वर्मा के परिवार शामिल है।

सभी परिवारों को आसपास के ग्रामीण इस कार्य में निष्ठा भाव से परंपरा निर्वहन और क्षेत्र परिभ्रमण के दौरान पुरा सहयोग देते हैं। इस बावत पूछे जाने पर उमाशंकर उर्फ तुफानी सिंह ने बताया कि उनका परिवार पिछले कई पीढ़ियों से यह परंपरा निभा रही है।

कोडरमा : केरल में लापता हुए परिजन को खोजने की लगायी गुहार

उन्होंने कहा कि उनके पुर्वजों ने अपनी किसी मन्नत के पूरा होने के बाद इसकी शुरूआत की थी जो आज जारी है। हालाकि इस परिवार द्वारा बीती रात तक इसकी सारी तैयारी पूरी कर ली गई थी मगर उमाशंकर के बड़े भाई निर्मल सिंह का आज सुवह निधन हो जाने के कारण इस वर्ष इस परिवार द्वारा आज ताजिया नही निकाला गया।

गांधी स्कूल रोड निवासी गजाधर भारती ने बताया कि उनके दादा स्व. गुरूचरण राम (उत्पाद विभाग में जमादार थे) ने श्रद्धा से 1924 में इस मौके पर निशान (सरकारी झंडा) निकाला था जिस परंपरा का उनके पिता स्व. रामेश्वर राम और अब वे और उनका परिवार निर्वहन कर रहे हैं।

भादेडीह निवासी जयप्रकाश वर्मा ने बताया कि उनके दादा स्व. बुधन सोनार ने ताजिया निकालाना शुरू किया था। फिर उनके पिता स्व. सुखदेव प्रसाद और अब वे इस परंपरा को निभा रहे है। इन दोनों परिवारों के द्वारा आज ताजिया और झंडा निकाला गया।

इसी परिवार के द्वारा यहाँ के इमामबाड़े के लिए भूमि उपलब्ध करा इसकी स्थापना की थी। जहाँ सभी लोग जुटते हैं। उन्होंने बताया कि मुहर्रम के दिन उनके घर चुल्हा नही जलता वे मातम मनाते है। और तीजा के दिन ही सारी औपचारिकताए पूरी की जाती है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

बोकारो : कंपनीकर्मी के साथ दबंगो ने नंगाकर किया मारपीट

more-story-image

जामताड़ा : ग्रामीण चिकित्सक सेवा संघ की बैठक संपन्न