जमशेदपुर : जलेबी बनाते-बनाते भाटिया ने बना डाली लखटकिया जीप

Santosh Kumar | 12 May, 2018 4:53 PM

जमशेदपुर : जलेबी बनाते-बनाते भाटिया ने बना डाली लखटकिया जीप

एक लाख से कम कीमत में बनाई जीप

जमशेदपुर। इस देश में हुनरमंद लोगों की कमी नहीं है। कुछ खास करने की चाहत लोगों का अगर जुनून बन जाये तो उसका परिणाम भी लीक से हटकर होता है। किसी ने खूब कहा है कि ‘मेहनत इतनी खामोशी से करो कि सफलता शोर मचा दे’। ऐसे ही हैं जमशेदपुर के जलेबी बनाने वाले सतवीर सिंह भाटिया, जिनकी बनायी लखटकिया जीप आज सफलता की शोर मचा रही है।

दरअसल सतवीर सिंह भाटिया ने एक ऐसे जीप का निर्माण किया है, जो महज दो सीटों वाली है और बिल्कुल ही प्रदूषण मुक्त जीप है। रतन टाटा के लखटकिया नैनो से प्रभावित होकर सतवीर सिंह भाटिया ने एक लाख से भी कम कीमत की जीप बना डाली, वह भी जुगाड़ तकनीक का प्रयोग करके।

वहीं जीप पर भाटिया काफी शान से जमशेदपुर की सड़कों पर नजर आते हैं। वैसे पेशे से जलेबी विक्रेता हैं। सतवीर सिंह भाटिया ने इस जीप का नाम रखा है ‘जेजे’  यानि जलेबी वालों की जीप।

जमशेदपुर : जलेबी बनाते-बनाते भाटिया ने बना डाली लखटकिया जीप

साकची में है जलेबी की दुकान

जमशेदपुर के साकची में जलेबी लाईन काफी मशहूर है। इसी जलेबी लाईन में सतबीर सिंह भाटिया की एक दुकान काफी दिनों से है। वहीं भाटिया को नये-नये आविष्कार करने का काफी शौक रहा है।

उल्‍टी घड़ी बनाकर खूब सुर्खियां बटोरा

इससे पूर्व इन्होंने उल्टी घड़ी बनाकर शहर में खूब सुर्खियां बटोरा है। वहीं इस बार जुगाड़ तकनीक से इन्होंने रतन टाटा के नैनो तकनीक से प्रभावित होकर एक जीप बना डाली। जीप में इतनी जगह है कि इसमें चार व्यक्ति आराम से बैठ सकते हैं।

जमशेदपुर : जलेबी बनाते-बनाते भाटिया ने बना डाली लखटकिया जीप

तीन घंटों की चार्जिंग में करें 80 किमी का सफर

इस जीप की खासियत यह है कि मजह तीन घंटों के चार्जिंग के बाद यह लगभग 80 किमी का सफर आसानी से तय कर सकते हैं। प्रदूषण मुक्त यह जीप आपके बगल से गुजर जाए तो पता ही नहीं चलेगा की कुछ पार भी किया है। धुंआ का सवाल ही नहीं उठता।

जमशेदपुर : जलेबी बनाते-बनाते भाटिया ने बना डाली लखटकिया जीप

बाजार में लायी नई क्रांति

भाटिया की तकनीक का यदि वाहन कंपनियां प्रयोग करें तो छोटे वाहन बाजार में नई क्रांति आ सकती है। इस जीप को बनाने में भाटिया को महज 90 से 95 हजार रुपए का  खर्च आया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रोजा तोड़कर जावेद ने कुछ यूं बचाई पुनीत की जिंदगी, पेश की कौमी एकता की मिसाल

NewsCode | 23 May, 2018 4:28 PM

रोजा तोड़कर जावेद ने कुछ यूं बचाई पुनीत की जिंदगी, पेश की कौमी एकता की मिसाल

गोपालगंज। मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। इस बात को सही साबित करते हुए बिहार के गोपालगंज निवासी जावेद आलम ने नेकी के रास्ते को मजहब से बड़ा मान इंसानियत की ऐसी मिसाल पेश की जिसकी हर जगह सराहना हो रही है। उन्होंने गंभीर बीमारी थैलेसीमिया से पीडि़त एक बच्‍चे की जान बचाने को रोजा तोड़कर रक्तदान किया।

जिले के कुचायकोट प्रखंड के टोला सिपाया के रहने वाले भूपेंद्र कुमार का आठ वर्षीय पुत्र थेलेसिमिया से ग्रसित है और बच्चे को प्रत्येक महीने तो से तीन यूनिट ब्लड की जरूरत पड़ती है। मंगलवार को पुनीत का हीमोग्लोबिन अचानक कम हो जाने के कारण ए+ रक्त की जरूरत पड़ी तो पिता भूपेंद्र कुमार सदर अस्पताल पहुँच कर ब्ल़ड के लिए सिविल सर्जन व ब्लड बैंक का चक्कर लगाने लगे क्योंकि इनके परिवार में उक्त रक्त ग्रुप का कोई भी सदस्य नहीं था।

ऐसे में जब अस्पताल प्रशासन की तरफ से पुनीत को ब्लड उपलब्ध नहीं हुआ तो उन्होंने रक्तदान करने वाली युवाओं की डीबीडीटी के सदस्य अनवर हुसैन को इसकी जानकारी दी। इसके बाद उन्होंने दोस्त जावेद आलम को फोन कर रक्तदान के लिए सदर अस्पताल बुलाया।

जावेद इस समय रोजे कर रहे हैं। इंसानियत को मजहब से बड़ा फर्ज मान वह तुरंत रक्तदान के लिए अस्पताल पहुंच गए। खाली पेट रक्त लेने से डाक्टर ने मना किया तो जावेद जिद पर अड़ गए। डाक्टर ने उन्हें पहले कुछ खाने की सलाह दी। इसपर खुदा का ध्यान कर जावेद ने जूस आदि पीया और फिर रक्तदान कर थैलेसीमिया पीड़ित बच्चे की जान बचाई।

कुमारस्वामी का शपथग्रहण समारोह : सोनिया-राहुल समेत विपक्ष के नेताओं का बेंगलुरू में लगा जमावड़ा

पवित्र माह ए रमजान में जावेद को इस नेक काम पर खुदा का साथ मिला तो बच्‍चे की हालत में सुधार हो रहा है। रक्त देने के बाद बातचीत में जावेद आलम ने कहा कि रोजे से ज्यादा बच्‍चे की जान बचाना जरूरी था। हर धर्म में इंसानियत का दर्जा सबसे बड़ा है।

शॉपिंग करने के बाद पत्नी के साथ रेस्त्रां पहुंचे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, देखकर हैरान रह गए लोग

Read Also

सिल्ली : जनता से सीधा संवाद कर चुनावी प्रचार में लगे सुदेश महतो

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 4:27 PM

सिल्ली : जनता से सीधा संवाद कर चुनावी प्रचार में लगे सुदेश महतो

रांची। सिल्ली विधानसभा के उपचुनाव को लेकर आजसू पार्टी के प्रत्याशी सुदेश कुमार महतो जनता के बीच सीधे जाकर बातचीत कर रहे हैं। चुनाव के माहौल में सुदेश महतो ने की न्यूज़कोड से खास बातचीत…

सिल्‍ली : सभी बुनियादी सुविधायें जल्द बहाल होंगे – सुदेश महतो

सिमडेगा : राज्य के 247 जनजाति गांवों में सोलर लाइट से पहुंची बिजली- रघुवर दास

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 4:09 PM

सिमडेगा : राज्य के 247 जनजाति गांवों में सोलर लाइट से पहुंची बिजली- रघुवर दास

सिमडेगा। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि राज्य के 247 जनजाति गांव में सोलर लाइट के माध्यम से बिजली पहुंचाई गई है। मुख्यमंत्री आज सिमडेगा के विद्युत ग्रिड का उद्घाटन करने आए थे। सीएम ने विधिवत पूजा अर्चना कर व फीता काटकर 132 केवीए विद्युत ग्रिड का उद्घाटन किया।

इस अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा की राज्य में 15 लाख लोग बिजली का बिल नहीं देते हैं। सभी ईमानदारीपूर्वक बिजली का कनेक्शन ले और बिजली बिल का भुगतान करें।

श्री दास ने कहा की 2018 तक झारखंड के सभी गांव के घर घर में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है। उज्ज्वला योजना के माध्यम से केंद्र सरकार द्वारा गैस एवं राज्य सरकार द्वारा मुफ्त में चूल्हा का वितरण किया जा रहा है। हमारी सरकार ने महिलाओं पर विशेष ध्यान दिया है। महिला विकास के लिए सरकार विशेष तौर पर काम कर रही है।

रांची : कोल इंडिया बोर्ड के अधिकारियों की वेतन पुनरीक्षण प्रस्‍ताव को मिली मंजूरी

झारखंड एक समृद्ध राज्य है और समृद्ध राज के गोद में पल रही गरीबी को अब समाप्‍त करना है। अब गांव-गांव में बिजली जाएगी। शहर की तरह गांव भी रोशन होगा। गांव में बिजली होगी तो शिक्षा का स्तर बढ़ेगा, छोटे-छोटे कल-कारखाने लगेंगे। इससे गांव में रोजगार का सृजन होगा। गांव में लोगों को रोजगार मिलेगा तो पलायन पर भी अंकुश लगेगा।

 

श्री दास ने कहा कि पहले केंद्र और राज्य से पैसा गांव में जाता था किंतु बीच में ही पैसों का बंदरबांट हो जाता था। अब ऐसा नहीं होगा। सरकार सीधे ग्राम विकास समिति के खाते में पैसा डालेगी

मुख्यमंत्री ने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि 80% राशि सरकार द्वारा गांव के विकास के लिए दी जाएगी 20% राशि के बदले गांव के लोग श्रमदान करेंगे। इससे गांव का चहुमुखी विकास होगा। कार्यक्रम में विधायक विमला प्रधान सहित काफी संख्‍या में स्‍थानिय लोग उपस्थित थे।

X

अपना जिला चुने