IPL 11 : बेकार हुई धोनी की धुआंधार पारी, चेन्नई सुपरकिंग्स चार रन से हारी

NewsCode | 16 April, 2018 9:10 AM

किंग्स इलेवन पंजाब के लिए पहली बार खेलते हुए क्रिस गेल ने जमाई ताबड़तोड़ फिफ्टी

newscode-image

मोहाली। अपने कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (79) की शानदार पारी के बावजूद चेन्नई सुपर किंग्स इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में रविवार को खेले गए अपने तीसरे मैच में चार रनों से हार गई। किंग्स इलेवन पंजाब ने चेन्नई को अपने घर में इस संस्करण में हार का पहला स्वाद चखाया। चेन्नई ने अब तक अपने दोनों मैच जीते थे, लेकिन तीसरे मैच में उसे हार मिली है।

टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी पंजाब ने सात विकेट खोकर निर्धारित 20 ओवरों में 197 रन बनाए, जिसे चेन्नई हासिल नहीं कर पाई और 193 रन ही बना सकी।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नई सुपर किंग्स के सलामी बल्लेबाज शेन वॉटसन (11) और मुरली विजय (12) टीम को अच्छी शुरूआत नहीं दे पाए।

चेन्नई का पहला विकेट 17 के ही कुल स्कोर पर गिरा। वॉटसन को मोहित शर्मा ने बरिंदर सरन के हाथों कैच आउट कर पवेलियन भेजा।

इसके बाद एंड्रयू टाए ने विजय को पिच पर टिकने का मौका नहीं दिया। वह भी बरिंदर के हाथों लपके गए।

विजय के पवेलियन लौटने के बाद टीम की पारी संभालने उतरे सैम बिलिंग्स (9) और अंबाती रायडू (49) ने तीसरे विकेट के लिए 17 ही रन जोड़े थे कि यहां पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन ने बिलिंग्स को पगबाधा आउट कर चेन्नई को तीसरा झटका दिया।

आईपीएल के इस संस्करण में अब तक खेले गए अपने दोनों मैच जीतने वाली चेन्नई पर पहली हार का साया मंडरा रहा था। यहां कप्तान धौनी ने अंबाती के साथ 57 रनों की शानदार अर्धशतकीय साझेदारी कर टीम को 100 के आंकड़े के पार पहुंचाया। दोनो ने अच्छी लय हासिल कर ली थी, लेकिन यहां अश्विन एक बार फिर चेन्नई की परेशानी बनकर खड़े हो गए।

अश्विन ने 113 के कुलयोग पर अंबाती को रन आउट कर पवेलियन भेज दिया। वह अपना अर्धशतक पूरा करने से केवल एक रन दूर रह गए। उन्होंने 35 गेंदों पर पांच चौके और एक छक्का लगाया।

एक बार फिर चेन्नई पर दबाव बन गया। उसे जीत के लिए अब भी 85 रनों की जरूरत थी और टीम के पास केवल 36 गेंदें बाकी थी।

अंबाती के पवेलियन लौटने के बाद रवींद्र जड़ेजा (19) धौनी के साथ पिच पर टीम की पारी को आगे बढ़ाने उतरे। जड़ेजा अपने बल्ले से रन नहीं निकाल पा रहे थे और ऐसे में चेन्नई हार का मुहाने पर आ खड़ी थी। उसके पास 24 गेंदें बाकी थी और उसे अब भी जीत के लिए 67 रनों की जरुरत थी। ऐसे में दोनों बल्लेबाजों को एक चौके और छक्के लगाने जरूरी थे।

चेन्नई को यहां एंड्रयू ने एक और झटका दिया। उन्होंने जड़ेजा को अश्विन के हाथों कैच आउट कर पांचवां विकेट गिराया।

यहां से चेन्नई के लिए टीम में वापसी नामुमकिन थी और इस कारण उसे चार रनों से हार का सामन करना पड़ा। चेन्नई की टीम 193 रन ही बना पाई।

IPL 11 CSK vs KXIP : Dhoni's inning goes in vain as KXIP defeats CSK by 4 runs | NewsCode - Hindi News

इससे पहले, विस्फोटक बल्लेबाज क्रिस गेल (63) के बेहतरीन अर्धशतक और लोकेश राहुल (37) तथा मयंक अग्रवाल (30) की उपयोगी पारियों की मदद से किंग्स इलेवन पंजाब ने चेन्नई सुपर किंग्स के खिलाफ सात विकेट पर 197 रन का मजबूत स्कोर बनाया था।

इस पारी में चेन्नई की तरफ से ताहिर ने 34 रन पर दो विकेट, ठाकुर ने 33 रन पर दो विकेट, हरभजन सिंह ने 41 रन पर एक विकेट, शेन वाटसन ने 15 रन पर एक विकेट और ब्रावो ने 37 रन पर एक विकेट हासिल किया।

आईपीएल-11: संजू सैमसन की धमाकेदार पारी विराट सेना पर पड़ी भारी, राजस्थान की दूसरी जीत

(इनपुट : आईएएनएस)

रांची : 64 वें नेशनल स्कूल हॉकी टूर्नामेंट का आयोजन, अमर कुमार बाउरी ने किया शुभारम्भ

NewsCode Jharkhand | 29 November, 2018 7:48 PM
newscode-image

रांची। राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान स्थित एस्ट्रो टर्फ स्टेडियम में 29 नवंबर से 3 दिसंबर तक 64 वें नेशनल स्कूल हॉकी टूर्नामेंट 2018-19 का आयोजन हो रहा है। जिसका उद्घाटन खेल मंत्री अमर कुमार बाउरी ने किया।

इस मौके पर उन्होंने खिलाड़ियों के मार्चपास्ट को सलामी दी। वही युवा खिलाड़ियों को प्रोत्साहित करते हुए हुए उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि इस तरह के राष्ट्रीय स्तर के मैच खिलाड़ियों के अंदर आत्मविश्वास को बढ़ाता है।

उन्होंने कहा कि झारखंड के जीन में ही हॉकी है। यहां के गांव गांव में यह खेल खेला जाता है। झारखंड की धरती से कई महान खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा से अंतरराष्ट्रीय स्तर पर खरखण्ड और देश का नाम रोशन किया है।

उन्होंने के कहा कि सभी टीम जीत के लिए मैदान पर उतरती है। लेकिन जीतता वही है जो पूरे लगन के साथ विरोधी खिलाड़ियों को पराजित करता है। खेल में हार जीत लगी रहती है लेकिन हर खिलाड़ी हर मैच के बाद कुछ न कुछ सीख कर जाता है। खेलमंत्री ने सभी खिलाड़ियों को झारखंड के जनता के तरफ से शुभकामनाएं दी।

हॉकी को लेकर झारखंड में काफी रुझान है। यहां हॉकी के एक से बढ़कर एक धुरंधर खिलाड़ी उभरकर सामने आए हैं। हॉकी का गढ़ हमेशा से झारखंड को माना जाता रहा है। राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में इन दिनों देश भर के हॉकी खिलाड़ियों का जमावड़ा लगा है।

बात दें कि 29 नवंबर से 3 दिसंबर तक 64 वें नेशनल स्कूल हॉकी टूर्नामेंट 2018 -19 का आयोजन किया गया। इसमें देश की 69 टीमें हिस्सा ले रही हैं। बालक वर्ग में 39 टीमों के बीच कड़ी टक्कर देखी जाएगी। वहीं, बालिका वर्ग में 30 टीमें हिस्सा ले रही हैं। आयोजन के पहले दिन 7 मैच संपन्न हुए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने किया कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का शुभारंभ

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:38 PM
newscode-image

रांची। राज्य के जल संसाधन, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री चंद्रप्रकाश चौधरी ने आज मोरहाबादी स्थित पार्क प्लाजा के दूसरे तल्ले में कंफर्ट लाइफ सर्विसेज का फीता काटकर शुभारंभ किया। इस मौके पर उन्होंने आशा जतायी कि यह सर्विसेज आम जनों के लिए उपयोगी सिद्ध होगा।

कंफर्ट लाइव सर्विसेज में फ्लैट खरीद- बिक्री, स्वास्थ्य बीमा, अवधि बीमा, म्युचुअल फंड, एसआईपी एवं वाहनों की बीमा आदि की सुविधा लोगों को प्राप्त हो सकेगी।

शुभारंभ के मौके पर आजसू पार्टी के केंद्रीय महासचिव डॉ. लंबोदर महतो, चंद्रशेखर महतो, संचालक राजेश कुमार, रंजना चौधरी, गीता महतो, कल्पना मुखिया, संतोष  मुखिया, अमित साव एवं अजय श्रीवास्तव सहित कई गणमान्य लोग मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

भोगनाडीह : झामुमो ने संथाल को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 2 December, 2018 7:36 PM
newscode-image

भोगनाडीह  में भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन में शामिल हुए

भोगनाडीह। राज्य को संथाल परगना ने झारखण्ड मुक्ति मोर्चा से तीन तीन मुख्यमंत्री दिये,  लेकिन उन्होंने मुख्यमंत्री बनाया वो गरीब आदिवासी, वंचित दलित की अनदेखी कर अर्थपेटी और मतपेटी भरने का कार्य किया।

साथ ही संथाल परगना को भ्रष्टाचार और बिचौलिया दिया। सबसे ज्यादा आदिवासियों की जमीन लूटने का काम सोरेन परिवार ने किया है। आज सीएनटी-एस पीटी एक्ट के उल्लंघन कर विभिन्न शहरों में आदिवासियों की जमीन ले ली।

जबकि संथाल परगना समेत राज्य भर में यह कह कर गुमराह किया गया कि अगर भारतीय जनता पार्टी की सरकार आएगी तो आदिवासी की जमीन लूट लेगी। क्या 4 साल सरकार द्वारा किसी आदिवासी की जमीन लूटी गई नहीं। उपरोक्त बातें मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कही।

बरहेट का प्रतिनिधित्व करने वाला कभी विधानसभा में सवाल नहीं उठाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि बरहेट का विधानसभा में प्रतिनिधित्व करने वाले ने कभी भी विधानसभा में क्षेत्र की समस्याओं को लेकर प्रश्न नहीं रखा, क्योंकि उसे पता ही नहीं है कि क्षेत्र की समस्या क्या है ऐसे में विकास के कार्य कैसे सम्पन्न होंगे।

लोगों को यह सोचना चाहिए और स्थानीय उम्मीदवार को प्राथमिकता देनी चाहिए। चाहे वोकिसी पार्टी का हो।

कार्यकर्ता पार्टी का प्राण, पार्टी के लिए राष्ट्र पहले

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के प्राण हैं। यह एक ऐसी पार्टी है जहां वंशवाद और परिवार नहीं। एक चाय बेचने वाला प्रधानमंत्री और मजदूर मुख्यमंत्री बन सकता है। मैं भी बूथ स्तर का कार्यकर्ता था।

पार्टी के लिए समर्पण भाव से कार्य करते हुए 1995 में विधायक बना और अब मुख्यमंत्री हूं। आप भी ईमानदारी से कार्य करें। सरकार की योजनाओं को जन जन पहुंचाये। पार्टी के वविभिन्न मोर्चा के लोग इस कार्य में लगे। क्योंकि पार्टी के लिए राष्ट्र पहले है।

इस राष्ट्र को और मजबूत करने के लिए वैश्विक पटल पर अपनी पहचान बना चुके प्रधानमंत्री  के हाथों को मजबूत करें। इस अवसर पर अनंत ओझा,  धर्मपाल सिंह, हेमलाल मुर्मू समेत अन्य मौजूद थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : अखिल झारखंड छात्र संघ ने चुनाव को लेकर...

more-story-image

धनबाद : बीजेपी सरकार बनने के बाद कृषि विकास दर...

X

अपना जिला चुने