मजदूर दिवस : डिजिटल इंडिया में कहाँ ठहरते हैं मजदूर ?

NewsCode | 1 May, 2018 11:37 AM
newscode-image

ई-प्रथा और डिजिटल युग ने श्रमिकों की जरूरत को खत्म कर दिया है। श्रमिकों के हिस्से थोड़ा-बहुत काम आता भी है, तो उसका उन्हें पूरा पारिश्रमिक नहीं मिल पाता। इसलिए ज्यादा मेहनताना मांगना खुद में बेईमानी सा लगता है। इसलिए हिंदुस्तान की तरक्की सिक्के के दो पहलू की तरह हो गई। खुशहाल और बदहाल। दोनों की ताजा तस्वीरें हमारे समक्ष हैं। एक वह जो ऊपरी और काफी चमकीली है। इस लिहाज से देखें तो पहले के मुकाबले देश की शक्ल-व-सूरत काफी बदल चुकी है। अर्थव्यवस्था अपने पूरे शबाब पर है और कहने को तो उच्च मध्यम वर्ग और मध्यम वर्ग सभी खुशहाल हैं, लेकिन तरक्की की दूसरी तस्वीर भारतीय श्रमिकों और किसानों की, जिनकी बदहाली कहानी हमारे सामने है।

जी-तोड़ मेहनत करने के बावजूद श्रमिकों को गुजर-बसर करने लायक पारिश्रमिक तक नहीं मिल पाता। श्रम दिवस के मौके पर श्रमिकों के लिए कई सरकारी आयोजन किए जाते हैं। इनकी बदहाली को दूर करने के लिए नेता-नौकरशाह सभी लंबे-लंबे भाषण देते हैं, साथ ही तमाम कागजी योजनाओं का श्रीगणेश भी करते हैं, लेकिन महीने की दूसरी तारीख यानी दो मई के बाद में सब भुला दिए जाते हैं।

मजदूर दिवस का महत्व नहीं जानते मजदूर, कंपनी करती है शोषण

हुकूमतें जानती हैं कि मजदूर अपने अधिकारों से देश के आजाद होने के बाद से ही वंचित है। देखिए, कामगार तबका दशकों से पूरी तरह से हाशिए पर है। अगर कुछ बड़े मेट्रो शहरों की बात न करके छोटे कस्बों एवं गांव-देहातों की बात करें तो वहां पर अपना जीवन व्यतीत कर रहे मजदूर एवं किसान महज सौ-डेढ़ सौ रुपये ही प्रतिदिन कमा पाते हैं, वह भी दस घंटों की हाड़तोड़ मेहनत मशक्कत के बाद।

उस पर तुर्रा यह कि इस बात कि कोई गारंटी नहीं दी जा सकती कि उन्हें रोज ही काम मिल जाए। इतने पैसे में वह अपने परिवार के लिए दो जून की रोटी भी बमुश्किल से ही जुटा पाता है। भारत की यह तस्वीर यहां के बाशिंदे तो देख रहे हैं, लेकिन विदेशों में सिर्फ हमारी चमकीली अर्थव्यवस्था का ही डंका है।

मजदूर दिवस : हम तो रोज कमाने-खाने वाले, काम नहीं मिलने पर रोटी पर आफत

मजदूरों की हालत बहुत ही दयनीय है, सियासी लोगों के लिए वह सिर्फ और सिर्फ चुनाव के समय काम आने वाला एक मतदाता है। पांच साल बाद उनका अंगूठा या ईवीएम मशीन पर बटन दबाने का काम आने वाला वस्तु मात्र है।

पिछली कांग्रेस सरकार ने श्रमिकों के लिए एक योजना बनाई थी, जिसमें मजदूरों के हित में कई कल्याणकारी योजनाएं शुरू करने का मसौदा तैयार किया था। मसलन, दैनिक मजदूरी, स्वास्थ्य, बीमा, बेघरों को घर देना। यह बात फरवरी सन् 2010 की है। लेकिन योजना हर बार की तरह कागजी साबित हुई।

सबसे बड़ी बात यह कि श्रमिकों के हितों के लिए ईमानदारी से लड़ने वाला कोई नहीं है। पूर्व में जिन लोगों ने मजदूरों के नाम पर प्रतिनिधित्व करने का दम भरा जब उनका उल्लू सीधा हो गया। वह भी सियासत का हिस्सा हो गए। उन्होंने भी मजदूरों के सपनों को बीच राह में भटकने के लिए छोड़ दिया। लेकिन केंद्र की मौजूदा मोदी सरकार श्रमिकों के लिए संजीदा से काम करती दिख रही है। मजदूरों के उद्धार के लिए बनाए गए लक्ष्य को हासिल करने में किसी तरह की कोताही नहीं होने देंगे की बात कही जा रही है।

श्रमिकों की बदहाली से भारत ही आहत नहीं है, बल्कि दूसरे मुल्क भी परेशान हैं। भूख से होने वाली मौतों की समस्या पूरे संसार के लिए बदनामी जैसी है। झारखंड में एक बच्ची बिना भोजन के दम तोड़ देती है।

मजदूर दिवस विशेष : 151 साल पहले मजदूरों को 14 घंटे करना पड़ता था काम

सवाल उठता है कि जब जनमानस को हम भर पेट खाना तक मुहैया नहीं करा सकते, तो किस बात की हम तरक्की कर रहे हैं। भारत में ही नहीं, दुनिया के कई देशों में यह समस्या काफी विकराल रूप में देखी जा रही है।

आकंड़ों के मुताबिक, सिर्फ हिंदुस्तान में रोज 38 करोड़ लोग भूखे पेट सोते हैं। ओड़िशा एवं पश्चिम बंगाल में तो भूख के मारे किसान एवं मजदूर दम तोड़ रहे हैं। यह सिलसिला बदस्तूर जारी है। तमाम तरह के प्रयासों के बावजूद आजतक इस दिशा में कोई ठोस नतीजा सामने नहीं आ सका है। इसके अलावा बिहार, झारखंड, तमिलनाडु एवं अन्य छोटे प्रांतों के कुछ छोटे-बड़े क्षेत्र इस समस्या से प्रभावित होते रहे हैं।

यह वह इलाका है, जहां समाज के पिछड़ेपन के शिकार लोगों का भूख से मौत का मुख्य कारण गरीबी है। इसके विपरीत देश के कई प्रांतों में लोग भूख के बजाय कर्ज और उसकी अदायगी के भय से आत्महत्या कर रहे हैं। यहां गौर करने वाली बात यह है कि गरीबी के कारण भूख से मरने वाले आमतौर पर गरीब किसान और आदिवासी हैं।

श्रमिकों की दशा सुधरे, इसके लिए हमारे पास संसाधनों की कमी नहीं है, मगर इसका कुप्रबंधन ही समस्या का बुनियादी कारण है। इसी कुप्रबंधन का नतीजा है कि ग्रामीण श्रमिक लगातार शहरों की ओर भागने को विवश हो रही है। गांवों से शहरों की ओर पलायन कर रही आबादी पर अगर नजर डालें तो यह स्पष्ट होता है कि इनमें गरीब नौजवानों से लेकर संपन्न किसान और पढ़े-लिखे प्रोफेशनल्स तक शामिल हैं।

कतार में खड़े अंतिम आदमी की बात तो हर नेता करता है, लेकिन उसकी बात केवल भाषण तक ही सीमित रह जाती है। उस अंतिम आदमी तक संसाधन पहुंचाने के दावे तो खूब किए जाते हैं, लेकिन पहुंचाने की ताकत किसी में नहीं है। शायद यही कारण है कि गांवों में स्कूल तो हैं लेकिन तालीम नदारद है, अस्पताल तो हैं लेकिन डॉक्टर व दवाइयां नहीं हैं। दूरवर्ती गांवों तक पहुंचने को सड़कें हैं, लेकिन वाहन नहीं। प्रशासन है लेकिन अराजक तत्वों का उस पर इतना दबदबा है कि प्रशासन उनके आगे लुंजपुंज हो जाता है।

(लेखक रमेश ठाकुर स्वतंत्र पत्रकार हैं, ये उनके निजी विचार हैं)

आईएएनएस

रांची : चर्च में करम डाली गाड़ने पर चर्च को घोषित किया जाएगा अखड़ा – बबलू मुंडा

Manish Jha | 18 September, 2018 9:45 PM
newscode-image

रांचीकरमा पूजा महोत्सव धूमधाम व शांतिपूर्ण तरीके से मनाने को लेकर सरना समिति द्वारा बैठक का आयोजन किया गया। इस मौके पर फूलचंद तिर्की ने कहा है करमा पूजा पूरे धूमधाम हर्षोल्लास व शांतिपूर्ण तरीके से सब आपसी भाईचारे के साथ मनाया जाएगा।

केंद्रीय सरना समिति ओर  से कर्म पूजा महोत्सव का शांतिपूर्ण वातावरण में मनाने के लिए प्रशासन से मांग की गई है। प्रत्येक गांव टोला के अखाड़ा की साफ सफाई तथा स्टोन डस्ट बिछाकर स्वच्छ किया जाए। अखाड़ा एवं अखरा की ओर जाने वाले रास्ते की   व्यवस्था को चुस्त दुरुस्त किया जाए। राजधानी में पूजा की रात को बड़ी गाड़ी का प्रवेश निषेध रखा जाए।

रांची : 23 सितंबर को प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत स्वास्थ्य बीमा योजना का करेंगे शुभारम्भ- जेपी नड्डा

महिला एवं पुरुष पुलिस पेट्रोलिंग व्यवस्था सुनिश्चित करें। प्रमुख अखाड़ों में एक-एक पानी की टेंकर व्यवस्था हो। कर्मा पूजा के दिन  शराबबंदी घोषित किया जाए। प्रमुख अखाड़ों में आवश्यकतानुसार सुरक्षा बल मजिस्ट्रेट नियुक्त किया जाए।

सरना समिति के कार्यकारी अध्यक्ष बबलू मुंडा ने चेतावनी देते हुए कहा ईसाई मशीनरी गिरजाघरों में करम गाड़कर  कर्म देव का अपमान ना करें यदि ऐसा किया गया मौजा के पाहन गिरजाघरों में रंगूना मुर्गे का बलि देकर करम देव का शुद्धिकरण किया जाएगा। ऐसी गिरजाघरों को अखाड़ा या घूम कुरिया घोषित किया जाएगा।

मुख्य पहन जगन लाल पहन ने कहा  गांव मौजा का अखाड़ा में पहानों द्वारा पूरे विधि विधान से किया जाए। कर्म डाली काटने के समय पूरे विधि विधान के साथ काटे।  पूजा से पहले जावा फूल का प्रयोग ना करें। गांव या मौजा में लोग पहले कर्म डाल  काटे उसके बाद ही अगल-बगल के शाखा काटे।

पारंपरिक ढोल नगारा मांदर से  नृत्य संगीत  करें।  आधुनिक गीतों का प्रयोग ना करें। इस बैठक में महासचिव संजय तिर्की सचिव डब्लू मुंडा महिला अध्यक्ष शोभा कश्यप,  महानगर अध्यक्ष,  गौतम मुंडा संजय तिर्की ,अमर मुंडा  उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

लातेहार : उपस्तिथि दर्शाने को लेकर नक्सलियों ने चिपकाये पोस्टर

Deepak Kumar Bharti | 18 September, 2018 10:02 PM
newscode-image

लातेहारनक्सली समाज में अपनी उपस्तिथि दर्ज कराने को लेकर हर संभव प्रयास कर रहे हैं। बीती रात लातेहार जिले के कई स्थानों पर नक्सलियों ने इसे लेकर पोस्टरबाजी की। 21 से 28 सितंबर तक लोगों को संगठन का  वर्षगांठ मनाने को कहा गया है।

सदर थाना क्षेत्र के बेंदी गांव, गारू थाना क्षेत्र के कई ग्रामीण इलाकों में  पोस्टर साटा गया है। ग्रामीणों से मिली जानकारी के बाद सुरक्षा बल के जवानों ने नक्सली पोस्टर को जब्त कर लिया है।पोस्टरबाजी के बाद सभी संदिग्ध गांव में पुलिस की चौकसी बढ़ा दी गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

टुण्डी : नक्‍सलियों की नकेल कसने के लिए हेलीपैड का उद्घाटन

Amit Kumar Gupta | 18 September, 2018 9:55 PM
newscode-image

टुण्‍डी (धनबाद)। नक्‍सलियों की नकेल कसने के लिए मनियाडीह स्थित सीआरपीएफ कैम्प में नव निर्मित हेलीपैड का उद्घाटन मंगलवार को किया गया। इस अवसर पर सीआरपीएफ के वरिष्‍ठ अधिकारी, पुलिस इंस्पेक्टर किशोर तिर्की, टुंडी के थाना प्रभारी के साहू उपस्थित थे।

उद्घाटन के मौके पर सीआरपीएफ कैंप में एम्बुलेंस, वज्र वाहन के अलावा सुरक्षा के अन्‍य उपकरण तैयार रखे गए थे। आसमान में कई चक्कर लगाने के बाद हैलीकेप्‍टर ने हेलीपैड पर लैंड किया।

धनबाद : राष्ट्रीय लोक अदालत में दो हजार से ज्‍यादा मामले का निष्पादन

सीआरपीएफ के अधिकारियों ने बताया कि उद्घाटन के मौके पर इस नए हेलीपैड में हैलीकेप्‍टर को लैंड कराने का अभ्यास किया गया।

बताते चलें कि नक्सलियों पर नकेल कसने के लिए मनियाडीह में सीआरपीएफ कैंप बनाया गया है। टुंडी, तोपचांची एवं पीरटांड़ इलाके के जंगलों में निगरानी रखने के लिए हैलीकॉप्टर का उपयोग किया जाना है। इसी वजह से हैलीपैड का निर्माण किया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : भारतीय जनता पार्टी की जिला कार्यसमिति की बैठक...

more-story-image

बड़कागांव : ति‍हरे हत्याकांड के विरोध में कैंडल मार्च, हत्यारों...