रेलवे ने निकाली 9,739 पदों पर भर्तियां, ऐसे करें अप्लाई

NewsCode | 4 June, 2018 8:08 PM
newscode-image

नई दिल्ली। भारतीय रेलवे ने रेलवे प्रटेक्शन फोर्स(RPF) और रेलवे प्रोटेक्शन स्पेशल फोर्स के तहत कांस्टेबल और सब इंस्पेक्टर की भर्ती प्रक्रिया शुरू की है। इच्छुक और योग्य उम्मीदवार 30 जून से पहले इन पदों के लिए आवेदन कर सकते हैं। इनमें से 50 फीसदी भर्तियां महिला उम्मीदवारों के लिए आरक्षित किया गया है। कांस्टेबल और सब इंस्पेक्टर के कुल 9,739 पदों पर भर्तियां होनी हैं।

भर्ती से जुड़ी जानकारियां

कुल पदों की संख्या- 9,739

पुरुष उम्मीदवारों के लिए कांस्टेबल के पदों की संख्या- 4,408
महिला उम्मीदवारों के लिए कांस्टेबल के पदों की कुल संख्या- 4,216
पुरुष उम्मीदवारों के लिए सब इंस्पेक्टर के पदों की कुल संख्या- 819
महिला उम्मीदवारों के लिए सब इंस्पेक्टर के पदों की कुल संख्या- 301

शैक्षणिक योग्यता

कांस्टेबल- किसी मान्यता प्राप्त संस्थान से SSLC या मैट्रिक पास

सब-इंस्पेक्टर- किसी मान्यता प्राप्त यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन पास

चयन प्रक्रिया

चयन प्रक्रिया तीन चरणों में बांटी गई है।
पहला चरण- फिजिकल एफिसिएंसी टेस्ट
दूसरा चरण- लिखित परीक्षा
तीसरा चरण- वाइवा और डॉक्यूमेंट वेरिफिकेशन

वेतन

सफल उम्मीदवारों को 5200-20200 रुपए हर महीने दिए जाएंगे। इसके अलावा 2000 रुपए ग्रेड पे भी दिए जाएंगे।

उम्र सीमा

इन पदों पर आवेदन करने के लिए उम्मीदवार की उम्र 18 साल से 25 साल के बीच होनी चाहिए। इसके अलावा भर्ती में कुछ वर्गों को छूट देने का भी प्रावधान रखा गया है।

ऐसे करें अप्लाई

1) सबसे पहले ऑफिशियल वेबसाइट rpfonlinereg.org पर जाएं।

2) Employment Notice No. SI/RPF – 02/2018 या Employment Notice No. CONSTABLE/RPF – 01/2018 के लिंक पर क्लिक करें।

3) New Registration पर क्लिक करके रजिस्टेशन करें और अपने प्रोफाइल पर लॉग-इन करें।

4) एप्लाकेशन फॉर्म भरें, एग्जाम फीस पे करें और इसके साथ एप्लीकेशन फॉर्म का प्रिंट आउट भी ले लें।

कांग्रेस का सवाल, अमित शाह से जुड़े बैंक में कैसे हुई सबसे ज्यादा नोटबदली, बचाव में उतरा नाबार्ड

NewsCode | 22 June, 2018 5:45 PM
newscode-image

नई दिल्ली। नोटबंदी को लेकर एक बार फिर राजनीति गरमा गई है। कांग्रेस के संचार प्रभारी रणदीप सिंह सुरजेवाला ने प्रेस कांफ्रेंस कर एक आरटीआई के हवाला से आरोप लगाया है कि देश के 370 जिला सहकारी बैंकों में से नोटबंदी के बाद सबसे ज्यादा पैसा उस बैंक में जमा हुआ, जिसमें निदेशक भाजपा अध्यक्ष अमित शाह हैं।

कांग्रेस द्वारा अमित शाह के ऊपर लगाये गए आरोप पर नाबार्ड ने कहा है कि नोटबंदी के दौरान पुराने नोट जमा करने के लिए आरबीआई के नियमों का पालन किया गया है। नाबार्ड ने कहा कि इस दौरान गुजरात के मुकाबले महाराष्ट्र के सहकारी बैंकों में सबसे ज्यादा 500 और 1000 के पुराने नोट जमा हुए।

नाबार्ड ने कहा कि नोटबंदी के दौरान अहमदाबाद के जिला सहकारी बैंक के ज्यादातर ग्राहकों ने बंद नोट बैंक में जमा किए। वित्तीय फर्म के मुताब‍िक बैंक में कुल 17 लाख खाते हैं। इस दौरान सिर्फ 1.60 लाख ग्राहकों ने पुराने नोट जमा किए या बदले। यह आंकड़ा कुल जमा खातों का 9.7 फीसदी है।

नाबार्ड ने दावा किया कि नोटबंदी के दौरान 500 और 1000 रुपये के पुराने नोट गुजरात के मुकाबले महाराष्ट्र के सहकारी बैंकों में ज्यादा जमा हुए और बदले गए। नाबार्ड के मुताबिक अहमदाबाद का सहकारी बैंक 9000 करोड़ रुपये के कारोबार के साथ देश के टॉप 10 जिला सहकारी बैंकों में से एक है।

बता दें कि वित्तीय संस्था नाबार्ड की सफाई तब आई है जब विपक्षी दल कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ‘आरटीआई आवेदनों से मिले जवाब के कागजात’ पेश करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को जवाब देना चाहिए कि नोटबंदी के समय भाजपा और आरएसएस ने कितनी संपत्तियां खरीदीं और उनकी कुल क्या कीमत है? सुरजेवाला ने संवाददाताओं से कहा था, “नोटबंदी आजाद भारत का सबसे बड़ा घोटाला है। इसकी विस्तृत और निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।’

नोटबंदी के बाद सिर्फ 5 दिनों में जमा हुए 745 करोड़ के पुराने नोट, अमित शाह थे बैंक निदेशक

आरटीआई से प्राप्त सूचनाओं के आधार पर कांग्रेस ने नोटबंदी के दौरान सहकारी बैंकों के जरिए कालेधन की मनी लॉन्ड्रिंग का अरोप लगाया था। उन्होंने कहा कि एनडीए शासित राज्यों के सहकारी बैंकों में नोटबंदी के बाद 14293 करोड़ रुपये जमा हुए हैं। क्या इसकी जांच होगी?

बिहार में सीट बंटवारे पर जेडीयू की बीजेपी को दो टूक, 2014 से अलग 2019 के हालात

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

व्हाट्सएप एंड्रॉयड यूजर्स के लिए खुशखबरी, जल्द ही भेज पाएंगे स्टीकर्स

NewsCode | 22 June, 2018 6:51 PM
newscode-image

नई दिल्ली। सोशल नेटवर्किंग साइट Facebook ने एफ8 में ऐलान किया था कि व्हाट्सएप यूज़र को ग्रुप कॉलिंग के अलावा स्टीकर्स भेजने की सुविधा मिलेगी। अब, WhatsApp एंड्रॉयड ऐप के बीटा वर्ज़न 2.18.189 पर नए स्टीकर्स रिएक्शन फीचर की झलक मिली है। फिलहाल, स्टीकर संबंधित इस फीचर की टेस्टिंग चल रही है।

WABetaInfo की रिपोर्ट के मुताबिक, WhatsApp के एंड्रॉयड ऐप के 2.18.120 वर्ज़न पर यह टेस्टिंग शुरू हुई है। डेवलपमेंट के कारण यह फीचर डिफॉल्ट में डिसेबल है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इसे अगले रिलीज में जारी किया जाएगा। यह जब भी आए, स्टीकर बटन को Gif बटन के बगल में जगह मिलेगी। यहीं से यूज़र को भविष्य में स्टीकर्स भेजने की सुविधा मिलेगी। ये स्टीकर्स पैक में आएंगे, जैसा कि हमें मैसेंजर में देखने को मिला है।

इसे डाउनलोड करने के लिए डेटा की ज़रूरत होगी। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि इन स्टीकर्स पैक को सिर्फ एक बार डाउनलोड करने की ज़रूरत है। इन्हें रिएक्शन के आधार पर चार कैटेगरी में बांटा जाएगा- LOL (खुशी से संबंधित), प्यार, दुखी और अद्भुत! बीटा वर्ज़न पर नज़र रखने वाली इस वेबसाइट का कहना है कि इन हाव-भाव को व्हाट्सऐप के 2.18.189 वर्ज़न का हिस्सा बनाया गया है।

व्हाट्सएप ग्रुप में फोटो डालने को लेकर हुए विवाद में गयी ग्रुप एडमिन की जान

बता दें कि अभी स्टीकर्स बटन को नहीं देखा जा सकता। बीटा ऐप में भी यह फीचर डिफॉल्ट में एक्टिव नहीं है। लेकिन इस फीचर को जल्द ही लॉन्च किए जाने की उम्मीद है। जैसा कि हमने बताया, फेसबुक के सीईओ मार्क ज़करबर्ग ने एफ8 में ऐलान किया था कि व्हाट्सऐप पर यूज़र जल्द ही ग्रुप वीडियो कॉलिंग का मज़ा ले पाएंगे।

यह फीचर लेटेस्ट एंड्रॉयड बीटा अपडेट के बाद उपलब्ध करा दिया गया है। यह फीचर लेटेस्ट वर्ज़न v2.18.189 या v2.18.192 में एक्सेस किया जा सकता है। इसके अलावा कहा गया है कि विंडोज़ फोन में भी ग्रुप वॉयस व वीडियो कॉल फीचर ने दस्तक दे दी है।

WhatsApp के कोफाउंडर ने कहा- सभी डिलीट कर दें Facebook

WhatsApp के इस मैसेज से रहिए सावधान, वरना क्रैश हो सकता है स्मार्टफोन

 

चतरा : सीसीटीवी लगाने को लेकर प्रशासन करेगी व्यवसायियों के साथ बैठक

NewsCode Jharkhand | 22 June, 2018 6:38 PM
newscode-image

चतरापुलिस कप्तान अखिलेश वी वारियर के निर्देश पर शनिवार को सदर थाना में शहर के प्रतिष्ठित व्यवसाई एवं पेट्रोल पंप के मालिकों के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि जिला अनुमंडल पदाधिकारी एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी ज्ञानरंजन होंगे।

इस आशय की जानकारी देते हुए सदर थाना प्रभारी राम अवध सिंह ने कहा कि शहर में चल रहे प्रतिष्ठानों के मालिकों से आग्रह किया गया है कि वह अपने दुकानों में एवं दुकान के बाहर सीसीटीवी कैमरा लगाएं इसको लेकर उन्हें कई बार संपर्क साधा गया।

चतरा : भूमि विवाद में मुखिया समेत छह पर प्राथमिकी दर्ज

इसके बावजूद शहर के कई दुकानदारों को नोटिस भेजी गई है। इसी को धरातल में उतारने को लेकर शहर के तमाम व्यवसायियों से आग्रह किया गया है कि वह निर्धारित समय पर  सदर थाना पहुंच कर आवश्यक दिशा निर्देश दें एवं सीसीटीवी कैमरा लगाने का कार्य करें।

इन दिनों शहर में हुई कई गोली कांड घटना को लगाम लगाने में शहर के  कुछ जगहों पर लगाए गए सीसीटीवी कैमरा  के सहयोग से भी उदभेदन  किया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

चतरा : भूमि विवाद में मुखिया समेत छह पर प्राथमिकी...

more-story-image

चतरा : नक्सली संगठन टीपीसी समर्थक वीरेंद्र गंझू गिरफ्तार