रोहित शर्मा के शतक से जीता भारत, टी-20 सीरीज जीत का लगाया छक्का

NewsCode | 8 July, 2018 11:58 PM
newscode-image

ब्रिस्टल। टीम इंडिया ने रोहित शर्मा के तीसरे टी-20 अंतर्राष्ट्रीय शतक की बदौलत इंग्लैंड के खिलाफ खेले गए तीन मैचों की टी-20 सीरीज के आखिरी और निर्णायक मुकाबले में मेजबान टीम को 7 विकेट से मात देकर टी-20 इंटरनेशनल में लगातार छठी सीरीज पर कब्जा जमा लिया है। टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की टीम ने 20 ओवर में 9 विकेट गंवा कर 198 रन बनाए और भारत के सामने सीरीज व मैच जीत के लिए 199 रनों का लक्ष्य रखा। जवाब में टीम इंडिया ने 8 गेंद शेष रहते हुए 3 विकेट गंवा कर 201 रन बना लिए और मैच के साथ-साथ सीरीज भी अपनी झोली में डाल ली।

रोहित ने 56 गेंदों पर नाबाद 100 रनों की पारी में 11 चौके और पांच छक्के लगाए। रोहित का टी-20 इंटरनेशनल क्रिकेट में यह तीसरा शतक है। कप्तान विराट कोहली ने 43, लोकेश राहुल ने 19 और हार्दिक पंड्या ने 14 गेंदों पर नाबाद 33 रन बनाए। इंग्लैंड के लिए डेविड विली, जैक बाल और क्रिस जॉर्डन ने एक-एक विकेट लिए।

रोहित शर्मा के शतक से जीता भारत, टी-20 सीरीज जीत का लगाया छक्का India vs England 3rd T20 Rohit Sharma 3rd T20 Century Team India win series by 2-1 | NewsCode - Hindi News

रोहित शर्मा इस पारी के दौरान टी-20 इंटरनेशनल में 2000 रन पूरे करने वाले भारत के दूसरे और दुनिया के पांचवें बल्लेबाज बने। उन्होंने 19वें ओवर में अपने करियर का तीसरा शतक पूरा किया जबकि पंड्या ने जॉर्डन के इसी ओवर में विजयी छक्का लगाया। रोहित शर्मा को मैन ऑफ द मैच और मैन ऑफ द सीरीज घोषित किया गया।

अच्छी शुरुआत के बाद अंत में लड़खड़ाया इंग्लैंड

इससे पहले टॉस हारकर बल्लेबाजी करते हुए इंग्लैंड की टीम ने 20 ओवर में 9 विकेट गंवा कर 198 रन बनाए और भारत के सामने सीरीज व मैच जीत के लिए 199 रनों का मुश्किल लक्ष्य रखा। इंग्लैंड की तरफ से जेसन रॉय ने 31 गेंदों पर 67 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली। उन्होंने अपनी पारी में 4 चौके और 7 छक्के लगाए। भारत के लिए हार्दिक पंड्या ने 4 ओवर में 38 रन देकर 4 विकेट अपने नाम किए।

रोहित शर्मा के शतक से जीता भारत, टी-20 सीरीज जीत का लगाया छक्का India vs England 3rd T20 Rohit Sharma 3rd T20 Century Team India win series by 2-1 | NewsCode - Hindi News

इंग्लैंड ने दस ओवर तक दो विकेट पर 112 रन बनाये थे लेकिन इसके बाद उसने नियमित अंतराल में विकेट गंवाए जिससे रन गति पर असर पड़ा और भारत ने उसे 200 रन के पार नहीं पहुंचने दिया। रॉय के अलावा जोस बटलर ने 34, एलेक्स हेल्स ने 30, जॉनी बेसरस्टो ने 25 और बेन स्टोक्स ने 14 रन का योगदान दिया। भारत के लिए स्टार ऑलराउंडर खिलाड़ी हार्दिक पंड्या ने सर्वाधिक चार विकेट चटकाए। पंड्या का टी-20 इंटरनेशनल मैच में यह सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी प्रदर्शन है। पंड्या के अलावा सिद्धार्थ कौल ने दो, दीपक चाहर और उमेश यादव ने एक-एक विकेट चटकाए।

महेंद्र सिंह धोनी ने विकेट के पीछे कमाल दिखाया और पांच कैच लिए। किसी एक टी-20 अंतरराष्ट्रीय मैच में पांच कैच लेने वाले वह दुनिया के पहले विकेटकीपर बन गए हैं। वह इस दौरान इस प्रारूप में कैचों का अर्धशतक पूरा करने वाले पहले विकेटकीपर भी बने।

टीम इंडिया ने लगाया टी-20 सीरीज जीत का छक्का

टी-20 क्रिकेट में भारतीय टीम की यह लगातार छठी सीरीज जीत है। इस सिलसिले का आगाज नवंबर 2017 में न्यूजीलैंड पर घरेलू सीरीज में मिली जीत के साथ हुआ था। उसके बाद से भारत ने एक भी टी-20 सीरीज नहीं गंवाई है।

बर्थ-डे के दिन धोनी ने बनाया नया रिकॉर्ड, यह कमाल करने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बने

राहुल गांधी का अधूरा वादा: जिस बच्चे को पढ़ाने का उठाया था बीड़ा, आज वो लगा रहा ठेला

NewsCode | 19 September, 2018 8:28 PM
newscode-image

नई दिल्ली। नेता लोग वादा करते हैं और करके भूल जाते हैं। छपने देश में बड़े से बड़ा और छोटे से छोटा नेता इस बीमारी से ग्रसित है। यही हाल कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का भी है। दरअसल, राहुल ने कुछ साल पहले मध्य प्रदेश के भोपाल में जिस नाबालिग बच्चे को अखबार बेचते हुए देखकर उसकी पढाई-लिखाई करवाने का बीड़ा उठाया था, आज वह ठेला लगाकर परिवार का पालन-पोषण करने पर मजबूर है। बच्चे की मौजूदा हालात पर अब मध्य प्रदेश में भाजपा और कांग्रेस ने राजनीति शुरू कर दी है।

कौशल की खुद्दारी से खुश हुए थे राहुल

सोमवार को राहुल गांधी ने भोपाल में बड़े लाब-काब के साथ चुनावी बिगुल फूंका और जिस रोशनपुरा के रास्ते से उनकी विशाल रैली निकली, कौशल शाक्य नामक यह लड़का उसी इलाके में रहता है। बात 25 अप्रैल 2013 की है जब राहुल गांधी भोपाल दौरे पर आए थे। कांग्रेस दफ़्तर से निकलते समय उन्हें सड़क पर पेपर बेचता हुआ कौशल दिखाई दिया। राहुल ने तत्काल अपनी गाड़ी रुकवायी और मदद के लिए हाथ बढ़ाया। राहुल ने उससे पूछा था कि तुम पढऩे जाते हो। इस पर कौशल ने कहा कि उसके पास इतने पैसे नहीं कि वो पढ़ सके। यह सुन राहुल ने जेब से 1000 रुपये का नोट उसे दिया, पर कौशल ने सिर्फ एक रुपये मांगा, वो भी अखबार का। उसने 1000 रुपये का नोट लेने से मना कर दिया।

कौशल की खुद्दारी राहुल को पसंद आई। उन्होंने कौशल की पढ़ाई का खर्च उठाने की घोषणा कर दी और हर माह एक हजार रुपये पढऩे के लिए देने का वादा किया। राहुल के आदेश पर मध्यप्रदेश कांग्रेस नेताओं ने कौशल का एडमिशन राजीव गांधी हायर सेकंडरी स्कूल में करा दिया। एक साल तक कौशल को राहुल गांधी से एक हजार रुपये मिलते रहे, लेकिन बाद में यह मदद बंद हो गई।

छठवीं के बाद छोड़ दी पढ़ाई

कौशल ने बताया कि वह श्यामला हिल्स स्थित डॉ. राधाकृष्णन हाईस्कूल में पढ़ता था और छठवीं के बाद उसने पढ़ाई छोड़ दी। उसे कांग्रेस से कुछ महीने ही पढ़ाई के लिए फीस मिली। कांग्रेस नेता साजिद अली ने अपने कॉलेज में उसके बदले बड़े भाई जुगल को काम दिया था। पिता काम करने की स्थिति में नहीं है, जिससे परिवार उन पर ही आश्रित है।

बीजेपी-कांग्रेस आमने-सामने

जब राहुल दोबारा भोपाल आए तो कौशल और उसके परिवार ने उनसे मिलने की कोशिश भी की, लेकिन एसपीजी सुरक्षा घेरे के आगे उनकी एक नहीं चली।अब 5 साल से कौशल स्कूल नहीं जा रहा और उसका पूरा परिवार मजदूरी कर पेट पाल रहा है। भाजपा ने सोमवार को राहुल गांधी के भोपाल प्रवास पर लड़के को मीडिया के सामने प्रस्तुत किया तो कांग्रेस ने मंगलवार को पलटवार करते हुए तत्कालीन केंद्रीय मानव संसाधन मंत्री स्मृति ईरानी के केंद्रीय विद्यालय में प्रवेश दिलाने के वादे को याद दिलाया।

बीजेपी ने आरोप लगाया था कि कांग्रेस ने उसे अधर में छोड़ दिया है। वहीं, प्रदेश कांग्रेस कमेटी के मीडिया विभाग के उपाध्यक्ष भूपेंद्र गुप्ता ने कहा कि कांग्रेस ने बच्चे की पूरी मदद की है। उसके भाई को नौकरी दिलाई थी और उसी स्कूल में पढ़ाई का इंतजाम किया था, लेकिन उसने पढ़ाई नहीं की। गुप्ता ने कहा कि भाजपा की एनडीए सरकार की केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने उसे केंद्रीय विद्यालय में प्रवेश का आश्वासन दिया था। भाजपा अपनी मंत्री के आश्वासन को पूरा करे, फिर कांग्रेस पर आरोप लगाए।


भोपाल में राहुल ने फूंका चुनावी बिगुल, रोड शो के दौरान उठाया चाय-समोसे का लुत्फ

बिहार में राहुल का ब्राह्मण कार्ड, मदन मोहन झा बनाये गए नए प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष

देहरादूनः स्कूल हॉस्टल में दसवीं की छात्रा से गैंगरेप, राहुल ने पीएम मोदी को घेरा

अरुण जेटली पर राहुल गांधी ने लगाए गंभीर आरोप, बीजेपी बोली- कांग्रेस-माल्या की जुगलबंदी

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

धनबाद : डीसी कार्यालय के सामने दो पक्षों में हुई नोंक-झोंक

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 10:03 PM
newscode-image

धनबाद। डीसी कार्यालय के समक्ष दो पक्षों के बीच बुधवार को जमकर नोंक-झोंक हुई। लड़की से मिलने नहीं देने तथा उन्हें बताये बगैर न्यायालय में लड़की का बयान दर्ज कराए जाने को लेकर लड़की के परिजन हंगामे पर उतारू हो गए।

बीच सड़क पर दो पक्षों के बीच बढ़ते नोक -झोक को लेकर पुलिस को भी उन्हें शांत कराने में भारी मशक्कत करनी पड़ी। लड़की पक्ष के गुस्से को शांत कराकर तोपचांची पुलिस लड़की के साथ लड़का पक्ष को महिला थाने पहुंचाई।

धनबाद : एटीएम गार्डों ने बिना वेतन व नोटिस के काम से हटाने का किया विरोध

तोपचांची थाना क्षेत्र के दुमदुमी निवासी जगन्‍नाथ पांडेय पिछले 8 तारीख को अपने ही गांव के युवक व उसके साथियों पर पुत्री का अपहरण कर लेने की शिकायत तोपचांची थाने में दर्ज कराई थी। दर्ज बयान में उन्‍होंने कहा था कि पुत्री सुबह में शौच के लिए घर से निकली तभी उपरोक्त युवकों ने पुत्री का अपहरण कर फरार हो गया।

पुलिस की छानबीन में परिजनों को जानकारी मिली की उनकी पुत्री को युवक व उसका साथी अपहरण कर दिल्ली ले गया है। बुधवार को तोपचांची पुलिस युवक-युवती को धनबाद न्यायालय लेकर पहुंची।

सूचना पाकर लड़की के परिवार वाले भी कोर्ट पहुंचे। यहां उन्हें पता चला की लड़की का बयान कोर्ट में दर्ज करा दिया गया है। बयान दर्ज कराने से पूर्व लड़की से भेंट नहीं कराये जाने को लेकर गुस्साए परिजन युवक के घरवालों से नोक-झोंक करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

बड़कागांव : जनता दरबार की जानकारी नहीं दिए जाने पर भड़के जनप्रतिनिधि

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 9:54 PM
newscode-image

बड़कागांव(हजारीबाग)। आम लोगों की समस्याओं के समाधान हेतु राज्य सरकार द्वारा प्रखंड स्तर पर लगाए जा रहे जनता दरबार का महत्व उस समय समाप्त हो गया, जब बड़कागांव प्रखंड मुख्यालय में आयोजित जनता दरबार में ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति नगण्य देखी गई। वहीं नियमित रूप से प्रखंड व अंचल में अपने व्यक्तिगत काम को लेकर पहुंचे ग्रामीण व जनप्रतिनिधियों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली और इस पर नाराजगी जाहिर की। लगता है जैसे जनता दरबार महज कोरम पूरा करने की चीज बनकर रह गयी है।

जनप्रतिनिधियों के अनुसार उन्‍हें या ग्रामीणों को जनता दरबार के आयोजन के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई ओर गुपचुप तरीके से इसका आयोजन करके खानापूर्ति की जा रही है। लोगों ने कहा कि बड़कागांव की स्थिति दयनीय इसलिए है क्‍योंकि यहां कार्यरत पदाधिकारी, कर्मचारी के साथ-साथ जिले के पदाधिकारियों का भी रवैया उदासीन है। कोई भी कार्य जमीनी स्तर पर नहीं करके महज कागजों तक ही सीमित रखा जा रहा है।

कटकमसांडी : छुरेबाजी की घटना में युवक घायल, गंभीर हालत में रिम्‍स रेफर

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : गौरी सबर की स्मृति में समाधान संस्था ने...

more-story-image

दुमका : किराना स्टोर में पुलिस ने किया छापेमारी, डुप्लिकेट...