विधायक ने श्‍मशान में बिताई पूरी रात, फिर सुबह हुआ ये…

NewsCode | 25 June, 2018 5:54 PM
newscode-image

नई दिल्ली। आंध्र प्रदेश के पश्चिम गोदावरी जिले में तेलुगू देशम पार्टी के विधायक ने पूरी रात श्‍मशान में बिताई। इतना ही नहीं वह अगले दो-तीन दिन और रात को श्‍मशान में ही सोएंगे। विधायक निम्‍माला रामा नायडू ने ऐसा श्‍मशान के नवीनीकरण में आ रही एक बाधा को दूर करने के लिए किया है।

दरअसल, नायडू श्मशान के नवीनीकरण के काम में लगे मजदूरों का डर दूर करना चाहते थे और बताना चाहते थे कि बुरी आत्माओं जैसी कोई चीज नहीं होती और इसी के चलते वह पूरी रात शमशान घाट में सोए और सुबह उठकर घर गए। श्‍मशान में सोने से पहले मीडिया से भी मुखातिब हुए। मीडिया से बातचीत में विधायक ने कहा कि वह दो-तीन दिन और सोएंगे। वह ऐसा इसलिए कर रहे हैं, क्योंकि मजदूर श्मशान में काम करने से डर रहे हैं। उनके ऐसा करने से मजदूरों को हिम्मत मिलेगी।

विधायक ने बताया, ‘मजदूरों को यह डर लग रहा था कि श्‍मशान में आत्‍माएं हैं और अगर वे काम करेंगे, तो उनको नुकसान उठाना पड़ सकता है। इस डर से कोई मजदूर श्‍मशान में प्रवेश करने से भी डर रहा था। इसलिए मैंने उनका डर दूर करने के लिए श्‍मशान में सोने का मन बनाया। मुझे यकीन था कि इससे मजदूरों का डर दूर हो जाएगा। हुआ भी ऐसा ही, शुक्रवार की रात मैं श्‍मशान में सोया था और शनिवार को लगभग 50 मजदूर काम करने के लिए श्‍मशान में पहुंच गए। उम्‍मीद है कि अगले दो-तीन दिन में और मजदूर काम करने के लिए पहुंचेंगे।’

‘मच्छरों ने बहुत काटा’

उन्होंने कहा कि श्मशान में उचित सुविधाएं नहीं हैं। बताया जा रहा है कि लोगों की शिकायत के बाद श्मशान के नवीनीकरण के लिए विधायक की ओर से रकम दी गई, लेकिन कोई श्मशान में काम करने को तैयार नहीं हुआ। अंत में नायडू को एक ठेकेदार मिला, जो यहां काम करने को तैयार हुआ, लेकिन मजदूर काम पर आने से डर रहे थे।

विधायक ने बताया कि कुछ दिन पहले एक मजदूर ने जला हुआ शव देख लिया, जिसके बाद डर फैल गया। श्मशान में सोने में आई दिक्कतों से जुड़े सवाल के जवाब में विधायक ने कहा कि मच्छरों ने बहुत काटा, लेकिन बाद में मैंने मच्छरदानी लगा ली।

जम्मू-कश्मीर: बीजेपी विधायक की पत्रकारों को धमकी, शुजात जैसा काम न करें, अपनी लाइन खींचे

यहां जनसंख्या बढ़ाने पर मिलेगा इनाम, तीसरे बच्चे पर 50 हजार और चौथे पर 1 लाख देने की घोषणा

पाकिस्तान के खिलाफ ‘महाबली’ माही के आंकड़े हैं बेजोड़, आज दिखेगा कमाल?

NewsCode | 19 September, 2018 4:24 PM
newscode-image

नई दिल्ली। एशिया कप के अपने शुरुआती मैच में टीम इंडिया को बड़ी मुश्किल से 26 रनों से जीत मिली। हांगकांग के खिलाफ अपने पहले मैच में भारत उतना मजबूत नहीं दिखा, जितनी उम्मीद की जा रही थी। अब दूसरे मैच में टीम इंडिया का सामना चिरप्रतिद्वंदी पाकिस्तान से है, जिसके खिलाफ वह पिछले साल चैंपियंस ट्रॉफी का फाइनल गंवा चुकी है। टीम के नियमित कप्तान और प्रमुख बल्लेबाज विराट कोहली की गैरमौजूदगी में अनुभवी खिलाड़ी होने के नाते महेंद्र सिंह धोनी के कंधों का भार भी बढ़ गया है।

हालांकि हांगकांग के खिलाफ धोनी ‘शून्य’ पर पवेलियन लौट गए थे। पिछली बार हांगकांग के खिलाफ शतक जड़ने वाले धोनी ने एहसान खान की गेंद पर लेट कट करने के प्रयास में विकेटकीपर स्कॉट मैकेनी को कैच दिया। दर्शक महेंद्र सिंह धोनी के आउट होने से सबसे अधिक निराश दिखे। लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि उनका बल्ला पाकिस्तान के खिलाफ भी खामोश रहेगा।

आंकड़े बताते हैं कि भारत-पाकिस्तान मुकाबलों में महेंद्र सिंह धोनी की बल्लेबाजी औसत सबसे ज्यादा है। एक-दूसरे के खिलाफ 10 या उससे ज्यादा मैचों में बल्लेबाजी करते हुए सर्वाधिक एवरेज की बात करें तो धोनी 55.90 की औसत के साथ टॉप पर हैं। उन्होंने 2005-2017 के दौरान 30 पारियों में 8 बार नॉट आउट रहकर 1230 रन बनाए हैं।

भारत-पाकिस्तान के बीच सर्वाधिक औसत रखने वाले बल्लेबाजों में दूसरे स्थान पर पाकिस्तानी बल्लेबाज सलमान बट आते हैं, जिन्होंने 52.21 की औसत से रन बनाए, जावेद मियांदाद (51.08) तीसरे, जहीर अब्बास (51.00) चौथे और मोहम्मद हफीज (48.60) पांचवें स्थान पर हैं। विराट कोहली 45.90 की औसत के साथ शोएब मलिक (47.45) के बाद सातवें नंबर पर हैं। बता दें कि विराट कोहली के 2008 में इंटरनेशनल डेब्यू करने के बाद ऐसा पहली बार होगा, जब वह किसी भी फॉर्मेट में पाकिस्तान के खिलाफ टीम में नहीं होंगे। कोहली पाकिस्तान के खिलाफ 12 वनडे और 6 टी-20 खेल चुके हैं।


खलील-चहल की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत ने हांगकांग को हराया, पाक से महामुकाबला आज

माही ने वनडे करियर में छुआ 10 हजार रन का जादुई आंकड़ा, ऐसा करने वाले चौथे भारतीय

जब कुलदीप पर भड़क गए माही और कहा – ‘पागल हूं मैं जो 300 ODI खेले हैं’

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

धनबाद : डीसी कार्यालय के सामने दो पक्षों में हुई नोंक-झोंक

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 10:03 PM
newscode-image

धनबाद। डीसी कार्यालय के समक्ष दो पक्षों के बीच बुधवार को जमकर नोंक-झोंक हुई। लड़की से मिलने नहीं देने तथा उन्हें बताये बगैर न्यायालय में लड़की का बयान दर्ज कराए जाने को लेकर लड़की के परिजन हंगामे पर उतारू हो गए।

बीच सड़क पर दो पक्षों के बीच बढ़ते नोक -झोक को लेकर पुलिस को भी उन्हें शांत कराने में भारी मशक्कत करनी पड़ी। लड़की पक्ष के गुस्से को शांत कराकर तोपचांची पुलिस लड़की के साथ लड़का पक्ष को महिला थाने पहुंचाई।

धनबाद : एटीएम गार्डों ने बिना वेतन व नोटिस के काम से हटाने का किया विरोध

तोपचांची थाना क्षेत्र के दुमदुमी निवासी जगन्‍नाथ पांडेय पिछले 8 तारीख को अपने ही गांव के युवक व उसके साथियों पर पुत्री का अपहरण कर लेने की शिकायत तोपचांची थाने में दर्ज कराई थी। दर्ज बयान में उन्‍होंने कहा था कि पुत्री सुबह में शौच के लिए घर से निकली तभी उपरोक्त युवकों ने पुत्री का अपहरण कर फरार हो गया।

पुलिस की छानबीन में परिजनों को जानकारी मिली की उनकी पुत्री को युवक व उसका साथी अपहरण कर दिल्ली ले गया है। बुधवार को तोपचांची पुलिस युवक-युवती को धनबाद न्यायालय लेकर पहुंची।

सूचना पाकर लड़की के परिवार वाले भी कोर्ट पहुंचे। यहां उन्हें पता चला की लड़की का बयान कोर्ट में दर्ज करा दिया गया है। बयान दर्ज कराने से पूर्व लड़की से भेंट नहीं कराये जाने को लेकर गुस्साए परिजन युवक के घरवालों से नोक-झोंक करने लगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

बड़कागांव : जनता दरबार की जानकारी नहीं दिए जाने पर भड़के जनप्रतिनिधि

NewsCode Jharkhand | 19 September, 2018 9:54 PM
newscode-image

बड़कागांव(हजारीबाग)। आम लोगों की समस्याओं के समाधान हेतु राज्य सरकार द्वारा प्रखंड स्तर पर लगाए जा रहे जनता दरबार का महत्व उस समय समाप्त हो गया, जब बड़कागांव प्रखंड मुख्यालय में आयोजित जनता दरबार में ग्रामीणों व जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति नगण्य देखी गई। वहीं नियमित रूप से प्रखंड व अंचल में अपने व्यक्तिगत काम को लेकर पहुंचे ग्रामीण व जनप्रतिनिधियों ने जमकर अपनी भड़ास निकाली और इस पर नाराजगी जाहिर की। लगता है जैसे जनता दरबार महज कोरम पूरा करने की चीज बनकर रह गयी है।

जनप्रतिनिधियों के अनुसार उन्‍हें या ग्रामीणों को जनता दरबार के आयोजन के बारे में कोई जानकारी नहीं दी गई ओर गुपचुप तरीके से इसका आयोजन करके खानापूर्ति की जा रही है। लोगों ने कहा कि बड़कागांव की स्थिति दयनीय इसलिए है क्‍योंकि यहां कार्यरत पदाधिकारी, कर्मचारी के साथ-साथ जिले के पदाधिकारियों का भी रवैया उदासीन है। कोई भी कार्य जमीनी स्तर पर नहीं करके महज कागजों तक ही सीमित रखा जा रहा है।

कटकमसांडी : छुरेबाजी की घटना में युवक घायल, गंभीर हालत में रिम्‍स रेफर

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

जमशेदपुर : गौरी सबर की स्मृति में समाधान संस्था ने...

more-story-image

दुमका : किराना स्टोर में पुलिस ने किया छापेमारी, डुप्लिकेट...