ब्लू वेल गेम पर हाई कोर्ट सख्त, फेसबुक समेत कई कंपनियों को जारी हुआ नोटिस

NewsCode | 22 August, 2017 6:34 PM

ब्लू वेल गेम पर हाई कोर्ट सख्त, फेसबुक समेत कई कंपनियों को जारी हुआ नोटिस

नई दिल्ली। ऑनलाइन ब्लू वेल गेम से लगातार हो रही आत्महत्याओं को रोकने के लिए दिल्ली हाई कोर्ट ने सख्त कदम उठाया है। कोर्ट ने दिग्गज टेक कंपनियों फेसबुक, गूगल, याहू और केंद्र सरकार को शो कॉज नोटिस जारी करते हुए गेम पर बैन लगाने के लिए आदेश दिया है।

कोर्ट ने सभी से इस मामले मे स्टेटस रिपोर्ट मांगी है। कोर्ट ने अगली सुनवाई में गूगल याहू और फेसबुक को 19 सितंबर को कोर्ट को अपना जवाब सौंपना होगा कि ऑनलाइन ब्लू वेल गेम को रोकने के लिए उन्होंने क्या कदम उठाए हैं।

केंद्र सरकार ने आज हाई कोर्ट को बताया है कि IT एक्ट के सेक्शन 79 के अंर्तगत 11 अगस्त को ही पहले ही फेसबुक, गूगल और याहू को नोटिस भेज जा चुका है.

बता दें सरकार ने पहले ही दिग्गज टेक कंपनियों- गूगल, फेसबुक, व्हाट्सऐप, इंस्टाग्राम, माइक्रोसॉफ्ट और याहू को आदेश जारी किया था कि खतरनाक ऑनलाइन गेम ब्लू व्हेल चैलेंज के लिंक तत्काल प्रभाव से हटाए जाएं, जो भारत सहित दूसरे देशों में बच्चों के मौत की वजह बन चुका है।

मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड आईटी ने इंटरनेट कंपनियों को अपने द्वारा जारी लेटर में लिखा था कि ‘भारत में ब्लू व्हेल चैलेंज की वजह से बच्चों के खुदकुशी की घटनाएं सामने आई हैं। इसलिए आपसे निवेदन है आप ये सुनिश्चित करें कि आपके प्लेटफॉर्म पर इस गेम के नाम से या इससे संबंधित गेम के लिंक तत्काल प्रभाव से हटा दिए जाएं।’

मेनका गांधी (महिला और बाल विकास मंत्री) ने इस गेम को हटाने के लिए लिखा था पत्र-
महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने गृह मंत्री और आईटी मंत्री को पत्र भेजकर सोशल मीडिया से इस चैलेंज को हटाने की अपील की थी। उनके मुताबिक, यह चैलेंज 100 युवाओं की जान ले चुका है। इसलिए इसे फैलने से रोकना चाहिए। वहीं उन्होंने बच्चों के अभिभावकों से कहा कि उन्हें बच्चों पर नजर रखनी चाहिए। ताकि वे इस चैलेंज के जाल में फंसने से बचें।

  • अजब-गजब: फेसबुक पोस्ट की बदौलत बची डूबती महिला की जान

    August 22, 2017

    […] दिल्ली। एक तरफ जहां फेसबुक के कारण ब्लू वेल गेम खेलते हुए लोग […]

एबी डिविलियर्स के अचानक संन्यास के ऐलान से हर कोई हैरान, क्या बोले दिग्गज क्रिकेटर ?

NewsCode | 24 May, 2018 1:18 PM

एबी डिविलियर्स के अचानक संन्यास के ऐलान से हर कोई हैरान, क्या बोले दिग्गज क्रिकेटर ?

नई दिल्ली। दक्षिण अफ्रीका के पूर्व कप्तान और विस्फोटक बल्लेबाज एबी डिविलियर्स ने सभी को चौंकाते हुए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया। डिविलयर्स हाल ही में इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की टीम से खेलते नजर आए थे। इस तरह वह जुलाई में साउथ अफ्रीका और श्रीलंका के बीच होने वाली द्विपक्षीय सीरीज में नहीं खेलेंगे।

डिविलियर्स का नाम मौजूदा समय के महान बल्लेबाजों की अग्रिम पंक्ति में शुमार है। एक खिलाड़ी के तौर पर डिविलियर्स का मूल्यांकन करें तो वह हर परिस्थिति में एक संपूर्ण बल्लेबाज, बेहतरीन विकेटकीपर और आला दर्जे के फील्डर रहे। मैदान के किसी भी कोने में शॉट मारने की अद्भुत कला रखने वाले डिविलयर्स ने यदा-कदा गेंदबाजी में भी अपना हाथ आजमाया और विकेट भी चटकाए। वह दक्षिण अफ्रीकी टीम की कप्तानी भी रह चुके हैं। उन्होंने अपने देश के लिए 114 टेस्ट मैचों की 91 पारियों में 50.66 की औसत से 8765 रन बनाए हैं, जिसमें 22 शतक और 46 अर्धशतक शामिल हैं। टेस्ट में उनका सर्वोच्च स्कोर 278 है।

वहीं उन्होंने 228 वनडे मैच खेले हैं, जिनमें 53.50 की औसत से 9,577 रन बनाए हैं। वनडे में उनके नाम 25 शतक और 53 अर्धशतक शामिल हैं। वनडे में उनका सर्वाधिक स्कोर 176 रन है।

टी-20 में डिविलियर्स ने अपने देश के लिए 78 मैच खेले हैं और 1672 रन बनाए हैं। टी-20 में उन्होंने 26.12 की औसत से रन बनाए हैं। खेल के सबसे छोटे प्रारूप में उनके नाम 10 अर्धशतक हैं और नाबाद 79 उनका उच्चतम स्कोर है।

एबी डिविलियर्स ने इसे कठिन फैसले बताते हुए कहा कि वह अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट के सभी प्रारूपों से संन्यास ले रहे हैं। डिविलियर्स ने एक वीडियो के जरिए कहा कि वे दक्षिण अफ्रीका और दुनियाभर में अपने प्रशंसकों के शुक्रगुजार हैं। उन्होंने कहा कि वे घरेलू क्रिकेट के लिए उपलब्ध रहेंगे।

उन्होंने कहा कि यह संन्यास लेने का सही समय है और अब समय आ गया है कि युवाओं को अवसर दिया जाए। डिविलियर्स ने कहा , ‘मेरी ऊर्जा खत्म हो चुकी है और मुझे लगता है कि अब आगे बढ़ने का समय है। हर चीज का एक दिन अंत होता है। मेरी विदेशों में खेलने की कोई योजना नहीं है और उम्मीद है कि मैं टाइटन्स (उनकी घरेलू टीम) के लिए उपलब्ध रहूंगा।’

आईपीएल में रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु की तरफ से खेलने वाले डिविलियर्स ने कहा , ‘अब समय है कि कोई अन्य जिम्मेदारी संभाले। मेरा अपना समय था और ईमानदारी से कहूं तो मैं थक चुका हूं। यह मुश्किल फैसला है। मैंने इस पर बहुत सोच विचार किया और मैं अच्छी क्रिकेट खेलते हुए संन्यास लेना चाहता हूं।’

डिविलियर्स ने कहा , ‘भारत और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शानदार जीत के बाद अब अलविदा कहने का समय है। मेरे लिए यह सही नहीं होगा कि मैं अपनी मर्जी से यह तय करूं कि मुझे दक्षिण अफ्रीका की तरफ से कहां और कौन से प्रारूप में खेलना है। मेरे हिसाब से या तो आपको हर मैच में खेलना होगा या फिर एक में भी नहीं। ‘

34 वर्षीय डिविलियर्स के अचानक अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास लेने से सिर्फ उनके प्रशंसक ही नहीं बल्कि पूरा क्रिकेट जगत हैरान है। सचिन तेंदुलकर समेत कई दिग्गजों ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया दी है।

तेंदुलकर ने ट्वीट किया, ‘‘मैदान पर क्रिकेट की तरह आपको मैदान क बाहर भी 360 डिग्री सफलता मिले। निश्चित रूप से आपकी कमी खलेगी। मेरी शुभकामनाएं हमेशा आपके साथ हैं।’’

वहीं पूर्व भारतीय बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग ने एबी डिविलियर्स को उनके दमदार करियर के लिये बधाई देते हुए कहा कि दक्षिण अफ्रीका के इस करिश्माई खिलाड़ी के बिना अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में खालीपन आ जाएगा। सहवाग ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, ‘‘दुनिया के सबसे पसंद किये जाने वाले क्रिकेटर डिविलियर्स को शानदार करियर के लिये बधाई। आपके बिना क्रिकेट में खालीपन पैदा हो जायेगा, लेकिन दुनिया भर के क्रिकेट प्रशंसकों में आप लोकप्रिय बने रहोगे।’’

भारत के अनुभवी आफ स्पिनर हरभजन सिंह भी तेंदुलकर की बात से सहमत थे, उन्होंने कहा, ‘‘दुनिया के बेहतरीन और विविधतापूर्ण शाट खेलने वाले बल्लेबाज ने आज संन्यास ले लिया। वह अभी तक शानदार खेला और विश्व जगत को निश्चित रूप से मैदान पर उसकी कमी खलेगी।’’

पूर्व भारतीय महान बल्लेबाज वीवीएस लक्ष्मण ने कहा, ‘‘एबी डिविलियर्स को शानदार क्रिकेट करियर के लिये बहुत बहुत बधाई। आपने अपनी काबिलियत, उपस्थिति और तौर तरीकों से खेल को समृद्ध किया है और उदीयमान क्रिकेटरों के लिये प्रेरणास्रोत बने रहोगे। आपको संन्यास के बाद की खुशहाल जिंदगी के लिये शुभकामनाएं।’’

एबी डिविलियर्स के साथी और पूर्व दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज एलन डोनाल्ड ने कहा कि वह फैसले से हैरान हैं लेकिन उन्होंने इस महान बल्लेबाज के योगदान के लिये शुक्रिया कहा।

डोनाल्ड ने कहा, ‘‘एबी डिविलियर्स के अंतरराष्ट्रीय करियर को अलविदा करने के फैसले को सुनकर बहुत हैरान हू। लेकिन यही जिंदगी हैं और उसे लगता है कि आगे बढ़ने का समय आ गया है। आपके मैच विजेता प्रदर्शन, शानदार कप्तानी और सबसे ज्यादा आपके विन्रम स्वभाव के लिये शुक्रिया महान खिलाड़ी।’’

उनके पूर्व साथी मार्क बाउचर ने कहा, ‘‘मुझे याद है जब यह युवा खिलाड़ी दक्षिण अफ्रीकी टीम के लिये पहले दिन खेला था। वह अब जिस तरह का व्यक्ति और खिलाड़ी बन गया है, प्रेरणादायी है। आपने जो कुछ देश, साथी खिलाड़ियों और प्रशंसकों के लिये किया है, उसके लिये शुक्रिया।’’

श्रीलंका के पूर्व कप्तान माहेला जयवर्धने ने उन्हें संन्यास के बाद की जिंदगी के लिये शुभकामनाएं देते हुए ट्वीट किया, ‘‘शानदार खिलाड़ियों में से एक। एबी डिविलियर्स आपको शुभकामनाएं, गजब का खिलाड़ी लेकिन इससे ऊपर शानदार व्यक्ति।’’

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा, ‘‘अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के लिये यह गहरा झटका है। महान महान खिलाड़ी। मैंने जिन्हें खेलते देखा है, उनमें वह शीर्ष तीन में शामिल है।’’

पाकिस्तान के पूर्व कप्तान शाहिद अफरीदी ने कहा, ‘‘चैम्पियन बल्लेबाज. मैंने आपकी बल्लेबाजी का बड़ा लुत्फ उठाया है, विशेषकर तेज गेंदबाजों पर आपके स्वीप शाट का। हमेशा आपकी अपार प्रतिभा का सम्मान किया है, क्रिकेट के महान खिलाड़ी।’’

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने भी ट्वीट किया, ‘‘दक्षिण अफ्रीका के महान खिलाड़ी एबी डिविलियर्स ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा, हम भविष्य के लिये उन्हें शुभकामनाएं देना चाहेंगे।’

Read Also

रोजा तोड़कर जावेद ने कुछ यूं बचाई पुनीत की जिंदगी, पेश की कौमी एकता की मिसाल

NewsCode | 23 May, 2018 4:28 PM

रोजा तोड़कर जावेद ने कुछ यूं बचाई पुनीत की जिंदगी, पेश की कौमी एकता की मिसाल

गोपालगंज। मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता। इस बात को सही साबित करते हुए बिहार के गोपालगंज निवासी जावेद आलम ने नेकी के रास्ते को मजहब से बड़ा मान इंसानियत की ऐसी मिसाल पेश की जिसकी हर जगह सराहना हो रही है। उन्होंने गंभीर बीमारी थैलेसीमिया से पीडि़त एक बच्‍चे की जान बचाने को रोजा तोड़कर रक्तदान किया।

जिले के कुचायकोट प्रखंड के टोला सिपाया के रहने वाले भूपेंद्र कुमार का आठ वर्षीय पुत्र थेलेसिमिया से ग्रसित है और बच्चे को प्रत्येक महीने तो से तीन यूनिट ब्लड की जरूरत पड़ती है। मंगलवार को पुनीत का हीमोग्लोबिन अचानक कम हो जाने के कारण ए+ रक्त की जरूरत पड़ी तो पिता भूपेंद्र कुमार सदर अस्पताल पहुँच कर ब्ल़ड के लिए सिविल सर्जन व ब्लड बैंक का चक्कर लगाने लगे क्योंकि इनके परिवार में उक्त रक्त ग्रुप का कोई भी सदस्य नहीं था।

ऐसे में जब अस्पताल प्रशासन की तरफ से पुनीत को ब्लड उपलब्ध नहीं हुआ तो उन्होंने रक्तदान करने वाली युवाओं की डीबीडीटी के सदस्य अनवर हुसैन को इसकी जानकारी दी। इसके बाद उन्होंने दोस्त जावेद आलम को फोन कर रक्तदान के लिए सदर अस्पताल बुलाया।

जावेद इस समय रोजे कर रहे हैं। इंसानियत को मजहब से बड़ा फर्ज मान वह तुरंत रक्तदान के लिए अस्पताल पहुंच गए। खाली पेट रक्त लेने से डाक्टर ने मना किया तो जावेद जिद पर अड़ गए। डाक्टर ने उन्हें पहले कुछ खाने की सलाह दी। इसपर खुदा का ध्यान कर जावेद ने जूस आदि पीया और फिर रक्तदान कर थैलेसीमिया पीड़ित बच्चे की जान बचाई।

कुमारस्वामी का शपथग्रहण समारोह : सोनिया-राहुल समेत विपक्ष के नेताओं का बेंगलुरू में लगा जमावड़ा

पवित्र माह ए रमजान में जावेद को इस नेक काम पर खुदा का साथ मिला तो बच्‍चे की हालत में सुधार हो रहा है। रक्त देने के बाद बातचीत में जावेद आलम ने कहा कि रोजे से ज्यादा बच्‍चे की जान बचाना जरूरी था। हर धर्म में इंसानियत का दर्जा सबसे बड़ा है।

शॉपिंग करने के बाद पत्नी के साथ रेस्त्रां पहुंचे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, देखकर हैरान रह गए लोग

शॉपिंग करने के बाद पत्नी के साथ रेस्त्रां पहुंचे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, देखकर हैरान रह गए लोग

NewsCode | 23 May, 2018 2:58 PM

शॉपिंग करने के बाद पत्नी के साथ रेस्त्रां पहुंचे राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, देखकर हैरान रह गए लोग

नई दिल्ली। महामहिम राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने शिमला में हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के एक रेस्त्रां में अचानक पहुंचकर सभी को अचरज में डाल दिया और वहां पर नाश्ता किया। अधिकारियों ने बताया कि पीटरहॉफ से लौटते हुए कोविंद और उनकी पत्नी सरिता आशियाना रेस्त्रां गए और उन्होंने वहां पर चाय के साथ स्नैक्स का लुत्फ़ उठाया। राष्ट्रपति को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग रेस्त्रां के आसपास उमड़ पड़े। राष्ट्रपति ने लोगों का अभिवादन किया और क्रेडिट कार्ड से अपना बिल भी चुकाया।

राष्ट्रपति की गाड़ियों का काफिला रिंग रोड पर खड़ा रहा। यह अहसास होते ही कि उनकी गाड़ियों का काफिला लोगों को असुविधा पहुंचा रहा है, तो राष्ट्रपति ने अधिकारियों से गाड़ियों की संख्या 17 से घटाकर चार करने के लिए कहा। उन्होंने माल रोड का चक्कर लगाया और मिनेरवा बुक शॉप से पोते के लिए दो किताबें भी खरीदीं। राष्ट्रपति के अचानक पहुंचने और बिल चुकाने से रेस्त्रां के कर्मी बेहद खुश दिखे।

देखें वीडियो :

रेस्त्रां प्रबंधक ने कहा कि मेहमान के तौर पर राष्ट्रपति का आना सम्मान की बात है। बता दें कि शिमला में राष्ट्रपति का छह दिन का अस्थायी निवास है।

मनमोहन सिंह ने राष्ट्रपति से की शिकायत, बोले- कांग्रेस को धमकाते हैं पीएम मोदी

X

अपना जिला चुने