ब्लड प्रेशर से परेशान लोग अपने खाने में शामिल करें रसोई में मौजूद ये चीज़ें

NewsCode | 7 June, 2018 1:52 PM
newscode-image

नई दिल्ली। शरीर में रक्तचाप (ब्लड प्रेशर) के कम या ज्यादा होने से हमारे स्वास्थ्य पर असर पड़ता है। थकान, कमजोरी और जी मचलाना जैसी समस्याएं लो (low) ब्लड प्रेशर की वजह से हो सकता है। वैसे ही सिरदर्द, धुंधला दिखना, बार-बार प्यास लगने और थकान-कमजोरी की वजह हाई ब्लड प्रेशर हो सकती है। कभी-कभी ब्लड प्रेशर का कम या ज्यादा हो जाना काफी आम बात है पर बात तब गंभीर हो जाती है जब ऐसा अक्सर होने लगे।

ऐसा होने पर डॉक्टर से सलाह लें।अगर डॉक्टर के पास जाना ममुकिन न हो तो घरेलू नुस्खों से भी इसे ठीक किया जा सकती है। ब्लड प्रेशर के ऊपर-नीचे होने से परेशान हों तो अपनी डाइट में मूंगफली, चना, सेब और पादप स्टेरॉल (Plant Sterol) को शामिल करें। इन चीज़ों को डाइट में जोड़ने से कोलेस्ट्रॉल कम होता है जिससे ब्लड प्रेशर की समस्या धीरे-धीरे ठीक हो जाती है।

ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करने के लिए क्या खाएं ?

लो बीपी हो तो ज्यादा नमक लें, नमक में सोडियम मौजूद होता है, जो ब्‍लड प्रेशर बढ़ाता है। कम ब्लड प्रेशर में एक गिलास पानी में 1 चम्मच नमक मिलाकर पीने से फायदा मिलता है। रोजाना सुबह 3-4 तुलसी के पत्तों का सेवन करने से लो ब्लड प्रेशर को कंट्रोल किया जा सकता है।

लेमन जूस में हल्का सा नमक और चीनी डालकर पीने से लो बीपी में काफी फायदा होता है। इससे शरीर को एनर्जी तो मिलती ही है साथ ही लीवर भी सही काम करता है। इसके अलावा 10-15 किशमिश के दाने रात में भिगो दें और सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। जिस पानी में किशमिश भिगोई थी आप उस पानी को भी पी सकते हैं।

बीपी हाई हो तो आहार में 42 ग्राम बादाम (पेड़ के नट या मूंगफली), सोया उत्पादों या आहार दालों (सेम, मटर, चम्मच, या मसूर) से 50 ग्राम पौधे से प्राप्त प्रोटीन और जई, जौ, साइबलियम बैंगन, ओकरा, सेब, संतरे, या जामुन व बेर, चिपचिपा घुलनशील फाइबर 20 ग्राम और पूरक या पौधे के स्टेरॉल वाले उत्पाद दो ग्राम हर रोज लेने को फायदेमंद बताया गया है।

अगर जिंदगी से परेशान हो आप…तो अंगूर खाओ

फेफड़े को रखना हो स्वस्थ तो छोड़ें धूम्रपान और खूब खाएं सेब, टमाटर

सरायकेला : खतरनाक कीटों का हमला, दहशत में लोग

NewsCode Jharkhand | 12 November, 2018 3:28 PM
newscode-image

सरायकेला। सरायकेला/खरसावां जिले के आदित्यपुर नगर निगम क्षेत्र के वार्ड संख्या 34 में इन दिनों खतरनाक कीटों का हमला हुआ है। जहां लगभग 25 घरों के लोग पिछले एक सप्ताह से इन कीटों के हमले का शिकार हो रहे हैं।

वहीं इन कीटों का हमला इतना जहरीला है कि लोगों का शरीर खुजली से भर गया है। खासकर बच्चों का बुरा हाल है। बच्चों के अभिभावक उन्हें घरों से निकलने नहीं दे रहे। इधर स्थानीय लोग अस्थायी तौर पर सर्फ पानी का छिड़काव करा रहे हैं, लेकिन लगातार इन कीटों का हमला जारी है।

लोगों को समझ में नहीं आ रहा है कि इन कीटों के हमले से कैसे बचा जाए। इधर इस वार्ड के छठ व्रतियों का भी बुरा हाल है। इन्हें अपने बच्चों की चिंता सताए जा रही है।

आलम ये है कि ये खतरनाक कीड़े घरों और बिस्तरों पर भी पहुंच जा रहे हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग को इसकी जानकारी मिलते ही स्वास्थ्यकर्मी वार्ड का निरिक्षण करने पहुंचे और इन कीड़ों के हमले से प्रभावित लोगों का हाल जाना।

स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि ये कीट काफी खतरनाक होते हैं, और इसके लिए जिम्मेवार मूनगे यानि सहजन के पेड़ होते हैं। वैसे स्वास्थ्य विभाग की ओर से लोगों को अपने घरों से इसके पेड़ काटने का निर्देश जारी किया गया है, साथ ही वरीय अधिकारियों को सूचना देने की बातें भी कहीं गई है।

अचानक से इन कीटों के हमलों ने स्वास्थ्य विभाग की भी नींद हराम कर दी है। एक तरफ प्रशासनिक महकमा छठ पर्व को शांति पूर्वक संपन्न कराने में जुटा हुआ है, दूसरी तरफ वार्ड 34 के लोग दहशत के साए में छठ मनाने को विवश हैं।

जल्द ही इन कीटों के आतंक का स्थायी समाधान नहीं निकाला गया, तो पूरे वार्ड में इन कीटों का आतंक फैल जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने...

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

X

अपना जिला चुने