हजारीबाग : जान बचाने के लिए हर दिन जान जोखिम में डालते हैं यहां के ग्रामीण

Ravindra Kumar | 6 June, 2018 2:32 PM
newscode-image

पीढ़ी दर पीढ़ी चुआं से पानी पीने को विवश हैं हटकौना के ग्रामीण

कटकमसांडी(हजारीबाग) कहा जाता है ‘जल ही जीवन है’, ‘जल है तो कल है’। लेकिन ये कहा जाये कि जान बचाने के लिये ही जान की बाजी लगाकर लोग पानी की व्यवस्था करते हैं तो सुनने में थोड़ा अटपटा सा लगता है, परंतु ये सत्य है। प्रखंड स्तर पर कई लोगों को प्यास बुझाने के लिए पानी नसीब नहीं होता। बाझा पंचायत के हटकौना गांव का तुरी टोला के  लोगों की यही हालत है। यहां के लोग प्रतिदिन पीने के पानी के लिये जान जोखिम में डालते हैं।

हजारीबाग : जान बचाने के लिए हर दिन जान जोखिम में डालते हैं यहां के ग्रामीण

पानी की जगह लाखों रुपये ही बहा रहा विभाग

लोगों की प्यास बुझाने में नाकाम जिला प्रशासन  जल स्वछता विभाग के माध्यम से प्रखंडवासियों की प्यास बुझाने के लिए विभाग पानी की जगह लाखों रुपये ही बहा रही है, फिर भी यहां के लोगों को पानी नसीब नहीं है। 20 घरों की आबादी वाले इस टोले में पीने के साफ पानी मिलना सबसे बड़ी चुनौती है। ऐसे में सवाल उठना लाज़मी है कि लोगों के कंठ कैसे तर होंगे ? तुरी टोला के उत्तर दिशा में बहने वाला एक मात्र जलस्रोत ही लोगों की प्यास बुझाने का एकमात्र साधन है। इसी जलस्रोत से चुआं बनाकर इस गांव के लोग पानी पीते हैं।

हजारीबाग : जान बचाने के लिए हर दिन जान जोखिम में डालते हैं यहां के ग्रामीण

इस गांव न तो चापानल है और न ही एक कुआं

वर्तमान में स्थिति ये है कि इस गांव न तो चापानल है और न ही एक कुआं, जिससे लोग  अपनी प्यास बुझा सकें। तुरी टोला की सुरती देवी, केसिया देवी, सुरजी देवी, बुधनी देवी, उदय तुरी आदि ग्रामीणों का कहना है कि इस टोले के लोग पीढ़ी दर पीढ़ी इसी चुआं से अपनी प्यास बुझा रहे हैं।

बरसात का मौसम चुनौतिपूर्ण

इन ग्रामीणों की सबसे बड़ी समस्या बरसात के मौसम में होती है। बरसात में पानी गंदा हो जाता है और मजबूरी में लोग इसी पानी को छानकर पीने के लिये इस्तेमाल करते हैं। बढ़ते तापमान के साथ तुरी टोला के लोगों की प्यास बुझाने का एकमात्र साधन झरना, जिसकी धार भी कम हो जीती है और सूख भी जाता है।

हजारीबाग : जान बचाने के लिए हर दिन जान जोखिम में डालते हैं यहां के ग्रामीण

मिट्टी के अंदर सुरंग बना कर निकालते हैं पानी

इस टोले के लोग झरना के मुहाने के भीतर करीब एक मीटर की सुरंग बनाकर तथा अंदर घुसकर पानी निकालते हैं। मिट्टी धंसने का खतरा ज्यादा होने से लोगों की जान सांसत में आ जाती है। इसी तरह लोग अपने तथा अपने परिवार की प्यास बुझाते हैं। इंसान ही नहीं बल्कि जानवरों की भी प्यास इसी चुएं की पानी से बुझती है।

हजारीबाग : जान बचाने के लिए हर दिन जान जोखिम में डालते हैं यहां के ग्रामीण

पेयजल के लिये लोगों ने कई बार नाकाम गुहार लगायी

टोला निवासी रामचंद्रतूरी प्रदीप तूरी, गुड़िया देवी पिंकी देवी का कहना है कि सरकार उनकी समस्याओं पर ध्यान नहीं देती। हम लोगों की सबसे बड़ी समस्या पीने के पानी के साथ-साथ रोजगार  की भी है। कई बार पेयजल के लिए गुहार लगाया है लेकिन सुविधा नहीं मिल पा रही है।

स्वच्छता विभाग के अधिकारी लापरवाह

कटकमसांडी पश्चिमी के पूर्व जिला परिषद सदस्य कुलदीप सिंह भोक्ता का कहना है कि यह बात सही है लोग पीने का पानी इसी चुआं से लेते हैं। पेयजल के लिए चापानल स्वच्छता विभाग के अधिकारियों से कई बार कहा गया लेकिन आज तक इस पर ध्यान नहीं दिया है। जरूरत है इस टोले में एक चापानल की ताकि लोगों को स्वच्छ पानी मिल पाए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

रांची : राजकीय कार्यक्रम में हंगामा करने पर 216 पारा शिक्षक बर्खास्त

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:20 PM
newscode-image

600 अन्य की बर्खास्तगी को लेकर कार्रवाई, गिरफ्तार कर पारा शिक्षकों को कैंप जेल में रखा गया

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस के दिन पूरे राज्य भर से राजधानी रांची में आए पारा शिक्षकों ने सरकारी कार्यक्रम को बाधा पहुंचाने की कोशिश की। साथ ही विधि व्यवस्था को अपने हाथ में लेकर पत्थरबाजी भी की।

विधि व्यवस्था में लगे  पुलिस प्रशासन के पदाधिकारियों, वरीय पुलिस अधीक्षक, सिटी पुलिस अधीक्षक  एवम् ड्यूटी पर तैनात पदाधिकारियों पर  पारा शिक्षकों  ने  हमला किया जिससे कई पुलिसकर्मी और  पदाधिकारी गंभीर रूप से जख्मी हुए।

पारा शिक्षकों द्वारा सरकारी कार्यक्रम में व्यवधान डालने, विधि व्यवस्था को तोड़ने एवम् सरकारी लोगो पर हमला करने की घटना को बेहद अशोभनीय एवम् गंभीर रूप से लेते हुए  वीडियो रिकॉर्डिंग एवम् कार्यक्रम स्थल पर लगे सीसीटीवी कैमरा से  लिए फुटेज एवम् अन्य प्रमाणों के आधार पर  16 प्रखंड के कुल 216 पर शिक्षकों को बर्खास्त किया गया।

साथ ही लगभग 600 पारा शिक्षकों को जिला प्रशासन द्वारा बनाई गई खेलगांव एवम् रेड क्रॉस अस्थायी जेल में गिरफ़्तार कर रखा गया है। जिन पर सीसीटीवी कैमरा एवम्  वीडियो रिकॉर्डिंग से मिले प्रमाण के आधार पर बर्खास्त करने की कारवाई चल रही है।

अन्य जिलों के जिलाधिकारियों को भी यहां शामिल पारा शिक्षकों की सूची भेजी जा रही है जिसके आधार पर  चिन्हित कर अनुशासनात्मक कारवाई की प्रक्रिया आरंभ कर दी गई है।  स्थापना दिवस एक राजकीय दिवस है जी सम्पूर्ण राजवसियो के लिए सम्मान एवम् गौरव  का दिन है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : झारखंड स्थापना दिवस- संपूर्ण झारखंड खुले में शौच मुक्त घोषित, करीब 2100 को मिला नियुक्ति पत्र

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 7:02 PM
newscode-image

रांची। झारखंड राज्य स्थापना दिवस मना रहा है। राज्य स्थापना दिवस के मौके पर राजधानी रांची के मोरहाबादी मैदान में आयोजित मुख्य समारोह में मुख्यमंत्री ने संपूर्ण झारखंड को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की। समारोह में राज्य के तीन जिलों देवघर, हजारीबाग और लोहरदगा को पूर्ण विद्युतीकृत किये जाने की घोषणा की गयी।

इस मौके पर अरबों रुपये की योजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन के साथ ही परिसंपत्तियों का वितरण भी किया गया। समारोह में करीब 2100 लोगों को नियुक्ति पत्र का भी वितरण किया गया।

झारखंड स्थापना दिवस पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने राज्य की जनता को कई सौगात दी। रांची में आयोजित मुख्य समारोह में उन्होंने राज्य को खुले में शौच से मुक्त किये जाने की घोषणा की।  उन्होंने कहा कि स्वच्छता को लेकर लोगों की आदतों में भी अब बदलाव आया है।

मुख्यमंत्री ने हर घर तक बिजली पहुंचाने के अपने वायदों को पूरा करते हुए राज्य के तीन जिलों देवघर, लोहरदगा और हजारीबाग को पूर्ण रूप से विद्युतीकृत होने का भी ऐलान किया। इस दौरान श्री दास ने कहा कि वर्तमान सरकार  पूरी तरह से पारदर्शी तरीके से काम कर रही  है और अब तक इस पर एक भी भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे है।

इस दौरान राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि देश के विकास में झारखंड का अहम योगदान है। उन्होंने कहा कि जनता को चुनी हुई सरकार से आकांक्षाएं होती है , जिसे पूरा करने में सरकार लगी है।

समारोह के दौरान अरबों रुपये की परिसंपत्तियों का वितरण किया गया और कई नई परियोजनाओं का शिलान्यास और उदघाटन भी हुआ। करीब 2100 लोगों के बीच नियुक्ति पत्र का वितरण और झारखंड और देश के विकास में अपनी भूमिका निभाने वाले लोगों को सम्मानित भी किया गया। जिला मुख्यालयों में भी परिसंपत्तियों का वितरण हुआ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

विधानसभावार बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में लोगों को जोड़ने की जरुरत- डॉ अजय

NewsCode Jharkhand | 15 November, 2018 6:56 PM
newscode-image

रांची। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमिटी प्रोजेक्ट शक्ति की बैठक आज कांग्रेस मुख्यालय, कांग्रेस भवन, रांची में प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष डॉ अजय कुमार की अध्यक्षता में संपन्न हुई।

बैठक में प्रदेश कांग्रेस कमिटी के अध्यक्ष डॉ अजय ने कहा कि जनसंपर्क कर प्रोजेक्ट शक्ति में नये लोगों को जोड़े और कांग्रेस पार्टी के  साथ-साथ कार्यकर्ता अपने आप को भी  शक्ति देने का काम करें। इस बैठक में  प्रदेश अध्यक्ष डॉ अजय कुमार ने राज्य के सभी जिलाध्यक्ष एवं विधानसभा प्रभारी, वरीय जिला उपाध्यक्ष के साथ-साथ प्रोजेक्ट शक्ति के जोनल को-ऑर्डिनेटर, जिला को-ऑर्डिनेटर अपने अपने विधानसभा में जाकर बूथ स्तर तक प्रोजेक्ट शक्ति में व्यक्तियों को जोड़े।

डॉ अजय ने कहा कि हमारी संगठन लगातार बूथवार मजबूती की ओर बढ़ रहा है। कांग्रेस पार्टी लोगों की जनसस्याओं को लेकर पंचायत स्तर से लेकर जिलास्तर एवं प्रदेश स्तर तक लगातार अभियान चला रही है। पार्टी जनमानस का ज्वलंत मुद्दा एवं लोगों की दुख-सुख की सहभागिता में अपना बहूमूल्य योगदान दे रही है।

बैठक मं प्रोजेक्ट शक्ति के को-ऑर्डिनेटर पप्पू अजहर ने कहा कि  कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी जी ने प्रोजेक्ट शक्ति का निर्माण कार्यकर्ताओं को शक्ति देने के लिए किया है। इससे बूथ स्तर के भी कार्यकर्ता प्रोजेक्ट शक्ति से जुड़कर अपने आप को शक्ति देने का काम करेंगे।

इस अवसर पर मुख्य रूप प्रदेश कांग्रेस कमिटी के जोनल को-ऑर्डिनेटर सुलतान अहमद, रमा खलखो एवं भीम कुमार संगठन मोर्चा विभाग के प्रभारी रवीन्द्र सिंह, प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद, शमशेर आलम, उपस्थित हुए।

बैठक का संचालन प्रदेश कांग्रेस प्रोजेक्ट शक्ति के को-ऑर्डिनेटर पप्पू अजहर ने किया।में मुख्य रूप से ज्योति मथारू, ईश्वर आनंद, सुदीप तिग्गा, गजेन्द्र सिंह, जिलाध्यक्ष-मंजूर अंसारी, ब्रजेन्द्र सिंह, अरविंद तुफानी, जशरंजन पाठक, मुक्ता मंडल, मनोज सहाय पिंकू, छोटे राय सिंकू, रामकृष्ण चौधरी, रौशन बरवा, साजिद अहमद आदि प्रमुख उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

रांची : आम आदमी पार्टी ने निकाली झारखंड नवनिर्माण संकल्प...

more-story-image

रांची : पुलिस मुख्यालय में लगी भीषण आग, मची अफरा-तफरी

X

अपना जिला चुने