हजारीबाग : संत शिरोमणि रविदास जयंती के साथ विशाल शोभायात्रा निकाली गई

NewsCode Jharkhand | 1 February, 2018 5:56 PM
newscode-image

हजारीबाग। संत शिरोमणि रविदास जयंती बहुत ही हर्षोल्लास के साथ ग्राम देवीनगर डुमर में मनाया गया। कार्यक्रम में सांस्कृतिक कार्यक्रम की प्रस्तुति की गई। जिसमें कई बच्चों ने बढ़ चढ़कर हिस्सा लिया और अपनी कला का प्रदर्शन किया। सांस्कृति कार्यक्रम समापन के बाद सारे बच्चों को पुरस्कृत किया गया।

Read more:- रांची : आदिवासी छात्र संघ ने पुराने बिरसा मुंडा जेल को पुस्तकालय बनाने की उठायी मांग

सुबह पूजा अर्चना की गई, जिसमें मुख्य अतिथि रविदास समाज के महामंत्री तुलसीदास द्वारा पूजा का उद्घाटन किया गया। इसके बाद शाम को एक विशाल शोभायात्रा निकाली गई। अर्जुन राम की अध्यक्षता में शोभायात्रा में शामिल होने वालो में महादेव राम, सत्येंद्र राम, प्रदीप कुमार दास, तुलसी कुमार दास, राजाराम, रोशन, निर्मल राम, बसंत, बंदी, बंटी, राजेंद्र एवं समस्त रविदास परिवार उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

हजारीबाग : जन आरोग्य योजना के तहत देश का पहला अॉपरेशनकरने वाला अस्पताल बना आरोग्यम 

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 4:59 PM
newscode-image

हजारीबाग। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सपना हजारीबाग से पूरा हुआ| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसे ही आयुष्मान भारत योजना का शुभारंभ रांची से किये। वैसे ही हजारीबाग के एचजेडबी आरोग्यम मल्टीस्पेशेलिटी हॉस्पिटल में गरीब मरीज दुर्गा देवी के पीड़ा को सर्जरी करके हमेशा के लिए राहत दे दिया गया। जिले के कोर्रा निवासी 27 वर्षीय दुर्गा देवी वर्षों से पित्त की थैली में पथरी होने की वजह से भयंकर पीड़ादायक दर्द को पैसे के अभाव में सहन करने को मजबूर थी।

हजारीबाग : साल में दो बार ही सूर्योदय का ऐसा नजारा देखने को मिलता है

 लेकिन देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र भाई मोदी के एक जनकल्याणकारी सोच और जनहित की योजना आयुष्मान भारत के तहत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना ने दुर्गा देवी के लिए संजीवनी का कार्य किया और सबसे पहले उन्हें गोल्डन कार्ड मिला। कार्ड मिलते ही इस योजना के तहत सूचीबद्ध अस्पताल एचजेडबी आरोग्यम मल्टीस्पेशेलिटी हॉस्पिटल में इनकी चिकित्सीय इलाज की प्रक्रिया शुरू हुई।

 और पीएम के द्वारा रांची से योजना का श्रीगणेश होते ही आरोग्यम के प्रसिद्द शल्य चिकित्सक डॉ बीएन प्रसाद और एनेस्थेटिस्ट डॉ महेंद्र और उनकी सहयोगी टीम ने इनके पत्थरी का ऑपरेशन शुरू किया। मरीज दुर्गा देवी के पित्त की थैली से पत्थरी बाहर निकालकर उन्हें पीड़ादायक दर्द से सदैव के लिए राहत पंहुचाने का कार्य किया गया|।

हजारीबाग : दुर्गा देवी बनी देश में पहली गोल्डन कार्ड की लाभुक

इस तरह आरोग्यम देश का पहला अस्पताल बन गया जहां प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत पहला सफल ऑपरेशन किया गया। मरीज दुर्गा देवी के बाद उक्त योजना के तहत ही यहां एक अन्य मरीज चन्द्रदेव यादव के मूत्रणाली में हुए पथरी का भी सफल ऑपरेशन आरोग्यम के चिकित्सकों और उनकी चिकित्सीय टीम द्वारा किया गया।

हजारीबाग : आरंभ वैक्वेंट में शराब के नशे में चाकूबाजी, एसपी का बॉडीगार्ड निलंबित

इधर ऑपरेशन करने के बाद आरोग्यम के शल्य चिकित्सक डॉ बीएन प्रसाद ने कहा की जीवन में पहली बार ऐसी ख़ुशी मिली इस योजना के शुरूआती ऑपरेशन करके जिसे मैं शब्दों में बयां नहीं कर सकता। ऑपरेशन के दौरान ऐसा लग रहा था जैसे मैं बोर्डर पर खड़ा होकर दुश्मनों को मार गीरा रहा हूँ।  उन्होंने कहा की गरीबी से लड़ने वालों के लिए यह योजना संजीवनी का काम करेगी और लोगों के जीवन में खुशहाली लाएगी।

हजारीबाग : एक करोड़ रूपए लेकर शख्‍स चंपत, दिया धरना

आरोग्यम अस्पताल के निदेशक हर्ष अजमेरा ने आरोग्यम अस्पताल के इस बड़ी उपलब्धि पर ख़ुशी का इजहार करते हुए कहा की सरकार की यह योजना के तहत लाल और पीला राशन कार्ड धारियों के लिए पांच लाख रुपये तक का मुफ्त में इलाज आरोग्यम में हो पाएगा। उन्होंने कहा की आरोग्यम पूर्व से मुख्यमंत्री गंभीर बीमारी उपचार योजना के तहत सूचीबद्ध होकर बेहतर सेवा प्रदान कर रहा है अब आयुष्मान भारत योजना के तहत भी लोगों को सेवाभाव से बेहतर सुविधा उपलब्ध कराएगा ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गिरिडीह :  प्रधानमंत्री ने अपनी बहनों को भेजा तोहफा, राखी के बदले आया स्मार पत्र

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 6:08 PM
newscode-image

गिरिडीह।  देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गिरिडीह की दो बहनों को रक्षाबंधन का तोहफा भेजा है।  मोहलीचुआ की रहने वाली रामबाबू साहू की पुत्री सेजल कुमारी और चाहत कुमारी ने प्रधानमंत्री को राखी भेजी थी।

राखी मिलने के बाद पीएमओ से इन दोनों बहनों के लिए स्मार पत्र आया है। बताया गया कि पिछले साल भी इन दोनों बहनों ने प्रधानमंत्री को राखी भेजी थी और पिछले साल भी उन्हें स्मार पत्र मिला था।

इस बार भी स्मार पत्र मिलने से दोनों बहनें बेहद खुश हैं। इनका कहना है कि प्रधानमंत्री सहृदय व्यक्ति हैं और उन्होंने दिल से राखी स्वीकार की। इसी वजह से वहां से प्रमाण पत्र भेजा गया है।

स्मार पत्र मिलने से परिवार  के  सदस्य भी हर्षित हैं। बताया गया कि ये दोनों बहनें हर साल देश के सैनिकों को भी राखी भेजती हैं ताकि देश की रक्षा करने वाले सैनिकों की कलाईयाँ सूनी न रह जाए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

रांची : पीएम की तस्वीर बनाकर भेंट करना चाहती थी छात्रा, सुरक्षा गार्ड ने रोका

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 6:06 PM
newscode-image

रांची। नरेंद्र मोदी देश वासियों के चहेते प्रधानमंत्री हैं। मोदी वैसे तो बच्चों और छात्रों में काफी लोकप्रिय है लेकिन पीएम मोदी के सभा स्थल से एक छात्रा को निराश होकर लौटना पड़ा। दरअसल प्रधानमंत्री का कार्यक्रम रांची के धुर्वा स्थित प्रभात तारा मैदान में हो रहा था।

कार्यक्रम के माध्यम से प्रधानमंत्री आयुष्मान भारत स्वास्थ बीमा योजना का शुभारम्भ कर रहे थे। इस एतिहासिक पल का साक्षी बनाने के लिए सभा स्थल पर लाखों लोग मौजूद थे। वैसे भी मोदी जहाँ जाते है तो उनके चाहने वाले लोगों की ख़ुशी देखते ही बनती है।

रांची : प्रधानमंत्री ने रांची से की आयुष्मान भारत योजना की शुरुआत

पीएम हमेशा छात्र हितों की बात करते है शायद इसी लिए मोदी से मिलने के लिए रातू रोड की डिम्पी नाम की छात्रा सभा स्थल तक पहुंची, लेकिन डिम्पी को प्रधानमंत्री के सुरक्षा गार्ड ने रोक दिया। डिम्पी के हाथ में नरेंद्र मोदी की तस्वीर थी जिसे डिम्पी ने खुद अपने हाथों से बड़े अरमान से बनाई थी। मोदी की तस्वीर में बड़े ही प्यार से रंग भरी लेकिन सुरक्षा गार्ड द्वारा रोके जाने के कारण मोदी के तस्वीर के साथ डिम्पी के अरमानों के रंग भी फीके पड़ गए।

फिलहाल डिम्पी रांची मारवाड़ी कॉलेज बायोटेक की छात्रा है। मैट्रिक 70% अंक से पास है, डिम्पी पढ़ाई में भी काफी अच्छी है इसके बावजूद डिम्पी अपने चहेते प्रधानमंत्री से नही मिल पायी क्योंकि उसके पास पीएम से मिलने के लिए कागज के टुकड़े वाले पास नही थे।

डिम्पी मोदी से मिलने के लिए सुरक्षा कर्मियों से लाख बिनती करती रही लेकिन किसी ने उस छात्रा की फरियाद तक नही सुनी और पीएम से अगली बार मुलाकात करने की उम्मीद लिए डिम्पी निराश होकर अपने घर पैदल लौट गई।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

तेनुघाट : आयुष्मान भारत योजना से गरीब भी करा पायेंगे...

more-story-image

साहेबगंज : सीएस ने सदर अस्पताल में पूछताछ केंद्र का...