ग्रुप डिस्कशन: क्या करें क्या ना करें ? इन दस टिप्स की बदौलत आप हो सकते हैं सफल

NewsCode | 21 September, 2017 8:09 PM
newscode-image

हम सबके साथ अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने ग्रुप के बीच बातचीत में खुद को बेहतर तरीके से प्रेजेंट कर लेते हैं, लेकिन जैसे ही बात किसी कोर्स में एडमिशन या नौकरी के लिए ग्रुप डिस्कशन की आती है, तो हमारे हाथ-पांव फूलने लगते हैं। हम कई बार अपनी मजबूती तक को प्रदर्शित नहीं कर पाते। अब तो ऐसी सैकड़ों कंपनियां हैं, जो इंटरव्यू और ग्रुप-डिस्कशन को तरजीह देते हुए उम्मीदवारों का चयन कर रही हैं।

इसी के मद्देनजर हम खास आप सभी के लिए लेकर आए हैं ग्रुप डिस्कशन में सहज रहने और अपनी बातों को मजबूती से रखने के गुर, ताकि आप सफल हो सकें।

ग्रुप डिस्कशन में क्या करें और क्या नहीं

1. बोलते समय आई कॉन्टेक्ट बनाकर रखें

बोलते वक्त सिर्फ मॉडरेटर से आई कॉन्टेक्ट बनाने के अलावा डिस्कशन में मौजूद सारे लोगों से आई कॉन्टेक्ट बनाए रखें।

2. जीडी की शुरुआत करें

ऐसा अक्सर देखा गया है कि ग्रुप डिस्कशन में शुरुआत करना कई बार फायदेमंद होता है। आप शुरुआत में ही अपना पक्ष रख देते हैं। हालाँकि ये शुरूआत आपको तभी लेनी चाहिए जब आप टॉपिक के बारे में अच्छे से समझ चुके हों या टॉपिक के बारे में सटीक जानकारी रखते हों।

3. साफ-साफ और स्पष्ट बोलें

कई बार लोग बोलना तो बहुत कुछ चाहते हैं मगर साफ-साफ न बोल पाने की वजह से सारा मामला गड़बड़ा जाता है। इसके अलावा यदि आपको किसी की बातें समझ में नहीं आती हैं तो आक्रामक न हों और धैर्य बनाएं रखें।

4. डिस्कशन को ट्रैक पर लाने की कोशिश करें

डिस्कशन में ऐसा कई बार होता है कि बहस का रुख विषय से विषयांतर हो जाता है।  ऐसे में आप अपनी ओर से पहल करें, और यह बात आपको स्वत: ही मॉडरेटर की नजरों में ले आएगी।

5. सकारात्मक एटीट्यूड बनाए रखें

आत्मविश्वास बनाए रखें। किसी पर बिना वजह चढ़ने की कोशिश न करें। आपके बॉडी लैंग्वेज से ऐसा लगना चाहिए जैसे आप बहस में बराबर के सहयोगी हैं।

6. समझदारीपूर्वक बोलें

ऐसा न हो कि आपके बोलने के दौरान ऐसा लगे जैसे आप सिर्फ अपने हिस्से का समय काटने के लिए बोल रहे हैं।  आपके बोलने से विषय पर आपकी पकड़ और समझदारी झलकनी भी चाहिए।

7. दूसरों को भी सम्मान के साथ सुनें

ग्रुप डिस्कशन में लोगों को सुनने से भी कई बार कई लिंक मिल जाते हैं जो आपको आगे और बेहतर तरीके से बोलने के प्वाइंट्स दे देता है। ऐसे में आप अपने लिए स्पेशल स्पेस क्रिएट करते हैं।

8. ज्यादा डिटेल में न जाएं

ऐसा कई बार हो जाता है कि हम कई विषयों पर काफी कुछ जान रहे होते हैं और उस टॉपिक पर बहस शुरू होते ही पिल पड़ते हैं। न दूसरों की सुनते हैं और न ही उन्हें बोलने का मौका देते हैं। ग्रुप डिस्कशन में मोनोलॉग से बचें।

9. फॉर्मल कपड़े पहनें

इंटरव्यू और ग्रुप डिस्कशन कोई फैंसी ड्रेस कॉम्पटीशन नहीं है, इसलिए विशेष सतर्कता बरतें।

10. संयम बनाए रखें

ग्रुप डिस्कशन की शुरुआत से लेकर अंत तक संयम बनाए रखना बेहद जरूरी होता है। कई बार आप बहस के दौरान आपा खो बैठते हैं और सारा मामला गुड़-गोबर हो जाता है।

दुमका : ड्रग्स मामले में सीडब्ल्यूसी ने संत जोसफ स्कूल प्राचार्य को किया तलब, बयान दर्ज

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 6:16 PM
newscode-image

दुमका। बीते दिनों संत जोसेफ स्कूल में सीनियर बच्चों द्वारा जूनियर छात्रों को चोरी एवं नशे के लत धराने के मामले के उजागर होने के बाद स्कूल प्रबंधन लगातार जांच प्रक्रिया से गुजर रही है। जांच के क्रम में सीडब्लूसी के नोटिस पर शुक्रवार को स्कूल प्रबंधन की ओर से प्राचार्य फादर पियूस मरांडी से कार्यालय में पूछताछ कर बयान दर्ज किया।

प्राचार्य फादर पियूस मरांडी ने बताया कि छात्रों के गलत गतिविधियों की जानकारी नहीं थी। मामले का उजागर होते ही अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए दोषी छात्रों को विद्यालय से निष्कासित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि अनुशासन कमेटी द्वारा भी छात्रों के गतिविधियों से अवगत नहीं करवाया गया था। जिसके कारण छात्रों के गलत गतिविधियों से अनभिज्ञ थे।

दुमका : संत जोसेफ स्कूल प्रबंधन के खिलाफ उच्च स्तरीय जांच हो-विमल मरांडी

फादर मरांडी ने बताया कि स्कूल में अनुशासन बनाये रखने के लिए कई ठोस कदम उठाये है। विद्यालय में प्रतिदिन छात्रों के बैंग का जांच, अनुपस्थित होने वाले छात्रों के अभिभावकों को जानकारी देना।

सीडब्लूसी के समक्ष छात्रों के भविष्य को प्रभावित करने वाले सभी गलत गतिविधियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वान दिया। जांच कमेटी में सीडब्लूसी अध्यक्ष अधिवक्ता मनोज साह, सदस्य सुमिता सिंह, रमेश कुमार, रंजन सिन्हा एवं  धर्मेन्द्र नारायण उपस्थित थे।

दुमका : किराना स्टोर में पुलिस ने किया छापेमारी, डुप्लिकेट गुलाब जल बरामद

जानकारी के अनुसार 14 सितंबर को अभिभावकों द्वारा स्कूल प्रबंधन के खिलाफ नगर थाना में लिखित शिकायत करते हुए कार्रवाई की मांग किया था। मामले में अभिभावकों समूह स्कूल प्रबंधन से मिलकर 12 सितंबर को सीनियर छात्रों के करतूतों से अवगत करवाया था।

दो दिन बीत जाने के बाद भी स्कूल प्रबंधन द्वारा दोषी छात्रों के विरुद्ध कार्रवाई नहीं होता देख थाना में लिखित शिकायत किया था। इसके बात मामला प्रकाश में आते ही पुलिस प्रशासन सहित जिला प्रशासन हरकत में आयी थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गढ़वा : गमगीन माहौल में निकाला गया ताजिया का जुलूस

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 8:56 PM
newscode-image

गढ़वाबरडीहा प्रखंड क्षेत्र में मुस्लिम धर्मावलंबियों द्वारा गमगीन माहौल में ताजिया का जुलूस निकाला गया। जुलूस के दौरान इस्लामिया  अंसार कमेटी  जोगीबीर द्वारा बनाया गया ताजिया  आकर्षण का केंद्र रहा। पूरा क्षेत्र या अली और या हुसैन की नारों से गूँज उठा।

जायंट्स ग्रुप ऑफ मझिआंव इकाई द्वारा स्टॉल लगाया गया था।  यहां पर जलपान की व्यवस्था की गई थी। साथ ही जुलूस का नेतृत्व करने वाले लोगों को पगड़ी बांधकर सम्मानित भी किया गया। इस दौरान नगर पंचायत अध्यक्ष सुमित्रा देवी एवं प्रशासनिक अधिकारियों को भी पगड़ी प्रदान कर सम्मानित किया गया।

इस दौरान प्रशासन द्वारा सुरक्षा के कड़े इंतजाम किया गया था। जुलूस के दौरान जेएमएम नेता अनवर हुसैन अंसारी, जायंट्स ग्रुप अध्यक्ष मारुत नंदन सोनी पवन कुमार, खुशी जयसवाल, सूरज जायसवाल, मो.रियाज़, मो. सक्लेन समेत कई  लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

जमशेदपुर : पुलिस की गाड़ी की टक्कर से महिला की मौत, मुआवजा मांगने पर लाठी चार्ज

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 8:55 PM
newscode-image

जमशेदपुर ।  बर्मामाइंस थाना अंतर्गत लाल बाबा फाउंड्री के पास सड़क दुर्घटना में एक महिला की मौत हो गई । वैसे यह घटना उस वक्त घटी जब महिला अपने बच्चे को स्कूल छोड़ने जा रही थी। उधर पुलिस की गाड़ी ने महिला को टक्कर मार दी और घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

घाटशिला : 65 लाभुकों के बीच किया गया एलपीजी गैस सिलेंडर एवं चूल्हेे का वितरण

वैसे मुआवजा की मांग को लेकर मृतक के परिजनों ने स्वर्णरेखा बर्निंग घाट को जाम का मुख्य सड़क पर जमकर प्रदर्शन किया। सड़क जाम होने की सूचना पुलिस मौके पर पुलिस पहुंची और मुआवजा देने के बजाय लाठीचार्ज कर दिया ।

उधर लाठीचार्ज में भगदड़ मच गई और लोगों ने पत्थरबाजी शुरू कर दिया । वैसे इस पत्थरबाजी में 1 दर्जन से ज्यादा लोग घायल हो गए ।

उधर पुलिस ने 4 लोगों को हिरासत में लिया है और पूछताछ कर रही है। वैसे सबसे बड़ी बात कि पुलिस की गाड़ी से महिला की मौत हुई, लेकिन पुलिस ने मुआवजा देने के बजाय डंडा चलाना शुरू कर दिया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

साहेबगंज : सड़क दुर्घटना में एक बच्चा सहित 3 की...

more-story-image

कटकमसांडी : गगनचुंबी आलम और रंग-बिरंगे ताजिया ने लोगों को...