Ustad Bismillah Khan 102nd Birthday: गूगल डूडल ने शहनाई के जादूगर उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को किया याद

NewsCode | 21 March, 2018 3:10 PM

Ustad Bismillah Khan 102nd Birthday: गूगल डूडल ने शहनाई के जादूगर उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को किया याद

नई दिल्ली| सर्च इंजन गूगल ने बुधवार को दिग्गज शहनाई वादक उस्ताद बिस्मिल्लाह खान को उनकी 102वीं जयंती पर एक खास डूडल समर्पित कर याद किया है। इस डूडल को चेन्नई निवासी चित्रकार विजय कृष ने डिजाइन किया है।

इसकी पृष्ठभूमि में ज्यामितीय शैली का पैटर्न बना हुआ है और बिस्मिल्लाह खान शहनाई बजाते नजर आ रहे हैं।

बिहार के राजदरबार के संगीतकारों के परिवार में 1916 में उनका जन्म हुआ था। खान को संगीत से बेहद प्रेम था और वह अक्सर शहनाई को अपनी पत्नी कहते थे।

सादगी और मधुर व्यवहार के लिए प्रसिद्ध खान भारत के सभी चार सबसे बड़े नागरिक सम्मानों से नवाजे जा चुके हैं, जिसमें भारतरत्न भी शामिल है।

उन्होंने न केवल 1947 में भारत के पहले स्वतंत्रता दिवस समारोह में प्रस्तुति दी थी, बल्कि 1950 में पहले गणतंत्र दिवस समारोह में भी प्रस्तुति दी थी।

डूडल पेज के मुताबिक, “हालांकि, उन्होंने 14 वर्ष की उम्र में सार्वजनिक रूप से शहनाई वादन शुरू कर दिया था, लेकिन 1937 में कोलकाता में हुआ अखिल भारतीय संगीत सम्मेलन उनके करियर में एक महत्वपूर्ण मोड़ लेकर आया।”

डूडल पेज पर आगे कहा गया है, “तीन दशक बाद, जब उन्होंने एडिनबर्ग संगीत महोत्सव में प्रस्तुति दी, तो शहनाई को वैश्विक दर्शक मिले और लाखों लोगों के दिलोदिमाग पर यह छा गया।”

अफगानिस्तान : काबुल में आत्मघाती विस्फोट से 26 लोगों की मौत, 18 घायल

दुनिया को संगीत के जरिए एकजुट करने के सपने के साथ 2006 में वाराणसी में बिस्मिल्लाह खान चल बसे, जहां उन्होंने अपना जीवन बिताया था।

‘मिलन टॉकीज’ में अपने किरदार के लिए तैयारियों में जुटे अली फजल, साथ में रोमांस करेंगी साउथ की ये एक्ट्रेस

 आईएएनएस

केरल के बाद हिमाचल में निपाह वायरस की आशंका, स्कूल में मरे मिले कई चमगादड़

NewsCode | 24 May, 2018 1:01 PM

केरल के बाद हिमाचल में निपाह वायरस की आशंका, स्कूल में मरे मिले कई चमगादड़

नाहन। केरल में निपाह वायरस से 11 से ज्यादा लोगों की मौत होने के बाद केरल समेत पूरे देश में ‘निपाह वायरस’ को लेकर भय बना हुआ है। नीपाह वायरस को लेकर दिल्ली-एनसीआर समेत जम्मू-कश्मीर, गोवा, राजस्थान, गुजरात और तेलंगाना में अलर्ट जारी कर दिया गया है। वहीं अब हिमाचल प्रदेश में एक दर्जन से ज्यादा मरे हुए चमगादड़ मिलने से सनसनी मच गई है।

खबर है कि हिमाचल के नाहन की पंचायत बर्मापापड़ी के एक सीनियर सेकंडरी स्कूल के प्रांगण में 18 चमगादड़ मरे हुए पाए गए हैं, बताया जा रहा है कि ये चमगादड़ बीते काफी सालों से यहां के पेड़ों पर रहते थे, ये कभी किसी को परेशान नहीं करते थे लेकिन अचानक से बुधवार को यहां डेढ़ दर्जन चमगादड़ों की मौत हो गई, जिसे देखकर लोग भयभीत हो गए।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के मुताबिक, पशुपालन विभाग और वन विभाग की टीम ने मृतक चमगादड़ों के सैंपल लेकर जांच के लिए भेज दिए गए हैं। इनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद ही मौत की वजह का खुलासा हो पाएगा।

जिला मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी संजय शर्मा ने कहा, हर साल इस इलाके में बड़ी संख्या में चमगादड़ दिखते हैं. वैसे इस बार इनकी संख्या कुछ ज्यादा ही थी। उन्होंने कहा, स्कूल के प्रिंसिपल और छात्रों ने बताया कि हर साल चमगादड़ आते हैं और इस तरह की घटना भी हर साल ही होती है. हालांकि, इस साल उनकी संख्या काफी ज्यादा है।

उन्होंने आगे कहा, हमने स्कूल के टीचर और छात्रों को वायरस के बारे में जानकारी दे दी है। हमने किसी भी तरह के फिजिकल कॉन्टेक्ट से उन्हें स्पष्ट मना कर दिया है। स्कूल की प्रिंसिपल सुपर्णा भारद्वाज ने कहा, निपाह वायरस की वजह से इस पूरे मामले में लोग डर गए थे। छात्रों को निपाह वायरस के बारे में पूरी जानकारी दे दी गई है।

तूतीकोरिन में प्लांट ठप होने से 32,500 कामगारों पर संकट, इंटरनेट बंद, धारा 144 लागू

लोगों के दहशत को देखते हुए वन विभाग के डीसी ललित जैन ने लोगों से अपील की वो परेशान या भयभीत ना हो क्योंकि चमगादड़ों की मौत के बाद इस क्षेत्र में ‘निपाह वायरस’ के फैलने की संभावना ना के बराबर है क्योंकि चमगादड़ों के मरने के बाद संक्रमण फैलने की संभावना नहीं पाई गई है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि गर्मी के कारण चमागादड़ों की मौत हुई हो।

पत्थरबाज को जीप पर बांधकर घुमाने वाले मेजर गोगोई नाबालिग लड़की समेत हिरासत में लिए गए

Read Also

रांची : कोयला कामगारों को जून में मिलेगा एरियर

NewsCode Jharkhand | 24 May, 2018 12:47 PM

रांची : कोयला कामगारों को जून में मिलेगा एरियर

रांची। कोल इंडिया और सहायक कंपनियों में कार्यरत कामगारों को 10 जून से पहले दसवें वेतन समझौते का एरियर मिलने की संभावना है। इसका भुगतान एकमुश्‍त करने की योजना है। इस बाबत कोल इंडिया कार्मिक विभाग ने प्रस्‍ताव तैयार किया है। इसकी मंजूरी के लिए निदेशक (वित्‍त) को भेजा है। कार्मिक विभाग ने सभी सहायक कंपनियों के निदेशक (वित्‍त) को भी इसका भुगतान करने के लिए निर्देश जारी करने की बात कही है।

इससे कंपनियों में काम करने वाले और रिटायर हुए 3.50 लाख कामगारों को लाभ होगा। एरियर की पहली किस्‍त 51 हजार रुपये का भुगतान हो चुका है।

आवास भत्‍ता का भुगतान भी जून माह में

श्रमिक संगठन एटक के लखनलाल महतो ने बताया कि शहरी क्षेत्र में रहने वाले कामगारों को आवास भत्‍ता का भुगतान भी जून माह के तनख्‍वाह से होगा। इसका भुगतान जुलाई में किया जाएगा। केंद्र सरकार के निर्धारित दर पर यह दिया जाएगा।

Read More:- टुंडी : रोजगार के क्षेत्र में आत्‍मनिर्भर बनेंगी ग्रामीण महिलाएं, मिल रहा मुफ्त प्रशिक्षण

महतो ने बताया कि जून के पहले सप्‍ताह में एपेक्‍स कमेटी या स्‍टेंडाईजेशन कमेटी की बैठक होने की संभावना भी है। इसमें नि:शक्‍त कामगारों की सुविधा, यात्रा भत्‍ता के भुगतान,आश्रितों को मिलने वाले मोनेटरी कंपसेशन, ओवर टाईम सहित कई अन्‍य मामलों पर चर्चा होगी। इसके बाद क्रियान्‍वयन आदेश (आईआई) जारी किया जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

तूतीकोरिन में प्लांट ठप होने से 32,500 कामगारों पर संकट, इंटरनेट बंद, धारा 144 लागू

NewsCode | 24 May, 2018 12:02 PM

तूतीकोरिन में प्लांट ठप होने से 32,500 कामगारों पर संकट, इंटरनेट बंद, धारा 144 लागू

तूतीकोरिन। तमिलनाडु के तूतीकोरिन में वेदांता यूनिट की कॉपर प्लांट के विरोध-प्रदर्शन के कारण स्टरलाइट कॉपर प्लांट बंद होने से 32 हजार 500 नौकरियों पर असर पड़ा है। इनमें 3 हजार 5 सौ लोगों की आजीविका पर सीधा असर पड़ा है, जबकि 30 से 40 हजार नौकरियों पर अप्रत्यक्ष रूप से प्रभाव पड़ा है। वहीं, अफवाहें फैलने के चलते तमिलनाडु सरकार ने तुतीकोरिन में 5 दिनों तक इंटरनेट सेवा बंद कर दी है।

तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का लाइसेंस रिन्यू करने से इनकार

तमिलनाडु प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने प्लांट का लाइसेंस रिन्यू करने से इनकार कर दिया है, बोर्ड ने अप्रैल के बाद से तीन मुख्य प्रावधानों के उल्लंघन का जिक्र किया है। बोर्ड ने पाया कि स्टरलाइट ने धातुमल को नदियों में बहाते हुए पर्यावरण नियमों का उल्लंघन किया है। साथ ही प्लांट के नजदीकी नलकूपों के पानी को लेकर प्लांट ने बोर्ड को रिपोर्ट नहीं दी है।

धारा 144 लागू

सोशल मीडिया के जरिए लोगों में बढ़ते गुस्से को देखते हुए ये फैसला लिया गया है। तूतीकोरिन में वेदांता स्टरलाइट कॉपर यूनिट के खिलाफ प्रदर्शन में मारे गए लोगों की संख्या बढ़कर 13 हो गई है। इलाके में धारा 144 लागू है। इसके अलावा इससे सटे तिरुनेलवेलि और कन्याकुमारी जिले में भी इंटरनेट सुविधाएं बंद रहेंगी। अब तक इस मामले में 67 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

एनएचआरसी ने तमिलनाडु सरकार को जारी किया नोटिस

इस मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) ने तमिलनाडु सरकार को नोटिस जारी कर इस मामले में दो सप्‍ताह के अंदर रिपोर्ट सौंपने को कहा है. एनएचआरसी ने नोटिस में बताया है कि उन्‍हें मीडिया से खबर मिली है कि तमिलनाडु के तूतीकोरिन जिले में पुलिस ने लाठीचार्ज और गोलीबारी की. पुलिस के इस बर्ताव से प्रदर्शन हिंसक हो गया और 11 लोगों की जान चली गई।

जांच कमेटी गठित

तमिलनाडु सरकार ने पूरे मामले में रिटायर्ड जज अरुण जगदीशन की एक सदस्यीय कमेटी का गठन कर जांच करने का आदेश दिया है. वहीं मद्रास हाईकोर्ट की मदुरै बेंच ने स्टरलाइट प्लांट के नए कॉपर स्मेल्टर (तांबा गलाने वाली यूनिट) के निर्माण पर रोक लगा दी है।

पत्थरबाज को जीप पर बांधकर घुमाने वाले मेजर गोगोई नाबालिग लड़की समेत हिरासत में लिए गए

जयललिता ने दिया था प्लांट बंद करने का आदेश

वेदांता समूह की इकाई स्टरलाइट इंडस्ट्रीज इंडिया लिमिटेड का प्लांट तूतीकोरिन में पिछले 20 साल से चल रहा है। मार्च 2013 में प्लांट में गैस रिसाव के कारण तत्कालीन मुख्यमंत्री जे जयललिता ने इसे बंद करने का आदेश दिया था। इसके बाद कंपनी एनजीटी में चली गई। एनजीटी ने राज्य सरकार का फैसला उलट दिया। राज्य सरकार इस पर सुप्रीम कोर्ट में चली गई और अब याचिका शीर्ष अदालत में लंबित है।

वित्तीय संकट से जूझ रही कांग्रेस, 2019 में कैसे करेगी मोदी से मुकाबला?

X

अपना जिला चुने