गिरिडीह: चीन के दो युवा इन दिनों गिरिडीह में रूक, कर रहे हैं भारतीय संस्कृति का अध्ययन   

NewsCode Jharkhand | 8 July, 2018 10:26 AM
newscode-image

गिरिडीह। आज हमारा समाज विदेशी संस्कृति को अपना कर गौरवान्वित महसूश करता है।  लेकिन विदेश के लोग भी भारतीय संस्कृति को जानने समझने के लिए लालायित हैं। भारतीय संस्कृति, व्यापार और कानून के अध्ययन के लिए चीन से दो युवा गिरिडीह पहुंचे हैं।

 भारतीय समाज व सांस्कृति को नजदीक से समझे चीनी युवा

चीन के हैवेई प्रांत की रहने वाली वांग शु इंग और उनके भाई वांग वेई पहली बार भारत के विभिन्न स्थानों से होते हुवे इन दिनों गिरिडीह में हैं। दोनों बेहद उत्साह से भरें हुवे हैं। इंटरनेशनल बिजनेस एंड रिलेशनशीप में एमबीए कर चुकीं वांग शु इंग ने कहा कि भारत आकर उन्हें बहुत अच्छा लग रहा है। इस यात्रा में उन्हें यहां की संस्कृति और समाज को नजदीक से देखने और समझने का अवसर मिल रहा है।

स्थानीय लोग को चीन सांस्कृति से होंगे अवगत

उनके भाई वांग वेई एक इलेक्ट्रिकल इंजीनियर हैं। उन्होंने बताया कि भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय कानून के अंतर्संबंधों को समझने के साथ वे भारतीय न्याय व्यवस्था का भी अध्ययन यहां करेंगे।साथ ही यहां के लोगों को चीन की संस्कृति की भी जानकारी देंगे।

जिला कोर्ट में भारतीय कानून कार्यप्रणाली की ली जानकारी

 भारतीय कानून और इसकी कार्यप्रणाली को समझने दोनों भाई बहन ने गिरिडीह जिला कोर्ट के वकीलों राजकिशोर प्रसाद, आर गोस्वामी और गीतेश चन्द्र से बातचीत कर जानकारियां लीं और उन्होंने कोर्ट परिसर का भ्रमण भी किया।हंसमुख और मिलनसार दोनों चीनी युवा गिरिडीह के अधिवक्ता आकाश कुमार के साथ एक माह तक भारत में रहकर यहां चीनी निवेश की संभावना को भी टटोलेंगे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

पाकुड़ : जान में जोखिम डालकर बच्चे जाते है विद्यालय 

NewsCode Jharkhand | 22 September, 2018 8:02 PM
newscode-image

पाकुड़। पाकुड़ प्रखण्ड मुख्यालय के पृथ्वीनगर पंचायत के सतीशनगर गांव में नन्हें-मुन्हे बच्चे पढने के लिए जान में जोखिम डालकर बॉस से बना पुल से विद्यालय जाते है।

बॉस का पुल समाज के लोगों ने मिलकर बनाया है। इस बॉस का पुल से समाज के लोगों का आना-जाना है।  बरसात के दिनों में गढ्ढा में जल जमाव हो जाता है, जिससे लोगों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ता है। गढ्ढा का जलस्तर बढ़जाने से इलाके में पानी जमाव हो गया है। बॉस के पुल से बच्चे विद्यालय नहीं गये तो उनलोगों को दो से तीन किलोमीटर घुमकर विद्यालय जाना पड़ता है।

पाकुड़ : हिरोईन के साथ दो अंतरराज्यीय तस्कर गिरफ्तार

कभी कभी बॉस के पुल से जाने के क्रम में कई बार बच्चे गिर जाने के कारण हादसे से शिकार हो जाते है।  ग्रामीणों ने अपने सहयोग से जलजमाव में फॅसे लगभग 60 से 70 घर उसी पुल के सहारे अपने जान में जोखिम डालकर पार करते है। ग्रामीणों ने सरकार से सड़क निर्माण कराने की मांग कर रहे है ताकि जान में जोखिम डालकर बॉस के बने पुलिया से पार नहीं करने पड़े।

जानकारी के अनुसार ग्रामीण कार्य विभाग से सड़क निर्माण की स्वीकृति मिल गई है, पर कब सड़क बनेगी कहा नहीं जा सकता।तब तक बच्चें जान में जोखिम डालकर स्कूल जा रहे है। विद्यालय के प्रधानाध्यापक मोहम्मद जहरीरू़द्धीन ने कहा कि बच्चें बॉस के पुलिया से विद्यालय आते है।

इस संर्दभ में कहा विभागीय पत्रचार किया जायेगा और दो महीने में पानी सुख जायेगी सरकार सड़क बनाने की स्वीकृति दी है कह कर पल्ला झार दिया। सरकार बच्चाओं को स्कूली शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाओं को धरातल में उतारी है पर हकिकत कुछ और ही नजर आ रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

गोड्डा : पुलिस ने 59 गाय को किया बरामद, 7 तस्कर गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:43 PM
newscode-image

गोड्डा। गो वंशीय पशुओं की तस्करी के रोकने के लिए पुलिस जोर शोर से लगी हुई है। गुप्त सूचना के आधार पर पुलिस अधीक्षक राजीव रंजन के निर्देश पर कार्रवाई करते हुए, पुलिस ने 59 गाय समेत सात लोगों को गिरफ्तार किया है।

गोड्डा :  बिजली विभाग की लापरवाही, जमीन पर पड़े नंगे तार से महिला झुलसी

सदर एसडीपीओ रवि भूषण ने बताया कि राजाभीठा थाना क्षेत्र में गाय की तस्करी किया जा रही है। शनिवार को सदर बाजार स्थित बंका हॉट से गो वंशीय पशुओं की खरीदारी करके पड़ोसी जिले पाकुड़ के हिरणपुर स्थित हाट में सोमवार को बेचे जाने की योजना थी।

गो वंशीय पशुओं की तस्करी का खेल लगातार चल रहा था और तस्करी में शामिल लोगों को 700 से लेकर 1400 रुपये तक की मजदूरी दिया जाता था। सदर एसडीपीओ ने बताया कि गिरफ्तार तस्करों से सघन पूछताछ की जा रही है, मामले में 6 अभियुक्तों का नाम भी सामने आ चुका है। अधिकांशतः तस्कर पाकुड़ जिले से ताल्लुक रखते हैं तथा कुछ तस्कर पड़ोसी जिले साहेबगंज के हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देवघर : रसोइया संघ की हुई बैठक, चार अक्‍टूबर को देंगे धरना

NewsCode Jharkhand | 23 September, 2018 5:39 PM
newscode-image

देवघर। पुराने सदर अस्पताल परिसर में देवघर जिला रसोइया संघ की बैठक में स्‍कूलों के समायोजन के नाम पर रसोइयों को कार्य से हटाए के खिलाफ आगामी चार अक्‍टूबर को डीएसई कार्यालय के समक्ष धरना देने का निर्णय लिया गया।

बैठक की अध्‍यक्षता करते हुए संघ अध्यक्षा गीता मण्डल ने कहा कि झारखंड सहित देवघर में एक स्‍कूल का दूसरे विद्यालय में समायोजन करने पर रसोइयों के समक्ष भुखमरी की समस्‍या पैदा हो गई है।

देवघर : धूमधाम से मनाया गया पर्यटन पर्व

उन्‍होंने कहा कि समायोजित किए गए स्‍कूलों के शिक्षकों समेत छात्र-छात्राओं को दूसरे विद्यालयों में भेज दिया गया है। उन स्‍कूलों में कार्यरत रसोइयों को काम से हटा दिया गया है। इनलोगों का मानदेय भी बन्द कर दिया गया है। संघ ने सरकार के इस कदम की कड़े शब्‍दों में विरोध किया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

पितृ पक्ष 2018: श्राद्ध क्रिया में इन खास बातों का...

more-story-image

चक्रधरपुर : हावड़ा से मुंबई जा रही गीतांजलि सुपरफास्ट ट्रेन...