गिरिडीह : तिरुपति के तर्ज पर धार्मिक पर्यटन का विकास होगा- रघुवर दास

NewsCode Jharkhand | 16 April, 2018 8:04 PM

गिरिडीह : तिरुपति के तर्ज पर धार्मिक पर्यटन का विकास होगा- रघुवर दास

गिरिडीह। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि राज्य के धार्मिक पर्यटन स्थलों को तिरूपति की तर्ज पर विकसित किया जा रहा है, ताकि स्थानीय युवाओं को रोजगार के अवसर प्राप्त हों। उन्होंने कहा कि झारखण्ड राज्य का नाम ही झारखण्डधाम पर रखा गया है। इसलिए यह मात्र गिरिडीह का ही नहीं वरन पूरे राज्य के लिए पूजा-आराधना का एक प्रमुख स्थल है। इसे विकसित किये जाने में सरकार कोई कसर नहीं छोड़ेगी।

इको-टूरिज्म का भी विकास होगा

मुख्यमंत्री ने कहा कि यहां इको-टूरिज्म की संभावनाओं को भी विकसित किया जाएगा। इसके साथ झारखण्ड धाम के संस्कृत महाविद्यालय का भी निर्माण करवाकर यहां अध्ययन-अध्यापन और शोध के बेहतर वातावरण तैयार किये जाने की जरूरत है।

रांची : रांची नगर निगम के लिए 49.3 प्रतिशत हुआ मतदान

इसे सरकार प्राथमिकता देगी। मुख्यमंत्री आज झारखण्ड धाम महोत्सव का रंगारंग आगाज करने झारखण्ड धाम आये थे। उन्होंने कार्यक्रम से पूर्व झारखण्डी बाबा की पूजा अर्चना कर पूरे राज्य के विकास के लिए प्रार्थना की।

एक रूपये में 53 हजार महिलाओं को जमीन की रजिस्ट्री हो चुकी

मुख्यमंत्री ने कहा कि एक रूपये में 53 हजार महिलाओं को जमीन की रजिस्ट्री हो चुकी है। इस मामले में झारखण्ड देश का अग्रणी राज्य बने ऐसी सरकार की अपेक्षा है। इन 53 हजार जमीन मालकिनों का नैतिक दायित्व बनता है कि वे अपने बच्चों को स्कूल जरूर भेजें। बेटा-बेटी में कोई भेद न करें, समान रूप से सबको शिक्षा दें। किसी भी नाबालिग बेटी को शादी के बंधन में बांध कर उसको पढ़ाई से अलग रखना एवं अपने व्यक्तित्व के विकास के अवसर न देना समाज के विकास में सबसे बड़ी बाधा है। उन्होंने कहा कि एक बेटी पढ़ती है तो दो परिवारों को संस्कारित करती है।

शिक्षा गरीबी भगाने की जड़ी-बूटी

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा गरीबी भगाने की जड़ी-बूटी है। उन्होंने लोगों का आह्वान किया कि कोई बच्चा शिक्षा से वंचित नहीं रहे इसे अपनी जीवन का मूल मंत्र बनाये। उन्होंने कहा कि बिचौलिया प्रथा को राज्य से दूर भगाना है। इसमें समाज के प्रबुद्ध तबकों को भी आगे आना चाहिए। हरेक जिले में कौशल विकास केन्द्र स्थापित कर युवाओं को रोजगार के नये अवसर देना सरकार का लक्ष्य है। झारखण्ड का युवा सशक्त एवं स्वावलंबी होगा तो राज्य विकसित राज्यों की पंक्ति में सबसे आगे रहेगा। 2022 तक हमें झारखण्ड को शिक्षित एवं स्वावलंबी प्रदेश बनाकर देश ही नहीं दुनिया के समक्ष उदाहरण प्रस्तुत करना है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गिरिडीह जिले के मिर्जागंज में दुग्ध का चिलिंग सेंटर स्थापित किया जा रहा है। नये मिल्क रूट विकसित किये जा रहे हैं। अब हर जिले के 10 हजार सरकारी स्कूल के  बच्चों को स्थानीय स्तर पर उत्पादित दूध मुहैया कराया जाना है। महिलाओं से अनुरोध है कि वे अपने स्वयं सहायता समूह अथवा सखी मंडल के माध्यम से बच्चों के  स्कूल ड्रेस की सिलाई कर स्थानीय विद्यालय में आपूर्ति करें।

विकास से झारखण्ड की सभी समस्याओं का हल संभव है। इसमें महिला-पुरूष सभी को समान रूप से हिस्सेदार बनना होगा। आज झारखण्ड धाम में यह संकल्प लिये जाने की जरूरत है कि गिरिडीह जिले के किसी भी बच्चे को पढ़ाई से वंचित नहीं रहने दिया जाय। उन्होंने कहा कि संगीत कला भी ईश्वर की आराधना का माध्यम है। सरकार ईटखोरी, कौलेश्वरी, रजरप्पा, मैथन, झारखण्ड धाम आदि जगहों पर महोत्सवों का आयोजन कर धार्मिक पर्यटन एवं सांस्कृतिक पर्यटन को बढ़ावा दे रही है, ताकि देश-दुनिया के तमाम लोग झारखण्ड के इन पर्यटन स्थलों से परिचित होकर यहां आयें।

इस मौके पर स्थानीय सांसद डॉ. रविन्द्र राय ने झारखण्ड धाम की महत्ता पर विस्तृत रूप से प्रकाश डाला। मौके पर गाण्डेय विधायक जयप्रकाश वर्मा, विधायक जमुआ केदार हाजरा, बगोदर के विधायक नागेन्द्र महतो एवं सचिव पर्यटन डॉ. मनीष रंजन उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

पलामू : पुलिस ने अगवा किसान को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 9:59 PM

पलामू : पुलिस ने अगवा किसान को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया

पलामू। पुलिस ने अपहर्ताओं के साथ मुठभेड़ के बाद किसान को मुक्त कराया है। इस सिलसिले में 5 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा ने बताया कि किसान कृष्णा प्रजापति को पांकी थाना अंतर्गत केरकी गांव से 14 अप्रैल की सुबह अगवा किया गया था।

जिसके बाद पांकी इन्स्पेक्टर जय प्रकाश सिंह के नेतृत्व में पांकी थाना प्रभारी ललित कुमार व लेस्लीगंज थाना प्रभारी राणा जंगबहादुर सिंह के साथ सशस्त्र बल को शामिल करते हुए छापेमारी टीम गठित की गई।

रांची : व्यवसाय के दीर्घकालीन लाभ आध्‍यात्‍म से ही संभव- स्वामी माधवानंद

संभावित स्थानों पर छापेमारी करते हुए अपह्रत किसान कृष्णा प्रजापति को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया गया। इस घटना में अपहर्ताओं ने पुलिस की टीम पर फायरिंग भी की जिसपर पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई की। पुलिस बल द्वारा फायरिंग करते देख अपराधी भागने लगे। घेराबंदी करते हुए तीन राईफल, एक देशी कट्टा व 6 जिंदा गोली व मोबाइल के साथ अपराधियों को धर-दबोचा गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

लातेहार : प्रत्येक गांव में पानी की समूचित व्यवस्था सुनिश्चित करें- अराधना पटनायक

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 9:40 PM

लातेहार : प्रत्येक गांव में पानी की समूचित व्यवस्था सुनिश्चित करें- अराधना पटनायक

लातेहार। पेयजल स्वच्छता विभाग की सचिव अराधना पटनायक ने परिसदन भवन में पेयजल विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में अराधना पटनायक ने स्पष्ट निर्देश दिए कि किसी भी गांव एवं टोले में पानी की समस्या नहीं हो। उन्होंने पेयजल विभाग के कार्यपालक अभियंता को मुखिया से समन्वय बनाकर चौदहवें वित्त की राशि से खराब पड़े चापाकल की मरम्मति एवं निर्माण कार्य करवाने का निर्देश दिया।

बैठक के दौरान उन्होंने विभागीय नंबर जारी करने का भी निर्देश दिया ताकि कोई  भी ग्रामीण अपने गांव की पानी समस्या को लेकर उनसे संपर्क कर सके। उन्होंने प्रत्येक गांव के टोले में पानी की समूचित व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए कि सिर्फ कागज में ही शौचालय निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो बल्कि उसे धरातल पर उतारें एवं उसके उद्देश्य की सार्थकता को भी सिद्ध करें।

लातेहर : सचिव केके सोन और आराधना पटनायक ने किया निरिक्षण, अधिकारियों को फटकारा

बैठक में अन्य कई मुद्दों पर भी चर्चा किया गया। जिसके बाद श्री मति पटनायक के द्वारा विभागीय पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया। मौक पर पेयजल के कार्यपालक अभियंता रंजीत कुमार ठाकुर, प्रशांत शाहदेव, राहुल कुमार सिंह समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : सोमवार को वन्यजीवों का शिकार करेंगे सेंदरा वीर, तराई में की पूजा

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 9:38 PM

जमशेदपुर : सोमवार को वन्यजीवों का शिकार करेंगे सेंदरा वीर, तराई में की पूजा

सैकड़ों युवक हथियार से लैस

 

मशेदपुर। सेंदरा पर्व पर वन्य जीवों का शिकार करने के लिए आदिवासी दलमा जंगल पर सोमवार तड़के चढ़ाई करेंगे। इससे पूर्व सेंदरा वीरो ने सेंदरा की तराई में पूजा अर्चना की। देर रात से ही आदिवासी समुदाय के लोग हथियार से लैस होकर दलमा पर चढ़ने लगे हैं। इससे पूर्व रविवार की शाम को हथियारबंद आदिवासी युवकों का जमावड़ा पारडीह काली मंदिर के पास लगा। वैसे सोमवार दोपहर के करीब 12 बजे शिकारियों का जत्था शिकार लेकर दलमा से उतरेगा।

दलमा राजा राकेश हेम्ब्रम सेंदरा दल का नेतृत्व कर रहे हैं। हेम्ब्रम के मुताबिक दलमा जंगल में सेंदरा करने के लिए करीब 3000 आदिवासी युवक हथियारों से लैस होकर चढ़े हैं। 196 वर्ग किमी में फैले दलमा जंगल में रविवार शाम सेंदरा पर्व का आगाज हुआ। पहली पूजा शाम में हुई, फिर आधी रात को। मध्य रात्रि की पूजा के बाद दलमा कूच का फरमान जारी हुआ।

रांची : पर्यावरण की पूजा ही गोवर्धन की पूजा- उमेश भाई जानी

वन विभाग ने लगाया चेक नाका

हालांकि इस बार वन विभाग ने कई जगह पर चेक नाका लगाया है। इधर पारंपरिक ढोल नगाड़ों के साथ इन लोगों ने वन देवी की पूजा अर्चना की। दलमाजंगल में जाने वाले हर शिकारी के घर पर पारंपरिक पूजा होती है। इस दौरान कांसा के कलश में पानी भरकर उसे पूजा कक्ष में रखा जाता है। वहीं, सेंदरा वीर के सेंदरा से आने के बाद उस कलश को उठाया जाएगा। मान्यता है कि अगर कलश में पानी घट जाता है तो यह शुभ नहीं होता है। वैसे इस पूजा पर सेंदरा वीर अपने लिए सुरक्षा और अच्छे शिकार की मांग करते है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.