गिरिडीह : पुलिस को फिर मिली सफलता, खुखरा थाना क्षेत्र से एक नक्सली गिरफ्तार  

NewsCode Jharkhand | 13 March, 2018 6:46 PM
newscode-image

सर्च अभियान के दौरान हुआ गिरफ्तार

गिरिडीह। नक्सलवाद के खात्मे में जुटी पुलिस को फिर एक सफलता हाथ लगी है। इस बार पुलिस ने खुखरा थाना क्षेत्र के नौकनिया गांव के करमाटांड़ टोला से एक नक्सली को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार नक्सली की पहचान जय सिंह टुडू के रूप में की गई है। बता दें कि अभी हाल ही में पुलिस ने बड़ी कार्रवाई करते हुए भारी मात्रा में हथियारों को जब्त करते हुए 3 ईनामी समेत 15 नक्सलियों को गिरफ्तार कर जेल भेजने का काम किया था। वहीं जेल भेजने के बाद रिमांड में लेकर नक्सलियों से पूछताछ की गई थी।

बेंगाबाद : अवैध कोयला कारोबारियों के खिलाफ पुलिस ने कसा शिकंजा, तीन गिरफ्तार 

बता दें कि रिमांड पर लिए गए नक्सलियों के निशानदेही पर ही 3 लैंडमाइंस बरामद कर उसे निष्क्रिय किया गया था। पूछताछ में ही मिली जानकारी के आधार पर सर्च अभियान चलाकर सोमवार को जय सिंह टुडू नामक नक्सली की गिरफ्तारी की गई है। वहीं पूरे इलाके में लगातार अभियान चलाकर कार्रवाई की जा रही है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बोकारो : महिला की मौत पर परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 5:16 PM
newscode-image

बोकारो। महिला मरीज की मौत के बाद परिजन और स्थानीय नेता के जुटने की खबर पुलिस को लगते ही मौके पर पहुंची और पीड़ित परिवार से पूछताछ शुरु की। वहीं घटना की जानकारी मिलते ही आईएमए के पदाधिकारी भी निजी अस्पताल पहुंचे और मामले को सुलझाने का प्रयास करते देखे गए।

घटना सेक्टर 12 थाना क्षेत्र के बारी कोऑपरेटिव कॉलानी के भूषण अस्पताल की है। बताया जा रहा है कि रविवार को एक गर्भवती महिता को उसके परिवार वाले बोकारो के बड़े सरकारी अस्पताल  सदर अस्पताल लेकर गए लेकिन इसे महिला का दुर्भाग्य कहा जाए की अस्पातल में तैनात नर्सो ने यह कहकर कि यहां व्यवस्था नहीं है उसे शहर से दूर एक निजी नर्सिंग होम में भेज दिया।

चास : भूमि अधिग्रहण बिल का फैसला सही- जगन्नाथ राम

बताया जा रहा है कि नर्सिंग होम की संचालक डा. शोभा भी सदर अस्पताल की ही चिकित्सक है। ऐसे में सदर अस्पताल में तैनात नर्सों ने महिला को अस्पताल से वहां भेज दिया। सरकार लाख दावा करे कि गरीब मरीजों का इलाज अस्पताल में हो सके लेकिन यहां के चिकित्सक ही सरकार के दावे की हवा निकालने में लगे हैं।

रविवार की देर शाम महिला सुशीला देवी का ऑपरेशन किया गया और एक स्वस्थ बच्चे का जन्म हुआ। सोमवार को अचानक महिला की तबियत बिगड़ने लगी। सुबह अस्पताल में तैनात नर्सों ने डा. शोभा को इसकी जानकारी दी जबकि नर्सिंग होम में अन्य कोई चिकित्सक मौजूद नहीं था। मामला बिगड़ता देख एक घंटे के बाद दोनों दंपत्ति चिकित्सक अस्पताल पहुंचे तो महिला की स्थिति काफी चिंताजनक देखी।

हालात खराब होते देख महिला चिकित्सक डा. शोभा ने तत्काल बच्चे के साथ महिला को चास के एक निजी अस्पताल के एम रेफर कर दिया कोऑपरेटिव से चास जाने के क्रम में महिला की मौत हो गयी।

मृतक महिला के पति के आवेदन पर पुलिस क्या कार्रवाई करती है यह तो आने वाले समय ही बताएगा लेकिन नर्सिंग होम के संचालक डॉ. पंकज ने खुद कैमरे के सामने खुद स्वीकार की लापरवाही हुई है ऐसे में क्या आईएमए के पदाधिकारी अपने चिकित्सक पर कार्रवाई  करेंगे। इस मामले में आईएमए का कोई भी पदाधिकारी कैमरे के सामने कुछ भी बोलने को तैयार नहीं दिखा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

पाकुड़ : भाजपा की बैठक आयोजित, हुल दिवस को लेकर हुई चर्चा

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:16 PM
newscode-image

पाकुड़। लिट्टीपाड़ा प्राखण्ड दामिन डाक बंगला परिषर में भाजपा की बैठक प्रखण्ड अध्यक्ष राम मंडल की अध्यक्षता में आहुत किया गया। जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व मंत्री हेमलाल मुर्मू उपस्थित हुये। बैठक में  मुख्य रूप से 30 जून को  हूल दिवस को लेकर चर्चा की गयी। मंडल इकाई के लोगों को 30 जून को पांच कठिया से भोगनाडीह ले जाने के बातें हुई।

पाकुड़ : भूमिगत कोयला में आग लगने से ग्रामीण दहशत में, प्रशासन से लगाई गुहार

साथ ही प्रदेश उपाध्यक्ष मुर्मू ने बताया कि भूमि अधिग्रहण अधिनियम बिल आदिवासियों के हित के लिए बनाया गया है। इसको लेकर विपक्ष दुष्प्रचार कर रहे है लेकिन सभी से अपील किया  हर आदिवासी गांव गांव एवं  घर-घर  जाकर सभी को भूमि  अधिग्रहण अधिनियम बिल के बारे में सरकार की उप्लब्धि आदिवासियों एवं जनजातियों को स्पस्ट रूप से बताया जाएगा। यह कानून सरकारी जनहित के  कार्यो लिया बनाया गया है जिसके तहत सरकारी स्कूल, कॉलेज , हॉस्पिटल, सड़क, रेलवे के अच्छे काम में आएगे।

साथ ही भाजपा नेता साहेब हाँसदा ने कहा कि बूथ स्तर पर संगठन मजबूती करने, गाँव-गाँव में जाकर सरकार  कि उपलब्धी के बारे में जानकरी देने के लिए कार्यकर्त्ताओं  से अनुरोध किया । इस बैठक के मौके पर एस टी मोर्चा प्रखंड अध्यक्ष भोला हेम्ब्रम, प्रखंड प्रभारी सुलेमान मुर्मू, दिनेश मुर्मू, जिला कार्यकारणी सदस्य बबलू सोरेन, पंचायत प्रभारी मंझला सोरेन, प्रखंड उपाध्यक्ष मुंशी मुर्मू, प्रखंड मंत्री रेंगटा किस्कू सहित दर्जनों कार्यकार्ता उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : महाधरना तो ट्रेलर है, पूरी फिल्म 5 जुलाई को दिखेगी- विपक्ष

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:03 PM
newscode-image

भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में विपक्ष का महाधरना

जमशेदपुरभूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में सम्पूर्ण विपक्ष द्वारा आहूत राज्य-व्यापी जिला मुख्यालयों पर महाधरना के आलोक में पूर्वी सिंहभूम जिला मुख्यालय के समक्ष भी विपक्षी दलों की एकता देखने को मिली। बिल के विरोध में विपक्षी गठबंधन द्वारा चलाये जा रहे विरोध प्रदर्शन को देखते हुए प्रशासन ने यहां विधि-व्यवस्था को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए थे। विपक्षी दलों के नेताओं धरना के माध्यम से एक स्वर से राज्य सरकार से बिल को अविलंब निरस्त करने की मांग की है।

जमशेदपुर : तीन साल के बच्‍चे को पिकअप वैन मारा धक्‍का, हुई मौत

भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल को लेकर पूरे सूबे की गरमाई सियासत के बीच विपक्षी दलों का आंदोलन अब तीखा हो चला है। आंदोलन के क्रम में विपक्षी दलों ने पूर्वी सिंहभूम जिला मुख्यालय पर महा धरना देकर राज्य सरकार तक संदेश दिया कि बिल के मौजूदा स्वरूप को किसी भी सूरत में स्वीकार नही किया जाएगा।

विपक्षी दल जेएमएम, कांग्रेस, जेवीएम, आरजेडी और वाम दलों और संगठनों के लोगों ने बिल के विरोध में एकजुटता दिखाते हुए राज्य सरकार को कठघरे में खड़ा किया और कहा कि झारखंडी आवाम के हितों के विपरीत लाये गए भूमि अधिग्रहण बिल पूंजीपतियों के फायदे के लिए है न कि यहां के निवासियों के लिए।

महाधरना के माध्यम से सरकार को चेतावनी दी गई कि यदि तमाम विरोध के बावजूद बिल को लागू किया जाता है तो आने वाले चुनावों में भाजपा को मुँह की खानी पड़ेगी। विपक्षी नेताओं ने राष्ट्रपति द्वारा बिल को मंजूरी दिए जाने पर कहा कि दरअसल इस मुद्दे पर राष्ट्रपति को भी अंधेरे में रख कर बाइक डोर से बिल पास कराया गया है, जो किसी भी सूरत में स्वीकार नही किया जाएगा। बिल के विरोध में महाधरना तो एक फ़िल्म का ट्रेलर है, बाकी पूरी फिल्म 5 जुलाई को आहत झारखंड बन्द के दौरान दिखेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

दुमका : राज्य में सरकार एक और हूल लाना चाहती...

more-story-image

बोकारो : उपायुक्त ने अप्रेंटिस चयन प्रक्रिया को पारदर्शी रखने...