गिरीडीह : राज्यस्तरीय खेल कूद प्रतियोगिता के लिए प्रतिभागी हुये रवाना

NewsCode Jharkhand | 21 October, 2017 5:37 PM

गिरीडीह : राज्यस्तरीय खेल कूद प्रतियोगिता के लिए प्रतिभागी हुये रवाना

गिरिडीह। रांची के खेलगांव में आयोजित झारखंड राज्य स्तरीय खेल कूद प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए शनिवार को गिरिडीह से खिलाड़ियों का एक जत्था रांची के लिए रवाना हुआ। राज्य सरकार द्वारा आयोजित एस जी एफ़ आई एथेलेटिक प्रतियोगिता 2017 में जिला के विभिन्न प्रखंडों के स्कूली बच्चे भाग लेंगे। इसलिए शनिवार को जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय से अंडर 14-17 और 19 के लिए चयनित प्रतिभागियों को रांची के लिए रवाना किया गया।

कोच राकेश कुमार के नेतृवित में खोरीमहुवा, गांडेय समेत अन्य प्रखंडों के स्कूली बच्चों को तीन दिवसीय प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए रांची स्थित खेलगांव के लिए बस द्वारा भेजा गया। मौके पर मौजूद लोगों ने बच्चों को अपनी शुभकामनाये दीं और उन्हें प्रतियोगिता के लिए रवाना किया। बताया गया कि जिले के विभिन्न प्रखंडों से 23 स्कूली बच्चों का चयन किया गया है जो कि खेलगांव मे आयोजित प्रतियोगिता में पार्टिसिपेट करेंगे।

World Cup 2019 : दक्षिण अफ्रीका के साथ भारत का पहला मैच 4 जून को

NewsCode | 24 April, 2018 7:14 PM

World Cup 2019 : दक्षिण अफ्रीका के साथ भारत का पहला मैच 4 जून को

कोलकाता| इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) और किसी अंतर्राष्ट्रीय मैच के बीच 15 दिनों के अंतर की लोढ़ा समिति की सिफारिश को मानते हुए अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) ने फैसला किया है कि अगले साल इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप में भारत अपना पहला मैच दो जून के बजाए चार जून को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खेलेगा।

यहां मंगलवार को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) की बैठक में यह फैसला लिया गया कि विराट कोहली की कप्तानी वाली टीम पहले तय किए हुए कार्यक्रम के मुताबिक न खेलते हुए दो दिन बाद अपना पहला मैच खेलेगी।

अगले साल इंग्लैंड 30 मई से 14 जुलाई के बीच विश्व कप की मेजबानी करेगा।

यह भी फैसला लिया गया है कि भारत 309 दिन अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेलेगा। पहले के मुताबिक इसमें 92 दिनों की कटौती की गई है।

CBSE के 6 लाख विद्यार्थी बुधवार को फिर से देंगे इकोनॉमिक्स का एग्जाम, जान लें ये बातें

घरेलू टेस्ट मैचों की संख्या को हालांकि बढ़ा कर 15 से 19 कर दिया गया है।

बैठक में यह भी फैसला लिया गया है कि भारत दिन-रात प्रारूप के टेस्ट मैच नहीं खेलेगा। इसका कारण आईसीसी टेस्ट चैम्पियनशिप के मैचों का दिन-रात प्रारूप में न होना बताया गया है।

कर्नाटक चुनाव : मोदी के अलावा ये होंगे भाजपा के स्टार प्रचारक

आईएएनएस

Read Also

अश्विन और जडेजा से अपनी तुलना पर क्या बोले युजवेंद्र चहल ?

NewsCode | 24 April, 2018 6:24 PM

अश्विन और जडेजा से अपनी तुलना पर क्या बोले युजवेंद्र चहल ?

नई दिल्ली। भारतीय क्रिकेट टीम के लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल का कहना है कि स्पिन जोड़ी रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा से उनकी तथा कुलदीप यादव की तुलना करना उचित नहीं है।
चहल ने आईएएनएस के साथ एक साक्षात्कार में कहा कि अश्विन और जडेजा अनुभवी खिलाड़ी हैं और वह अब भी उनसे सीख रहे हैं।

साल 2016 में चहल ने वनडे और टी-20 प्रारूप में पदार्पण किया और अपनी शानदार गेंदबाजी के दम पर जल्द ही लोकप्रियता हासिल कर ली।

हाल ही में एक साक्षात्कार में पूर्व गेंदबाज अतुल वासन ने कहा था कि भविष्य में चहल और कुलदीप यादव स्पिन गेंदबाजी में रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा की जगह ले सकते हैं, इस बारे में पूछे जाने पर चहल ने कहा, “मैंने और कुलदीप ने अभी तो अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर क्रिकेट खेलना शुरू किया है। ऐसे में अभी से अश्विन और जडेजा से हमारी तुलना करना सही नहीं होगा।”

चहल ने कहा, “अश्विन और जडेजा पिछले 10 से 12 वर्षो से भारतीय क्रिकेट टीम के लिए खेलते आ रहे हैं। उन्होंने अपनी क्षमता और प्रतिभा को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर साबित किया है। टेस्ट मैचों में वह शीर्ष-10 गेंदबाजों में शुमार रहे हैं। हमें अब भी उनसे बहुत कुछ सीखने को मिलता है। ऐसे में उनसे तुलना का कोई मतलब नहीं बनता।”

इंडिनय प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 11वें संस्करण में युजवेंद्र चहल रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की ओर से खेल रहे हैं। बेंगलोर ने अब तक पांच मैच खेले हैं और उसमें से तीन में उसे हार का सामना करना पड़ा है।

ऐसे में टीम के प्रदर्शन में कमी के बारे में चहल ने कहा, “हमें अपनी गेंदबाजी में सुधार करने की जरूरत है। खासकर टीम के डेथ ओवरों में अधिक बेहतर प्रदर्शन की जरूरत है। हमारी गेंदबाजी पावरप्ले में अच्छी रही है। हमें डेथ ओवर में अपनी गेंदबाजी को सुधारना होगा।”

क्रिकेट के अलावा शतरंज में भी चहल को महारत

युजवेंद्र चहल को क्रिकेट के अलावा शतरंज के खेल में भी महारत हासिल है। उन्होंने यूथ चैम्पियनशिप में शतरंज के खेल में भारत का प्रतिनिधित्व किया है। हालांकि, उन्हें समय पर प्रायोजक नहीं मिले और इस कारण उन्हें शतरंज का खेल छोड़ना पड़ा।

वर्तमान में वह एक लोकप्रिय गेंदबाज हैं लेकिन फिर भी शतरंज छोड़ने का मलाल क्या होता है, इस पर उन्होंने कहा, “जब मैं शतरंज खेलता था, तो उस समय मुझे प्रायोजक नहीं मिले। अब मुझे उसका कोई मलाल नहीं है। मुझे निश्चित तौर पर शतरंज से अधिक क्रिकेट खेलना अच्छा लगता है। लेकिन, जब भी मुझे शतरंज खेलने की चाह होती है, तो मैं ऑनलाइन खेल लेता हूं।”

चहल का मानना है कि शतरंज और क्रिकेट दोनों खेलों की तुलना करना सही नहीं है। उन्होंने कहा, “आप दोनों खेलों की तुलना नहीं कर सकते। शतरंज दिमाग का खेल है, जो 15 से 16 घंटे तक भी चलता है। क्रिकेट खेल में शारीरिक रूप से अधिक मेहनत लगती है।”

टी-20 क्रिकेट में चहल ने 18 जून, 2016 को जिम्बाब्वे के खिलाफ पदार्पण किया था। फरवरी, 2017 में वह टी-20 क्रिकेट में पांच विकेट लेने वाले भारत के पहले गेंदबाज बन गए थे। ऐसे में बेंगलोर टीम को उनसे काफी आशाएं हैं।

बेंगलोर के हाथ में अभी तक खिताबी जीत नहीं लगी है। ऐसे में क्या वह इस बार अपना पहला आईपीएल खिताब जीतने में सक्षम हो पाएगी, इस पर चहल ने कहा, “हम भले ही खिताब नहीं जीत पाए हों, लेकिन हम तीन बार फाइनल में पहुंचे हैं। हमारे ऊपर बड़े टूर्नामेंटों में खेलने का दबाव नहीं होता। टीम में अच्छे खिलाड़ी हैं। रणनीति है। इस बार भी हमारे पास अच्छे खिलाड़ी हैं और हम 27 मई को होने वाले फाइनल मैच के बारे में ही सोच रहे हैं।”

अब्राहम डिविलियर्स ने इस साल शानदार तरीके से टीम में वापसी की है। टीम में उनकी महत्ता के बारे में चहल ने कहा, “मुझे लगता है कि जिस प्रकार उन्होंने पिछला मैच खेला, वह शानदार था। विराट कोहली के आउट होने के बाद उन्होंने टीम की पारी को संभाला था।”

युजवेंद्र चहल ने कहा, “वह पारी बना रहे हैं। शुरुआत से ही वह गेंदबाजों के खिलाफ आक्रामक बल्लेबाजी करते हैं। टीम की बल्लेबाजी में उनकी भागीदारी बहुत महत्व रखती है। वह टीम के अहम खिलाड़ियों में से एक हैं।”

Video: जब विराट कोहली के डांस को देख जोर-जोर से हंसने लगा RCB का ये खिलाड़ी

किसी भारतीय गेंदबाज की ऐसी धुनाई पहले कभी नहीं हुई, चहल ने बनाये ये अनचाहे रिकॉर्ड

कप्तान कोहली ने कुलदीप-चहल की पीठ थपथपाई, टीम के लिए बताया तुरुप का इक्का

आईएएनएस

हज़ारीबाग : जिले को राष्ट्रीय खेल हब बनाने का लक्ष्य– जयंत सिन्हा

NewsCode Jharkhand | 24 April, 2018 6:05 PM

हज़ारीबाग : जिले को राष्ट्रीय खेल हब बनाने का लक्ष्य– जयंत सिन्हा

हजारीबाग। केंद्रीय नागर विमानन राज्य मंत्री सह सांसद जयंत सिन्हा के अनुसार हज़ारीबाग के वेल्स ग्राउंड में फ्लड लाइट्स लगेंगी और पवेलियन का निर्माण होगा। साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार का पहले ही दिन से खेल-कूद और युवा मामलों को प्रोत्साहन देने का प्रयास रहा है। सांसद जयंत सिन्हा ने कहा कि मै स्वयं एक खेल प्रेमी हूँ और बहुमुखी विकास केंद्रित विज़न से काम करते है,  हज़ारीबाग को एक राष्ट्रीय खेल हब बनाने का लक्ष्य रखा है।

प्रदेश स्तरीय झारखण्ड प्रीमियर लीग का आयोजन, वर्षों से अनिर्णीत साई स्पोर्ट सेंटर का उद्घाटन तथा वेल्स और बरही ग्राउंड के विकास का लक्ष्य प्राप्त करने की दिशा में यह ठोस कदम है। इन सभी प्रयासों में झारखण्ड के माननीय मुख्यमंत्री रघुबर दास और खेल-मंत्री अमर बाउरी का विशेष योगदान रहा है।

बड़कागांव : पंचायत दिवस का आयोजन, ग्राम विकास योजनाओं की स्थिति पर चर्चा

इन्ही प्रयासों के क्रम में हज़ारीबाग में खेल-कूद को लेकर चल रहे विकास कार्यों में अब एक नई नींव जुड़ी है। हज़ारीबाग के ‘वेल्स ग्राउंड’ में फ्लड लाइट लगाने के लिये 1,63,15,500 (एक करोड़ तिरसठ लाख पंद्रह हजार पांच सौ) रुपये की प्रशासनिक स्वीकृति मिली है।

जयंत सिन्हा का कहना है कि इन सभी प्रयासों से मिलने वाली सुविधाएं खेल व खिलाड़ियों के विकास में लाभदायक साबित होंगी। बेहतर सुविधाएं मिलने पर खिलाड़ी अच्छा प्रदर्शन करेंगे जिससे खेल जगत में हज़ारीबाग और झारखण्ड का नाम रौशन होगा। वेल्स ग्राउंड के विकास को उच्च स्तर देकर यहां रणजी ट्रॉफी जैसे बड़े टूर्नामेंटों का आयोजन करवाना है।

उन्होंने कहा कि हम ‘वेल्स ग्राउंड’ में ‘फ्लड लाइट’ की व्यवस्था तथा ‘पवेलियन’ का निर्माण कर इसे एक राष्ट्रीय स्तर का मैदान बनाएंगे। सरकार के नेतृत्व व प्रोत्साहन तथा खिलाड़ियों की प्रतिभा के युग्म से खेल जगत में हज़ारीबाग़ का नाम निश्चित ही निरंतर और अधिक प्रगति कर रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.