गिरिडीह : गावां प्रीमियर लीग का समापन, लायंस क्लब ने जीता खिताब

NewsCode Jharkhand | 16 April, 2018 4:37 PM

गिरिडीह : गावां प्रीमियर लीग का समापन, लायंस क्लब ने जीता खिताब

जीपीएल सीजन-3 का समापन

गावां(गिरिडीह)। आईपीएल की तर्ज पर आयोजित पिछले दस दिनों से चल रहे जीपीएल सीजन-3 का समापन हो गया। गावां प्रीमियर लीग 2018 के फाइनल मुकाबले में गावां लायंस ने नवलक्ष्य माल्डा मास्टर्स को शिकस्त देकर खिताब पर कब्जा जमा लिया। 4 विकेट से हराकर ट्राफी जीत ली।

टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए माल्डा मास्टर्स ने कप्तान आनंद सिंह, सुनील कुमार व मो यासीन की अच्छी बल्लेबाजी के दम पर निर्धारित 10 ओवर में 84 रन बनाए। जवाब में गावां लायंस की ओर से अनुज, अमित व गुलशन ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए अपनी टीम को 8 वें ओवर में ही जीत दिला दी। इस तरह से गावां लायंस जीपीएल-3 का चैंपियन बन गई। विजेता को नकद 15,000 रुपये व ट्रॉफी वहीं उपविजेता को 10,000 रुपये नकद व ट्रॉफी दिया गया।

पुरस्कार वितरण समारोह में मुख्य रूप से गावां के जिला परिषद सदस्य राजेन्द्र चौधरी, धनवार के प्रखण्ड कार्यक्रम कार्यक्रम पदाधिकारी दिलीप कुमार साहू, होलीफेथ स्कूल के अरुण चौधरी, अमित बर्णवाल समेत कई लोग उपस्थित थे।

गुलशन कुमार का शानदार प्रदर्शन

टूर्नामेंट में सर्वाधिक 170 रन बनाने व 11 विकेट लेने वाले गुलशन कुमार को मैन ऑफ द सीरीज के तौर पर स्मार्टफोन व कप दिया गया। पूरे टूर्नामेंट में गावां लायंस के खिलाड़ी गुलशन कुमार छाए रहे। सबसे ज्यादा विकेट व सबसे ज्यादा रन बनाने का पुरस्कार भी उन्हें मिला।

गुमला : निकाय चुनाव में भाजपा मजबूत, झामुमो-कांग्रेस दे सकती है टक्कर

कॉमेंटेटर के रूप में शमशाद हुसैन, स्कोरर के रूप में बीरेंद्र कुमार चौधरी व अंपायर की भूमिका में रोशन कुमार व रंजीत चौधरी को भी सम्मानित किया गया। टूर्नामेंट के आयोजन में संदीप बर्णवाल, जीशान खान, शमशीर आलम, आशुतोष सिन्हा, नकीब राजा, मोजाहिद अली, राकेश मोदी, दीपक कुमार,दिनेश मुसहर, बजरंगी दास, गौतम चौधरी समेत सभी फ्रेन्चाइजी व खिलाड़ियों का महत्वपूर्ण योगदान रहा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गावां : ग्रामीणों का आरोप, गुपचुप तरीके से हुआ ग्राम विकास समिति का गठन

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 8:18 AM

गावां : ग्रामीणों का आरोप, गुपचुप तरीके से हुआ ग्राम विकास समिति का गठन

ग्रामसभा के नाम पर खानापूर्ति की गई

गावां (गिरिडीह)। प्रखंड के विभिन्न गांवों में ग्राम विकास समिति की गठन में मनमानी करने का विरोध किया गया है। प्रखंड के दर्जनों जगहों पर गुपचुप तरीके से समिति गठित करने का आरोप लगा रहे हैं।

गावां पंचायत के गावां और खरसान पंचायत के खरसान के ग्रामीणों ने ग्राम विकास समिति का गठन बगैर प्रचार-प्रसार और कुछ लोगों की मौजूदगी में ही जैसे-तैसे कर लेने का अरोप लगाया है।

बीडीओ को आवेदन देकर पुन: ग्राम विकास समिति के गठन करवाने की मांग की है। खरसान के ग्रामीणों के साथ मुखिया ने भी ग्राम विकास समिति की गठन पर उंगली उठाई है।

बेंगाबाद : हो-हंगामे के बीच सम्पन्न हुआ ग्राम विकास समिति का गठन

बीडीओ को दिए आवेदन में ग्रामीणों ने आरोप लगाया है कि ग्राम सभा करवाने पहुंचे सरकारी कर्मी जनसेवक संदीप और मनरेगा के जेई ने गुपचुप तरीके से ग्राम विकास समिति का गठन कुछ चुनिंदा लोगों के बीच कर लिया है।

इसको लेकर गांव में प्रचार-प्रसार तक नहीं किया और महज चंद लोगों को बैठाकर ग्रामसभा के नाम पर खानापूर्ति की गई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

गढ़वा : टीकाकरण के बाद एक बच्चे की मौत, लापरवाही का आरोप

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 9:55 PM

गढ़वा : टीकाकरण के बाद एक बच्चे की मौत, लापरवाही का आरोप

गढ़वा। झारखंड के पलामू में टीकाकरण के बाद हुई 4 बच्चों की मौत के बाद गढ़वा में भी ऐसा ही मामला सामने आया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार गढ़वा जिले के रंका प्रखंड में शुक्रवार की सुबह 9 बजे बच्चे को टीका लगाया गया था।

घर जाने के बाद एक दिन पहले जन्मे बच्चे की तबीयत बिगड़ने लगी। शनिवार की सुबह 8 बजे परिजन बच्चे को लेकर अस्पताल पहुंचे, तो डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया।

पलामू : टीकाकरण के बाद हुई बच्चों की मौत मामले में जांच टीम पहुंची

परिजनों का आरोप है कि टीकाकरण में लापरवाही के कारण उनके बच्चे की जान गयी है। वहीं, अस्पताल के डॉक्टर और एएनएम का कहना है कि उनकी वजह से बच्चे की मौत नहीं हुई है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बाघमारा : जान से बढ़कर जिस भाई को चाहा उसी ने कर दी हत्या

सब्जी काटने वाले बैठा से किया वार, पैर के जख्म में बंधे पट्टी से दबाया गला

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 9:07 PM

बाघमारा : जान से बढ़कर जिस भाई को चाहा उसी ने कर दी हत्या

डीएसपी बहावन टूटी ने किया हत्‍या का खुलासा

बाघमारा (धनबाद)। बाघमारा थाना क्षेत्र के भीमकनाली बीसीसीएल श्रमिक क्वाटर में मधुबनवासरी कर्मी दीपक सिंह के मौत का खुलासा पुलिस ने कर दिया है। मृतक दीपक सिंह अपने छोटे भाई को जान से बढ़कर चाहता था, लेकिन उसी भाई ने अपने बड़े भाई की हत्या कर दी। उक्त जानकारी डीएसपी बहावन टूटी व थाना प्रभारी महेश्वर रंजन ने शनिवार को प्रेस वार्ता कर दी।

डीएसपी बहावन टूटी ने बताया कि गुरुवार को दीपक सिंह का शव उसके बाथरूम में खून से पूरी तरह लथपथ पाया गया था। पुलिस को सूचना मिलने भीमकनाली पहुंच जांच किया। मृतक के छोटे भाई से पूछताछ किया। मृतक की शादी 2001 दिसम्बर में हुआ था, लेकिन पति तथा देवर के अधिक शराब पीने के कारण पत्नी ममता सिंह अपने पिता के घर लोयाबाद में ही रहने लगी। मृतक की पत्‍नी से भी पुलिस ने पूछताछ किया था, लेकिन वे भी देवर और पति में अच्छे संबंध होने की बात कही थी।

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से हुआ मामले का खुलासा

पुलिस मृतक के पत्नी के बयान पर यूडी केस का मामला दर्ज किया था। शव को पुलिस अपने कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिये भेज दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गला दबा कर मारने की बात सामने आई। जिसके बाद पुलिस उसके छोटे भाई प्रेम सिंह पत्नी तथा साला से पूछताछ की।

बाघमारा : जान से बढ़कर जिस भाई को चाहा उसी ने कर दी हत्या

पैसे के लिये कर दी भाई की हत्‍या

पूछताछ में चौंकाने वाली बात सामने आई। पैसे के लिये उसके भाई ने अपने बड़े भाई की हत्या किया। इस बात को मृतक के भाई ने पूछताछ में स्वीकार कर लिया।

डीजल के लिये मांगा था पैसा

डीएसपी ने पत्रकारों को बताया कि घटना के दिन दीपक सिंह ड्यूटी गया था। ड्यूटी से आने के बाद दीपक सिंह तथा उसके छोटे भाई में मारपीट होने लगा। प्रेम सिंह अपने बड़े भाई से अपने बोलेरो गाड़ी में डीजल भराने के लिये 5 हजार रुपया की मांग की। भाई ने एटीएम से पैसा नहीं निकलने की बात अपने छोटे भाई को बताया, लेकिन वह कुछ भी सुनने को तैयार नहीं हुआ।

बाघमारा : संदेहास्पद स्थिति में बीसीसीएल कर्मी की मौत, बाथरूम में मिला शव

सब्जी काटने वाला बैठा से किया वार

इसी बीच दोनों  लगभग दो घण्टे तक जमकर उठापटक हुआ। दीपक सिंह को छोटा भाई बाथरूम में सब्जी काटने वाला बैठा से वार कर दिया जिससे वह बेहोश हो गया। उसके बाद प्रेम अपने पैर  के जख्‍म में बंधे पट्टी को खोलकर बड़े भाई के गले को दबा दिया। पट्टी को घर के बाहर फेक दिया।

पुलिस ने बैठा सहित अन्‍य सामान किया जब्‍त

पुलिस ने हत्या के लिये उपयोग किया गया हथियार, पैर की पट्टी, घड़ी, प्रेम सिंह का खून लगा पेंट जब्‍त कर लिया है। हत्या के लिये उपयोग किया गया हथियार घर के रसोई से पैर के जख्म में बंधा पट्टी घर के बाहर से तथा घड़ी भी घर से बरामद किया गया।

एएसआई के बयान पर हत्या का मामला दर्ज

डीएसपी ने बताया कि घटना के दिन मृतक दीपक सिंह की पत्नी ममता सिंह के बयान पर पुलिस ने यूडी केस दर्ज किया था। पोस्मार्टम रिपोर्ट में गला दबाने की बात समाने आने पर जांच किया गया। मृतक के भाई से पूछताछ किया गया है, और उसने अपना जूर्म स्वीकार कर लिया। जिसके बाद एएसआई सुरेंद्र सिंह के बयान पर हत्या का मामला दर्ज कर लिया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.