गिरिडीह : ईवीएम में कैद हुई प्रत्याशियों की किस्मत, 61.48 प्रतिशत हुआ मतदान

76 हजार 418 मतदाताओं ने किया मताधिकार का प्रयोग

NewsCode Jharkhand | 16 April, 2018 8:59 PM

गिरिडीह : ईवीएम में कैद हुई प्रत्याशियों की किस्मत, 61.48 प्रतिशत हुआ मतदान

गिरिडीह। गिरिडीह में नगर निकाय चुनाव में विभिन्न पदों पर खड़े प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला हो चुका है। 284 उम्मीदवारों की किस्मत पर मतदाताओं ने खूब उत्साह से मुहर लगा दी है। गिरिडीह में 61.48 प्रतिशत मतदान हुआ।

पहली बार हो रहे निगम चुनाव को लेकर यहां लोगों में खासा उत्साह दिखा। सुबह से ही काफी मतदाता वोट डालने के लिए मतदान केंद्र पर पहुंच गए थे। करीब सवा लाख मतदाता शहर की सरकार बनाने के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए नामित थे, लेकिन इनमें से 76 हजार 418 मतदाता घरों से निकले और अपने उंगली की ताकत का अहसास करवाया।

284 प्रत्याशियों ने आजमाया अपना भाग्य

बता दें कि गिरिडीह को नगर पार्षद से नगर निकाय का दर्जा मिलने के बाद पहली बार यहां चुनाव हो रहा है। जिसमें कुल 284 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे थे। उम्मीदवारों में वार्ड पार्षद के 253, डिप्टी मेयर के 12 और मेयर के 19 प्रत्याशी शामिल थे। दलीय आधार पर चुनाव होने के कारण मेयर और डिप्टी मेयर के लिए भाजपा, कांग्रेस, झामुमो, झाविमो सहित अन्य राजनीतिक दलों ने प्रत्याशी दिए थे।

सुरक्षा का रहा पुख्‍ता इंतजाम

इसके अलावा कई निर्दलीय प्रत्याशी भी इन पदों पर कब्जा जमाने के लिए ताल ठोक रहे थे। अब तमाम उम्मीदवारों की किस्मत ईवीएम में बंद होकर वज्र गृह में कैद हो गई है। चुनाव को लेकर यहां सुरक्षा की तगड़ी बंदोबस्ती देखी गई। सुरक्षा की कमान पैरामिलिट्री फोर्स और जिला बल के जिम्मे थी। वहीं उपायुक्त मनोज कुमार, एसपी सुरेन्द्र झा, एसडीएम विजया जाघव, एसडीपीओ मनीष टोप्पो, डीएसपी जितवाहन उरांव, पीके मिश्र समेत अन्य कई अधिकारी दिन भर घूम-घूम कर स्थिति पर नजर बनाए हुये थे।

निकाय चुनाव (पाकुड़) : नगर निकाय चुनाव, मतदाताओं में खासा उत्साह

शांतिपूर्ण मतदान संपन्‍न

असल में चुनाव के लिए यहां 118 बूथ बनाये गए थे जिनमें से 117 बूथ संवेदनशील व अतिसंवेदनशील श्रेणी में रखे गए थे। चुनाव अच्छे माहौल में सम्पन्न हो गया। बताया गया कि ओवरऑल मतदान का प्रतिशत 61.48 रहा है। जिनमें से 81.86  प्रतिशत पुरुष तो 61.01 प्रतिशत महिलाओं ने मतदान किया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गढ़वा : हवलदार की गोली मारकर हत्या, छुट्टी नहीं मिलने से नाराज जवान ने दिया अंजाम

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 10:10 AM

गढ़वा : हवलदार की गोली मारकर हत्या, छुट्टी नहीं मिलने से नाराज जवान ने दिया अंजाम

गढ़वा। जिले में आज एक लोमहर्षक घटना घटित हुई। एक पुलिस जवान ने खुद के कंपनी के हवलदार की गोली मार कर हत्या कर दी। घटना के बाबत आपको बताएं कि निकाय चुनाव कराने आये आईआरबी की एक कंपनी जो नामधारी कॉलेज स्थित मतगणना केंद्र की सुरक्षा में तैनात थी।

हवलदार अफ़रोज़ शमद की गई जान

कल मतगणना समाप्त होने के साथ आज कंपनी यहां से कूच करने की तैयारी में थी कि अहले सुबह सभी को गोली चलने की आवाज सुनायी देती है। सभी उस आवाज की दिशा में दौड़ते हैं तो वहां देखते हैं कि उनके कंपनी का हवलदार मुंगेर निवासी अफ़रोज़ शमद मृत पड़े हुए हैं।

पलामू : अपराधी हुए बेखौफ, एक घंटे के भीतर दो जगहों पर की गोलीबारी

IRB जवान गोली मारकर फरार

जवान और अधिकारियों ने मालूम किया तो जानकारी मिली कि मझिआंव थाना क्षेत्र निवासी आईआरबी जवान मुक्ति नारायण सिंह द्वारा उक्त हवलदार को गोली मारी गयी है और उसे हथियार ले कर भागते देखा गया है।

छुट्टी नहीं मिलने से नाराज था मुक्ति नारायण

एक जवान द्वारा हत्या क्यों कि गयी इसका कारण बताया गया कि उक्त जवान द्वारा लगातार छुट्टी मांगा जा रहा था। छुट्टी नहीं मिलने से नाराज जवान द्वारा हवलदार की हत्या जैसी घटना को अंजाम दिया गया।

 

Read Also

रांची : बैंकों द्वारा छोटे नोट/सिक्के नहीं लेने से व्यापारी परेशान

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 8:17 AM

रांची : बैंकों द्वारा छोटे नोट/सिक्के नहीं लेने से व्यापारी परेशान

रांची।  बैंकों द्वारा छोटे नोट व सिक्के स्वीकार नहीं किये जाने से व्यापारियों के बीच उत्पन्न समस्याओं को देखते हुए चेंबर ने आरबीआई के क्षेत्रीय कार्यालय से कार्रवाई का आग्रह किया। चैंबर के एफएमसीजी ट्रेड उप समिति चेयरमेन संजय अखौरी ने पत्र में कहा कि रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया के अधिकारिक निर्देश के बाद भी बैंकों द्वारा छोटे नोट व सिक्के स्वीकार नहीं किये जा रहे हैं। सार्वजनिक एवं निजी बैंकों द्वारा केवल सीमित संख्या में ही सिक्के एवं छोटे नोट स्वीकार किये जाते हैं। जबकि मार्केट में कलेक्शन के रूप में काफी सिक्के व छोटे नोट व्यापारियों द्वारा अपने ग्राहकों से स्वीकार किये जाते हैं।

रांची : एक पखवाड़े में दाल पांच रुपये महंगी, चीनी और घी में नरमी

पूंजी की समस्या

बैंकों द्वारा सीमित मात्रा में सिक्के/छोटे नोट ही स्वीकार करने के कारण राजधानी में व्यवसायियों के पास सिक्कों व छोटे नोटों की संख्या अधिक हो गई है। जिससे परेशानी हो रही है। यह भी कहा कि इस संबंध में आरबीआई को कई पत्राचार किये गये किंतु आरबीआई की ओर से कार्रवाई नहीं होने से व्यापारियों के बीच कठिनाईयां बनी हुई हैं। उन्होंने यह भी कहा कि एफएमसीजी व्यवसाय में हर दिन काफी संख्या में सिक्के छोटे-छोटे व्यापारियों से कलेक्ट किये जाते हैं। जिस कारण से इन व्यापारियों की पूंजी ब्लॉक हो गई है। उनके समक्ष पूंजी की समस्या भी बनी हुई है। आरबीआई को इस ओर त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

डुमरी : पिता का हत्यारा सलाखों के पीछे, शक की सूई ने बना डाला निर्मोही

निर्मोही पुत्र ने कुल्हाड़ी से पिता पर किया था वार, चढ़ा डुमरी पुलिस के हत्थे

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 7:50 AM

डुमरी : पिता का हत्यारा सलाखों के पीछे, शक की सूई ने बना डाला निर्मोही

डुमरी (गिरिडीह)। कुल्हाड़ी से वार कर अपने पिता का हत्या करने वाले पुत्र को डुमरी पुलिस ने शुक्रवार को न्यायलय के समक्ष पेश कर गिरिडीह जेल भेज दिया। वहीं शव को पोस्टमार्टम के बाद परिवारवालों को सौप दिया गया।

कुल्हाड़ी से प्रहार कर हत्या

डुमरी थाना क्षेत्र के खुरजियो निवासी पुत्र महेन्द्र दास अपने पिता जगरनाथ दास उर्फ एतवारी दास की हत्या टांगी से वार कर दिया था। पुलिस ने हत्यारा महेन्द्र दास के भतीजा मिठू दास के आवेदन के आधार पर कारवाई करते हुए आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।

दुमका : कैदी की मौत पर परिजनों ने जेल प्रशासन पर लगाया लापरवाही का आरोप

शक की सूई में पुत्र बना निर्मोही

मिठू दास ने पुलिस को बताया कि उसका चाचा महेन्द्र दास अपनी पत्नी पर शक करता था।  उसकी पत्नी का नाजायज संबंध पिता जगरनाथ दास से था । इसी बात को लेकर पिता पुत्र मे विवाद होता रहता था। बराबर जान मारने की धमकी मेरे चाचा महेन्द्र दास देते रहते थे।

पिता को मार डाला

मिठु दास ने कहा है कि मेरे चाचा महेन्द्र दास ने ही अपनी पत्नी के साथ अवैध संबंध के शक को लेकर मेरे दादा जी जगरनाथ दास को रात्री मे मौका पाकर टांगी मार कर हत्या कर दी।

डुमरी पुलिस के हत्थे चढ़ा आरोपी

इस बाबत डुमरी थाना प्रभारी दिनेश कुमार सिंह ने कहा कि मृतक के पोते मिठू दास के द्वारा दिये गये आवेदन पर मामला दर्ज किया गया है। हत्या का आरोपी महेंद्र दास को गिरफ्तार कर गिरिडीह जेल भेज दिया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.