गिरिडीह : भूख से मौत मामले में जांच करने पहुंचे अधिकारी बने बंधक

NewsCode Jharkhand | 6 June, 2018 5:19 PM
newscode-image

ग्रामीणों ने खरी-खोटी सुनाया, बिना बयान दर्ज किये बैरंग वापस लौटे

गिरिडीह। झारखंड के गिरिडीह जिले में सावित्री देवी की भूख से मौत मामले में स्थानीय प्रशासन ने आनन-फानन में जांच के बाद बीमारी से हुई मौत करार दिया था। लेकिन अधिकारियों को अपनी ही रिपोर्ट पर पूरा भरोसा नहीं हुआ और जिला प्रशासन की एक टीम परिजनों व आसपास के लोगों का बयान लेने फिर से मंगरगढ़ी गांव पहुंची।

गिरिडीह जिला प्रशासन द्वारा आनन-फानन में सावित्री देवी की मौत को बीमारी से हुई मौत बताने से नाराज स्थानीय ग्रामीणों  ने अपर समाहर्ता अशोक कुमार के नेतृत्व में मंगरगढ़ी गांव पहुंची अधिकारियों की टीम को बंधक बना लिया।

बाद में स्थानीय लोग के हस्तक्षेप से ही सभी अधिकारी मुक्त हुए और मृतका के परिजनों व आसपास के लोगों का बयान दर्ज किये बिना उन्हें वापस लौटना पड़ा। इस दौरान ग्रामीणों ने अधिकारियों को खरी-खोटी सुनायी और प्रशासनिक लापरवाही का आरोप लगाया।

इससे पहले जिले के उपायुक्त के निर्देश पर अपर समाहर्ता ने सावित्री देवी की मृत्यु की जांच रिपोर्ट दी। इस जांच रिपोर्ट में दावा किया गया है कि सावित्री देवी की मौत भूख से नहीं हुई। रिपोर्ट में बताया गया है कि कुछ दिनों पहले रिम्स में सावित्री देवी का इलाज किया गया था। डॉक्टरों ने उन्हें पारेशिमियल हेमाटोमा नामक बीमारी बताई थी।

सरिया : युवक का अपहरण, परिजनों ने पुलिस से लगाई खोजबीन की गुहार

जांच रिपोर्ट में कहा गया है कि स्व. सावित्री देवी के देवर भोलाराम महतो और उनका आंगन एक ही है। वह न सिर्फ सावित्री देवी की देखभाल कर रहे थे, उन्हें खाना खिला भी रहे थे। जबकि सावित्री देवी के खाते में अप्रैल महीने में ही पेंशन की राशि 1800 रु ट्रांसफर की गयी थी। अब भी उनके खाते में 2375 रुपये जमा हैं।

जिला प्रशासन की ओर से दावा किया गया है कि सावित्री देवी की तबीयत ठीक नहीं थी। इसलिए गांव के लोग लगातार सावित्री देवी से सम्पर्क में थे और गांव की कई औरतें उनकी सेवा कर रहीं थीं और खाना भी खिला रही थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गावां : धूल फांक रही है तीन करोड़ की बिल्डिंग, एक कमरे में संचालित हो रहा मॉडल स्कूल

Vishal Bhardwaj | 18 August, 2018 10:00 PM
newscode-image

गावां(गिरिडीह)। निजी विद्यालयों की तर्ज पर गरीब मेघावी बच्चों को शिक्षा देने के उद्देश्य से झारखंड सरकार द्वारा संचालित मॉडल स्कूल सरकारी उपेक्षा का दंश झेल रहा है।

सरकारी उपेक्षा का आलम यह है कि तीन करोड़ की लागत से बनी गावां मॉडल स्कूल का भवन यूं ही बेकार पड़ा है और मॉडल स्कूल के बच्चे एक कमरे में पढ़ने को विवश हैं।

गावां : शोकसभा का अयोजन कर अटल जी को दी गई श्रद्धांजलि

वर्तमान में गावां मॉडल स्कूल ‘गावां हाई स्कूल’ के एक कमरे में जैसे-तैसे संचालित हो रहा है, जबकि गावां के माल्डा में  3.05 करोड़ की लागत से मॉडल स्कूल का नया भवन जुलाई 2017 से ही बन कर तैयार है लेकिन उद्घाटन की आश में धुल फांक रही है।

सरकारी दस्तावेजों में 18 जुलाई 2017 को ही सांसद रवीन्द्र राय, विधायक राजकुमार यादव, जिला परिषद के अध्यक्ष राकेश महतो और गिरिडीह के तत्कालीन उपायुक्त उमाशंकर सिंह की मौजूदगी में भवन के उद्घाटन होने की बात कही जा रही है,जबकि सच्चाई यह है कि यह उद्घाटन कब हुआ है? यह किसी को मालूम भी नहीं है।

डुमरी : सन्देहास्पद स्थिति में विवाहिता की मौत, जांच में जुटी पुलिस

गावां मॉडल स्कूल के प्रभारी प्रधानाचार्य श्रीकांत पांडेय से मॉडल स्कूल के भव्य बिल्डिंग रहने के बावजूद एक कमरे में जैसे-तैसे संचालित होने संबंधी बात पूछी गई तो उन्होनें कहा कि मॉडल स्कूल में एक भी शिक्षक नहीं है।

इस कारण माल्डा में स्कूल को शिफ्ट नही किया गया है। इसके अलावे स्कूल के सामने एक तालाब भी है। इस कारण वहां बच्चों की सुरक्षा का भी सवाल सामने आ रहा है। इन्हीं सब कारणों को लेकर फिलहाल गावां हाई स्कूल के एक कमरे में मॉडल स्कूल का संचालन हो रहा है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

 

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला में 1125 सफाईकर्मियों की प्रतिनियुक्ति

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 11:55 PM
newscode-image

देवघरराजकीय श्रावणी मेला 2018 कई मायनों में खास है। इस बार श्रावणी मेला को स्वच्छ मेला के रूप में मनाया जा रहा है। जिला प्रशासन द्वारा स्वच्छता अभियान को लेकर इस वर्ष मेले में शौचालय, मूत्रालय व सफाई व्यवस्थाएं दुगुनी होने के साथ-साथ पूरी तरह से दुरूस्त है।

सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में स्वच्छता का खासा ख्याल रखा जा रहा है। श्रद्धालुओं की सुविधा को देखते हुए सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में 1125 सफाईकर्मियों की प्रतिनियुक्ति की गई है। इसके अलावे 1403 कूडे़दान एवं लगभग 2000 (स्थायी, अस्थायी, बायोटॉयलेट व चलन्त शौचालय) व 330 मूत्रालय की व्यवस्था सम्पूर्ण मेला क्षेत्र में लगाये गये हैं।

देवघर : चौथी सोमवारी को लेकर एसपी ने की मीटिंग, दिये निर्देश

स्वच्छ व ओडीएफ मेला हेतु जिला प्रशासन स्वच्छ भारत मिशन के उ६ेश्यों के पूर्ति हेतु स्वच्छता, साफ-सफाई और खुले में शौच की प्रथा समाप्त करने को संकल्पित है।

देवघर : बाबा मंदिर प्रांगण में एक मंदिर ऐसा भी जहां जाना वर्जित है, जाने क्‍या है राज

श्रावणी मेला के अवसर पर यहाँ आए श्रद्धालुओं को जिला प्रशासन की ओर से हर संभव सुविधा मुहैया करायी जा रही है। नगर निगम के सफाई कर्मियों के द्वारा पूरे मेला क्षेत्र में चौबिसों घंटे साफ-सफाई कर कूड़ा-कचरों का निष्पादन किया जा रहा है। आज सुबह भी सफाई कर्मियों को हाथ में झाड़ू लिए सड़कों का सफाई करते व ट्रैक्टर के माध्यम से कूड़ा उठाते देखा गया।

देवघर : बाबा नगरी के पेड़े की सौंधी महक का जादू विदेशों तक

नगर निगम के सफाई कर्मियों द्वारा मेला क्षेत्र की  साफ-सफाई कर जगह-जगह पर ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव भी किया जा रहा है एवं रात्रि के समय मॉस्क्यूटो फॉगिंग की जा रही है। ताकि मेला क्षेत्र में आये श्रद्धालुओं को बाबा नगरी में एक साफ-सूथरा और स्वच्छ माहौल मिले।

देवघर : बाबा मंदिर में अटल बिहारी वाजपेयी के लिए हुई विशेष अनुष्‍ठान

इसके तहत् श्रद्धालुओं से जब हमारे टीम पीआरडी के सदस्य द्वारा पूछा गया तो नालन्दा बिहार से आये सत्यनारायण बम ने बताया कि पिछले आठ सालों से बाबाधाम आ रहा हूँ मगर इस बार सफाई व शौचालय की व्यवस्था देखकर झारखण्ड सरकार को धन्यवाद करने का मन कर रहा है। इस बार की व्यवस्था वाकई अच्छी है।

देवघर : आयुषी ने बहायी देश-प्रेम की गंगा, संस्‍कृत में गाया “ऐ मेरे वतन के लोगों”   

सिमडेगा : टांगी से काट कर महिला की निर्मम हत्या, हत्‍या का आरोपी गिरफ्तार

NewsCode Jharkhand | 18 August, 2018 10:06 PM
newscode-image

सिमडेगा। कुरडेग थाना क्षेत्र के गाड़ियाजोर पंचायत के ढोंढ़ीडीपा टोली निवासी एक महिला की टांगी से काट कर  हत्या कर दी गई। आरोपी भी महिला के ही गांव का निवासी है। घटना के पीछे आपसी विवाद बताया जा रहा है।  हत्या के आरोपी निरन्तर तिर्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी अशर्फी पासवान घटनास्थल पहुँच कर शव को कब्जे में ले लिया और अंत्यपरीक्षण के लिए सदर अस्पताल  भेज दिया।

सिमडेगा : मिशनरी संस्थाओं को निशाना बनाने का आरोप, सीबीआई जांच की मांग

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

सरायकेला : डंपर की चपेट में आकर जैप के जवान...

more-story-image

बाघमारा : कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने दी पूर्व प्रधानमंत्री को श्रद्धांजलि