गिरिडीह : ईवीएम में कैद हुई प्रत्याशियों की किस्मत, 76,418 मतदाताओं ने किया मताधिकार का प्रयोग

NewsCode Jharkhand | 16 April, 2018 8:38 PM

गिरिडीह : ईवीएम में कैद हुई प्रत्याशियों की किस्मत, 76,418 मतदाताओं ने किया मताधिकार का प्रयोग

सुरक्षा के रहे पुख्ता इन्तेजाम

गिरिडीहनगर निगम चुनाव में विभिन्न पदों पर प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला हो चुका है। 284 उम्मीदवारों की किस्मत पर मतदाताओं ने खूब उत्साह से मुहर लगाई है। पहली बार हो रहे निगम चुनाव को लेकर यहाँ लोगों में खास उत्साह दिखा। सुबह से ही काफी मतदाता वोट डालने के लिए मतदान केंद्र पर पहुचे। करीब सवा लाख मतदाता शहर की सरकार बनाने के लिए अपने मताधिकार का प्रयोग करने के लिए नामित थे, लेकिन इनमें से 76, 418 मतदाता ही अपने घरों से निकले और अपने उंगली की ताकत का अहसास करवाया।

धनवार : एटीएम की हेराफेरी कर पैसा निकालने वाले गिरोह के दो सदस्य गिरफ्तार

बता दें कि गिरिडीह को नगर पार्षद से नगर निकाय का दर्जा मिलने के बाद पहली बार यह चुनाव हो रहा है, जिसमें कुल 284 प्रत्याशी अपना भाग्य आजमा रहे थे। उम्मीदवारों में वार्ड पार्षद के 253, डिप्टी मेयर के 12 और मेयर के 19 प्रत्याशी शामिल थे। दलीय आधार पर चुनाव होने के कारण मेयर और डिप्टी मेयर के लिए भाजपा, कांग्रेस, झामुमो, झाविमो सहित अन्य राजनीतिक दलों ने प्रत्याशी दिए थे। इसके अलावा कई निर्दलीय प्रत्याशी भी इन पदों पर कब्जा जमाने के लिए ताल ठोक रहे थे। अब तमाम उम्मीदवारों की किस्मत एवीएम में बंद होकर वज्रगृह में कैद हो गई है।

चुनाव को लेकर सुरक्षा की कड़ी बंदोबस्ती देखी गई थी। सुरक्षा की कमान पैरामिलिट्री फोर्स और जिला बल के जिम्मे थी। वही उपायुक्त मनोज कुमार, एसपी सुरेन्द्र झा, एसडीएम विजया जाघव, एसडीपीओ मनीष टोप्पो, डीएसपी जितवाहन उरांव, पीके मिश्र समेत अन्य कई अधिकारी दिन भर घूम-घूम कर स्थिति पर नजर बनाए हुये थे। असल में चुनाव के लिए यहां 118 बूथ बनाये गए थे जिनमें से 117 बूथ संवेदनशील व अतिसंवेदनशील श्रेणी में रखे गए थे। हालांकि छिट-पुट घटनाओं को छोड़ दे तो यह चुनाव बेहत अच्छे माहौल में सम्पन्न हुआ।

बताया गया कि मतदान का प्रतिशत 61.48 रहा है। जिनमें से 81.86% पुरुष तो 61.01% महिलाओं ने मतदान किया है। कुल मिलाकर कड़ी सुरक्षा बंदोबस्ती, जिला व पुलिस प्रशासन के बेहतर समन्वय की वजह से यहां मतदान शांतिपूर्ण तरीके से सम्पन्न हुआ। अब 20 अप्रैल को निर्णय निकलेगा ।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

पलामू : पुलिस ने अगवा किसान को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 9:59 PM

पलामू : पुलिस ने अगवा किसान को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया

पलामू। पुलिस ने अपहर्ताओं के साथ मुठभेड़ के बाद किसान को मुक्त कराया है। इस सिलसिले में 5 लोगों को गिरफ्तार भी किया गया है। पुलिस अधीक्षक इंद्रजीत माहथा ने बताया कि किसान कृष्णा प्रजापति को पांकी थाना अंतर्गत केरकी गांव से 14 अप्रैल की सुबह अगवा किया गया था।

जिसके बाद पांकी इन्स्पेक्टर जय प्रकाश सिंह के नेतृत्व में पांकी थाना प्रभारी ललित कुमार व लेस्लीगंज थाना प्रभारी राणा जंगबहादुर सिंह के साथ सशस्त्र बल को शामिल करते हुए छापेमारी टीम गठित की गई।

रांची : व्यवसाय के दीर्घकालीन लाभ आध्‍यात्‍म से ही संभव- स्वामी माधवानंद

संभावित स्थानों पर छापेमारी करते हुए अपह्रत किसान कृष्णा प्रजापति को अपहर्ताओं के चंगुल से मुक्त कराया गया। इस घटना में अपहर्ताओं ने पुलिस की टीम पर फायरिंग भी की जिसपर पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई की। पुलिस बल द्वारा फायरिंग करते देख अपराधी भागने लगे। घेराबंदी करते हुए तीन राईफल, एक देशी कट्टा व 6 जिंदा गोली व मोबाइल के साथ अपराधियों को धर-दबोचा गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

लातेहार : प्रत्येक गांव में पानी की समूचित व्यवस्था सुनिश्चित करें- अराधना पटनायक

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 9:40 PM

लातेहार : प्रत्येक गांव में पानी की समूचित व्यवस्था सुनिश्चित करें- अराधना पटनायक

लातेहार। पेयजल स्वच्छता विभाग की सचिव अराधना पटनायक ने परिसदन भवन में पेयजल विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की। बैठक में अराधना पटनायक ने स्पष्ट निर्देश दिए कि किसी भी गांव एवं टोले में पानी की समस्या नहीं हो। उन्होंने पेयजल विभाग के कार्यपालक अभियंता को मुखिया से समन्वय बनाकर चौदहवें वित्त की राशि से खराब पड़े चापाकल की मरम्मति एवं निर्माण कार्य करवाने का निर्देश दिया।

बैठक के दौरान उन्होंने विभागीय नंबर जारी करने का भी निर्देश दिया ताकि कोई  भी ग्रामीण अपने गांव की पानी समस्या को लेकर उनसे संपर्क कर सके। उन्होंने प्रत्येक गांव के टोले में पानी की समूचित व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिए। उन्होंने स्पष्ट निर्देश दिए कि सिर्फ कागज में ही शौचालय निर्माण कार्य पूर्ण नहीं हो बल्कि उसे धरातल पर उतारें एवं उसके उद्देश्य की सार्थकता को भी सिद्ध करें।

लातेहर : सचिव केके सोन और आराधना पटनायक ने किया निरिक्षण, अधिकारियों को फटकारा

बैठक में अन्य कई मुद्दों पर भी चर्चा किया गया। जिसके बाद श्री मति पटनायक के द्वारा विभागीय पदाधिकारियों को निर्देशित किया गया। मौक पर पेयजल के कार्यपालक अभियंता रंजीत कुमार ठाकुर, प्रशांत शाहदेव, राहुल कुमार सिंह समेत अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : सोमवार को वन्यजीवों का शिकार करेंगे सेंदरा वीर, तराई में की पूजा

NewsCode Jharkhand | 22 April, 2018 9:38 PM

जमशेदपुर : सोमवार को वन्यजीवों का शिकार करेंगे सेंदरा वीर, तराई में की पूजा

सैकड़ों युवक हथियार से लैस

 

मशेदपुर। सेंदरा पर्व पर वन्य जीवों का शिकार करने के लिए आदिवासी दलमा जंगल पर सोमवार तड़के चढ़ाई करेंगे। इससे पूर्व सेंदरा वीरो ने सेंदरा की तराई में पूजा अर्चना की। देर रात से ही आदिवासी समुदाय के लोग हथियार से लैस होकर दलमा पर चढ़ने लगे हैं। इससे पूर्व रविवार की शाम को हथियारबंद आदिवासी युवकों का जमावड़ा पारडीह काली मंदिर के पास लगा। वैसे सोमवार दोपहर के करीब 12 बजे शिकारियों का जत्था शिकार लेकर दलमा से उतरेगा।

दलमा राजा राकेश हेम्ब्रम सेंदरा दल का नेतृत्व कर रहे हैं। हेम्ब्रम के मुताबिक दलमा जंगल में सेंदरा करने के लिए करीब 3000 आदिवासी युवक हथियारों से लैस होकर चढ़े हैं। 196 वर्ग किमी में फैले दलमा जंगल में रविवार शाम सेंदरा पर्व का आगाज हुआ। पहली पूजा शाम में हुई, फिर आधी रात को। मध्य रात्रि की पूजा के बाद दलमा कूच का फरमान जारी हुआ।

रांची : पर्यावरण की पूजा ही गोवर्धन की पूजा- उमेश भाई जानी

वन विभाग ने लगाया चेक नाका

हालांकि इस बार वन विभाग ने कई जगह पर चेक नाका लगाया है। इधर पारंपरिक ढोल नगाड़ों के साथ इन लोगों ने वन देवी की पूजा अर्चना की। दलमाजंगल में जाने वाले हर शिकारी के घर पर पारंपरिक पूजा होती है। इस दौरान कांसा के कलश में पानी भरकर उसे पूजा कक्ष में रखा जाता है। वहीं, सेंदरा वीर के सेंदरा से आने के बाद उस कलश को उठाया जाएगा। मान्यता है कि अगर कलश में पानी घट जाता है तो यह शुभ नहीं होता है। वैसे इस पूजा पर सेंदरा वीर अपने लिए सुरक्षा और अच्छे शिकार की मांग करते है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.