गावां : स्‍थाई बीडीओ और सीओ के नहीं रहने से प्रखंड का विकास कार्य ठप- राजकुमार

स्थायी पदाधिकारी की मांग सहित कई मुद्दों को लेकर मुखिया संघ ने उपायुक्त के नाम से दिया ज्ञापन

NewsCode Jharkhand | 7 February, 2018 11:48 AM

गावां : स्‍थाई बीडीओ और सीओ के नहीं रहने से प्रखंड का विकास कार्य ठप- राजकुमार

गावां (गिरिडीह)। प्रखंड कार्यालय परिसर में स्थित मीटिंग हॉल में गावां प्रखंड के मुखिया संघ के सदस्यों ने मंगलवार को एक बैठक किया। इस बैठक में स्थायी बीडीओ, सीओ की नियुक्ति सहित कई मांग को लेकर उपायुक्त के नाम से एक ज्ञापन प्रभारी पंचायत पदाधिकारी सुरेन्द्र प्रसाद यादव को सौंपा गया।

बैठक में संघ के प्रखंड अध्यक्ष राजकुमार यादव ने कहा कि प्रखंड में लगभग सभी पदाधिकारियों का पद प्रभारी अधिकारियों के भरोसे चल रहा है। स्थायी बीडीओ और सीओ के नहीं रहने से प्रखंड का विकास ठप है। उन्‍होंने कहा कि राजधनवार के बीडीओ को यहां का प्रभार दिया गया है जबकि वे यहां पंद्रह दिन में एक दिन पहुंचते हैं।

मुखिया संघ के सदस्यों द्वारा दिये गए ज्ञापन में उपायुक्त से हर पंचायत में कैम्प लगाकर जाती आवासीय प्रमाण पत्र बनाने, छूटे हुये सभी लोगों का राशन कार्ड बनाने, वृद्धा पेंशन में कैम्प लगाकर नाम जोड़ने, प्रज्ञा केंद्र व बैंक बीसी को पंचायत सचिवालय में शिफ्ट करने, पंचायत सचिवालय में रात्रि प्रहरी की नियुक्ति करने, पंचायत स्तर के सरकारी कर्मियों को पंचायत में कैम्प करने सहित कई मांगे शामिल है।

Read More : गिरिडीह : लेदा पंचायत में संचालित मनरेगा योजनाओं का दिया गया भौतिक प्रशिक्षण

संघ के सदस्यों ने कहा कि उनकी मांगे नहीं माने जाने पर संघ के द्वारा जोरदार आंदोलन चलाया जाएगा। बैठक में उपायुक्त से मिलकर प्रखंड के समस्या से अवगत कराने का निर्णय लिया गया। बैठक में मुखिया दिनेश पांडेय, अनूरूपा देवी, सोनी खातून, ब्रह्मदेव शर्मा, विजय यादव, अजित चौधरी, अजय कुमार, मो. सफदर, जिप सदस्य राजेन्द्र चौधरी सहित कई लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

गढ़वा : हवलदार की गोली मारकर हत्या, छुट्टी नहीं मिलने से नाराज जवान ने दिया अंजाम

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 10:10 AM

गढ़वा : हवलदार की गोली मारकर हत्या, छुट्टी नहीं मिलने से नाराज जवान ने दिया अंजाम

गढ़वा। जिले में आज एक लोमहर्षक घटना घटित हुई। एक पुलिस जवान ने खुद के कंपनी के हवलदार की गोली मार कर हत्या कर दी। घटना के बाबत आपको बताएं कि निकाय चुनाव कराने आये आईआरबी की एक कंपनी जो नामधारी कॉलेज स्थित मतगणना केंद्र की सुरक्षा में तैनात थी।

हवलदार अफ़रोज़ शमद की गई जान

कल मतगणना समाप्त होने के साथ आज कंपनी यहां से कूच करने की तैयारी में थी कि अहले सुबह सभी को गोली चलने की आवाज सुनायी देती है। सभी उस आवाज की दिशा में दौड़ते हैं तो वहां देखते हैं कि उनके कंपनी का हवलदार मुंगेर निवासी अफ़रोज़ शमद मृत पड़े हुए हैं।

पलामू : अपराधी हुए बेखौफ, एक घंटे के भीतर दो जगहों पर की गोलीबारी

IRB जवान गोली मारकर फरार

जवान और अधिकारियों ने मालूम किया तो जानकारी मिली कि मझिआंव थाना क्षेत्र निवासी आईआरबी जवान मुक्ति नारायण सिंह द्वारा उक्त हवलदार को गोली मारी गयी है और उसे हथियार ले कर भागते देखा गया है।

छुट्टी नहीं मिलने से नाराज था मुक्ति नारायण

एक जवान द्वारा हत्या क्यों कि गयी इसका कारण बताया गया कि उक्त जवान द्वारा लगातार छुट्टी मांगा जा रहा था। छुट्टी नहीं मिलने से नाराज जवान द्वारा हवलदार की हत्या जैसी घटना को अंजाम दिया गया।

 

Read Also

UP: बीजेपी विधायक की दादागिरी, सरकारी कर्मचारी को ‘मुर्गा’ बनाया, फिर बेहोश होने तक कराई उठक-बैठक

NewsCode | 21 April, 2018 10:07 AM

UP: बीजेपी विधायक की दादागिरी, सरकारी कर्मचारी को ‘मुर्गा’ बनाया, फिर बेहोश होने तक कराई उठक-बैठक

बांदा। उत्तर प्रदेश में भाजपा विधायकों और नेताओं की दबंगई के नमूने लगातार सामने आ रहे हैं। बांदा के सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी ने पेयजल संकट के बहाने जल संस्थान के टैंकर प्रभारी को सरेआम पहले ‘मुर्गा’ बनाया, फिर तब तक उठक-बैठक करवाई, जब तक वह बेहोश होकर जमीन पर गिर न गया।

गुरुवार को हुआ यह था कि बांदा शहर में पेयजल संकट को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेता व सदर विधायक प्रकाश द्विवेदी जल संस्थान के अभियंताओं के साथ कई मुहल्लों का दौरा किया, जहां लोगों ने टैंकरों से पानी उपलब्ध कराने में गड़बड़ी की शिकायत की। लोगों की शिकायत से ‘माननीय’ का पारा चढ़ गया और जल संस्थान के टैंकर प्रभारी/लिपिक को अधिकारियों और आम जनता के सामने पहले मुर्गा बनाया, फिर बेहोश होने तक उठक-बैठक करवाई।

पीड़ित लिपिक नरेंद्र कुमार ने शुक्रवार को बताया, “अधिकारी समय से टैंकर में पानी नहीं उपलब्ध करवाते, जिससे पानी वितरण में बाधा आती है। लेकिन, गुरुवार को विधायक जी ने पहले सरेआम मुझे मुर्गा बनाकर झुकाए रहे, बाद में तब तक कड़ी धूप में उठा-बैठक लगवाई, जब तक मैं बेहोशर होकर जमीन पर नहीं गिर गया।”

उसने कहा, “मेरे साथ बुरा बर्ताव किया गया है, जिससे मैं बेहद आहत हूं।”

भाजपा विधायक प्रकाश द्विवेदी ने शुक्रवार को एक बार फिर दोहराया, “अभी मुर्गा बनाया है और उठा-बैठक करवाई है। शहर का पेयजल संकट दूर न किया गया तो जनता अधिकारियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटेगी, मैं जनता के साथ हूं।”

उत्तर प्रदेश में महज पांच रुपये के लिए युवक की पीट-पीट कर हत्या

क्या उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी चमक खोते जा रहे हैं?

आईएएनएस

रांची : बैंकों द्वारा छोटे नोट/सिक्के नहीं लेने से व्यापारी परेशान

NewsCode Jharkhand | 21 April, 2018 8:17 AM

रांची : बैंकों द्वारा छोटे नोट/सिक्के नहीं लेने से व्यापारी परेशान

रांची।  बैंकों द्वारा छोटे नोट व सिक्के स्वीकार नहीं किये जाने से व्यापारियों के बीच उत्पन्न समस्याओं को देखते हुए चेंबर ने आरबीआई के क्षेत्रीय कार्यालय से कार्रवाई का आग्रह किया। चैंबर के एफएमसीजी ट्रेड उप समिति चेयरमेन संजय अखौरी ने पत्र में कहा कि रिजर्व बैंक ऑफ इण्डिया के अधिकारिक निर्देश के बाद भी बैंकों द्वारा छोटे नोट व सिक्के स्वीकार नहीं किये जा रहे हैं। सार्वजनिक एवं निजी बैंकों द्वारा केवल सीमित संख्या में ही सिक्के एवं छोटे नोट स्वीकार किये जाते हैं। जबकि मार्केट में कलेक्शन के रूप में काफी सिक्के व छोटे नोट व्यापारियों द्वारा अपने ग्राहकों से स्वीकार किये जाते हैं।

रांची : एक पखवाड़े में दाल पांच रुपये महंगी, चीनी और घी में नरमी

पूंजी की समस्या

बैंकों द्वारा सीमित मात्रा में सिक्के/छोटे नोट ही स्वीकार करने के कारण राजधानी में व्यवसायियों के पास सिक्कों व छोटे नोटों की संख्या अधिक हो गई है। जिससे परेशानी हो रही है। यह भी कहा कि इस संबंध में आरबीआई को कई पत्राचार किये गये किंतु आरबीआई की ओर से कार्रवाई नहीं होने से व्यापारियों के बीच कठिनाईयां बनी हुई हैं। उन्होंने यह भी कहा कि एफएमसीजी व्यवसाय में हर दिन काफी संख्या में सिक्के छोटे-छोटे व्यापारियों से कलेक्ट किये जाते हैं। जिस कारण से इन व्यापारियों की पूंजी ब्लॉक हो गई है। उनके समक्ष पूंजी की समस्या भी बनी हुई है। आरबीआई को इस ओर त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

© Copyright 2017 NewsCode - All Rights Reserved.