फल और सब्जियों का निर्यात 15 प्रतिशत गिरा, जानें वजह

NewsCode | 28 January, 2018 11:05 AM
newscode-image

नई दिल्ली।अप्रैल-नवंबर, 2017 के मुनाफे के आधार पर गेहूं और दलहन के निर्यात से अलग ताजा फल और सब्जियों की कीमतों मे 15 प्रतिशत की कमी आई है। कृषि एवं प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (एपीईडीए) के अनुसार, इसका प्रमुख कारण सबसे बड़े निर्यात बाजारों में प्याज, टमाटर, केला और किशमिश की मांग और आपूर्ति की कमी आना है।

इस अवधि के दौरान निर्यातित ताजा फल और सब्जियों का मूल्य 5416 करोड़ रुपये था, जो 2016 की इसी अवधि के दौरान के मूल्य की तुलना में 15 प्रतिशत कम है।

एपीईडीए के अध्यक्ष डी.के. सिंह ने  बताया कि कम उत्पादन के कारण प्याज का न्यूनतम निर्यात मूल्य (एमईपी) बढ़कर 840 डॉलर प्रति टन होने के कारण निर्यात कम हुआ।

उन्होंने बताया कि ताजा सब्जियों के कुल निर्यात में प्याज की हिस्सेदारी 50 प्रतिशत है। प्याज का एमईपी बढ़ने से इसका निर्यात कम हुआ है।

केंद्र सरकार ने घरेलू बाजार में प्याज की आपूर्ति सुनिश्चित करने और कम दाम पर निर्यात को कम करने के लिए पिछले वर्ष नवंबर में इसके एमईपी की अधिकतम दर निश्चित की थी।

मात्रा के मामले में सब्जियों का कुल निर्यात अप्रैल-नवंबर 2017 के दौरान घटकर 16 लाख टन रहा, जबकि एक वर्ष पहले की समान अवधि में यह 22.80 लाख टन था।

संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) को भारत से अप्रैल-नवंबर के बीच निर्यात की गई सब्जियों में 18.3 प्रतिशत, निर्यात किए गए फलों में 18.3 प्रतिशत हिस्सेदारी रही।

दूसरे स्थान पर बांग्लादेश रहा, जिसकी सब्जियों में हिस्सेदारी 12.2 प्रतिशत और मलेशिया 11.8 प्रतिशत के साथ तीसरे स्थान पर रहा।

इसी तरह फलों का निर्यात 2016 में 4,47,612 टन से घटकर 2017 में 3,68,361 टन रह गया।

भारत जिन देशों को निर्यात करता है, उनमें यूएई, बांग्लादेश, नेपाल और अमेरिका शीर्ष देश हैं। यूएई भारतीय फलों और सब्जियों का प्रमुख बाजार है। इसके बाद नेपाल, बांग्लादेश और मलेशिया आते हैं।

सिंह ने कहा, “इस वर्ष नेपाल और बांग्लादेश में हमारे फलों और सब्जियों की मांग गिरी है। निर्यात में कमी का यह भी एक प्रमुख कारण है।”

2017 में अप्रैल-नवंबर के दौरान प्रसंस्कृत सब्जियों और फलों के निर्यात में वृद्धि हुई है।

सत्र 2017-18 में सब्जियों का कुल उत्पादन 2016-17 के 1781.70 लाख टन के मुकाबले 1806.80 लाख टन होने की उम्मीद है।

इसी तरह फलों का उत्पादन 2016-17 के 929.20 लाख टन के मुकाबले 2017-18 में 948.80 लाख टन होने की उम्मीद है।

दलहन और गेहूं का निर्यात घटकर क्रमश: 87,760 टन और 179,699 टन रहा, जबकि पिछले वर्ष यह क्रमश: 91,652 टन और 218,494 टन रहा था।

वहीं चावल की गैर बासमती किस्म का निर्यात समीक्षाधीन अवधि में बढ़कर 55.70 लाख टन हो गया, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यह 41.1 लाख टन था।

आईएएनएस

अयोध्‍या में योगी ने संतों से कहा- धैर्य रखें! भगवान राम की कृपा बरसेगी तो जल्द बनेगा मंदिर

NewsCode | 25 June, 2018 7:02 PM
newscode-image

अयोध्‍या। देश में अगले साल होने वाले आम चुनाव से पहले अयोध्‍या में राम मंदिर के निर्माण का मुद्दा एक बार फिर गरमा गया है। सोमवार को महंत नृत्यगोपाल दास के जन्‍मदिन पर अयोध्‍या में आयोजित संत सम्‍मेलन में हिस्‍सा लेने पहुंचे उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने संत समाज से अपील की है कि वे कुछ दिन तक धैर्य रखें, भगवान राम की कृपा होगी तो अयोध्‍या में राम मंदिर जरूर बनेगा।

योगी ने कहा, ‘हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में रहते हैं। भारत की इस व्यवस्था के संचालन में न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका की अपनी भूमिका है। हमें उन मर्यादाओं को भी ध्यान में रखना होगा। उन्होंने कहा, ‘मर्यादा पुरुषोत्तम राम इस ब्रह्मांड के स्वामी हैं। जब उनकी कृपा होगी तो अयोध्या में मंदिर बनकर रहेगा। इसमें कोई संदेह नहीं है…तो फिर संतों को इसे लेकर संदेह कहां से पैदा हो जाता है। आपने इतना धैर्य रखा, मुझे लगता है कि कुछ दिन और धैर्य रखना होगा। आशावाद पर दुनिया टिकी हुई है।’

योगी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए किसी का नाम लिये बगैर कहा कि इस पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उच्चतम न्यायालय में अर्जी दाखिल करके कहा कि रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद हो। वहीं, कांग्रेस के ही लोग कह रहे हैं कि भाजपा मंदिर मुद्दे पर कुछ नहीं कर रही है। कहीं ऐसा तो नहीं कि जब विवाद का पटाक्षेप नजदीक है, तब ये लोग कोई दूसरी साजिश रच रहे हों।

इस दौरान कार्यक्रम में सीएम योगी ने कहा कि आज वो लोग भी राम मंदिर की बात करते हैं, जिन लोगों ने राम भक्तों पर गोलियां चलाई थीं। खुशी की बात है कि किसी भी बहाने ये लोग राम भक्ति की बात करते हैं। तो यही हमारी विजय है।

यूपी: मुजफ्फरनगर में कबाड़ी की दुकान में विस्फोट, 4 की मौत

योगी का यह बयान वेदांती के बयान के बाद आया है, जिसमें उन्‍होंने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत मंदिर निर्माण होने से नहीं रोक सकती। बीजेपी के पूर्व सांसद ने कहा कि यही एकमात्र पार्टी है, जो अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण कर सकती है।

INX मीडिया केस: कार्ति चिदंबरम की जमानत को CBI ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

रांची : पहली बारिश में नगर निगम की खुली पोल, अस्त-व्यस्त जरूरी सेवाएं

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 10:03 PM
newscode-image

रांची। झारखंड में मानसून देर से आने की सूचना थी लेकिन फिर भी नगर निगम की ओर से किसी भी प्रकार की तैयारी नहीं की गई, नतीजतन मानसून के पहले बारिश ने नगर निगम की पोल खोलकर रख दी है। ऐसे तो नगर निगम सड़क और नाली के ऊपर करोड़ों खर्च करने की बात कहती है लेकिन पहली बारिश ने नगर निगम के सारे दावों को झूठा साबित कर दिया।

रांची : बीजेपी का “पोल खोल हल्ला बोल” नाम से राज्‍यभर में धरना

बता दें 1 घंटे रांची में हुए मूसलाधार बारिश से कई जरूरी सेवाएं बाधित हो गई। तेज बारिश के कारण नाली का पानी सड़कों पर बहने लगी, कई दुकानों में नाली का पानी सड़कों के माध्यम से घुस गया, कई व्यापारी को काफी परेशानी उठानी पड़ी। वही राहगीरों का रास्ता चलना दुर्भर हो गया।

रांची का सबसे पुराना अस्पताल सेवा सदन में बारिश का पानी घुसने की वजह से मरीजों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ा, वही कई मरीज पर इंफेक्शन का खतरा मंडराने लगा। वही मुसलाधार बारिश के कारण ओवर ब्रिज का रोड धंस गया, जिससे आवागमन पूरी तरह से बाधित हो गई।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

कोडरमा : निखिल भारत बंग साहित्य सम्मेलन का चुनाव सम्पन्न

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:58 PM
newscode-image

रविन्द्र चुने गए अध्यक्ष और संदीप सचिव

कोडरमा। निखिल भारत बंग साहित्य सम्मेलन कोडरमा शाखा सत्र 2018-20 के लिए द्विवार्षिक चुनाव सम्पन्न हो गया झुमरीतिलैया स्थित डॉ. कल्याण चैघरी के आवास पर आयोजित इस चुनावी बैठक की अध्यक्षता डॉ. ओमियो विश्वास ने की। बैठक में संस्था के सचिव अरुप मित्रा ने अपना प्रतिवेदन प्रस्तुत किया, वहीं कोषाध्यक्ष तुषार राय चैधरी ने आय व्यय का विस्तृत ब्यौरा प्रस्तुत किया।

कोडरमा : भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के खिलाफ विपक्ष का धरना-प्रदर्शन

इस चुनाव में सर्वसम्मति से अध्यक्ष पद पर रविन्द्र चन्द्र दास, सचिव पद पर संदीप मुखर्जी एवं कोषाध्यक्ष पद पर शंकर प्रसाद सिन्हा को मनोनीत किया गया। इसके अलावा डॉ. ओमियो विश्वास, डॉ. कल्याण चौधरी, काकोली मजुमदार व मंजुश्री मुखर्जी को उपाध्यक्ष बनानी नियोगी को संयुक्त सचिव, तीर्थो मुखर्जी व अरुप मित्रा को सह सचिव, विपुल गुप्ता को केन्द्रीय परिषद के सदस्य, सुनील कुमार देवनाथ को सांस्कृतिक विभाग के अध्यक्ष व सुकांत मजुमदार को सचिव तथा इन्द्रानी मुखर्जी व जया मुखर्जी को सदस्य, बुद्धेश्वर कुण्डु को अंकेक्षक के रुप में चुना गया।

कार्यकारिणी सदस्य के रुप में तुषार राय चौधरी, माया दास, प्रसेनजीत घोष, निरुपमा चौधरी व चित्रा मुखर्जी को चुना गया। संस्था की कोडरमा शाखा का मुखपत्र सृजनी पत्रिका के संपादक के रुप में कल्याण मजुमदार, सह संपादक के रुप में इन्द्रजीत गुप्ता व प्रकाशन सचिव के रुप में भूदेव मुखर्जी का मनोनयन किया गया। नव निर्वाचित सचिव संदीप मुखर्जी के धन्यवाद ज्ञापन के साथ बैठक का समापन किया गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

सरिया : आंगनबाड़ी केंद्रों में मिला सड़ा अंडा, अभिभावकों ने...

more-story-image

बेंगाबाद : तेज रफ्तार का टूटा कहर, बाइक सवार युवक...