बेटी को ‘लता मंगेशकर’ बनाने के लिए किडनैपिंग पर उतरे फन्‍ने खां, देखें मज़ेदार ट्रेलर

NewsCode | 6 July, 2018 3:41 PM
newscode-image

मुंबई। ऐश्वर्या राय, अनिल कपूर और राजकुमार राव अभिनीत फिल्म ‘फन्ने खां’ का ट्रेलर रिलीज हो गया है। ट्रेलर में एक ऐसे शख्स की कहानी दिखाई गई है जो अपनी बेटी को ‘लता मंगेशकर’ बनाने की कोशिश में है। अनिल कपूर ने अपने ट्विटर अकाउंट पर फिल्म का ट्रेलर शेयर करते हुए लिखा, ‘एक है राज और दूसरा है फन्ने खां का अंदाज़! होंगे इसके सपने पूरे?

ट्रेलर से ये साफ़ हो रहा है कि अनिल कपूर संगीत के इस कदर दीवाने हैं कि उन्होंने अपनी बेटी का नाम लता रखा है। फिल्म की कहानी एक ऐसे मामूली पिता फन्ने खां की है जो अपनी बेटी को सिंगिंग की दुनिया का सरताज बनाना चाहते हैं। हालांकि उसकी बेटी को उसके मोटापे और अन्य वजहों से दर्शकों की हूटिंग झेलनी पड़ती है।

फन्ने खां जो एक टैक्सी ड्राइवर भी है, वो किसी भी हाल में अपनी बेटी को लता मंगेशकर जैसी गायिका बनाना चाहता है। हालांकि फन्ने खां को उसकी बेटी और पत्नी आउटडेटेड मानती हैं। फन्ने मोहम्मद रफ़ी बनने का सपना देख रहा था, जो पूरा नहीं हो पाया। वह सिर्फ मोहल्ले का फन्ने खां ही बन पाया। अब वो बेटी को लता जैसी गायिका बनाने का सपना देख रहा है।

बेटी को स्टार बनाने के लिए फन्ने, राजकुमार राव की मदद लेता है। दोनों मिलकर पैसों के लिए ऐश्वर्या रॉय का अपहरण कर लेते हैं। ऐश्वर्या मशहूर गायिका के किरदार में हैं। किडनैपिंग के बाद ऐश्वर्या और राजकुमार राव के बीच प्रेम भी हो जाता है। फिल्म में दिव्या दत्ता भी हैं जिन्होंने अनिल कपूर की पत्नी का किरदार निभाया है। अनिल कपूर, बेटी को कैसे गायिका बनाते हैं, रास्ते में किस तरह की अड़चनें आती हैं, ऐश्वर्या राय बच्चन और राजकुमार राव में किस तरह की केमिस्ट्री है इन तमाम बातों का खुलासा फिल्म की रिलीज के बाद ही होगा।

फिलहाल फिल्म के ट्रेलर से अनुमान लग जा रहा है कि अनिल कपूर की ‘फन्ने खां’ एक इमोशनल पारिवारिक ड्रामा फिल्म है। फन्‍ने खां का ट्रेलर दर्शकों को पसंद आ रहा है। साथ ही फ‍िल्‍म के म्‍यूजिक को लेकर भी चर्चा हो रही है कि ये शानदार रहने वाला है। फन्ने खां का निर्देशन न‍िर्देशक अतुल मांजरेकर ने किया है। जबकि फिल्म के गीत अमित त्रिवेदी ने तैयार किये हैं। ये फिल्म 3 अगस्त को रिलीज़ होगी।

यहां देखें ट्रेलर..

14 साल के प्रियांशु का बड़ा कारनामा- एक पारी में ठोके 556 रन, जड़े 98 चौके

NewsCode | 1 November, 2018 4:32 AM
newscode-image

नई दिल्ली। 14 साल के एक किशोर ने जूनियर क्रिकेट में तहलका मचा दिया है। इस बल्लेबाज ने बिना आउट हुए 556 रन की मैराथन पारी खेल डाली। मंगलवार को डीके गायकवाड़ अंडर-14 क्रिकेट टूर्नामेंट में बड़ौदा के प्रियांशु मोलिया ने 556 रनों की तूफानी पारी खेली है। मोहिंदर लाला अमरनाथ क्रिकेट एकेडमी की ओर से खेलते हुए प्रियांशु ने अपनी पारी में 98 चौके जड़े। प्रियांशु की इस पारी से अमरनाथ एकेडमी ने योगी क्रिकेट एकेडमी को पारी और 690 रनों से रौंदा।

बैटिंग से पहले प्रियांशु ने गेंदबाजी में भी जलवा बिखेरते हुए चार विकेट चटकाए थे। उनके इस प्रदर्शन की बदौलत योगी अकादमी मैच के पहले दिन केवल 52 रन पर ही ढेर हो गई थी। इसके बाद मोहिंदर लाला अमरनाथ अकादमी ने प्रियांशु की बल्लेबाजी की बदौलत पूरे मैच पर ही अपना कब्जा कर लिया।

प्रियांशु ने अपनी नाबाद 556 रन की पारी के लिए 319 गेंद खेलीं। उन्होंने 98 चौके और 1 छक्का लगाया, जिसकी बदौलत उनकी टीम ने चार विकेट पर 826 का पहाड़ सरीखा स्कोर खड़ा किया। इसके बाद योगी एकेडमी की दूसरी पारी 84 रनों पर ढेर हुई। प्रियांशु ने अपनी ऑफ स्पिन के सहारे दूसरी पारी में भी विकेट चटकाए।

इस पारी से पहले तक प्रियांशु का सर्वश्रेष्ठ स्कोर 254 रन था, जो उन्होंने इसी टूर्नामेंट में पिछले साल बनाया था। पारी के बाद प्रियांशु ने कहा कि मैं अपने स्वाभाविक खेल खेल रहा था क्योंकि गेंदबाजी आक्रमण काफी अच्छा था। यह संतोषजनक पारी थी। हालांकि मैं चार-पांच मौकों पर बीट भी हुआ।

बता दें कि साल 1983 विश्व कप के फाइनल के मैन ऑफ द मैच रहे मोहिंदर अमरनाथ खुद प्रियांशु के लिए मेंटोर की भूमिका निभाते हैं। मोहिंदर का प्रियांशु की प्रतिभा में बहुत ही ज्यादा भरोसा है। मोहिंदर अमरनाथ ने खुद प्रियांशु की तारीफ करते हुए कहा, ‘ मैंने उसे पहली बार जब देखा, तो मुझे पता था कि मैं कुछ खास देख रहा हूं। वह प्रतिभावान है और समय के साथ मौके मिलते रहने से उसमें काफी निखार आएगा। मुझे उसका जुनून पसंद है।’

गौरतलब है कि हाल ही में वेस्टइंडीज के खिलाफ भारतीय टेस्ट टीम में जगह पाने वाले युवा बल्लेबाज पृथ्वी शॉ 14 साल की उम्र में 546 रनों की पारी खेल कर सुर्खियों में आए थे और अब प्रियांशु ने अपने प्रदर्शन से सबको चौंकाया है।


पहले टेस्ट में ही पृथ्वी शॉ ने ठोका शानदार शतक, बना डाले ये रिकॉर्ड

रोहित शर्मा बने ‘सिक्सर किंग’, छक्कों से तोड़ दिया सचिन का रिकॉर्ड

sun

320C

Clear

Jara Hatke

Read Also

रांची : अपराध पर अंकुश लगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका- मुख्यमंत्री

NewsCode Jharkhand | 19 November, 2018 1:08 PM
newscode-image

दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन

रांची। झारखंड की राजधानी रांची में सोमवार को दो दिवसीय राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन का शुभारंभ हुआ। सम्मेलन का उदघाटन मुख्यमंत्री रघुवर दास ने किया। जबकि समापन समारोह में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू शामिल होंगी।

झारखंड पुलिस और राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो के संयुक्त तत्वावधान में रांची के धुर्वा स्थित न्यायिक अकादमी स्थित डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम ऑडिरियम में आयोजित 8वीं राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन का उद्घाटन करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि अपराध पर अंकुश लगाने में महिलाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आज 19नवंबर के दिन इस सम्मेलन का उदघाटन होना और भी महत्वपूर्ण है, क्योंकि 19नवंबर को ही महिला शक्ति को पूरी दुनिया में स्थापित करने वाली पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और स्वतंत्रता की लड़ाई में अग्रणी भूमिका निभाने वाली रानी लक्ष्मीबाई की जयंती के रूप में मनाया जाता है।

उन्होंने कहा कि महिलाएं कैसे सशक्त बने और अपराध पर अंकुश के लिए चिंतनन-मनन जरूरी है। मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत ही दुनिया में एकमात्र ऐसा देश है, जहां नारी शक्ति की पूजा-अर्चना की जाती है, सबसे खतरनाक जीव सिंह और बाघ को माना जाता है, लेकिन इस पर सवार हो कर मां दुर्गा और मां काली ही आती है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी समाज और राष्ट्र में महिला शक्ति को और अधिक सुदृढ़ करने के लिए करने का काम किया है। झारखंड की बेटी और तीरंदाज दीपिका, पर्वतारोही प्रेमलता समेत अन्य मातृ शक्ति ने झारखंड और भारत का नाम  पूरी दुनिया में रौशन किया है।

प्रधानमंत्री ने भी मातृ शक्ति पर विश्वास करते हुए देश की सुरक्षा और विदेश मामलों का प्रभार महिलाओं के हाथों सौंपा है। रघुवर दास ने कहा कि राज्य सरकार ने भी झारखंड पुलिस में महिलाओं के लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की है और महिला पुलिस अधिकारियों-कर्मियों के लिए आधारभूत संरचना उपलब्ध कराने के लिए कई कदम उठाये हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि परिवार में भी महिलाओं की भूमिका केंद्र बिन्दु में होती है, समाज में भी महिलाओं की भूमिका अहम है,ऐसा नहीं होने पर पूरी व्यवस्था छिन्न-भिन्न हो जाएगी। उन्होंने वर्तमान परिस्थिति में अपराध का स्वरूप भी बदा है, साइबर अपराध पर अंकुश लगाने के लिए प्रशिक्षण जरूरी है, अन्य अपराध भी चुनौतीपूर्ण है, इसके लिए प्रशिक्षण की जरूरत है।

इस सम्मेलन में देशभर की 149 प्रतिभागी शामिल हो रही है, जिनमें सिपाही से लेकर पुलिस महानिदेशक स्तर की महिला पुलिस पदाधिकारी भी हो रही है। सम्मेलन  में यौन उत्पीड़न, आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल, सेंट्रल पारा मिलिट्री फोर्स में महिलाओं की समस्या सेफ सिटी बनाने में महिला पुलिसकर्मियों की भूमिका और योगदान पर चर्चा की जा रही है।

सम्मेलन का उद्देश्य पुलिस के समक्ष नई चुनौतियों के बीच सशक्त कार्य स्थल तथा अनुकूल कार्य वातावरण, स्मार्ट सिटी, सेफ सिटी और कम्युनिटी पुलिसिंग पर चर्चा हो रही है। प्रथम राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन की सफलता से उत्प्रेरित होकर राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो द्वारा देश के विभिन्न हिस्सों में इससे पहले सात सम्मेलनों का आयोजन सफलतापूर्वक किया जा चुका है।

वक्ताओं ने बताया कि राष्ट्रीय महिला पुलिस सम्मेलन राष्ट्रीय अनुसंधान एवं विकास ब्यूरो केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा आयेजित राष्ट्रीय स्तर पर एकमात्र ऐसा मंच है, जो वर्दीधारी महिलाओं के मुद्दों से संबद्ध है तथा उनके पेशेवर क्षमता को महत्तम और अनुकूल बनाने के लिए एक सक्रिय वातावरण उपलब्ध कराता है।

सम्मेलन में राजस्थान से 7, एसवीपी अकादमी हैदराबाद से 5, मेघालय से 4, आरपीएफ से 7, नेपा मेघालय से 2, मणिपुर से 2, प. बंगाल से 8, उत्तराखंड से 6, आईटीबीपी से 3, आईटीबीपी अकादमी से 5, सीआईएसएस से 3, केरल से 4, बीएसएफ से 6, एनडीआरएफ से 1, असम से 5, हरियाणा से 3, गुजरात से 5, तेलंगाना से 1, एसएसबी से 4, कर्नाटक से 11, तमिलाडु से 6, उत्तर प्रदेश से 2, त्रिपुरा, अगरतल्ला से 1, एनडीआरएफ से 3, एनएसजी से 1, असम राइफल से 6, महाराष्ट्र से 5, पंजाब से 6, ओड़िशा से 6 प्रतिभागी हिस्सा ले रहे है। जबकि वक्ताओं में अध्यक्ष रेखा शर्मा, न्यायमूर्ति ज्ञान सुधा मिश्रा, महानिदेशक डॉ. एपी महेश्वरी समेत अन्य विशेषज्ञ शामिल है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

लाठी डंडे और भय दिखा कर सत्ता पर बने रहना चाहती है  भाजपा

Om Prakash | 18 November, 2018 6:45 PM
newscode-image

रांची :  महानगर कांग्रेस कमिटी ओबीसी विभाग के द्वारा किशोरगंज, बड़ा तालाब स्थित मोमिन हॉल, रांची में जनसमस्यओं को लेकर एक बैठक मुहल्ला समस्या निदान चैपाल आहूत की गई। बैठक में आमलोगों की जनसमस्याओं से अवगत होते हुए समाधान हेतु विचार-विमर्श किया गया। बैठक में कांग्रेस पार्टी नेता आदित्य विक्रम जयसवाल, पार्टी कार्यकर्तागण एवं मुहल्ला के समाजसेवी मुख्य रूप से उपस्थित थे।

बैठक में मुहल्ला वासियों ने बताया कि पानी सप्लाई समय पर नहीं होने से पेयजल की भारी किल्लत है, मुहल्ले में समुचित साफ सफाई नहीं होने से गंदगी का अम्बार है, सरकारी योजनाओं का लाभ सही लाभुक को नही मिल रहा है। भाजपा की सरकार में महंगाई चरम पर है, रोजगार की आशा में  मारें फिर रहे हैं।

इस मौके पर  जयसवाल ने कहा कि केंद्र की मोदी सरकार, राज्य के रघुवर की सरकार और भाजपा शासित रांची नगर निगम कभी अच्छी सोच के साथ गरीबों के उत्थान के लिएकार्य नही की है। भाजपा का जन आरोग्य योजना, मुद्रा लोन, जनधन योजना, स्वच्छ भारत योजना, मेक इन इंडिया सभी विफल साबित हुई है। भाजपा की सभी योजनाएं सिर्फ गरीब का परिवारों को लुभाने और ठगने का काम की है, यह भाजपा की सरकार बाहरी लोगों को लाभ पहुँचाती है और झारखंडियों की आवाज को लाठी डंडे के सहारे दबाना चाहती है। जो इनकी मंसूबे को जनता समझ चुकी है। आने वाले चुनाव में वोट देकर भाजपा को चोट पहुँचायगी। राजधानी के युवा साथी बदलाव की और अग्रसारित है।

प्रदेश कांग्रेस के योजना एवम रणनीति के सदस्य अमिताभ रंजन ने कहा कि भाजपा की नियत और नीति दोनों गरीबों के खराब है। लाठी डंडे और भय दिखा कर सत्ता पर बने रहना चाहती है, भाजपा का विकास खोखला है।

पुरानी रांची निवासी शमशेर ने कहा कि रोजगार के लिये नवयुवक दर दर भटक रहे हैं, महिला, बच्चें असुरक्षित महसूस कर रहे हैं, ब्यवसायिक वर्ग अपराधी के भय से जिय रहे हैं, राजधानी के लोग भय की साया में लिप्त हैं।

महानगर कांग्रेस नेता किशन अग्रवाल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी हमेशा गरीबों की उत्थान, दुख सुख की बात करती है , और अपनी राज्य लोकतांत्रिक तरीके से चलाने पर विश्वास करती है। कांग्रेस पार्टी ही राज्य का सही विकास करेगी, आंकड़े और दिखावे का काम सिर्फ भाजपा की झूठी सरकार करती है। कांग्रेस गरीबों के चेहरों पर भय नही मुस्कान भरने पर विश्वास करती है।

बैठक के अंत मोमिन हॉल में युवाओं के बीच क्रिकेट किट का वितरण किया गया था। श्री जायसवाल ने अपनी टीम के साथ मुहल्ला में पदयात्रा कर कांग्रेस की नीति और संदेश को जन जन को बताया और मोहल्ला की समस्या निदान का हर सम्भव मदद की आश्वाशन दिया।

बैठक की अध्यक्षता कांग्रेस ओ बी सी नेता नंद किशोर साहू  ने की तथा संचालन आसिफ जियाउल ने किया। वहीं धन्यवाद ज्ञापन अनिल सिंह ने की

इस कार्यक्रम में मुख्य रूप से पुरानी रांची के सदर हाफिजुर रहमान ,नईम भाई ,रमजान अंसारी, शमशेर आलम, किशन अग्रवाल, अमिताभ रंजन, उमेश कुमार ,आसिफ जियाउल, तमन ,फैयाज, टीपू ,पिंटू ,इफ्तेखार ,आसिफ नंद किशोर साहू ,मेराज आलम, सदाब, अमरजीत सिंह, अनिल सिंह, चिंटू चौरसिया, प्रेम कुमार,रमजान, साद, फैयाज, रमीज, मिनटु, इफ्तिखार, मोकिम, बिक्की, तस्लीम, तमन्ना, सददाब, इसरार, मौसिन आदि उपस्थित थे।

 

 (अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.) 

More Story

more-story-image

झारखण्ड प्रदेश चुनाव कमिटी की सदस्य गुंजन सिंह

more-story-image

लोहरदगा : अपने हजारों समर्थकों के साथ जेएमएम में शामिल...

X

अपना जिला चुने