आज 1 बजे होगा गुजरात चुनाव की तारीखों का ऐलान, दो चरणों में हो सकता है गुजरात चुनाव

NewsCode | 25 October, 2017 11:28 AM
newscode-image

नई दिल्ली। चुनाव आयोग आज दोपहर 1 बजे गुजरात चुनाव की तारीखों का एलान करेगा। तारीखों का एलान होते ही गुजरात का चुनावी घमासान और भी तेज हो जाएगा। हिमाचल प्रदेश चुनावों की तारीख का ऐलान करने के बाद लगातार विपक्ष चुनाव आयोग पर गुजरात की तारीखों का ऐलान ना करने के लिए निशाना साध रहा था।

पिछले कुछ दिनों में गुजरात की राजनीति ने जो करवट ली उसके बाद से देश की निगाहें इस चुनाव पर है. सूत्र बता रहे हैं कि दो चरणों में चुनाव होगा। गुजरात चुनाव में इस बार सीधी टक्कर बीजेपी और कांग्रेस के बीच है।

सूत्रों की मानें, गुजरात में दो चरणों में चुनाव हो सकते हैं। आपको बता दें कि 18 दिसंबर को हिमाचल चुनाव की मतगणना होगी। हो सकता है कि दोनों राज्यों की मतगणना साथ ही हो।

चुनाव की तारीखों के एलान में देरी को लेकर विपक्ष लगातार चुनाव आयोग और केंद्र सरकार पर निशाना साध रहा था। चुनाव आयोग ने 12 अक्टूबर को हिमाचल चुनाव का एलान किया था। हिमाचल प्रदेश में विधानसभा चुनाव 9 नवंबर को होंगे लेकिन गुजरात चुनाव के कार्यक्रम की घोषणा नहीं की थी। आलोचनाओं के बीच आयोग ने सोमवार को कहा कि गुजरात में चुनाव 18 दिसंबर से पहले होंगे।

अयोध्‍या में योगी ने संतों से कहा- धैर्य रखें! भगवान राम की कृपा बरसेगी तो जल्द बनेगा मंदिर

NewsCode | 25 June, 2018 7:02 PM
newscode-image

अयोध्‍या। देश में अगले साल होने वाले आम चुनाव से पहले अयोध्‍या में राम मंदिर के निर्माण का मुद्दा एक बार फिर गरमा गया है। सोमवार को महंत नृत्यगोपाल दास के जन्‍मदिन पर अयोध्‍या में आयोजित संत सम्‍मेलन में हिस्‍सा लेने पहुंचे उत्‍तर प्रदेश के मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने संत समाज से अपील की है कि वे कुछ दिन तक धैर्य रखें, भगवान राम की कृपा होगी तो अयोध्‍या में राम मंदिर जरूर बनेगा।

योगी ने कहा, ‘हम दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में रहते हैं। भारत की इस व्यवस्था के संचालन में न्यायपालिका, कार्यपालिका और विधायिका की अपनी भूमिका है। हमें उन मर्यादाओं को भी ध्यान में रखना होगा। उन्होंने कहा, ‘मर्यादा पुरुषोत्तम राम इस ब्रह्मांड के स्वामी हैं। जब उनकी कृपा होगी तो अयोध्या में मंदिर बनकर रहेगा। इसमें कोई संदेह नहीं है…तो फिर संतों को इसे लेकर संदेह कहां से पैदा हो जाता है। आपने इतना धैर्य रखा, मुझे लगता है कि कुछ दिन और धैर्य रखना होगा। आशावाद पर दुनिया टिकी हुई है।’

योगी ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए किसी का नाम लिये बगैर कहा कि इस पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने उच्चतम न्यायालय में अर्जी दाखिल करके कहा कि रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद की सुनवाई वर्ष 2019 के लोकसभा चुनाव के बाद हो। वहीं, कांग्रेस के ही लोग कह रहे हैं कि भाजपा मंदिर मुद्दे पर कुछ नहीं कर रही है। कहीं ऐसा तो नहीं कि जब विवाद का पटाक्षेप नजदीक है, तब ये लोग कोई दूसरी साजिश रच रहे हों।

इस दौरान कार्यक्रम में सीएम योगी ने कहा कि आज वो लोग भी राम मंदिर की बात करते हैं, जिन लोगों ने राम भक्तों पर गोलियां चलाई थीं। खुशी की बात है कि किसी भी बहाने ये लोग राम भक्ति की बात करते हैं। तो यही हमारी विजय है।

यूपी: मुजफ्फरनगर में कबाड़ी की दुकान में विस्फोट, 4 की मौत

योगी का यह बयान वेदांती के बयान के बाद आया है, जिसमें उन्‍होंने कहा कि दुनिया की कोई भी ताकत मंदिर निर्माण होने से नहीं रोक सकती। बीजेपी के पूर्व सांसद ने कहा कि यही एकमात्र पार्टी है, जो अयोध्‍या में राम मंदिर का निर्माण कर सकती है।

INX मीडिया केस: कार्ति चिदंबरम की जमानत को CBI ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

पाकुड़ : भाजपा की बैठक आयोजित, हुल दिवस को लेकर हुई चर्चा

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:16 PM
newscode-image

पाकुड़। लिट्टीपाड़ा प्राखण्ड दामिन डाक बंगला परिषर में भाजपा की बैठक प्रखण्ड अध्यक्ष राम मंडल की अध्यक्षता में आहुत किया गया। जिसमे मुख्य अतिथि के रूप में प्रदेश उपाध्यक्ष सह पूर्व मंत्री हेमलाल मुर्मू उपस्थित हुये। बैठक में  मुख्य रूप से 30 जून को  हूल दिवस को लेकर चर्चा की गयी। मंडल इकाई के लोगों को 30 जून को पांच कठिया से भोगनाडीह ले जाने के बातें हुई।

पाकुड़ : भूमिगत कोयला में आग लगने से ग्रामीण दहशत में, प्रशासन से लगाई गुहार

साथ ही प्रदेश उपाध्यक्ष मुर्मू ने बताया कि भूमि अधिग्रहण अधिनियम बिल आदिवासियों के हित के लिए बनाया गया है। इसको लेकर विपक्ष दुष्प्रचार कर रहे है लेकिन सभी से अपील किया  हर आदिवासी गांव गांव एवं  घर-घर  जाकर सभी को भूमि  अधिग्रहण अधिनियम बिल के बारे में सरकार की उप्लब्धि आदिवासियों एवं जनजातियों को स्पस्ट रूप से बताया जाएगा। यह कानून सरकारी जनहित के  कार्यो लिया बनाया गया है जिसके तहत सरकारी स्कूल, कॉलेज , हॉस्पिटल, सड़क, रेलवे के अच्छे काम में आएगे।

साथ ही भाजपा नेता साहेब हाँसदा ने कहा कि बूथ स्तर पर संगठन मजबूती करने, गाँव-गाँव में जाकर सरकार  कि उपलब्धी के बारे में जानकरी देने के लिए कार्यकर्त्ताओं  से अनुरोध किया । इस बैठक के मौके पर एस टी मोर्चा प्रखंड अध्यक्ष भोला हेम्ब्रम, प्रखंड प्रभारी सुलेमान मुर्मू, दिनेश मुर्मू, जिला कार्यकारणी सदस्य बबलू सोरेन, पंचायत प्रभारी मंझला सोरेन, प्रखंड उपाध्यक्ष मुंशी मुर्मू, प्रखंड मंत्री रेंगटा किस्कू सहित दर्जनों कार्यकार्ता उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : महाधरना तो ट्रेलर है, पूरी फिल्म 5 जुलाई को दिखेगी- विपक्ष

NewsCode Jharkhand | 25 June, 2018 9:03 PM
newscode-image

भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में विपक्ष का महाधरना

जमशेदपुरभूमि अधिग्रहण संशोधन बिल के विरोध में सम्पूर्ण विपक्ष द्वारा आहूत राज्य-व्यापी जिला मुख्यालयों पर महाधरना के आलोक में पूर्वी सिंहभूम जिला मुख्यालय के समक्ष भी विपक्षी दलों की एकता देखने को मिली। बिल के विरोध में विपक्षी गठबंधन द्वारा चलाये जा रहे विरोध प्रदर्शन को देखते हुए प्रशासन ने यहां विधि-व्यवस्था को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए थे। विपक्षी दलों के नेताओं धरना के माध्यम से एक स्वर से राज्य सरकार से बिल को अविलंब निरस्त करने की मांग की है।

जमशेदपुर : तीन साल के बच्‍चे को पिकअप वैन मारा धक्‍का, हुई मौत

भूमि अधिग्रहण संशोधन बिल को लेकर पूरे सूबे की गरमाई सियासत के बीच विपक्षी दलों का आंदोलन अब तीखा हो चला है। आंदोलन के क्रम में विपक्षी दलों ने पूर्वी सिंहभूम जिला मुख्यालय पर महा धरना देकर राज्य सरकार तक संदेश दिया कि बिल के मौजूदा स्वरूप को किसी भी सूरत में स्वीकार नही किया जाएगा।

विपक्षी दल जेएमएम, कांग्रेस, जेवीएम, आरजेडी और वाम दलों और संगठनों के लोगों ने बिल के विरोध में एकजुटता दिखाते हुए राज्य सरकार को कठघरे में खड़ा किया और कहा कि झारखंडी आवाम के हितों के विपरीत लाये गए भूमि अधिग्रहण बिल पूंजीपतियों के फायदे के लिए है न कि यहां के निवासियों के लिए।

महाधरना के माध्यम से सरकार को चेतावनी दी गई कि यदि तमाम विरोध के बावजूद बिल को लागू किया जाता है तो आने वाले चुनावों में भाजपा को मुँह की खानी पड़ेगी। विपक्षी नेताओं ने राष्ट्रपति द्वारा बिल को मंजूरी दिए जाने पर कहा कि दरअसल इस मुद्दे पर राष्ट्रपति को भी अंधेरे में रख कर बाइक डोर से बिल पास कराया गया है, जो किसी भी सूरत में स्वीकार नही किया जाएगा। बिल के विरोध में महाधरना तो एक फ़िल्म का ट्रेलर है, बाकी पूरी फिल्म 5 जुलाई को आहत झारखंड बन्द के दौरान दिखेगी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

More Story

more-story-image

दुमका : राज्य में सरकार एक और हूल लाना चाहती...

more-story-image

बोकारो : उपायुक्त ने अप्रेंटिस चयन प्रक्रिया को पारदर्शी रखने...