दुमका : कपड़ा दुकान से रंगे हाथ दबोचा गया दो चोर, पुलिस ने भेजा जेल

NewsCode Jharkhand | 11 March, 2018 7:47 PM

दुमका : कपड़ा दुकान से रंगे हाथ दबोचा गया दो चोर, पुलिस ने भेजा जेल

चोरी का कपड़ा और बैटरी बरामद

दुमका। नगर थाना पुलिस ने दो चोरों को रंगेहाथ धर दबोचा। दोनों बस स्टैंड के पीछे नियंत्रण कक्ष के समीप कपड़ा गोदाम से चोरी कर रहा था। जानकारी के मुताबिक मो.आरीफ बैंक के समीप फुटपाथ पर कपड़ा बेचता है। दुकान के सामने ही गोदाम में कुछ कपड़े को रखा था।

सुबह जब वाहन में बैट्ररी नहीं दिखने पर चोरी की आशंका हुई। इसी बीच नजर पड़ी की दो चोर मिथलेश कुमार झा और सरजू प्रसाद साह कपड़े की बोरी का दूसरा कार्टून ले जा रहा था। गोदाम का ताला टूटा देखकर दुकान मालिक ने दोनों को रूकने को कहा लेकिन वह भागने लगा।

सिल्‍ली : पुलिस ने बांटे हेलमेट, गुलाब फूल देकर किया स्वागत

शोर सुनते ही आस पास के लोग दोनों को पकड़ा और पुलिस को सूचित कर दिया। पुलिस ने निशानदेही पर नयापाड़ा के एक घर से चोरी के करीब 70 हजार के कपड़े और बैटरी बरामद किया। इधर घटना की सूचना कपड़ा व्यवसायी मो. आरिफ को भी दिया गया।

बताया जा रहा है कि मिथलेश सदर प्रखंड के आसनसोल पंचायत के हवाई अडडा का रहने वाला है। जबकि सरजू मूल रूप से गोड्डा का रहने वाला है। सूरज दुमका में ही रहकर रिक्शा चलाने का कार्य करता था। चोरी कर सभी समानों को सरजू अपने रिक्शा से ले जाता था। दोनों पर मामला दर्ज कर जेल भेज दिया गया है।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : दिव्यांगों को सशक्त बनाने की ओर एक कदम, सरयू राय ने बांटा ई रिक्शा

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:59 PM

जमशेदपुर : दिव्यांगों को सशक्त बनाने की ओर एक कदम, सरयू राय ने बांटा ई रिक्शा

जमशेदपुर।  जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति द्वारा दिव्यांगों को आत्मनिर्भर बनाने और उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से ई-रिक्शा दिया जा रहा है। इसी क्रम में जेएनएसी द्वारा बुधवार को तीन दिव्यांगों के बीच ई रिक्शा का वितरण किया गया।

इस दौरान मुख्य रूप से मौजूद मंत्री सरयू राय ने इन दिव्यांगों को ई-रिक्शा की चाबी और गाड़ी के कागजात सौंपे। मौके पर जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति के विशेष पदाधिकारी, कर्मचारी और लाभुक के परिवार जन मौजूद रहे। ई रिक्शा पाकर दिव्यांग लाभुकों के चेहरे पर ख़ुशी देखी गयी।

Read More:- सिमडेगा : किसानों की आय होगी दोगुनी, मिलेगा तकनीकी प्रशिक्षण- डीसी

बता दें की नगर विकास विभाग द्वारा शहरी क्षेत्र में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को ये रिक्शा दिए जा रहा है। फिलहाल 50 बीपीएल नागरिकों को यह रिक्शे दिए जाने है और ई रिक्शा की दस प्रतिशत राशि खरीदने वाले को खर्च करना पड़ेगा। वहीं खरीददार को रजिस्ट्रेशन, फिटनेस प्रमाण पत्र, बीमा आदि का शुल्क भी देना होगा।

इस मौके पर मौजूद मंत्री सरयू राय ने कहा कि ई रिक्शा के संचालन से प्रदूषण भी कम होगा और जरुरतमंदों को रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने कहा कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को धरातल पर उतारने की कवायद शुरू हो चुकी है जो एक सुखद पहल है। वहीँ ई रिक्शा पाकर लाभुक भी काफी खुश नजर आए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:56 PM

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

फिल्ट्रेशन से शिवगंगा का पानी 70 फीसदी हुआ साफ

देवघर। देवघर देव की  नगरिया है और यहां सालों भर आस्था का संगम देखने को मिलता है। देवघर का पवित्र शिवगंगा आस्था का केंद्र के साथ-साथ लोगों के जल का मुख्य स्रोत भी है। भक्त यहीं स्नान कर बाबा भोले को जल चढ़ाने के लिए जाते हैं, लेकिन रखरखाव और पानी को शुद्ध करने में प्रशासन नाकाम रहे। जिसके वजह से यहां का पानी दूषित हो गया। कुछ ही सालों में यहां का जल अशुद्ध हो गया, साथ ही पानी में कई तरह के कीटाणु भी पनपने लगे हैं।

रघुवर सरकार ने सबसे पहले शिवगंगा को शुद्ध करने के लिए फिल्ट्रेशन प्लांट को मंजूरी दी और अब यह फिल्ट्रेशन प्लांट काम भी करने लगा है। पिछले 6 महीनों से यह फिल्ट्रेशन प्लांट दिन-रात पानी को शुद्ध करने में लगा है और आज हालात ऐसे हैं कि शिवगंगा का 70 फीसदी जल शुद्ध हो चुका है।

आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे श्रद्धालु

अधिकारी बताते हैं कि सावन आते-आते शिवगंगा का पानी 90 फीसदी से ज्यादा शुद्ध हो जाएगा। इस बार के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे। इतना ही  जानकार बताते हैं कि अगर इसी गति से पानी शुद्ध होता रहा तो सरोवर का जल पीने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बाबा भोलेनाथ की नगरी जहां पर सुल्तानगंज से जल लेकर श्रद्धालु बाबा भोले के शिवलिंग पर जल अर्पण करते हैं। जो भक्त सुल्तानगंज से नहीं आते वह इसी पवित्र शिवगंगा में डुबकी लगाकर यहां का जल बाबा भोले को चढ़ाते हैं, लेकिन रखरखाव और सही नीति नहीं रहने के कारण जल दूषित हो गया।

छह महीनों से जल की हो रही सफाई

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

 

आगामी श्रावणी मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी है। इस बार सरोवर में स्वच्छ जल से स्नान कर सकेंगे। नगर आयुक्त संजय कुमार सिंह ने बताया कि पिछले 6 महीनों से लगातार शिवगंगा के जल को साफ करने की प्रक्रिया जारी है। फिल्ट्रेशन प्लांट 24 घंटे काम कर रहा है और 70 फीसदी से ज्यादा पानी साफ हो चुका है और उम्मीद जताई जा रही है कि 2018 के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु स्वच्छ जल में आस्था की डुबकी लगाएंगे।

देवघर : सरदार पंडा के गद्दी पर आसीन होंगे गुलाबनंद ओझा

पहले से काफी बदलाव आया : स्‍थानीय

देवघर के स्थानीय लोग भी मानते हैं कि पहले और अभी की स्थिति में काफी बदलाव आया है। पहले इसका जल शुद्ध नहीं था और लोग इसमें स्नान करने से कतराते थे। साथ ही इसका जल बदबू भी देने लगा था जिससे कई तरह के चर्म रोग होने लगे थे। फिल्ट्रेशन प्लांट के काम करने के बाद अब जल के स्तर और इसकी शुद्धता में काफी परिवर्तन आया है और अब भक्त इसमें निसंकोच स्नान कर सकते हैं।

वहीं फिल्ट्रेशन प्लांट में काम कर रहे कर्मी का कहना है कि 70 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो चुका है और सावन के मेले के समय 90 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो जाएगा। शिवगंगा का जल शुद्ध करने में 8 कर्मचारी दिन रात लगे हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

कटकमसांडी : सुनसान रास्ते से मिलेगा छुटकारा, महाने नदी पर बनेगा पुल

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:32 PM

कटकमसांडी : सुनसान रास्ते से मिलेगा छुटकारा, महाने नदी पर बनेगा पुल

कटकमसांडी (हजारीबाग)। आज़ादी के वर्षों बाद भी यदि कोई इलाके में पुल की कमी और रास्ता नहीं बनने के कारण हमारी बहु-बेटियों को उन्नति के मार्ग में विघ्न होता हो, कोई जरूरतमंद बीमार या पीड़ित को कष्ट  हो, दर्जनों गांवों के लोग एक-दुसरे से जुदा हो जाते है। उक्त बातें विधायक मनीष जायसवाल ने कटकमसांडी में पुल के शिलान्यास के मौके पर कही।

वर्ष 2017 के जनवरी महीने में हजारीबाग-चतरा की सीमा के पास सदर विधानसभा क्षेत्रांतर्गत कटकमसांडी प्रखंड और सिमरिया विधानसभा क्षेत्रांतर्गत पथलगड्डा प्रखंड के बीच के सुनसान रास्ते पर दो छात्रा रजनी (काल्पनिक नाम) राधा कुमारी (काल्पनिक नाम ) के साथ दुष्कर्म के उपरांत हत्या का सनसनीखेज मामला उजागर हुआ था।

मृतिका की एक अन्य बहन सहित कई स्कूली और कॉलेजों की छात्राओं ने डरी-सहमी आवाज में उन्हें कहा था कि “अब हमलोग पढाई छोड़ देंगे सर। इस सुदूरवर्ती रास्ता में महाने नदी पर पुल और पक्का सड़क नहीं होने के कारण हमारी जान को खतरा है”। समाज में व्याप्त इस अनैतिक कुकृत्य और अभिशाप से मुक्ति के लिए उन्होंने प्रयास किया और इस रास्ते पर पड़ने वाले महाने नदी पर पुल का शिलान्यास किया।

पुल के शिलान्यास कार्यक्रम के दौरान यहां उपस्थित लोगों विशेषकर महिलाओं और छात्राओं के आंखों में ख़ुशी साफ़ झलक रही थी। इस दौरान विधायक जायसवाल ने कहा कि इस रास्ते पर ना जाने अबतक ऐसे कितने गुमनाम अनैतिक कुकृत्य हुए होंगे, कितने जरूरतमंद मरीज अस्पताल नहीं पंहुच पाए होंगे।

Read More:- बेंगाबाद : विधायक ने किया नवनिर्मित पुल का उद्घाटन, लोगों ने जताया हर्ष

पुल निर्माण के उपरांत इस सड़क के कायकल्प का भी प्रस्ताव जल्द सरकार से रखा जाएगा और निर्माण कराया जाएगा। विधायक ने विगत वर्ष यहाँ दो छात्राओं के साथ दुष्कर्म के बाद हुए हत्या मामले पर अबतक बलात्कारियों और हत्यारों को पुलिस द्वारा पहचान नहीं किये जा सकने की मामले पर खेद प्रकट करते हुए कहा की स्थानीय पुलिस शायद इसे भूल गयी होगी लेकिन मेरे मन- मस्तिष्क और दिल में इस जघन्य घटना के प्रति एक गहरा रोष अब भी व्याप्त है। उन्होंने कहा की आने वाले बुधवार को मृतिका छात्राओं के न्याय की गुहार को लेकर और हत्यारों के गिरफ्तारी की मांग को लेकर हजारीबाग एसपी और डीआईजी से मिलेंगे। जब तक दोनों मृतक के अपराधियों को सजा नहीं मिल जाती  मुझे सुकून नहीं मिलेगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने