दुमका : 2018 तक जिला को ओडीएफ बनाने का लें सामाजिक जिम्मेदारी- डीसी मुकेश कुमार

NewsCode Jharkhand | 27 September, 2017 6:38 PM

दुमका : 2018 तक जिला को ओडीएफ बनाने का लें सामाजिक जिम्मेदारी- डीसी मुकेश कुमार

दुमका। पंचायतों के स्वयं सेवक एवं स्वच्छता ग्राहियों का एक दिवसीय जिला स्तरीय उन्मुखीकरण कार्यशाला स्टेडियम में बुधवार को आयोजित हुई। कार्यक्रम जिला जल एवं स्वच्छता मिशन, दुमका स्वच्छता ही सेवा अभियान द्वारा आयोजित किये गये। जिसमें स्वच्छता के प्रति संकल्प भी लिया गया।

कार्यशाला को संबोधित करते हुए डीसी मुकेश कुमार ने कहा कि शौचालय के निर्माण के लिए योग्य लाभुक को ही राशि उपलब्ध कराई जाये। उन्होंने कहा कि शौचालय का निर्माण गुणवत्तापूर्ण होना चाहिए तथा शौचालय का नियमित उपयोग हो, इसके लिए लोगों को जागरूक करने का निर्देश दिया।

उन्होंने कहा कि शौचालय कोई शोभा की वस्तु नहीं बन जाये, इसका विशेष ध्यान रखे। दुमका जिला को ओडीएफ बनाने के लिए टीम वर्क से कार्य करने की आवश्यकता पर जोर दिया। इसे हर गांव, टोले, मुहल्ले एवं हर घर तक ले जाना लक्ष्य निधारित किया गया है। शौचालय के लिए लोगों को जागरूक करने की आवश्यकता है। सभी के प्रयास से ही दुमका जिला को स्वच्छ बनाया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि लोगों को यह जानकारी देना सुनिश्चित करें कि  शौचालय से क्या-क्या लाभ है। शौचालय का प्रयोग नहीं करने पर विभिन्न प्रकार की बिमारियों का सामना करना पड़ सकता है। डीसी कुमार ने कहा कि जिनके घरों में शौचालय का निर्माण हो चुका है। वह अपने शौचालय का उपयोग करें, खुले में शौच के लिए नहीं जायें। जिनके घरों में शौचालय का निर्माण नहीं हुआ है। वह अपने निर्माण कार्य को अक्टूबर माह तक पूर्ण करवाये।

उन्होंने कहा कि वर्ष 2018 तक दुमका जिले को खुले से शौचमुक्त करने में अपनी सामाजिक जिम्मेदारी का निर्वाहन सुनिश्चित करने की अपील किया। उन्होंने कहा कि व्यक्तिगत शौचालय के निर्माण के लिए 12000 रुपये की प्रोत्साहन राशि दी जा रही है। कार्यशाला को डीडीसी शशिरंजन ने संबोधित करते हुए शौचालय निर्माण से संबंधित विस्तृत जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि शौचालय निर्माण से संबंधित हर प्रकार की समस्याओं का समाधान किया जायेगा। कार्यशाला में पेयजल स्वच्छता प्रमंडल एक के मंगल पूर्ति एवं दो के किशोर कुमार वर्मा सहित सभी प्रखंड के बीडीओ तथा स्वयं सहायता कर्मी उपस्थित थे।

जमशेदपुर : दिव्यांगों को सशक्त बनाने की ओर एक कदम, सरयू राय ने बांटा ई रिक्शा

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:59 PM

जमशेदपुर : दिव्यांगों को सशक्त बनाने की ओर एक कदम, सरयू राय ने बांटा ई रिक्शा

जमशेदपुर।  जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति द्वारा दिव्यांगों को आत्मनिर्भर बनाने और उन्हें स्वरोजगार से जोड़ने के उद्देश्य से ई-रिक्शा दिया जा रहा है। इसी क्रम में जेएनएसी द्वारा बुधवार को तीन दिव्यांगों के बीच ई रिक्शा का वितरण किया गया।

इस दौरान मुख्य रूप से मौजूद मंत्री सरयू राय ने इन दिव्यांगों को ई-रिक्शा की चाबी और गाड़ी के कागजात सौंपे। मौके पर जमशेदपुर अधिसूचित क्षेत्र समिति के विशेष पदाधिकारी, कर्मचारी और लाभुक के परिवार जन मौजूद रहे। ई रिक्शा पाकर दिव्यांग लाभुकों के चेहरे पर ख़ुशी देखी गयी।

Read More:- सिमडेगा : किसानों की आय होगी दोगुनी, मिलेगा तकनीकी प्रशिक्षण- डीसी

बता दें की नगर विकास विभाग द्वारा शहरी क्षेत्र में आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लोगों को ये रिक्शा दिए जा रहा है। फिलहाल 50 बीपीएल नागरिकों को यह रिक्शे दिए जाने है और ई रिक्शा की दस प्रतिशत राशि खरीदने वाले को खर्च करना पड़ेगा। वहीं खरीददार को रजिस्ट्रेशन, फिटनेस प्रमाण पत्र, बीमा आदि का शुल्क भी देना होगा।

इस मौके पर मौजूद मंत्री सरयू राय ने कहा कि ई रिक्शा के संचालन से प्रदूषण भी कम होगा और जरुरतमंदों को रोजगार उपलब्ध हो सकेगा। उन्होंने कहा कि सरकार की कल्याणकारी योजनाओं को धरातल पर उतारने की कवायद शुरू हो चुकी है जो एक सुखद पहल है। वहीँ ई रिक्शा पाकर लाभुक भी काफी खुश नजर आए।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

Read Also

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:56 PM

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

फिल्ट्रेशन से शिवगंगा का पानी 70 फीसदी हुआ साफ

देवघर। देवघर देव की  नगरिया है और यहां सालों भर आस्था का संगम देखने को मिलता है। देवघर का पवित्र शिवगंगा आस्था का केंद्र के साथ-साथ लोगों के जल का मुख्य स्रोत भी है। भक्त यहीं स्नान कर बाबा भोले को जल चढ़ाने के लिए जाते हैं, लेकिन रखरखाव और पानी को शुद्ध करने में प्रशासन नाकाम रहे। जिसके वजह से यहां का पानी दूषित हो गया। कुछ ही सालों में यहां का जल अशुद्ध हो गया, साथ ही पानी में कई तरह के कीटाणु भी पनपने लगे हैं।

रघुवर सरकार ने सबसे पहले शिवगंगा को शुद्ध करने के लिए फिल्ट्रेशन प्लांट को मंजूरी दी और अब यह फिल्ट्रेशन प्लांट काम भी करने लगा है। पिछले 6 महीनों से यह फिल्ट्रेशन प्लांट दिन-रात पानी को शुद्ध करने में लगा है और आज हालात ऐसे हैं कि शिवगंगा का 70 फीसदी जल शुद्ध हो चुका है।

आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे श्रद्धालु

अधिकारी बताते हैं कि सावन आते-आते शिवगंगा का पानी 90 फीसदी से ज्यादा शुद्ध हो जाएगा। इस बार के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु आस्था की डुबकी शुद्ध जल में लगाएंगे। इतना ही  जानकार बताते हैं कि अगर इसी गति से पानी शुद्ध होता रहा तो सरोवर का जल पीने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बाबा भोलेनाथ की नगरी जहां पर सुल्तानगंज से जल लेकर श्रद्धालु बाबा भोले के शिवलिंग पर जल अर्पण करते हैं। जो भक्त सुल्तानगंज से नहीं आते वह इसी पवित्र शिवगंगा में डुबकी लगाकर यहां का जल बाबा भोले को चढ़ाते हैं, लेकिन रखरखाव और सही नीति नहीं रहने के कारण जल दूषित हो गया।

छह महीनों से जल की हो रही सफाई

देवघर : श्रावणी मेला तक पूरी तरह शुद्ध हो जाएगी शिवगंगा- नगर आयुक्त

 

आगामी श्रावणी मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए खुशखबरी है। इस बार सरोवर में स्वच्छ जल से स्नान कर सकेंगे। नगर आयुक्त संजय कुमार सिंह ने बताया कि पिछले 6 महीनों से लगातार शिवगंगा के जल को साफ करने की प्रक्रिया जारी है। फिल्ट्रेशन प्लांट 24 घंटे काम कर रहा है और 70 फीसदी से ज्यादा पानी साफ हो चुका है और उम्मीद जताई जा रही है कि 2018 के श्रावणी मेला में आने वाले श्रद्धालु स्वच्छ जल में आस्था की डुबकी लगाएंगे।

देवघर : सरदार पंडा के गद्दी पर आसीन होंगे गुलाबनंद ओझा

पहले से काफी बदलाव आया : स्‍थानीय

देवघर के स्थानीय लोग भी मानते हैं कि पहले और अभी की स्थिति में काफी बदलाव आया है। पहले इसका जल शुद्ध नहीं था और लोग इसमें स्नान करने से कतराते थे। साथ ही इसका जल बदबू भी देने लगा था जिससे कई तरह के चर्म रोग होने लगे थे। फिल्ट्रेशन प्लांट के काम करने के बाद अब जल के स्तर और इसकी शुद्धता में काफी परिवर्तन आया है और अब भक्त इसमें निसंकोच स्नान कर सकते हैं।

वहीं फिल्ट्रेशन प्लांट में काम कर रहे कर्मी का कहना है कि 70 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो चुका है और सावन के मेले के समय 90 फीसदी से ज्यादा जल शुद्ध हो जाएगा। शिवगंगा का जल शुद्ध करने में 8 कर्मचारी दिन रात लगे हुए हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

चांडिल : जन-जन तक पहुंच रहा पीएम योजना का लाभ, सुविधा पाकर महिलाएं खुश

NewsCode Jharkhand | 23 May, 2018 3:45 PM

चांडिल : जन-जन तक पहुंच रहा पीएम योजना का लाभ, सुविधा पाकर महिलाएं खुश

निःशुल्क गैस चूल्‍हा का वितरण

चांडिल (सरायकेला)। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जनकल्याणकारी योजनाओं में शामिल उज्ज्वला योजना के तहत कुकड़ु प्रखंड सभागार में आयोजित कार्यक्रम के दौरान 16 महिलाओं को निःशुल्क गैस कनेक्शन की सुविधा दी गयी।

60 महिलाओं को गैस कनेक्शन देना था लेकिन गैस एजेंसी की लापरवाही के कारण 16 को ही कनेक्शन दिया गया।

कुकड़ु प्रखंड के बीडीओ मोनिया लता ने महिलाओं को गैस उपयोग की एवं रख-रखाव से संबंधित जानकारी दी। महिलाओं का कहना है कि गरीबों में यह सुविधा प्रदान कर प्रधानमंत्री मोदी ने जो शुरूआत की है इससे पर्यावरण के साथ-साथ महिलाओं को काफी सहुलियत मिलेगी।

पाकुड़ : एक लाख लाभुकों को मिलेगा उज्‍ज्‍वला योजना का लाभ

मौके पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कुकड़ु प्रखंड के बीस सूत्री अध्यक्ष सचिदानंद महतो ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जितनी भी योजनाएं बनाई है वे जन-जन का कल्याण करने वाली है। उज्ज्वला योजना के तहत गैस कनेक्शन का वितरण चौतरफा लाभकारी है।

गैस कनेक्शन के अभाव में चूल्हा जलाने पर व्यक्ति पर काफी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता था सरकार द्वारा इससे मुक्ति के लिए हर घर में गैस कनेक्शन पहुंचाने का लक्ष्य रखा गया है।

यह लक्ष्य राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज की कल्पना को पूर्ण करेगा। उज्ज्वला योजना के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना भी जीवन में बदलाव लाएगी।

मौके पर बीस सूत्री उपाध्यक्ष अजित सिंह मुंडा,शत्रुघन मछुआ, सिमंत महतो, संतोष प्रामाणिक आदि लोग उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

X

अपना जिला चुने