दुमका : पोते की परवरिश में बूढ़े दादा ने दिखाई असमर्थता, भेजा गया चाइल्ड होम

NewsCode Jharkhand | 12 June, 2018 5:13 PM
newscode-image

दुमका। बाल कल्याण समिति ने बिन मां-पिता के बच्चे के भरण-पोषण एवं संरक्षण के लिए चाइल्ड होम में भेजा। यह कार्रवाई जिला विधिक सेवा प्राधिकार के  निर्देशानुसार  की गई। जहां गोलपुर गांव निवासी मोचीराम हेम्ब्रम ने अपने साढ़े तीन वर्षीय पोते का लालन-पालन एवं संरक्षण में आर्थिक रूप से कमजोर होने एवं देखभाल में असमर्थता जाहिर की थी।

गोलपुर पंचायत में नियुक्त पारा लिगल वोलेंटियर नीरज कुमार ने बाल कल्याण समिति के अध्यक्ष को आवेदन देकर वस्तु स्थिति से अवगत करवाया। मामले में अग्रतर कार्रवाई करते हुए समिति अध्यक्ष अधिवक्ता मनोज साह की अध्यक्षता वाली चार सदस्यीय समिति ने पड़ताल कर बच्चे के उज्ज्वल भविष्य एवं संरक्षण को आफ्टरकेयर भेजा।

Read More:- कोडरमा : “बाल विवाह एक सामाजिक कुरीति, इससे दो जिंदगियां होती है बर्बाद”

समिति सदस्यों में सुमिता सिंह, रमेश गुप्ता एवं रंजन सिन्हा उपस्थित थे।इस अवसर पर बाल संरक्षण पदाधिकारी रंजू देवी एवं समिति पारा लिगल वोलेंटियर नितिन कुमार का सराहनीय योगदान रहा।

यहां बता दें कि बच्चे के पिता चेतन हेम्ब्रम का एक सड़क दुर्घटना में मौत हो गई थी। पति के मौत के बाद बच्चे की मां बच्चे को छोड़ घर से भाग प्रेम विवाह कर ली।  उसके बाद से उसके वृद्ध दादा मोचीराम एवं उसकी पत्नी किसी प्रकार देखभाल कर रहे थे। मोचीराम की एक पुत्री भी है, जो मानसिक रूप से विक्षिप्त है।जिसका इलाज जारी है। इस स्थिति में बच्चे का समुचित देखभाल की समस्या उत्पन्न हो रही थी।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

जमशेदपुर : शहर को अव्वल बनाने में लोगों के साथ आला अधिकारियों ने दिया जोर

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 4:55 PM
newscode-image

स्लम एरिया में की गई साफ-सफाई

जमशेदपुर। पीएम मोदी के आह्रवान पर देश भर में मनाए जा रहे स्वच्छता पखवाड़ा के तहत सफाई अभियान में जमशेदपुर को अवल्ल बनाने को लेकर जिला प्रशासन ने सघन अभियान चला रखा है। जिसकी कमान खुद अमित कुमार ने संभाल रखी है।

उपायुक्त स्वयं स्थानीय बस्तीवासियों को साथ लेकर स्लम एरिया में लोगों में स्वच्छता के प्रति जागरूकता पैदा करने में लगे है, ताकि स्वच्छता में शहर को अव्वल बनाया जा सके।

यह तस्वीर है लौहनगरी जमशेदपुर के स्लम क्षेत्र वाला इलाका छाया नगर और चंडीनगर का। कचरे का ढेर यहां की बस्तियों से गुजरने वाली सड़कें और गली-मुहल्लों में सहज ही देखी जा सकती है। यही वजह है कि स्वच्छता पखवाड़े को लेकर जिला उपायुक्त ने बस्तीवासियों के सहयोग से बृहद पैमाने पर अभियान चलाया।

दुमका : स्वछता ही सेवा है अभियान में उतरे मंत्री समेत पदाधिकारी

उपायुक्‍त अमित कुमा ने अपील की है कि एक ऐसा शहर बनाना जहां गंदगी का नामो निशान न हो, लोग स्वस्थ रहे, साफ-सफाई को, अपने दिनचर्या में अपने शहर को रोल मॉडल बनाने में योगदान दें।

ऐसे में स्वच्छता को लेकर चलाये जा रहे अभियान में जिले के आला अधिकारियों द्वारा पहल किये जाने से स्थानीय बस्तीवासियों में भी स्वच्छता के प्रति जुनून देखा गया।

यहां के लोग कहते है कि सरकार और उनके मातहत अधिकारियों द्वारा साफ-सफाई को लेकर किये जा रहे कार्य से उन्हें स्वच्छता के प्रति प्रेरणा मिली है। साफ-सफाई से गंभीर बीमारियों से छुटकारा मिल सकेगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

UGC का फरमान- 29 सितंबर को यूनिवर्सिटी मनाएं ‘सर्जिकल स्ट्राइक दिवस’, कांग्रेस ने की आलोचना

NewsCode | 21 September, 2018 5:34 PM
newscode-image

नई दिल्ली। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देशभर के विश्वविद्यालयों और उच्च शिक्षण संस्थानों को 29 सितंबर को ‘सर्जिकल स्ट्राइक दिवस’ के तौर पर मनाने का आदेश दिया है। UGC ने सर्जिकल स्ट्राइक डे मनाने के लिए सशस्त्र बलों के बलिदान के बारे में पूर्व सैनिकों से संवाद सत्र, विशेष परेड, प्रदर्शनियों का आयोजन और सशस्त्र बलों को अपना समर्थन देने के लिए उन्हें ग्रीटिंग कार्ड भेजने समेत अन्य गतिविधियां आयोजित करने का सुझाव भी दिया है।

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक आयोग ने सभी कुलपतियों को गुरुवार को भेजे एक लेटर में कहा, ‘सभी विश्वविद्यालयों की एनसीसी की इकाइयों को 29 सितंबर को विशेष परेड का आयोजन करना चाहिए जिसके बाद एनसीसी के कमांडर सरहद की रक्षा के तौर-तरीकों के बारे में उन्हें संबोधित करें।’

यूजीसी ने कहा कि विश्वविद्यालय सशस्त्र बलों के बलिदान के बारे में छात्रों को संवेदनशील करने के लिए पूर्व सैनिकों को शामिल करके संवाद सत्र का आयोजन कर सकते हैं।

पत्र में कहा गया है, ‘इंडिया गेट के पास 29 सितंबर को एक मल्टीमीडिया प्रदर्शनी का आयोजन किया जाएगा। इसी तरह की प्रदर्शनियों का आयोजन राज्यों, केंद्र शासित प्रदेशों, अहम शहरों, समूचे देश की छावनियों में किया जा सकता है। इन संस्थानों को छात्रों को प्रेरित करना चाहिए और संकाय सदस्यों को इन प्रदर्शनियों में जाना चाहिए।’

कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने की आलोचना

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने ट्विटर पर यूजीसी के इस निर्णय की आलोचना की है। उन्होंने लिखा है, ‘यूजीसी ने सभी यूनिवर्सिटीज को 29 सितंबर को सर्जिकल स्ट्राइक डे के रूप में मनाने का आदेश दिया है। यह लोगों को शिक्षित करने के लिए बना है या बीजेपी के राजनीतिक हित साधने के लिए? क्या यूजीसी 8 नवंबर (नोटबंदी) को गरीबों का निवाला छीनने के सर्जिकल स्ट्राइक दिवस के रूप में मनाने की हिम्मत कर पाएगा? यह एक और जुमला है!

वहीं, मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा है कि यूनिवर्सिटीज सर्जिकल स्ट्राइक दिवस को मनाने के लिए बाध्य नहीं हैं। जावड़ेकर ने कहा कि सर्जिकल स्ट्राइक को समर्पित इस कार्यक्रम को मनाने का सुझाव हमें कई शिक्षकों और विद्यार्थियों से मिला था, इसलिए हमने इसके आयोजन का फैसला किया है।

गौरतलब है कि भारत ने 29 सितंबर 2016 को PoK में नियंत्रण रेखा के पार आतंकवादियों के सात अड्डों पर लक्षित कर हमले किए थे। सेना ने कहा था कि विशेष बलों ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से घुसपैठ की तैयारी में जुटे आतंकवादियों को भारी नुकसान पहुंचाया है।

18 सितंबर 2016 को पाकिस्तान से आए आतंकियों ने भारत के उरी कैंप पर हमला किया और भारत के 19 जवान शहीद हुए थे। उरी हमले के करीब दस दिन बाद 28-29 सितंबर 2016 की रात भारतीय सेना ने पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में घुसकर आतंकियों के ठिकानों को तहस-नहस कर दिया था।


सर्जिकल स्ट्राइक के नए वीडियो पर भड़की कांग्रेस, कहा-बलिदान को वोट में बदलने की कोशिश कर रही BJP

अब झूठ नहीं बोल पाएगा पाकिस्तान, पहली बार सामने आया PoK में टेरर कैंपों पर सर्जिकल स्ट्राइक का Video

जम्मू-कश्मीर: 3 पुलिसकर्मियों की हत्या के बाद 7 SPO का इस्तीफा, गृह मंत्रालय ने बताया- अफवाह

इमरान के खत पर बदला भारत का रुख, UN बैठक के दौरान पाक विदेश मंत्री से मिलेंगी सुषमा

बेंगाबाद :  या अली या हुसैन के नारों से गूंज उठी  फ़िज़ा, नुमाइशी अखाड़े का हुआ आयोजन

NewsCode Jharkhand | 21 September, 2018 5:31 PM
newscode-image

बेंगाबाद(गिरिडीह)। मुहर्रम के दसवीं के अवसर पर  बेंगाबाद प्रखण्ड क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर मुहर्रम का  जुलूस निकाला गया। इस अवसर पर काफी संख्या में मुस्लिम समाज के लोग ताजिया व निशान के साथ जुलूस में शामिल हुए।
बेंगाबाद :  या अली या हुसैन के नारों से गूंज उठी  फ़िज़ा, नुमाइशी अखाड़े का हुआ आयोजन

बेंगाबाद में भी मुहर्रम को लेकर मुस्लिम धर्मावलंबियों में खासा उत्साह का माहौल देखा गया। बेंगाबाद थाना क्षेत्र के घुठिया, फिटकोरिया,  कजरो,  फुरसोडीह,  दामोदरडीह,  कर्णपुरा, छोटकीखरागड़िहा, देवाटांड़, खुटरीबाद, महतोडिह, गेनरो समेत अन्य स्थानों से सुबह जुलूस निकाला गया और नुमाइशी अखाड़ा का आयोजन किया गया।

जुलूस बेंगाबाद मुख्य बाजार होते हुए प्रखण्ड मुख्यालय के समीप स्थित कर्बला पहुंचा। इस दौरान या अली या हुसैन की नारों से पूरा माहौल गूँज उठा  । बेंगाबाद मुख्य बाजार एवम कर्बला में तमाम गांवो के खिलाड़ियों द्वारा नुमाइशी अखाड़ा का प्रदर्शन भी किया गया।

बेंगाबाद : अलग अलग मामलों में तीन गिरफ्तार, हुआ जेल

बारी बारी से खिलाड़ियों ने एक से बढ़कर एक हैरत अंगेज़ करतब दिखाए। जिसे देख दर्शक हतप्रभ रह गए। जुलूस के दौरान विधि व्यवस्था बनाये रखने के लिए प्रशासन की टीम भी पूरी मुस्तैदी के साथ डटी हुई थी।

बेंगाबाद सीओ सह दंडाधिकारी संजय कुमार सिंह, थाना प्रभारी फ़ैज़ रब्बानी, सदल बल मौके पर तैनात थे। जबकि जुलूस व अखाड़ा के दौरान प्रखण्ड के उप प्रमुख उपेंद्र कुमार, विधायक प्रतिनिधि रामरतन राम, रंजीत मराण्डी, सांसद प्रतिनिधि शिवपूजन राम, जेवीएम नेता प्रवीण राम, यूथ कांग्रेस के जिलाध्यक्ष हसनैन आलम, राजद प्रखण्ड अध्यक्ष शाहनवाज अंसारी, नौशाद आलम, कौशर आज़ाद आदि मुख्य रूप से उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

तेनुघाट : गंदगी में ही बीमारियां पनपती है-रामकिशुन

more-story-image

टुण्डी : अखाड़ा दल के सदस्यों ने दिखाए हैरतअंगेज करतब