धनबाद : दिन में ही कैंडल मार्च निकाल कर महिलाओं ने किया विरोध

newscode-image

रेप और हत्‍या के खिलाफ उठायी आवाज

धनबाद। पिछले दिनों मुनीडीह थाना क्षेत्र में नाबालिग के साथ रेप के बाद हुई हत्या के विरोध में महिलाओं ने सड़क पर उतर कर प्रदर्शन किया। दिन में ही कैंडल मार्च निकाल कर महिलाओं को बचाने की अपील की गई।

आज महिलाएं और बच्ची कहीं भी सुरक्षित नहीं है। जरुरत है लोगों की मानसिकता बदलने की। विरोध कर रही महिलाओं का कहना है एक ओर जहां पुरुष मां दुर्गा और मां लक्ष्मी की पूजा करते है वहीं दूसरी और महिलाओं के साथ अत्‍याचार किया जाता है।

गन्दी नजर रखने वाले लोगों को समाज में रहने का कोई हक नहीं है। इसके साथ ही बिहार के तर्ज पर महिलाओं ने झारखण्ड में भी शराब बंदी की बात कही।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

‘धड़क’ का टाइटल ट्रैक हुआ रिलीज़, जाह्नवी और ईशान के इस गाने में प्यार के कई रंग

newscode-image

नई दिल्ली। श्रीदेवी की बेटी जाह्नवी कपूर और ईशान खट्टर की फिल्म धड़क का टाइटल ट्रैक रिलीज़ कर दिया गया है, जिसमें बॉलीवुड की क्यारी में उग रही नई पौध का ये इश्क इस गाने में परवान चढ़ रहा है। फिल्‍म के ट्रेलर में जाह्नवी कूपर और ईशान खट्टर एक फ्रेश जोड़ी हैं और ट्रेलर के बाद लोगों को इस फिल्‍म से खासी उम्‍मीद बढ़ गई है।

इस गाने का संगीत अजय-अतुल ने कंपोज किया है। इस संगीतकार जोड़ी ने ही मराठी फिल्‍म सैराट के गानों को कंपोज किया था। इस गाने को गाया है श्रेया घोषाल और अजय गोगावाले ने और इसे गाया है अमिताभ भट्टाचार्य ने। ‘धड़क’ का यह नया गाना पूरी तरह नई कंपोजीशन है और एक रोमांटिक गाना है। यह गाना जाह्नवी और ईशान के बीच मासूम प्‍यार को दर्शाता है। आप भी देखें फिल्‍म ‘धड़क’ का यह टाइटल ट्रैक।

कैंसर से जंग लड़ रहे इरफान खान ने बयान किया अपना दर्द, लिखा- ‘मुझे नहीं पता मेरे पास कितना समय है, लेकिन…’

बता दें कि ‘धड़क’ का निर्देशन शशांक खेतान ने किया है। इस फिल्‍म के ट्रेलर के रिलीज के मौके पर जाह्नवी ने बताया कि खुद श्रीदेवी भी ‘सैराट’ जैसी फिल्‍म करना चाहती थी। यह फिल्‍म 20 जुलाई को रिलीज होने वाली है।

देखें वीडियो:

झांसी की रानी को कंगना का सलाम, सामने आया ‘मणिकर्णिका’ का फर्स्ट लुक

sun

320C

Clear

क्रिकेट

Jara Hatke

Read Also

तमिलनाडु की अनुकृति वास बनीं मिस इंडिया 2018, फाइनल में पूछे गए थे ये सवाल

newscode-image

नई दिल्ली। तमिलनाडु की रहने वाली 19 वर्षीय अनुकृति वास ने ‘फेमिना मिस इंडिया 2018’ का खिताब अपने नाम कर लिया है। कॉलेज में पढ़ाई कर रहीं अनुकृति वास ने 29 प्रतिभागियों को हराकर मिस इंडिया का ताज अपने नाम किया है।

मुंबई में हुए इस प्रतियोगिता को करण जौहर और आयुष्मान खुराना ने होस्ट किया। इस इवेंट के जज पैनल में बॉलीवुड एक्ट्रेस मलाइका अरोड़ा, अभिनेता बॉबी देओल, कुनाल कपूर, क्रिकेटर इरफान पठान और के.एल राहुल शामिल थे। इनके अलावा साल 2017 में मिस वर्ल्ड रहीं मानुषी छिल्लर भी यहां मौजूद थीं। मानुषी ने ही अनुकृति को ताज पहनाया।

विश्व सुंदरी के लिए ‘चिल्लर’ लिखकर बुरे फंसे शशि थरूर 

मिस इंडिया दिल्ली गायत्री भारद्वाज, मिस इंडिया हरियाणा मीनाक्षी चौधरी, मिस इंडिया झारखंड स्टेफी पटेल, मिस इंडिया तमिलनाडु अनुकृति वास और मिस इंडिया आंध्र प्रदेश श्रेया राव इस प्रतियोगिता के टॉप-5 कंटेस्टेंट बने। दिल्ली, हरियाणा, झारखंड और आंध्र प्रदेश की कंटेस्टेंट को हराकर तमिलनाडु की अनुकृति के सिर मिस इंडिया का ताज सजा। बता दें, मीनाक्षी चौधरी फर्स्ट रनर-अप और आंध्र प्रदेश की रहने वाली श्रेया राव सेंकड रनर-अप रहीं।

TOP 5 of @fbb_india @ColorsTV @feminamissindia 2018 finale

Gayatri Bhardwaj – Miss India Delhi
Meenakshi Chaudhary – Miss India Haryana
Stefy Patel – Miss India Jharkhand
Anukreethy Vas – Miss India Tamil Nadu
Shreya Rao Kamavarapu – Miss India Andhra Pradesh #MissIndiaFinale pic.twitter.com/BaN0pbshzH

— Miss India (@feminamissindia) June 19, 2018

अनुकृति ने उस सवाल का सबसे स्‍मार्ट जवाब दिया, जिसने उन्‍हें देश की सबसे खूबसूरत युवती बना दिया। अनुकृति से फाइनल राउंड में पूछा गया था, “कौन बेहतर टीचर है? सफलता या असफलता?” अनुकृति ने जवाब में कहा- “मैं असफलता को बेहतर टीचर मानती हूं। क्‍योंकि जब आपको जिंदगी में लगातार सफलता मिलती है तो आप उसे पर्याप्‍त मान लेते हैं और आपकी तरक्‍की वहीं रुक जाती है।” लेकिन जब आप असफल होते हो तो तो आपको प्रेरणा मिलती है कि आप सफलता मिलने तक लगातार मेहनत करते रहें।”

अनुकृति ने कहा, “मेरी मां के अलावा कोई नहीं था, जो मेरे समर्थन में खड़ा हो, आलोचना और असफलता, जिसने मुझे इस समाज आत्‍मविश्‍वासी और स्‍वतंत्र बनाया।”

कौन हैं और क्या करती हैं अनुकृति ?

चेन्नई के लोयोला कॉलेज में पढ़ने वाली 19 साल की अनुकृति वास ख़ुद को एक सामान्य लड़की बताती हैं जिसे घूमना और डांस करना पसंद है।

अनुकृति अपने एक वीडियो में कहती हैं, “मैं तमिलनाडु के शहर त्रिची में पली-बढ़ी हूं जहां पर लड़कियों की ज़िंदगी बंधी हुई होती है। आप छह बजे के बाद घर से बाहर नहीं जा सकते। मैं इस माहौल के पूरी तरह ख़िलाफ़ हूं। मैं ये स्टीरियोटाइप तोड़ना चाहती थी। इसीलिए, मैंने मिस इंडिया प्रतियोगिता में हिस्सा लेने का फ़ैसला किया। अब मैं जब यहां पहुंच चुकी हूं तो मैं कहना चाहती हूं कि आप लोग भी उस क़ैद को तोड़कर बाहर निकल आएं और वहां पहुंचें जहां पर आप पहुंचना चाहते हैं।”

हिमाचल प्रदेश घूमने का सपना

अनुकृति इस समय लोयोला कॉलेज से बीए सेकेंड ईयर में हैं और फ्रेंच साहित्य की पढ़ाई कर रही हैं। ख़ुद को एथलीट बताते हुए अनुकृति कहती हैं, “मुझे कभी भी दुनिया घूमने और उसे देखने का मौका नहीं मिला। लेकिन अगर मुझे ऐसा मौका मिला तो आप निश्चित रूप से मुझे घर में नहीं देखेंगे क्योंकि मैं एडवेंचर और घूमना इतना पसंद करती हूं।”

फैमिना मिस इंडिया 2018 के फिनाले में माधुरी दीक्षित, करीना कपूर खान और जैकलीन फर्नांडिस ने अपनी शानदार डांस परफॉर्मेंस दी। बता दें कि अनुकृति वास इस साल मिस यूनिवर्स कम्पिटिशन में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगी।

अभी बॉलीवुड नहीं बल्कि इस काम पर फोकस करना चाहती हैं मानुषी

‘धड़क’ का टाइटल ट्रैक हुआ रिलीज़, जाह्नवी और ईशान के इस गाने में प्यार के कई रंग

बोकारो : नावाडीह में योग दिवस मनाने को लेकर की गई चर्चा

newscode-image

बोकारो । नावाडीह प्रखंड के पोटसो सामुदायिक भवन में नेहरू युवा केंद्र बोकारो के सयुंक्त तत्वाधान में विवेकानन्द युवा क्लब पोटसो के द्वारा प्रखंड स्तरीय पड़ोस युवा संसद कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का संचालन नेहरू युवा केन्द्र के स्वंयसेवक फिरोज अंसारी ने किया। वहीं योग शिक्षक भुनेश्वर महतो ने योग के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए कई बीमारी से बचने के उपाय भी बताये।

कोडरमा : उपायुक्‍त ने ऑन स्‍पॉट कई समस्‍याओं का किया समाधान

उन्होंने कहा कि 21 जून को योग दिवस प्रत्येक पंचायत में मनना है। अंतराष्ट्रीय योगा दिवस को  सफल बनाना है। वहीं पंकज शर्मा ने प्रधानमंत्री जनधन योजना, बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ, व स्वच्छ भारत मिशन पर प्रकाश डालते हुए कहा कि एक बेटी दो कुल को शिक्षित कर सकती है इसलिए बेटा-बेटी में फर्क ना समझे एक बेटी ही अपने घर को साफ व स्वच्छ रखती है तभी घर के लोग स्वस्थ रहते हैं।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

More Story

more-story-image

बेरमो : बाहरी की उपेक्षा स्‍थानीय बेरोजगारों के लिए रोजगार...

more-story-image

लातेहार : कोयला लदी मालगाड़ी दुर्घटनाग्रस्त, चार बोगी हुई बेपटरी