धनबाद : 24 जुलाई से होने वाले मीजल्स रूबेला टीकाकरण अभियान में 9 लाख बच्चों का टीकाकरण का लक्ष्य

NewsCode Jharkhand | 12 July, 2018 1:52 PM
newscode-image

धनबाद। 24 जुलाई से आरंभ होने वाला मीजल्स रूबेला टीकाकरण अभियान की सफलता को लेकर गुरुवार को गोल्फ ग्राउंड में स्वास्थ्य विभाग के नेतृत्व में एनसीसी के साथ उन्मुखीकरण पर एक दिवसीय कार्यक्रम का आयोजन हुआ। कार्यक्रम में एनसीसी के पदाधिकारी, एनसीसी कैडेट्स, स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी, जिला जन संपर्क विभाग के पदाधिकारी उपस्थित थे।

एक कैडेट्स एक सौ माता-पिता को टीकाकरण के प्रति करेंगे प्रेरित

 एनसीसी कैडेट्स को मीजल्स रूबेला (एमआर) टीकाकरण के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गयी। उन्हें समझाया गया कि यह टीका पूर्ण रूप से सुरक्षित है एवं यह 9 माह से 15 साल तक के बच्चों को दिया जाता है। यह टीका बच्चों को मीजल्स एवं रूबेला जैसी बीमारियों से बचाता है। कैडेट्स से 9 से 15 वर्ष के बच्चों को टीकाकरण का लाभ लेने हेतु उन्हें प्रेरित करने की अपील की गयी। एक कैडेट्स को कम से कम एक सौ माता पिता को एमआर टीकाकरण के लिए प्रेरित करने की जिम्मेवारी दी गयी है।

 2020 तक झारखंड को मीजल्स रूबोला से मुफ्त करने का लक्ष्या 

स्वास्थ्य विभाग के पदाधिकारी डॉ संजीव कुमार ने बताया कि 2020 तक झारखंण्ड से पूरी तरह से मीजल्स रूबेला का उन्मूलन कर लेना है। एमआर टीकाकरण का फायदा जिले भर में 9 से 15 साल के पौने 9 लाख बच्चों में देना है। एमआर टीकाकरण अभियान 26 जुलाई से प्रारंभ होगा तथा यह 5 सप्ताह तक चलेगा। अभियान के प्रथम 2 सप्ताह में स्कूली बच्चों को टीका लगाया जाएगा। अगले 2 सप्ताह आंगनवाड़ी के बच्चों को तथा अभियान के 5 वें सप्ताह में छूटे हुए बच्चों को टीका दिया जाएगा।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

जामताड़ा : मिजिल्स रूबेला वायरस जनित रोग, सावधान रहें

NewsCode Jharkhand | 19 July, 2018 8:32 PM
newscode-image

कार्यशाला में इस रोग से बचने की दी गई जानकारी

जामताड़ा। मिजिल्स रूबेला वायरस जनित रोग है इससे हमेशा सावधान रहने की जरूरत है। इस रोग के बारे में छात्र-छात्राओं को जागरूक करने के लिए जिले के तांबाजोर स्थित जवाहर नवोदय विद्यालय में एकदिवसीय कार्यशाला का आयोजन किया गया।

कार्यशाला में डॉ. पंकज कुमार शर्मा व दिनेन्दु साहा नेमिजिल्स रूबेला के लक्षण, इसके प्रभाव व बचाव के बारे में विस्तार से जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मिजिल्स व रूबेला वायरस जनित जानलेवा बीमारी है।इससे ग्रसित रोगी की मृत्यु भी हो जाती है।

जामताड़ा : नाला सीएचसी में बंध्याकरण के बाद महिला की मौत मामले की हुई जांच

इस बीमारी की चपेट में आनेवाली गर्भवती महिलाओं के गर्भ में पल रहे बच्‍चे को दिल की बीमारी होने की पूरी संभावना रहती है। इसके अलावा हो सकता है बच्‍चे शारीरिक और मानसिक रूप से विक्‍लांग जन्‍म ले। कई बार शिशु की गर्भ में दो-तीन दिनों के अदंर मौत भी हो जाती है। उन्‍होंने बताया कि अध्ययन में यह साबित हो गया है कि उक्‍त बीमारी से ग्रस्‍त 90 प्रतिशत रोगी नौ से पंद्रह साल तक के बच्चे होते हैं। इसलिए इस आयुवर्ग के बच्‍चों को ही मिजिल्स रूबेला से बचाव के लिए टीकाकरण किया जाता है।

डॉ. शर्मा ने बताया कि मिजिल्स रूबेला टीकाकरण कोई नया नहीं है। वर्षों से स्वास्थ्य केन्द्रों में बचाव का टीका दिया जाता रहा है। इस बार मिजिल्स के साथ रूबेला को जोड़कर एक अभियान के तहत इस वायरस को जड़ से समाप्त करने का प्रयास किया गया है। मौके पर विद्यालय के प्राचार्य स्वातिका कुंडू, निरंजन दास, प्रदीप कुमार चौधरी, अखिलेश कुमार, अनिता कुमारी, मीरा कुमारी सहित दर्जनों शिक्षक-शिक्षिका व छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

sun

320C

Clear

क?रिकेट

Jara Hatke

Read Also

झरिया : गर्म ओबी से झुलसे बच्चे की स्थिति गंभीर, BCCL के एरिया 9 की घटना

Rajnish Sinha | 20 July, 2018 2:23 PM
newscode-image

झरिया (धनबाद) । बीसीसीएल के एरिया 09 के राजापुर परियोजना में आउट सोर्सिंग कम्पनी के द्वारा किया जा रहा ओबी डंप की चपेट में आने से 12 वर्षीय कलका सागर भुइयां झुलस गया। सागर सौच के लिए गया था।  लौटने के दौरान कोयला उत्खनन में निकला गर्म ओबी को डंप किया गया था। जिसकी चपेट में बालक आ गया और आधा शरीर जल गया ।

देवरी : स्कूल प्रबंधन समिति के पुनर्गठन की बैठक में हुई मारपीट

आनन-फांनन में इलाज के लिए पीएमसीएच ले जाया गया। बच्चे की स्थिति गंभीर बनी हुई है। इधर ओबी डंप में अनियमितता को लेकर स्थानीय लोगों ने विरोध कर कार्य को बंद करा दिया। लोगो का कहना है की मनमाने तरिके से गर्म ओबी डंप किया जाता है। बच्चा डंप स्थल से दूर रास्ते से आ रहा था। फिर भी ओबी के चपेट में आ जान से घायल हो गया।

(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं)

देवघर : दरिंदे बाप की खौफनाक करतूत, 35 दिन की नवजात का घोंटा डाला गला 

NewsCode Jharkhand | 20 July, 2018 1:59 PM
newscode-image

देवघर । देवघर के उपरी सिंघवा इलाके में एक बाप ने महज 35 दिन की नवजात को सिर्फ इसलिए मौत की नींद सुला दिया। क्योंकि, वो उसकी मनचाही औलाद नहीं थी यानि, वो बेटा नहीं बेटी थी। दरअसल, देवघर के उपरी सिंघवा मोहल्ले की रहने वाली एक युवती की शादी बिहार के चांदन थाना इलाके के रहने वाले प्रसादी पंडित के साथ हुई थी।

देवघर : श्रावणी मेले को लेकर रंग-रोगन का काम तेज, रास्‍ता-घाट केसरियामय आएगा नजर

 शादी के बाद से ही पति समेत ससुराल वालों की चाहत थी। कि, उनकी बहू एक पोते को जन्म दे लेकिन, एक महीने पहले युवती ने अपने मायके में एक बेटी को जन्म दिया। बेटी के जन्म लेने की खबर मिलने के बाद वो जालिम बाप अपनी पत्नी और बच्ची को देखने बीच बीच मे आया करता था।

लेकिन बीती रात अचानक प्रसादी पंडित कत्ल की साजिश को अंजाम देने की नीयत से अपने ससुराल पहुंचा। जहां उसकी खूब खातिरदारी की गई। लेकिन, ससुराल वाले अपने दामाद की खौफनाक साजिश से बेखबर थे।

देवघर : युवा किसान खेती का प्रशिक्षण लेने इजराइल जाएंगे

 

 फिर क्या था, रात के वक्त प्रसादी पंडित अपनी पत्नी और नवजात बच्ची के साथ सोने के लिए अपने कमरे में चला गया । और आधी रात के वक्त उस दरिंदे ने मासूम बच्ची की गला घोंटकर हत्या कर दी। इतना ही नहीं अपनी साजिश को अंजाम देने के बाद वो कातिल बाप आधी रात के वक्त ही मौके से फरार भी हो गया। और जब अंधेरा छटा तो सूरज की पहली किरण के साथ ही उस घर में कोहराम मच गया।

 फिलहाल पुलिस ने उस बेरहम दरिंदे प्रसादी पंडित के खिलाफ केस दर्ज कर मामले की तफ्तीश शुरू कर दी है। लेकिन, एक बेटे की चाह में महज 35 दिन की नवजात बेटी के कत्ल की इस खौफनाक वारदात ने एक बार फिर सभ्य समाज पर सवालिया निशान खड़ा कर दिया है।

देवघर : शातिर मोबाइल चोर लड़की पुलिस हिरासत में

 

 वहीं स्थानीय जोनल चेयरमेन नारायन सुमन की माने तो ऐसे कुरीतियो को अंजाम देने वाले लोगो को समाज मे रहने लायक नही है। और ये घटना बहुत ही शर्मनाक है जहां लोग कहती है बेटी बचाओ बेटी बढ़ाओ जहां बेटी शांति है बेटी समृद्धि है और एक तरफ पिता ही बेटी का गला घोट रहा है ऐसे व्यक्ति को समाज मे रहने की कही जगह नहीं है ।

​(अन्य झारखंड समाचार के लिए न्यूज़कोड मोबाइल ऐप डाउनलोड करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं

More Story

more-story-image

लातेहार : प्रशिक्षण से आती है दक्षता : प्रशिक्षण शिविर...

more-story-image

चास : कृषि विभाग द्वारा  मूंगफली बीज का वितरण